(Video) Daily Current Affairs for UPSC, IAS, UPPSC/UPPCS, BPSC, MPSC, RPSC & All State PSC/PCS Exams - 25 August 2020


(Video) Daily Current Affairs for UPSC, IAS, UPPSC/UPPCS, BPSC, MPSC, RPSC & All State PSC/PCS Exams - 25 August 2020



कैलिफोर्निया के जंगलों में हर साल आग क्यों लगती हैं

  • संयुक्त राज्य अमेरिका, उत्तरी अमेरिका का एक महत्वपूर्ण देश है जो 50 राज्य, एक फेडरल डिस्ट्रिक्ट, पांच प्रमुख स्व स्थानीय क्षेत्र और विभिन्न अधिनस्थ क्षेत्र से मिलकर बना है ।
  • उत्तर अमेरिका महाद्वीप का अक्षांशीय विस्तार 10 0 उत्तरी अक्षांश से 80 0 उत्तरी अक्षांश तक है। इसकी उत्तर से दक्षिण तक लंबाई लगभग 7200 किलोमीटर एवं पूर्व-पश्चिम चौड़ाई लगभग 6400 किलोमीटर है।
  • अक्षांश के अनुसार जलवायु में परिवर्तन आता है इस कारण उत्तर अमेरिका महाद्वीप के विभिन्न भागों में भिन्न-भिन्न जलवायु पायी जाती है। इस महाद्वीप का दक्षिणी भाग उष्ण कटिबंध में, मध्य भाग शीतोष्ण कटिबंध में तथा उत्तरी भाग शीत या ध्रुवीय कटिबंध के अंतर्गत आता है।
  • इस महाद्वीप के पूर्व में अटलांटिक महासागर और पश्चिम में प्रशांत महासागर का विस्तार है। इन महासागरों में चलने वाली महासागरीय जल धारायें भी मौसम और जलवायु को प्रभावित करने में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाती है।
  • पश्चिम में केलिफोर्निया की ठण्डी जलधारा प्रवाहित होती है तो पूर्व में गल्फस्ट्रीम की गर्म जलधारा प्रवाहित होती है।
  • कैलिफोर्निया की ठण्डी जलधारा की वजह से संयुक्त राज्य अमेरिका के दक्षिण पश्चिम भाग में शुष्कता रहती है और वर्षा कम होती है।
  • कैलिफोर्निया संयुक्त राज्य अमेरिका के पश्चिमी तट पर स्थित एक राज्य है।
  • यह क्षेत्रफल में अलास्का और टेक्सास के पश्चात तीसरा सबसे बड़ा राज्य है। इसकी राजधानी सैक्रामेंटो है।
  • इस राज्य के उत्तरी भाग एवं पश्चिमी भाग में विस्तृत जंगलों का विस्तार है।
  • इस जंगली क्षेत्र में अनेक महत्वपूर्ण फॉरेस्ट नेशनल पार्क का विस्तार है।
  • Sequoia National Park, Kings Canyon National Park, Inyo National forest, Sierra National Forest, Yosemite-National Park, Stanislaus National Forest, Eldorado National forest, Tahoe National forest, Plumas National forest, Lassen National Forest, Modoc National forest, Shasta Trinity National forest, Klamath National Forest, Mendocino National forest प्रमुख है।
  • कैलिफोर्निया के यह जंगल प्रकृति का बहुत बड़े उपहार हैं लेकिन वर्तमान समय में यह हर साल इसमें लगने वाली आग की समस्या से जूझ रहे हैं।
  • कैलिफोर्निया के जंगलों में आग लगने की घटनायें हर साल होती हैं जिसके पीछे प्राकृतिक और मानवीय दोनों कारक जिम्मेदार हैं।
  • यहां आग लगने की घटनायें सामान्यतः दो मौसमों में घटित होती हैं।
  1. पहला मौसम जून से सितंबर के बीच का होता है जब गर्मी ज्यादा पड़ती है और वर्षा कम होती हैं । इस समय लगने वाली आग इसी समय होने वाली वर्षा से रूक पाती है। इस समय आग लगने की घटनायें अंतर्देशीय एवं अधिक ऊँचाई वाले जंगलों में होती है।
