Daily Current Affairs for UPSC, IAS, State PCS, SSC, Bank, SBI, Railway, & All Competitive Exams - 27 May 2020


Daily Current Affairs for UPSC, IAS, State PCS, SSC, Bank, SBI, Railway, & All Competitive Exams - 27 May 2020



ग्रैंड रेनेसां डैम (Grand Renaissance Dam)

  • नील नदी संसार की सबसे लंबी नदी मानी जातीहै,जिसकी लंबाई 6650 किलोमीटर है !
  • यह नदी अनेक नदियों का मिश्रित स्वरूप है जिसमें White Nile एवं Blue Nile प्रमुख है !
  • White Nile की उत्पत्ति विक्टोरिया झील से होती है !यह झील अफ्रीका की सबसे बड़ी मीठे पानी की झील है एवं विश्व की दूसरी !
  • यह झील कीनिया, तंजानिया और युगांडा से घिरी है ! जो क्षेत्रफल के अनुसार तीसरी सबसे बड़ी झील है !
  • विषुवत रेखा इससे होकर गुजरती है फलस्वरुप यहां भारी जैव विविधता पाई जाती है !
  • वहीं Blue Nile इथोपिया उच्च भूमि पर स्थित लेक टाना (Lake Tana) से निकलती है !
  • नील नदी एक संकरी पट्टी में प्रवाहित होती हैं, जिसके सहारे संसार का सबसे बड़ा मरूद्यान विकसित हुआ है !
  • नील नदी बाढ़ का भी कारण बन जाती है ,इस कारण इस पर अस्वान बांध का निर्माण किया गया है ! इस बांध का जल जहां एकत्रित होता है उसे नासिर झील के नाम से जाना जाता है !
  • नील नदी बेसिन केन्या, युगांडा, तंजानिया, सूडान, दक्षिणी सूडान, इथियोपिया, मिस्र, कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य, रवांडा, बुरुंडी जैसे देशों मे विस्तृत है !
  • अफ्रीका में नील नदी का बेसिन शुष्क और अर्धशुष्क क्षेत्र में भी विस्तृत है इस कारण इस नदी के जल का महत्व सभी देशों के लिए बहुत ज्यादा है ! इस नदी के जल के बंटवारे को लेकर अफ्रीका महाद्वीप में कई देशों के मध्य एक दशक से अधिक समय से विवाद चल रहा है !
  • इथियोपिया द्वारा ब्लू नील नदी पर अफ्रीका का सबसे बड़ा बांध ग्रैंड रेनेसां डैम (Grand Renaissance Dam) निर्मित किया जा रहा है !
  • इथियोपिया द्वारा वर्ष 2011 से ही इस बांध का निर्माण किया जा रहा है !
  • इसके निर्माण के प्रारंभ से ही मिस्र ने इस पर आपत्ति प्रकट की थी क्योंकि नील नदी यहां के लोगों के जीवन का आधार है !
  • इथियोपिया का यह बहुउद्देशीय बांध यहां वर्ष भर न सिर्फ जल की उपलब्धता को सुनिश्चित करेगा बल्कि इससे 6000 मेगावाट विद्युत ऊर्जा उत्पन्न होगी !
  • इथियोपिया की 65% आबादी अभी भी विद्युत अभाव का सामना कर रही है तो साथ ही उद्योगों की स्थापना और विद्युत सप्लाई दूसरे देशों में करने से बड़ी मात्रा में राजस्व की भी प्राप्ति हो सकती है !
  • इस बांध के निर्माण से इथियोपिया नील नदी के जल को नियंत्रित कर सकता है, फलस्वरूप यह मिस्र के लिए लंबे समय से चिंता का कारण बना हुआ है !
  • पिछले 4 वर्षों में मिस्र, इथियोपिया और सूडान के बीच त्रिपक्षीय वार्ता का आयोजन किया जा रहा है परंतु कोई समझौता नहीं हो पाया है !
  • फलस्वरूप सूडान ने भी इस बांध पर आपत्ति दर्ज कराई है !
  • वही इथियोपिया का मानना है कि उसे बांध में जल भरने के लिए मिस्र की अनुमति लेने की आवश्यकता नहीं है !
  • इसी तनाव पूर्ण स्थिति में 1 मई को मिस्र ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद को पत्र लिखा कि इस बांध के निर्माण से मिस्र के आम नागरिकों की खाद एवं जल सुरक्षा तथा आजीविका प्रभावित हो सकती है फलस्वरुप इससे दोनों देशों के बीच सशस्त्र संघर्ष भी हो सकता है !
  • बढ़ते विवाद को कम करने के लिए U.S ने मध्यस्थता करने के लिए कदम बढ़ाया है !
  • वर्ष 2020 के अंत में इथियोपिया और मिस्र नील नदी पर निर्मित हो रहे इस परियोजना को लेकर वाशिंगटन डीसी में बातचीत शुरू करने जा रहे हैं !
  • हालांकि अधिकांश समीक्षकों का मानना है कि इन देशों को आपसी बातचीत के माध्यम से ऐसे मामलों का समाधान करना चाहिए तथा बाहरी हस्तक्षेप से बचना चाहिए !
  • नील नदी बेसिन प्राधिकरण या विवाद निपटान मंच का निर्माण भी किया जा सकता है !

