Daily Current Affairs for UPSC, IAS, State PCS, SSC, Bank, SBI, Railway, & All Competitive Exams - 28 May 2020


Daily Current Affairs for UPSC, IAS, State PCS, SSC, Bank, SBI, Railway, & All Competitive Exams - 28 May 2020



भारत-चीन सीमा विवाद

  • भारत- चीन सीमा की लंबाई 3488 किलोमीटर है ! यह सीमा विवादों और युद्धों का कारण भी चीन के द्वारा बनाई जा चुकी है ! वर्तमान समय में भी चीन की हरकतें कुछ इसी प्रकार की हैं !
  • इस सीमा को पश्चिमी, पूर्वी और मध्य क्षेत्र में विभाजित किया जाता है !
  • पश्चिमी क्षेत्र के अंतर्गत लद्दाख और अक्साई चीन का क्षेत्र, मध्य क्षेत्र के अंतर्गत हिमालय प्रदेश और उत्तराखंड का समीपवर्ती क्षेत्र एवं पूर्वी क्षेत्र के अंतर्गत सिक्किम तथा अरुणाचल प्रदेश का क्षेत्र आता है !
  • पश्चिमी हिस्से में अक्साई चीन के पूर्व में स्थित जॉनसन लाइन को भारत अपनी पूर्वी सीमा मानता है !
  • 1865 में W.H Johnson जो सर्वे ऑफ इंडिया के सिविल सर्वेंट थे उनके द्वारा इस रेखा का निर्माण किया गया था !
  • जम्मू- कश्मीर रियासत के राजस्व को देने वाले लोगों के क्षेत्र के आधार पर इसे चिन्हित किया था !
  • जम्मू-कश्मीर रियासत के भारत में विलय होने के बाद यह क्षेत्र भी भारत का भाग बन गया !
  • वहीं चीन का कहना है कि इस रेखा के निर्धारण के समय चीन को शामिल नहीं किया गया इस वजह से यह मान्य नहीं हैं !
  • इस तरह अक्साई चीन और उसके पास के क्षेत्र पर चीन अपना दावा करता है !
  • 1962 के युद्ध में चीन द्वारा जिस क्षेत्र पर कब्जा कर लिया गया वहां पर इस समय LAC-Line Of Actual Control सीमा रेखा है ! लगभग 38000 वर्ग किलोमीटर भारतीय क्षेत्रफल पर चीन का कब्जा है !
  • मध्य भाग में कालापानी के समीप वाले पहाड़ी क्षेत्र में थोड़ा बहुत विवाद है !
  • पूर्वी सेक्टर में विवाद के दो केंद्र हैं ! एक है सिक्किम के पास के क्षेत्र तो दूसरा है अरुणाचल प्रदेश क्षेत्र !
  • सिक्किम का विलय जब भारत में 1975 में किया गया तब चीन ने इस विलय को ही गलत बताया था ! और भारत को एक विस्तार वादी देश के रूप में प्रस्तुत करने का प्रयास किया !
  • 2003 तक आते-आते भारतीय नीतियों के कारण चीन ने यह स्वीकार किया कि यह भारत का अभिन्न अंग है ! लेकिन इसके समीप के क्षेत्र जैसे नाकुला और डोकलाम पर विवाद बना रहा !
  • अरुणाचल प्रदेश के संपूर्ण क्षेत्र को चीन दक्षिणी तिब्बत का भाग मानता है इस तरह चीन के अनुसार यह दक्षिणी चीन का हिस्सा है !
  • भारत यहां McMahon Line को सीमा मानता है !
  • यह पूर्वी भूटान से म्यांमार तक विस्तृत है ! यह 1914 में शिमला सम्मेलन के दौरान बनाई गई थी !
  • इस रेखा को निर्मित करते समय भारत ( ब्रिटिश इंडिया) चीन और तिब्बत तीनों के प्रतिनिधि मौजूद थे लेकिन चीन का प्रतिनिधि बीच में ही विरोध स्वरूप चला गया !
  • चीन का मानना है कि यदि कोई समझौता करना है तो चीन से किया जाए ना कि तिब्बत के साथ क्योंकि यह उसका भाग है !
  • भारत तिब्बत को एक संप्रभु राज्य मानता था इसलिए समझौते को आगे बढ़ाया गया इसी कारण चीन इसे वैध नहीं मानता है !
  • LAC पर आए दिन विवाद होते रहते हैं क्योंकि दोनों देशों की परिभाषा ( क्षेत्र संबंधित) अलग-अलग है ! फलस्वरूप पेट्रोलिंग के समय विवाद समस्या उत्पन्न हो जाती है !
  • Pangong Tso Lake LAC के लगभग पूर्व पश्चिम में 135 किलोमीटर लंबी झील है ! इसका 45 किलोमीटर भाग भारत में एवं 90 किलोमीटर भाग चीन में है ! यह उस स्थिति में है जब हम जॉनसन लाइन को सीमा माने न कि LAC को !
  • LAC इस झील से होकर गुजरती है ! जल क्षेत्र होने के कारण सीमांकन कठिन हो जाता है !
  • यही समीप में Chushul Valley है जिस पर चीन नियंत्रण करना चाहता है !
  • 1962 में भी यह घाटी युद्ध स्थल बन चुकी है !
  • चुशुल घाटी और Pangong Tso झील क्षेत्र वह एरिया है जिससे होकर चीन आर्मी भारतीय क्षेत्र में प्रवेश करती है !