  2. दूसरी घटना अक्टूबर से मार्च के मध्य होती है जब यह जंगली क्षेत्र गर्म, शुष्क एवं धूलभरी हवा सांता आना पवनों (Santa Ana Winds) के प्रभाव में होता है।
  • इस समय लगने वाली आग इन पवनों के प्रभाव के कारण पहले मौसम की अपेक्षा तीन गुना अधिक घातक होती है। इस समय की आग प्रमुखतः शहरी क्षेत्रें के पास के जंगलों से प्रारंभ होती है।
  • पिछले दो दशक में आग से हुए क्षति में 80 प्रतिशत का योगदान इसी मौसम का है।
  • पवनों का नाम कैलिफोर्निया के सांता आना घाटी के नाम पर रखा गया है।
  • सांता आना पवन दक्षिण कैलिफोर्निया से तटवर्ती मैदानों की ओर चलने वाली धूलभरी आंधी है। जो पूर्व या उत्तर-पूर्व की ओर प्रवाहित होती है।
  • यह मौसमी पवनें हैं जो अक्टूबर एवं मार्च के मध्य प्रवाहित होती है तथा दिसंबर में यह चरम अवस्था में पहुँच जाती है।
  • इन पवनों में शुष्कता ज्यादा होती है जिसके कारण यहां की वनस्पतियाँ सूख जाती है और आग लगने को संभावना बढ़ जाती है।
  • यहां की जलवायु ऐसी है कि गर्मियों में शुष्कता बढ़ जाती जिससे आग की संवेदनशीलता बढ़ जाती है।
  • वैश्विकतापन (Global Warming) की वजह से यहां के तापमान में 1 डिग्री सेल्सियस से 1.7 डिग्री की बढ़ोत्तरी हुई है जिसकी वजह से आग की बारंबारता बढ़ गई है।
  • ग्लोबल वार्मिंग की वजह से बर्फ पिघलने की दर में बढ़ोत्तरी हुई है जिसके कारण कैलिफोर्निया की ठण्डी जलधारा में शुष्कता बढ़ी है।
  • कैलिफोर्निया में सूखे की बारंबारता तथा अवधि में बढ़ोत्तरी हुई है।
  • बिजली गिरने की घटनाओं से भी यहां आग लगने की घटनायें आये दिन होती रहती है।
  • उच्चवायुदाब और निम्न वायुदाब के अंतर से हवाओं की गति निर्धारित होती है। मानवीय भूमि प्रतिरूप परिवर्तन के कारण वायुदाब की स्थिति में परिवर्तन आया है जिससे हवाओं की गति बढ़ी है।
  • वर्षा की मात्रा में कमी आई है जिससे मिट्टी और वनस्पति में शुष्कता बढ़ी है जिसके कारण आग की घटनायें बढ़ी है।
  • घास क्षेत्र का अनुपात बढ़ना भी आग का एक प्रमुख कारण है।
  • पत्तियों के सूखने से उनमें से एक विशिष्ट प्रकार का अम्ल निकलता है जो ज्वलनशील होता है।
  • आग लगने के कारणों में प्राकृतिक कारणों से ज्यादा मानवीय कारण जिम्मेदार हैं।
  • यहां रिहायशी इलाकों की संख्या बहुत तेजी से बढ़ी है तथा बड़े-बड़े सैलेब्रेटी ने अपने घर एवं फार्म हाउस बनाये है जिसकी वजह से पेड़ों को काटा गया है और घास क्षेत्र का विस्तार किया गया है।
  • इन आवासीय क्षेत्रों से निकलने वाली छोटी सी चिंगारी यहां भीषड तबाही का कारण बन जाते हैं।
  • बिजली के तारों का जाल सघन और व्यापक हुआ है। इन तारों के टूटने या शार्ट-सर्किट से आग की घटनायें बढ़ी है।
  • पर्यटन का विकास इन क्षेत्रें में हाल के वर्षों में बहुत हुआ जिससे मानवीय गतिविधियों की वजह से आग की बारंबारता बढ़ी है। रेस्टोरेंट, सांस्कृतिक गतिविधि एवं एडवेंचर के तरीको से आग की घटनायें बढ़ी है।
  • इस क्षेत्र में गाड़ियों की संख्या में बढ़ोत्तरी हुई है जिसमें भरा हुआ ईंधन आग के लिए भी ईंधन का काम करता है।
