(डेली न्यूज़ स्कैन - DNS हिंदी) राष्ट्रीय ब्रॉडबैंड मिशन (National Broadband Mission)


(डेली न्यूज़ स्कैन - DNS हिंदी) राष्ट्रीय ब्रॉडबैंड मिशन (National Broadband Mission)


हाल ही में केन्द्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्रलय ने राष्ट्रीय ब्राडबैंड मिशन की घोषणा की है।

हमारे आज के DNS में हम जानेगें कि क्या है National Broadband Mission तथा साथ ही संचार के अन्य क्षेत्रें में प्रगति की भी चर्चा करेगें।

  • इस मिशन का उद्देश्य 2022 तक भारत के सभी गाँवो Broadband Highspeed internet सेवा से जोड़ना है।
  • इस मिशन के तहत सभी को सस्ता, तेज व सार्वभौमिक इंटरनेट पहुँचाना सरकार की लक्ष्य है। सरकार ने यह कदम डिजिटल सशक्तीकरण व डिजिटल समावेशन के तहत उठाया है।
  • इसके अलावा इस मिशन के तहत 30 लाख k.m तक लम्बे optical fibre cable को बिछाना, तथा टावर घनत्व को बढ़ाकर प्रति हजार जनसंख्या पर 2 नेटवर्क टावर को उपलब्ध कराना है। जिसके लिये समय सीमा को 2024 तक रखा गया है।
  • इस मिशन के अन्य उद्देश्यों में सभी राज्यों व केन्द्र शासित प्रदेशों के साथ मिलकार डिजिटल संरचना को बढ़ाना उसका विस्तार करना तथा लोगों को आधुनिक डिजिटल क्रान्ति से जोड़ना है।
  • इसके अलावा सरकार डिजिटल संचार नेटवर्क, optical fibre cable और टावरों का एक जाल पूरे देश में बिछायेगी जिससे एक डिजिटल फाइबर मैप बनाया जायेगा।
  • सरकार ने इस महत्वाकांक्षी योजना में करीब 100 Billion US dollar यानि तकरीबन 7 लाख करोड़ रूपये की अनुमानित राशि खर्च होनी है जिसमें सत्तर हजार (70,000) करोड़ रूपयें Universal Service obligation fund यानि US of द्वारा प्रदान किया जायेगा।
  • सरकार के इस कदम को डिजिटल (Digital Literacy) की तरफ एक बड़ा कदम माना जा रहा है।
  • गौरतलब है कि भारत विश्व में इंटरनेट के लिहाज से उभरता हुआ बाजार है और फिलहाल भारत की मात्र एक तिहाई से कुछ अधिक जनसंख्या के पास ही इंटरनेट सुविधा उपलब्ध है।
  • सरकार के मुताबिक इंटरनेट ही वह शक्ति है जो कम समय में समाज के वंचित वर्ग को मुख्यधारा से जोड़ सकती है।
  • 2014 में भारत में इंटरनेट उपभोक्ताओं की संख्या करीब25 करोड़ थी जबकि 2019 में यह बढ़कर 6 करोड़ के पार पहुँच गई है।
  • सरकार के लक्ष्यों में मौजूदा मोबाइल टावरों की संख्या को 5-5 लाख से बढ़ाकर 10 लाख के ऊपर किया जाना भी शामिल है।