(Video) राज्य सभा टीवी आयुष्मान भवः Rajya Sabha TV (RSTV) Ayushman Bhava : बाल झड़ने की बीमारी (Alopecia Areata)


(Video) राज्य सभा टीवी आयुष्मान भवः Rajya Sabha TV (RSTV) Ayushman Bhava : बाल झड़ने की बीमारी (Alopecia Areata)


विषय (Topic): बाल झड़ने की बीमारी (Alopecia Areata)

अतिथि (Guest):

  • Dr.Ananta Khurana, (Associate Professor, Department of Dermatology, RML Hospital)
  • Dr Anu Kapoor, (Medical Superintendent, Nehru Homoeopathic Medical College and Hospital)
  • Dr Alka Kapoor, (Deputy Medical Superintendent, All India Institute of Ayurveda)

विषय विवरण (Topic Description):

माना जाता है कि सिर के 100 बाल प्रतिदिन टूटना चिंता की बात नहीं होती है क्योंकि सिर के बाल पतले होकर टूटते हैं और फिर दोबारा से उग आते हैं। लेकिन विशेष चिंता की बात तब होती है जब बाल उगने का चक्र खराब हो जाता है और बाल टूटते तो हैं लेकिन उगते नहीं है और हेयर फॉलिकल क्षतिग्रस्त हो जाते हैं सिर की कोशिकाओं में निशान और धब्बे पड़ जाते हैं।हर महिला और पुरुष में रोजाना करीब 100 बाल तक झड़ना आम माना जाता है। लेकिन कुछ मामलों में बालों का झड़ना गंभीर हो जाता है। एलोपेशिया एक ऐसी ही स्थिति है जिसमें सामान्य से ज्यादा बाल झड़ते है। गंजेपन को डॉंक्टरी भाषा में एलोपेसिया कहते हैं। यह बीमारी आज आम होती जा रही है। पुरुषों में गंजापन ज्यादा देखा जाता है, पर अब महिलाएं भी गंजेपन का शिकार हो रही हैं। बहुत हद तक जीवनशैली से जुड़ी इस बीमारी के कई प्रकार हैं, जिनके कारण भी अलग-अलग हैं। गंजेपन के प्रकारएंड्रोजेनिक एलोपेसिया, एलोपेसिया एरीटा, ट्रैक्शन एलोपेसिया।

पहले यह धारणा थी कि गंजापन सिर्फ पुरुषों में ही होता है और महिलाओं के सिर्फ बाल झड़ते हैं, लेकिन अब महिलाओं में भी गंजेपन की समस्या सामने आने लगी है। स्टडी के मुताबिक जब फोलीसाइल सिकुड़ने लगते हैं तो बाल झड़ने शुरू हो जाते हैं और वहां गंजापन आ जाता है। महिलाओं में यह समस्या सबसे ज्यादा देखने को मिलती है। महिलाओं में गंजेपन के कारण आनुवंशिक गुण, उम्र बढ़ने के कारण, सर्जरी, कीमोथेरेपी या किसी दवा के प्रभाव के कारण,मेनोपॉज के कारण । पुरुषों में गंजेपन की शुरुआत कनपटी से होती है, जबकि महिलाओं में गंजेपन की शुरुआत बीच की मांग से होती है। दोनों में ही गंजेपन के कारण भिन्न-भिन्न होते हैं।

पुरालेख (Archive) के लिए यहां क्लिक करें C।ick Here for Archive

Courtesy: RSTV