  • यहाँ के समीपर्ती क्षेत्रें में पानी के बड़े स्रोत बहुत कम हैं जिसकी वजह से पानी को दूसरे स्थान से लाकर आग बुझाने का काम किया जाता है जिससे आग को फैलने का समय मिल जाता है।
  • यहां पिछले कई दशकों से आग लगने की घटनाओं के कारणों का सही से समाधान नहीं किया गया है जिसके कारण समस्या जटिल बनी हुई है।
  • कैलिफोर्निया में आधुनिक समय की सबसे बड़ी आग की घटना का सामना 1932 में ओजई घाटी के पास लगी माटिजिला आग के रूप में करना पड़ा था। इससे लगभग 2 लाख 20 हजार का इलाका जलकर नष्ट हो गया।
  • 1933 में अक्टूबर में ग्रिफिथ पार्क में आग लगी थी बुझाने में ही 29 लोगों की जान चली गई।
  • जुलाई 1953 में मेंडोसिनो नेशनली फॉरेस्ट में भयानक आग लगी थी।
  • 1966 में पुनः भीषण आग का सामना कैलिफोर्निया को करना पड़ा।
  • सितंबर 1970 में यह क्षेत्र पुनः भीषण आग की चपेट में आ गया। इस आग को बुझाने के लिए पहली बार सेना से जहाज एवं हेलिकॉप्टर का प्रयोग करना पड़ा था।
  • जुलाई 1977 में पुनः यहां भीषण आग लगी जो तीन हफ्रते तक नहीं बुझ सकी।
  • 1987 में स्टेनिसलास नेशनल फॉरेस्ट में आग लगी जिससे लगभग देढ़ लाख एकड़ का एरिया समाप्त हो गया।
  • 1996, 2003, 2013 में भी ऐसी भीषड़ आग लगी जिससे कई लाख एकड़ का एरिया जलकर समाप्त हो गया।
  • अमेरिका के इतिहास की सबसे बड़ी आग वर्ष 2018 में लगी थी जो मेंडोसिनो कॉम्प्लेक्स फायर के नाम से जानी जाती है।
  • इस समय कैलिफोर्निया पुनः आग की चपेट में है जिससे 4 लाख एकड़ से अधिक का जंगली क्षेत्र समाप्त हो चुका है।
  • वर्ष 2000 से अभी तक 10 बड़ी आग की घटनायें यहां हो चुकी है।
  • वर्ष 1970 के बाद अमेरिका में दावानल (Wildfire) की घटनाओं में 400 प्रतिशत की वृद्धि हो चुकी है।
  • वहां की आग से न सिर्फ व्यापक जन-धन ही हानि होती है बल्कि बड़ी मात्र में कार्बन डाइऑक्साइड तथा अन्य ग्रीन हाउस गैसे वायुमंडल में पहुंचती है जिससे ग्लोबल वॉर्मिंग की समस्या जटिल होती है।
  • वनों के नाश से ऑक्सीजन का स्तर कम होता है तथा Co 2 के अवशोषण की दर कम होती है।
  • जैव-विविधता को अपूर्णीय क्षति पहुँचती है और जंगलों पर निर्भर कई प्रकार के उद्योग प्रभावित होते हैं।
  • वनाग्नि से सबसे अधिक नुकसान आदिवासी और जनजाति समुदाय को उठाना पड़ता है।
  • इससे मिट्टी में मौजूद पोषक तत्वों में भारी कमी हो जाती है तथा मिट्टी की ऊपरी भौति और रासायनिक संरचना भ्ी परिवर्तित हो जाती है जिससे पोषक तत्वों का चक्रण रूकता है।
  • इसे रोकने के लिए होने वाला खर्च बहुत ज्यादा है और राज्य के संसाधनों का बेहतर उपयोग नहीं है।
  • बानाग्नि से आस-पास के क्षेत्रें में वायु प्रदूषण बढ़ता है और वायु प्रदूषण जनित बीमारियों का प्रकोप बढ़ता है।
  • वर्तमान समय में आग लगने की घटना किसी एक देश तक सीमित नहीं है। पिछले साल अमेजन वन एवं ऑस्ट्रेलिया में इसी प्रकार की आग लगने की घटना हुई थी।
  • आग की समस्या के समाधान के लिए इस समय वैश्विक रणनीति सहयोग की आवश्यकता है।
  • जलवायु परिवर्तन के मुद्दे की गंभीरता को समझने एवं उसको रोकने का प्रयास करना होगा।
  • समुद्र के जल के तापमान तथा वायु दिशा एवं तिब्रता में आ रहे परिवर्तन पर वैज्ञानिक अध्ययन की आवश्यकता है।