(Video) राज्य सभा टीवी देश देशांतर Rajya Sabha TV (RSTV) Desh Deshantar : बढ़ता एनपीए और बैड बैंक का विकल्प (Concept of Bad Bank)


(Video) राज्य सभा टीवी देश देशांतर Rajya Sabha TV (RSTV) Desh Deshantar : बढ़ता एनपीए और बैड बैंक का विकल्प (Concept of Bad Bank)


विषय (Topic): बढ़ता एनपीए और बैड बैंक का विकल्प (Concept of Bad Bank)

अतिथि (Guest):

  • A. Ved Jain, (Former President of The Institute of Chartered Accountants)
  • B. Dr. Subhash Chandra Pandey, (Former Special Secy & Financial Adviser, Ministry of Commerce and Industry, GoI)
  • C. Subhomoy Bhattacharjee, (Consulting Editor, The Business Standard)

विषय विवरण (Topic Description):

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने संकेत दिया कि केंद्रीय बैंक बढ़ते एनपीए से निपटने के लिए एक बैड बैंक की अवधारणा पर विचार कर रहा है.. बैड बैंक एक आर्थिक अवधारणा है जिसके अंतर्गत आर्थिक संकट के समय घाटे में चल रहे बैंकों द्वारा अपनी देनदारी को एक नये बैंक को ट्रासंफर कर दिया जाता है। जब किसी बैंक की NPA एक सीमा से अधिक हो जाती है तब राज्य के आश्वासन पर एक ऐसे बैड बैंक का निर्माण किया जाता है जो कर्ज़ में फँसी बैंकों की राशि को एक निश्चित समय के लिए खरीद लेता है। इसके बाद गैर निष्पादित संपत्ति की समस्या से निपटने का कार्य भी इसी बैंक का होता है। गौरतलब है कि बैड बैंक की अवधारणा को सबसे पहले 1988 में मेल्लोन बैंक (Mellon Bank) के पिट्सबर्ग मुख्यालय में पेश किया गया था। इस तरह के कई बैंक पहले से ही फ्रांस, जर्मनी, स्पेन, पुर्तगाल जैसे कई देशों में काम कर रहे है।

Click Here for RSTV The Big Picture

पुरालेख (Archive) के लिए यहां क्लिक करें Click Here for Archive

Courtesy: RSTV