(डेली न्यूज़ स्कैन - DNS हिंदी) क्रोमोसाम या गुणसूत्र: महिलाओं की लंबी उम्र का राज (Chromosomes: A Secret to Longer Life of Women)


(डेली न्यूज़ स्कैन - DNS हिंदी) क्रोमोसाम या गुणसूत्र: महिलाओं की लंबी उम्र का राज (Chromosomes: A Secret to Longer Life of Women)



2011 की जनगणना के मुताबिक़ पुरुषों की संख्या महिलाओं के मुकाबले 37 मिलियन ज़्यादा थी। लेकिन अगर 60 साल से ज़्यादा के आंकड़ों पर नज़र डालें तो पुरूषों के मुकाबले तकरीबन 10 लाख महिलाएं ज़्यादा थी । आम तौर पर देखा जाये तो पूरी दुनिया में आदमी औरतों के मुकाबले कम जीते हैं और इसके लिए वैज्ञानिकों और शोधकर्ताओं ने कई अध्ययन किये हैं जिसके मद्देनज़र पुरुषों की जीवनशैली जिसमे ज़्यादा शराब पीना धूम्रपान करना शामिल हैं।

2015 में जारी विश्व स्वस्थ्य संगठन के आंकड़ों के मुताबिक़ वैश्विक स्तर पर महिलाएं औसतन पुरषों के मुकाबले तकरीबन 4.7 साल ज़्यादा जीती हैं।

नई खोज के मुताबिक़ इन सभी वजहों में अब एक और वजह शामिल हो गयी है जिससे महिलाएं पुरुषों से ज़्यादा जीती है । ये कारण दरसल में लिंग गुणसूत्र या सेक्स क्रोमोसोम्स से जुड़ा है।

सिडनी स्थित न्यू साउथ वेल्स विश्वविद्यालय के वैज्ञानिकों द्वारा किये गए एक शोध से पता चला है की महिलाओं के ज़्यादा जीने की वजह ये क्रोमोसोम्स हैं।

क्या होते हैं क्रोमोसोम्स या गुणसूत्र :

मानव शरीर कोशिकाओं से मिलकर बना होता है और इन कोशिकाओं के बीचोबीच होता है न्यूक्लियस या नाभिक । गुणसूत्र या क्रोमोसोम्स इसी नाभिक के भीतर मौजूद होते हैं । गुणसूत्र वो संरचनाएं हैं जिनमे जींस स्थित होते हैं । इंसानों में कई सारे लक्षणों और खूबियों की वजह दरअसल में जीन ही होते है इन लक्षणों में आँखों का रक्त समूह या ब्लड ग्रुप और लिंग निर्धारण सबसे अहम् हैं।

इन्सानी कोशिकाओं में 23 जोड़े क्रोमोसोम पाए जाते हैं इन्समे से एक जोड़ा सेक्स क्रोमोसोम होता है जिन्हे X और Y क्रोमोजोम के नाम से जाना जाता है जिनसे ये निर्धारित होता है की कोई भी व्यक्ति विशेष पुरुष होगा या महिला । महिलाओं में 2 X क्रोमोसोम पाए जाते हैं जबकि पुरुषों में 1 X और 1 Y क्रोमोजोम पाया जाता है।

एक शोध के मुताबिक़ Y क्रोमोजोम किसी व्यक्ति विशेष को X क्रोमोजोम पर आये खतरनाक जीन के मुकाबले कम बचाता है । पुरुषों में ये Y क्रोमोसोम X क्रोमोसोम के मुकाबले छोटा होता है जिससे ये X क्रोमोजोम के हानिकारक मुताशंस को नहीं रोक पाता जो बाद में इंसानी सेहत के लिए खतरा बन जाता है।

इसके अलावा इस नयी खोज के मुताबिक़ महिलाओं में X क्रोमोजोम जोड़े के चलते कोई खास दिक्कत नहीं आती क्यूंकि एक X क्रोमोसोम में दिक्कत आने के बावजूद दूसरा X क्रोमोसोम जो की सेहतमंद रहता है वो दुसरे X क्रोमोसोम की जगह ले लेता है जिससे हानिकारक जीन अपना प्रभाव नहीं दिखा पाता । इसके चलते महिलाओं की सेहत पुरुषों की तुलना में ठीक रहती है और उनकी ज़िंदगी की मियाद भी बढ़ जाती है।

न्यू साउथ वेल्स विश्वविद्यालय के एक कथन के मुताबिक़ सिर्फ इंसानों में ही नहीं बल्कि अन्य कई प्रजातियों में भी जिनमे क्रोमोजोम के सामान जोड़े पाए जाते हैं वो आसमान जोड़े वाले वाले क्रोमोसोम के मुकाबले ज़्यादा जीते हैं।

इंसानों के अलावा अन्य प्रजातियों में भी आम तौर पर इसी तरह का पैटर्न देखने को मिलता है लेकिन कुछ प्रजातियों में मादा के मुकाबले नर प्रजातियां ज्यादा जीती है । पक्षियों और तितलियों में नर प्रजातियों में लिंग सम्बन्धी गुणसूत्र समान होते है जबकि मादाओं में ये गुणसूत्र अलग अलग होते हैं । मादा पक्षी तितलियों और कीट आदि नर के मुकाबले कम जीती है और उनकी मौत जल्दी होती है।

हालांकि इस शोध के मुताबिक़ सिर्फ महिलाओं में गुणसूत्र ही एक वजह नहीं जिससे वो लम्बी ज़िंदगी जीती हैं बेहतर जीवन शैली , अच्छा खान पान और नियमित व्यायाम भी इसमें अहम् भूमिका अदा करते हैं।