(डेली न्यूज़ स्कैन - DNS हिंदी) राष्ट्रीय गंगा परिषद (National Ganga Council)


(डेली न्यूज़ स्कैन - DNS हिंदी) राष्ट्रीय गंगा परिषद (National Ganga Council)


हाल ही में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने कानपुर में पहली राष्ट्रीय गंगा परिषद यानि National Ganga Council की अध्यक्षता की।

हमारे आज के DNS में हम National Ganga Council के बारे में जानने का प्रयास करेंगे साथ ही नमामि गंगे अभियान की भी चर्चा करेंगे।

दरअसल नमामि गंगे अभियान केन्द्र सरकार के द्वारा चलाया जा रहा एक Umbrella Programme है जो National Mission for Clean Ganga के तहत आता है।

इस अभियान में गंगा नदी की सफाई, इसे प्रदूषण से मुक्त करना, उसकी जैव विविधता को बनाये रखना तथा गंगा के पुनयोविन की बात कही गई है।

नमामि गंगे अभियान के मुख्य पिलर कुछ इस प्रकार है-

  • जिसमें नालों का उपचार, नदी के तल की सफाई, वृक्षारोपण, आद्यौगिक अपशिष्ट का प्रबंधन, नदी तट का विकास, जैव विविधता, लोक जागरण व गंगा ग्राम का विकास आदि सम्मिलित है।
  • आंकड़ों के मुताबिक प्रतिदिन लगभग 500 मिलियन लीटर अपषिष्ट जल, सीधे तौर पर गंगा में नालों व उद्योगों से प्रवाहित किया जाता है जिसमें से अधिकांश जल बिना उपचार का यानि Untreated होता है।
  • इस प्रोग्राम के तहत गंगा नदी के 28 River Front पर विकास कार्य चल रहा है जिसके तहत लगभग 182 घाटों व 118 शमशान घाटों को आधुनिक बनाया जा रहा है।
  • नदी की जैवविविधता बचाने के लिये देहरादून, नरौरा, वाराणसी व बैरकपुर में 5 जैवविविधता केन्द्र बनाये गये है।
  • इसके साथ ही वृक्षारोपण के लिये 5 वर्षो में 2300 करोड़ रूपये आवंटित करने की बात भी कही गई है।
  • गंगा ग्राम के तहत गंगा नदी के किनारे लगभग 8 लाख 50 हजार शौचालयों का निर्माण भी किया गया है। तथा लगभग 7 लाख शौचालय अभी और बनाये जाने बाकी है।
  • गोमुख से गंगासागर तक गंगा नदी को सबसे अधिक प्रदूषित करने वाला क्षेत्र कानपुर है शायद इसीलिये पहली National Ganga Council मीटिंग की शुरूआत कानपुर से की गई।
  • दरअसल इस Council का कार्य सम्पूर्ण गंगा बेसिन को विकसित, निर्देशित व नियंत्रित करना है।
  • इस परिषद के Chairman प्रधानमंत्री होते है। तथा केन्द्रीय जल संसाधन मंत्री इस परिषद के Ex-officio Vice Chairman होते है। इसके साथ ही अन्य सदस्यों में वित्त मंत्री, शहरी विकास मंत्री, पर्यावरण मंत्री, पर्यटन मंत्री, पेयजल एवं स्वच्छता मंत्री, नीति आयोग के Vice Chairman व जहाजरानी मंत्री व सम्बन्धित राज्यों के मुख्यमंत्री आते है।
  • इस परिषद का उदेदश्य गंगा नदी का संरक्षण करना है।
  • हाल ही में हुई इस बैठक में प्रधानमंत्री ने नमामि गंगे अभियान का जायजा लिया, सीसामऊ नाले की स्थिति को जाना तथा एक Digital Dashboard बनाने की बात भी कही जिसमें शहरों व गांवों से Data एकत्रित करके प्रतिदिन नीति आयोग व जल शक्ति मंत्रलय द्वारा उसकी Monitoring की जायेगी।