  • कारगिल युद्ध के समय हमने इस क्षेत्र की आर्मी को पश्चिम में LOC पर शिफ्ट कर दिया उसी समय चीन द्वारा इस झील के उत्तरी भाग में भारतीय सीमा में 5 किलोमीटर अंदर तक सड़क का निर्माण कर लिया गया !
  • पहले से ही इस क्षेत्र में चीन ने सड़क का निर्माण किया था और उसके बाद भी कई सड़कों का निर्माण इस क्षेत्र में किया गया है !
  • भारत की तरफ से यहां बहुत कम निर्माण किया गया था हालांकि भारत द्वारा अब इस कमी को दूर करने का प्रयास किया जा रहा है !
  • Pangong Tso झील के उत्तरी पर्वतीय और पहाड़ी क्षेत्र को आर्मी भाषा में Fingers के नाम से जाना जाता है ! भारत अपना दावा Finger-8 तक करता है जबकि भारतीय नियंत्रण Finger-4 तक है !
  • चीन का Finger-8 पर चौकी है और वह चीनी अधिकार क्षेत्र Finger-2 तक मानते हैं ! और उनके हिसाब से LAC Finger-2 तक है !
  • यह एक संकरा क्षेत्र है जिसमें एक तरफा आवागमन हो पाता है इसलिए चीन की आर्मी पेट्रोलिंग करते हुए Finger-2 तक आते हैं और वहां से वापस लौटते हैं जिसके कारण भारतीय आर्मी में विवाद होता रहता है !
  • यहां पर Daulet Beg Oldi, Galwon River, Kangka LA, Pangong Lake क्षेत्र, Demchok और Chumar क्षेत्र में चीनी अतिक्रमण देखने को मिलता है !
  • दौलत वेग ओल्डी काराकोरम दर्रे के पास, इसके पूर्व में गलवान घाटी, Kongka LA आदि क्षेत्र हैं !
  • भारत ने 1962 के युद्ध से सीख लेते हुए अब अपनी सीमाओं पर निर्माण कार्य को बढ़ा दिया है जिससे चीन की आक्रामकता बढ़ी है !
  • हाल ही में भारत ने दौलत बेग ओल्डी के समीप हवाई पट्टी का निर्माण किया है जहां C-130J एयरक्राफ्ट आसानी से उतरकर आवश्यक सामग्री ( सैनिक भी) पहुंचा सकता है !
  • BRO द्वारा वर्तमान समय में कई हिमालय क्षेत्र में 50 से अधिक सड़कों का निर्माण किया है ! आने वाले समय में अन्य सड़कों का निर्माण प्रस्तावित है !
  • Darbuk-shyok-daulat Beg Oldi (DSDBO) Road गलवान घाटी को जोड़ता है ! चीन इस सड़क पर आपत्ति प्रकट करता है और वर्तमान तनाव से संबंधित है !
  • दरअसल इस सड़क से भारतीय सेना मजबूत हो जाएगी जो चीन को पसंद नहीं आ रहा है !
  • वर्तमान समय में गलवान घाटी क्षेत्र में लगभग 3 किलोमीटर अंदर तक चीन के सैनिक प्रवेश कर चुके हैं एवं लगभग 5-10 हजार सैनिक इकट्ठे हो गए हैं ! और युद्ध की तैयारी चीन द्वारा की जा रही है !
  • चीन के सरकारी अखबार ग्लोबल टाइम्स का कहना है कि गलवान घाटी क्षेत्र चीन का हिस्सा है और भारत अवैध तरीके से यहां निर्माण कर रहा है !
  • भारतीय सेना और प्रधानमंत्री ऑफिस ने भी स्पष्ट कर दिया है कि भारतीय सेना पीछे नहीं हटेगी !
  • शी-जिनपिंग ने अपनी सेना को युद्ध के लिए तैयार रहने को कहा है !
  • समीक्षकों का मानना है कि चीन इस समय अपने विस्तार वादी नीतियों के सहारे चीन की जनता का ध्यान आंतरिक मुद्दों से हटाना चाहता है !
  • हाल ही में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह, CDS विपिन रावत एवं अन्य सेना प्रमुख द्वारा की गई मीटिंग में यह तय किया गया कि विवाद का समाधान बातचीत से किया जाएगा लेकिन भारतीय निर्माण कार्य रोका नहीं जाएगा तथा सैनिकों की संख्या बढ़ाई जाएगी !
  • वर्ष 2015 के बाद से चीन की तरफ से LAC पर उल्लंघन की घटनाएं बढ़ गई हैं !
  • वर्ष 2020 के शुरुआती 4 माह में 130 बार लद्दाख क्षेत्र के LAC पर चीन ने सीमा का उल्लंघन किया है ! वहीं 2019 में LAC का 497 बार उल्लंघन किया गया ! इसी प्रकार सीमा का उल्लंघन चीन द्वारा आए दिन होता रहता है !
  • वर्तमान बढ़ते सीमा विवाद को युद्ध के रूप में तब्दील न होने का भारत द्वारा भरसक प्रयास किया जा रहा है लेकिन चीन के विस्तार वादी नीतियों के कारण यह विवाद बढ़ता जा रहा है !
  • लद्दाख क्षेत्र का वर्तमान सीमा विवाद कितना गंभीर है यह इससे समझा जा सकता है कि दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने है !
  • डोनाल्ड ट्रंप ने इस विवाद को कम करने के लिए दोनों देशों के बीच अमेरिकी मध्यस्थता की बात कही है !
  • यह पहली बार है कि अमेरिका या कोई दूसरा देश भारतीय सीमा विवाद पर मध्यस्थता करने का प्रयास कर रहा है !