(Video) Daily Current Affairs for UPSC, IAS, UPPSC/UPPCS, BPSC, MPSC, RPSC & All State PSC/PCS Exams - 24 August 2020


(Video) Daily Current Affairs for UPSC, IAS, UPPSC/UPPCS, BPSC, MPSC, RPSC & All State PSC/PCS Exams - 24 August 2020



बेलारूस अशांत क्यों है?

  • बेलारूस का अधिकारिक नाम रिपाब्लिक ऑफ बेलारूस है।
  • यह पूर्वी यूरोप का स्थल-अवरूद्ध देश है। इसकी सीमा रूस, यूक्रेन, पोलेण्ड, लिथुआनिया एवं लातविया से लगती है। यहां के कुल क्षेत्रफल का लगभग 40 प्रतिशत हिस्सा वनों से ढ़का है।
  • इसकी राजधानी और सर्वाधिक जनसंख्या वाला नगर मिन्स्क है।
  • यहाँ की जनसंख्या में 83.7 प्रतिशत बेलारूसी, 8.3 प्रतिशत रूसी एवं 3.1 प्रतिशत पोलिश समुदाय का प्रतिनिधित्व ज्यादा है।
  • बेलारूस पहले सोवियत संघ का भाग था। इसने 22 जुलाई, 1990 को अपनी आजादी की घोषणा बेलारूसी सोवियत सोशलिस्ट रिपाब्लिक के रूप में की। बाद में इसका नाम बदल दिया गया।
  • यहां तीन नदियों के प्रवाह की वजह से कई जगह बड़े-बड़े दलदली क्षेत्र का विकास हुआ है। यह नदियां नेमान (Neman), प्रिप्याट (Pripyat) एवं नीपर (Dnieper), हैं।
  • नेमान नदी पश्चिम की ओर बहते हुए बाल्टिक सागर के एक भाग क्यूरोनियन लैगून में गिरती है जबकि प्रिप्याट नदी पूर्व दिशा में बहती हुई नीपर में मिल जाती है। नीपर नदी दक्षिण की ओर बहते हुए काला सागर में गिर जाती है।
  • चर्नोबिल दुर्घटना के समय पड़ोसी यूक्रेन के 70 प्रतिशत परमाणवीय विकिरण से बेलारूस का लगभग 20 प्रतिशत क्षेत्र को प्रभावित हुआ था।
  • वर्ष 1991 में ‘सोवियत संघ’ के विघटन ने तीन वर्ष बाद 1994 में अलेक्जेंडर लुकाशेंको (Alexander Lukashenko) ने बेलारूस की सत्ता हांसिल की जिन्हें यूरोपीय महाद्वीप में अंतिम यूरोपियन तानाशाह के नाम से जाना जाता है।
  • अलेक्जेंडर लुकाशेंको का मुख्य राजनायिक एवं वाणिज्यिक साझेदार रूस है लेकिन दोनों देशों के एकीकरण के लिए ब्लादिमीर पुतिन द्वारा हाल के दबाव के कारण इन दोनों देशों के संबंधों में खटास आई है।
  • इसी साल के फरवरी माह में रूस ने सस्ती ऊर्जा के बदले में बेलारूस के समावेशन की शर्त रखी थी।
  • इस प्रस्ताव को न मानने के कारण रूस ने बेलारूस को होने वाली ऊर्जा आपूर्ति में कटौटी की जिसके कारण बेलारूस को अन्य देशों से संपर्क स्थापित करना पड़ रहा है।
  • यहां की अर्थव्यवस्था की स्थिति नाजुक है 125 अप्रैल, 2020 को IBRD ने बेलारूस को लगभग 100 मिलियन डॉलर उधार दिये थे।
  • बेलारूस Covid-19 के दौरान एक और कारण से चर्चा में बना हुआ था। यह कारण था कि बेलारूस एकमात्र यूरोपीय देश था जिसने सामाजिक दूरी जैसे उपायों को नहीं अपनाया था।
  • बेलारूस में 9 अगस्त को राष्ट्रपति पद का चुनाव हुआ। इस चुनाव में को लेकर लोगों का (यहाँ के) मानना है कि भारी अनियमितता हुई है।
  • चुनाव परिणाम में यह घोषण की गई है कि लुकाशेंकों को 80 प्रतिशत मत हांसिल हुए हैं वहीं उनकी मुख्य प्रतिद्वंदी स्वेतलाना तिखानोव्सक्या को सिफ 10 प्रतिशत वोट हासिल हुआ है। इस तरह लुकाशेंको छठी बार राष्ट्रपति बन गये है।
  • इससे पहले एक्जिट पोल में भी यह बताया गया था कि लुकाशेकों 80 प्रतिशत से अधिक मतों से जीत रहे हैं वह मुख्य प्रतिद्वंदी को 7 प्रतिशत मत मिले है।