MANGGA Ex-Tropical Cyclone

  • चक्रवात से तात्पर्य हवाओं की चक्रीय गति से होता है !
  • चक्रवात का विकास किसी स्थान पर निम्न वायुदाब का विकास होने और उस निम्न वायुदाब को भरने के लिए चारों तरफ से केंद्र की ओर हवाओं के चलने के कारण होता है !
  • चक्रवात के केंद्र को चक्रवात की आंख कहते हैं, जिसके सहारे हवाएं ऊपर उठती हैं ! हवाओं के चारों तरफ से आकर चक्रवात की दीवार के सहारे ऊपर उठते रहने के कारण केंद्र में हमेशा निम्न वायुदाब बना रहता है और परिधि पर उच्च वायुदाब !
  • चक्रवात हवाओं के प्रतिरूप के अनुसार प्राय: गोलाकार, अंडाकार या 'V'आकार का होता है !
  • चक्रवात से वायुमंडलीय स्थितियों में अचानक परिवर्तन आ सकता है ! इसलिए इन्हें Atmospheric Disturbance के अंतर्गत शामिल करते हैं !
  • 5० से 30० उत्तरी एवं दक्षिणी अक्षांश के मध्य विकसित होने वाले चक्रवातों को उष्णकटिबंधीय चक्रवात (Tropical Cyclone) कहते हैं !
  • इनकी उत्पत्ति उस समय होती है जब सागरीय तापमान 27 डिग्री सेल्सियस से ज्यादा होता है और गर्म आर्द्र (Humid) हवाएं ऊपर उठती हैं !
  • इन्हीं पवनों की संघनन की गुप्त ऊष्मा चक्रवात को ऊर्जा देती है ! इसलिए तटीय भागों तक इनका प्रभाव व्यापक होता है एवं स्थलीय भागों में पहुंचने पर ऊर्जा न मिलने के कारण समाप्त हो जाते हैं !
  • इन चक्रवातों की गति 40-50 किलोमीटर/घंटा से लेकर 225 किलोमीटर/घंटा तक होती है !
  • भारत में अभी हाल ही में अफान चक्रवात ने बड़ी मात्रा में जन-धन की हानि की है !
  • 24 एवं 25 मई को ऑस्ट्रेलिया के पश्चिमी भाग पर इसी प्रकार का एक चक्रवात MANGGA टकराया था !
  • इसकी उत्पत्ति कोको Island के समीप हुआ था और दक्षिण की ओर बढ़ते हुए पर्थ और उसके बाद ग्रेट ऑस्ट्रेलियन वाइट तक पहुंचा था !
  • इससे पश्चिमी भाग में बहुत ज्यादा नुकसान हुआ तटीय क्षेत्रों का इंफ्रास्ट्रक्चर बर्बाद हो गया !
  • इसमें हवाओं की गति 90 से 120 किलोमीटर/घंटा था !
  • हालांकि यहां ध्यान देना आवश्यक है कि ऑस्ट्रेलिया के चक्रवात वर्गीकरण के अनुसार यस सबसे निम्न गति वाले चक्रवात की श्रेणी प्रथम में आता है !
  • ऑस्ट्रेलिया में सामान्यता अप्रैल के अंत तक ही चक्रवात आते हैं और अपवाद स्वरूप मई माह के प्रारंभ तक तब हिंद महासागर का जल गर्म होता है !
  • यह चक्रवात उष्णकटिबंधीय चक्रवात से कुछ अलग था ! इसी कारण इसे Ex- Tropical Cyclone नाम दिया गया है !
  • Ex-Tropical Cyclone का प्रभाव Tropical Areas से बाहर होता है, इसी कारण इन्हें Mid-Latitude (30 डिग्री अक्षांश से 60 डिग्री अक्षांश के बीच Cyclone) के नाम से भी जाना जाता है !
  • क्योंकि हवाएं Tropical और Ex- Tropical दोनोंभागो से चलती हैं इस कारण इनकी प्रकृति थोड़ी अलग होती है !
  • इस क्षेत्र में आने वाले चक्रवात ओं का नामकरण 3 देशों यथा - ऑस्ट्रेलिया, इंडोनेशिया तथा पापुआ- न्यूगिनी के आधार पर किया जाता है !
  • Australian Bureau Of Meteorology, Tropical Cyclone Warning centre Jakarta (इंडोनेशिया) तथा TCWC - Port Moresby तीन प्रमुख सेंटर हैं !
  • इस चक्रवात की उत्पत्ति इंडोनेशिया क्षेत्र में हुआ था इस चक्रवात को इंडोनेशिया द्वारा Tropical Cyclone MANGGA नाम दिया गया था ! यहां आम (Mango) को MANGGA कहा जाता है !
  • जब यह चक्रवात ऑस्ट्रेलिया पहुंचा तो इसकी प्रकृति बदल चुकी थी इससे इस कारण इसे Ex-Tropical Cyclone MANGGA नाम दिया गया !