(डेली न्यूज़ स्कैन - DNS हिंदी) राष्ट्रीय वयोश्री योजना (Rashtriya Vayoshree Yojna)


(डेली न्यूज़ स्कैन - DNS हिंदी) राष्ट्रीय वयोश्री योजना (Rashtriya Vayoshree Yojna)



SENIOR CITIZENS की देखभाल करना जितना समाज का दायित्व है उतना ही सरकार का.....और इस बात को समझते हुए....सरकार समय समय पर ऐसी योजनायें लेकर आता है..जो वरिष्ट नागरिकों के लिए लाभकारी है.....

आज DNS में हम बात करेंगे... राष्ट्रीय वयोश्री योजना और सामाजिक अधिकारिता शिविर की.......

वरिष्ठ नागरिकों एवं दिव्यांग जनों को सहायता और सहायक उपकरणों के वितरण के लिए उत्तर प्रदेश के धार्मिक शहर प्रयागराज में अब तक के सबसे बड़े सामाजिक अधिकारिता शिविर का आयोजन किया गया…प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि थे।… इस अवसर पर उपस्थित अन्य गणमान्य अतिथियों में उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, केंद्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री डॉ. थावरचंद गहलोत, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता राज्यमंत्री कृष्णपाल गुर्जर, रामदास अठावले, रतन लाल कटारिया, उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य, यूपी सरकार के अन्य मंत्रीगण एवं स्थानीय सांसद व विधायक शामिल रहे....इसके अलावा दिव्यांग जन सशक्तिकरण विभाग की सचिव शकुंतला डी. गामलिन, केंद्रीय मंत्रालय एवं उत्तर प्रदेश सरकार के अन्य अधिकारी मौजूद रहे.....इस ऐतिहासिक कार्यक्रम के दौरान 26,874(चौहत्तर) लाभार्थियों को 56,905 (छप्पन हज़ार) सहायता एवं सहायक उपकरण वितरित किए गए.... दिव्यांग जनों को ADIP और वरिष्ठ नागरिकों को राष्ट्रीय वयोश्री योजना के तहत यह लाभ दिया गया…इन उपकरणों को पाने वालों में 10,416 दिव्यांग जन और 16,458(अट्ठावन) वरिष्ठ नागरिक थे...प्रधानमंत्री ने कहा, ‘नए भारत के विकास के लिए यह जरूरी है कि इसमें दिव्यांग युवाओं एवं बच्चों की बराबर की भागीदारी हो। सरकार उन्हें हर क्षेत्र में प्रोत्साहित कर रही है, चाहे वह औद्योगिक क्षेत्र हो या सेवा क्षेत्र हो या खेल का मैदान।’.......

  • सरकार ने दिव्यांग जन अधिकार अधिनियम को लागू किया
  • दिव्यांग जनों की श्रेणी को 7 से बढ़ाकर 21 किया
  • उच्च शिक्षा के क्षेत्र में दिव्यांगजनों का कोटा 3% से बढ़ाकर 5% किया’
  • पिछले पांच साल के दौरान देश में कई इमारतों, 700 से ज्यादा रेलवे स्टेशनों और हवाई अड्डों को दिव्यांग जनों के अनुकूल बनाया गया
  • सुगम्य भारत अभियान से जोड़कर दिव्यांग जनों के अनुकूल बनाया जाएगा...

क्या है राष्ट्रीय वयोश्री योजना

भारत सरकार ने राष्ट्रीय वयोश्री योजना गरीबी रेखा के नीचे आने वाले वृद्धों को यहीं सहारा पहुंचाने के मकसद से शुरू की है....इस योजना के तहत गरीबी रेखा के नीचे आने वाले उन वृद्धों को जो शारीरिक रूप से अक्षम हैं, उन्हें सरकार की तरफ से व्हीलचेयर तथा अन्य सहायक उपकरण दिए जाते है....राष्ट्रीय वयोश्री योजना को वर्ष 2017 में केंद्र सरकार के सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय द्वारा शुरू किया गया था...इसकी घोषणा तत्कालीन वित्तमंत्री अरुण जेटली ने 2015 – 16 के आम बजट के दौरान की थी....."राष्ट्रीय वयोश्री योजना" की शुरुआत आन्ध्र प्रदेश के नेल्लोर में 1 अप्रैल 2017 को की गयी... राष्ट्रीय वयोश्री योजना का मकसद उन गरीब वरिष्ठ नागरिकों की मदद करना है जो किसी न किसी तरह की शारीरिक अक्षमता का शिकार हैं और जिन्हें गुज़र बसर करने के लिए चिकित्सा उपकरणों की जरूरत होती है....लेकिन माली हालत ठीक न होने की वजह से वे इन उपकरणों को बाजार से नहीं खरीद पाते हैं ... सरकार ने ऐसे लोगों की मदद करने के लिए इस योजना की शुरुआत की.....केंद्र सरकार की इस योजना का फायदा बीपीएल श्रेणी के वरिष्ठ नागरिक को मिल सकेगा....राष्ट्रीय वयोश्री योजना का लाभ केवल गरीबी रेखा से नीचे जीवन जी रहे लोगों को मिलेगा....इस योजना का लाभ उठाने के लिए पंजीकरण कराते समय आवेदक के पास बीपीएल कार्ड होना ज़रूरी है......इस योजना का फायदा 60 वर्ष से अधिक आयु के लोग ही ले सकते हैं....इसके लिए पंजीकरण कराने वाले को अपने पैदा होने से संबधित कागजात दिखाने होंगे। जिसमे यह साफ होना चाहिए की अभ्यर्थी की उम्र 60 साल से अधिक है....इस योजना के तहत 60 साल से अधिक उम्र के बुजुर्गों को कई तरह के कृत्रिम उपकरण उपलब्ध कराए जाएगे....जिनमे यह सब शामिल है...

1.वाकिंग स्टिक ,
2.एल्बो क्रचेस ,
3. ट्राईपॉड्स
4. क्वैडपोड
5. श्रवण यन्त्र,
6. व्हीलचेयर,
7. कृत्रिम डेंचर्स ,
8. स्पेक्टल्स

खास बात यह है कि सरकार इस योजना के तहत कैंप लगवायेगी, जिसमे डॉक्टर्स की टीम मौजूद होगी….ये डॉक्टर्स उन सभी लोगों का चेक अप करेंगे जो ये लाभ उठाना चाहते हैं…चेक अप के बाद ही पात्रों को कृत्रिम उपकरण दिए जाएंगे। राष्ट्रीय वयोश्री योजना का देश के कई हिस्सों में लोग लाभ उठा सकते हैं….