  • यहाँ की बड़ी आबादी का मानना है कि यहां की सरकार ने सभी संस्थाओं पर कब्जा कर रखा है तथा अनियमितता के माध्यम से शासन कर रही है इसलिए यहां के लाखों लोग आंदोलन कर रहे हैं तथा ‘मार्च फॉर फ्रीडम’ अर्थात आजादी के लिए मार्च कर रहे हैं।
  • इस बार जब चुनाव की घोषण की गई थी तो उस समय एक बिजनस मैन सियारहे सियानोस्की या सिखानोस्की (Siarhei Tsikhanouski) ने लुकाशेंको के खिलाफ चुनाव लड़ने की घोषण की और उन्होंने एंटी कॉक्रोच मूवमेंट को प्रारंभ किया। सियारहे ने सरकार को कॉक्रोच नाम दिया।
  • इसी कॉक्रोच को मारने के लिए स्लीपर आंदोलन भी प्रारंभ हुआ।
  • सियारहे सियानोस्की को विदेशी एजेंट बताते हुए मई 2020 में गिरफ्रतार कर लिया गया।
  • इनको गिरफ्रतार किये जाने के बाद इनकी पत्नी स्वेतलाना तिखानोव्सक्या ने चुनाव लड़ने की घोषण की।
  • सरकार के खिलाफ लोगों का गुस्सा होने एवं महिला प्रतिनिधि के साहस के कारण स्वेतलाना को व्यापक जनसमर्थन मिला और जुलाई माह में इनकी रैलियों में भारी भीड़ होती थी।
  • 9 अगस्त को मतदान के दिन मिंस्क शहर में प्रवेश करने वाले सभी रास्ते बंद कर दिये। दोपहर को यहां का इंटरनेट बंद कर दिया गया।
  • शाम को सरकारी टीवी चैनल पर लुकाशेंकों को 80 प्रतिशत से अधिक वोट प्राप्त होने का एक्जिट पोल दिखाया वहीं स्वेतलाना को सिर्फ 9.9 प्रतिशत वोट प्राप्त होने की सूचना दी गई।
  • 25 साल से सत्ता पर काबिज लुकाशेंको से लोग अब परिवर्तन की मांग कर रहे थे लेकिन इस घोषण ने लोगों को आंदोलित कर दिया।
  • आंदोलन बढ़ने से पुलिस से झडप भी बढ़ने लगी और देखते-देखते 6000 से अधिक लोगों को गिरफ्रतार कर लिया गया।
  • लुकाशेंको किसी भी तरह अपना पद छोड़ने को तैयार नहीं है। आगे उन्होंने कहा कि यह आंदोलन पश्चिम सरकार एवं NATO समार्थिक है और उन्होंने रूस के साथ अपानी दोस्ती प्रकट की।
  • लुकाशेंको के अनुसार जरूरत पड़ने पर रूस बेलारूस के साथ मिलिट्री पैक्ट पर भी हस्ताक्षर करने को तैयार है।
  • स्वेतलाना ने लिथुआनिया में शरण लिया है और एक वीडियों के माध्य से शांतिपूर्वक आंदोलन करते रहने की मांग की है।
  • बढ़ते तनाव को देखते हुए कुछ लोग इसे बेलारूस में गृह युद्ध का प्रारंभ मान रहे है।
  • जर्मनी की चांसलर अंजेला मैर्केल ने कहा है कि यूरोपीय संघ बेलारूस में हुए चुनाव के नतीजों को मान्यता नहीं देता है यह बात उन्होंने यूरोपीय संघ की आपातकालीन शिखर बैठक के बाद कहा।
  • चांसलर ने कहा- ‘‘बेलारूस में पिछले दिनों हुए राष्ट्रपति चुनाव न तो स्वतंत्र थे और नही निष्पक्ष। इसलिए हम शांतिपूर्वक प्रदर्शन कर रहे लोगों के साथ खड़े है।’’
  • जनता के विद्रोह का असर इतना बढ़ चुका है कि राष्ट्रपति लुकाशेंको बुलेटप्रूफ जैकेट पहनकर असाल्ट राइफल लेकर घूमते नजर आये। साथ ही प्रदर्शनकारियों से निपटने के लिए अब सेना को तैनात कर दिया गया है।
  • लुकाशेंको मीडिया को नियंत्रित करते हैं, अपने राजनीतिक विरोधियों को जेल भेजते हैं और असहमति रखने वाले लोगों की निगरानी करवाते हैं।
  • वर्ष 2003 में उन्होंने कहा था- ‘‘तानाशाही का तरीका मेरी विशेषता है और ये बात में हमेशा स्वीकार करता हूँ।’’
  • यूरोप और पूर्व सोवियत संघ में बेलारूस ही एक ऐसा देश है जहां अब भी मौत की सजा दी जाती है।

भारत-चीन तनाव पर अपडेट

  • भारतीय सीमा क्षेत्र में चीन द्वारा बार-बार ऐसी गतिविधियों को अंजाम दिया जा रहा है। जिससे तनाव समाप्त नहीं हो पा रहा है।
  • हाल ही में सेटेलाइट इमेज से इस बात की जानकारी सामने आई है कि मानसरोवर झील के पास चीन सतह से हवा (Surface to Air) मिसाइल बेस का निर्माण कर रहा है।
  • इसके अलावा स्थलीय सैन्य अड्डों/सड़को का निर्माण भी झील के उत्तरी भाग में चीन द्वारा किया जा रहा है।
  • चीन का कहना है कि वह अपने ऊपर होने वाले खतरों से बचने के लिए ऐसा कर रहा हैं
  • यह निर्माण अंतर्राष्ट्रीय सीमा से लगभग 100 किलोमीटर की दूरी पर किया जा रहा है।
  • दूसरी तरफ PLA (पीपल्स लिवरेशन आर्मी) की गतिविधियाँ लीपूलेख के समीपवर्ती क्षेत्रों में काफी बढ़ी है।
  • इस समय चीन लद्दाख से लेकर अरूणाचल प्रदेश तक कई प्रकार की ऐसी गतिविधियों को अंजाम दे रहा है जो भारत के लिए चिंताजनक है।
  • कई माह से चले आ रहे इस सीमा विवाद में अभी तक शांति स्थापित नहीं हो पाई है।
  • अमेरिका ने कुछ माह पहले मध्यस्थता कर के विवाद के समाधान की बात कहा था लेकिन भारत ने इसे अस्वीकार कर दिया था।
  • अब रूस की मंशा दोनों के बीच शांति स्थापित करवाने की है।
  • नवंबर 2020 में Riyadh (रियाद) में जी-20 की बैठक होने वाली हैं यहां भारत, रूस एवं चीन भी शामिल होंगे।
  • रूस यह चाहता है कि यहां बातचीत कर के वह शांति स्थापित करवाये। इस तरह रूस अपने दोनों मित्र भारत और चीन को एक साथ साधना चाहता है।
  • भारत और चीन के बीच तनाव रूस के लिए भी चिंताजनक है। रूस का इस समय सबसे बड़ा साझेदार चीन है जिससे वह संबंध बनाकर रखना चाहता है। वहीं भारत रूस का बड़ा हथियार खरीदकर्ता देश है।
  • भारत-चीन तनाव में यदि रूस चीन का पक्ष लेता है तो भारत अमेरिका और पश्चिम देशों की तरफ अपना रूख कर सकता है, जिससे रूस को हानि होगी इसलिए रूस की मंशा दोनों देशो को अपने साथ रखने की है।
  • अमेरिकी सिनेटर मार्को रूबियो ने भारत से कहा है कि वह रूस को भारत चीन तनाव में मध्यस्थ न बनने दे। यह इस समय रुबियो सिनेट सेलेक्ट कमेटी के चेयरमेन है। इसके साथ यह सिनेट कमेटी ऑन फॉरेन रिलेशंस के सदस्य है।
  • अमेरिकी विदेशनीति निर्धारण में इनकी महत्वपूर्ण भूमिका है।
  • इन्होंने एशियन रिव्यू में लिखे एक लेख के माध्यम से यह बात कहा है।
  • मार्को रूबियो का मानना है कि पुतिन इस समय एक कमजोर शासक है और भारत-चीन की मध्यस्थता के माध्यम से अपना कद बड़ा करना चाहते हैं।
  • रूबियो का मानना है कि यदि भारत तैयार भी हो जाता है तो यहां शांति लंबे समय तक स्थापित नहीं हो पायेगी क्योंकि चीन अतिक्रमण जारी रह सकता है।
  • मानसरोवर झील तिब्बत में स्थिति झील है जिसे हिंदू, बौद्ध धर्म में इसे पवित्र माना जाता है।
  • इस झील का विस्तार लगभग 320 वर्ग किलोमीटर में है। इसके उत्तर में कैलाश पर्वत एवं राक्षसलाल है। यह संमुद्र तल से 4556 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है, जिसकी औसत गहराई 90 मीटर है।

1. निम्न में से कौन सी नदी बाल्टिक सागर में गिरती है।

(a) नीपर
(b) नीस्तर
(c) नेमान
(d) डेन्यूब

2. बेलारूस की सीमा निम्न में से किस देश के साथ नहीं लगती है।

(a) यूक्रेन
(b) पोलेण्ड
(c) लातविया
(d) रोमानिया