यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में डेली करेंट अफेयर्स MCQ क्विज़ (Daily Hindi Current Affair MCQ Quiz for UPSC/State PSC Exams) : 30, अगस्त 2021


यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में डेली करेंट अफेयर्स MCQ क्विज़

(Daily Current Affairs MCQ Quiz for UPSC, IAS, UPPSC/UPPCS, MPPSC. BPSC, RPSC & All State PSC Exams)

तारीख (Date): 30, अगस्त 2021


प्रश्न 1 : डिपोर बील वन्य जीव अभयारण्य जिसे हाल ही में भारत के पर्यावरण मंत्रालय ने इको सेंसिटिव ज़ोन घोषित किया है , भारत के किस राज्य में स्थित है?

A. मणिपुर
B. त्रिपुरा
C. नागालैंड
D. असम

उत्तर: (D)

व्याख्या: असम के दीपोर बील वन्य जीव अभयारण्य को हाल ही में भारत सरकार के पर्यावरण मंत्रालय ने इको सेंसिटिव ज़ोन का दर्जा देने वाला नोटिफिकेशन जारी कर दिया है। दीपोर बील असम राज्य का एकमात्र रामसर स्थल और महत्वपूर्ण पक्षी क्षेत्र ( IBA) भी है। यह एक आर्द्रभूमि स्थल के रूप में बड़े स्तर पर वन्य जीवों को सुरक्षा देता है। यह असम का सबसे बड़ा फ्रेश वॉटर लेक है। चूंकि यह वन्य जीव अभयारण्य तेज गति से विकास कर रहे गुवाहाटी के दक्षिण पश्चिम हिस्से में स्थित है, इसलिए वन्य जीवों की सुरक्षा के लिहाज से इसे ESZ टैग देना जरूरी भी था।

प्रश्न 2 : चकमा और हाज़ोंग लोगों को किस उत्तर पूर्वी भारतीय राज्य में नागरिकता देने की मांग हाल ही में की गई है?

A. सिक्किम
B. अरुणाचल प्रदेश
C. नागालैंड
D. असम

उत्तर: (B)

व्याख्या: हाल ही में चकमा नेशनल काउंसिल ऑफ इंडिया ने केंद्र सरकार को सुप्रीम कोर्ट के दो आदेशों का अनुपालन करते हुए चकमा और हाजोंग लोगों को अरुणाचल प्रदेश में नागरिकता देने की मांग की गई है। 6 दशकों से अधिक समय से अरुणाचल प्रदेश में रहने वाले चकमा और हाज़ोंग लोगों की संख्या राज्य में 60 हज़ार से अधिक है। पूर्वी पाकिस्तान से विस्थापित हुए बौद्ध चकमा और हिंदू हाजोंग को भारत सरकार ने अरुणाचल प्रदेश में 1964 से 1969 के मध्य बसाया था। वहीं भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने वर्ष 1996 और 2015 में दिये गए अपने आदेशों में कहा था कि चकमा और हाज़ोंग को अरुणाचल प्रदेश के निवासी के रूप में भारतीय नागरिकता दी जानी चाहिए।

प्रश्न 3 : गोल गुंबज के संबंध में कौन सा कथन असत्य है?

A. इसे दक्षिण के ताज के रूप में भी देखा जाता है।
B. यह कर्नाटक के विजयपुरा स्थित मुहम्मद आदिल शाह का मकबरा ( tomb) है।
C. इसका हेमिस्फेरिकल डोम दुनिया के सबसे बड़े स्वतंत्र रूप से खड़ी संरचनाओं ( free standing structure) में से एक है।
D. गोल गुंबद भारत का और साथ ही विश्व का सबसे बड़ा गुंबद है।

उत्तर: (D)

व्याख्या : हाल में भारी बारिश के चलते गोल गुंबद का एक हिस्सा क्षतिग्रस्त हो गया है जिसके मरम्मत के लिए भारत के पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग ने जिम्मेदारी ली है जिसके बाद यह सुर्खियों में आ गया है।

गोल गुंबद भारत का सबसे बड़ा और विश्र्व का दूसरा सबसे बड़ा गुंबद है। इस विशाल गुंबद का व्यास 44 मीटर और ऊंचाई 51 मीटर है। इसके निर्माण में तीस वर्ष लगे थे।

दरअसल, यह एक मकबरे का गुंबद है, जिसके मुख्य हॉल के भीतर चारों ओर सीढिय़ों से घिरा हुआ एक चौकोर चबूतरा बना हुआ है। इस चबूतरे के मध्य में कब्र का पत्थर है, जिसके नीचे बीजापुर के सुल्तान मुहम्मद आदिल शाह की कब्र है। मकबरे के गुंबद की आंतरिक परिधि पर एक गोलाकार गलियारा बना हुआ है। इस गुंबद को अंग्रेजों ने 'व्हिसपरिंग गैलरी' नाम दिया था, क्योंकि इस गलियारे के एक तरफ फुसफुसा कर बोला गया शब्द भी दूसरी तरफ तक स्पष्ट सुनाई देता है।

इस इमारत की सबसे बड़ी बॉलकनी को 'च्हमसा' कहा जाता है। गहरे भूरे बेसाल्ट पत्थर से बना मकबरा दक्षिण भारतीय-मुगल वास्तुकला का अद्भुत नमूना है, जो द्रविड़ वास्तुशैली से घुल-मिल गया है। यह अष्टकोणीय इमारत नफ़ीस नक्काशी फूल-बूटे, आलों-मेहराबों से सजी हुई है।

प्रश्न 4 : निम्नलिखित कथनों पर विचार करें।

1. ईरान, तुर्कमेनिस्तान, अफगानिस्तान की सीमा पर खोरासान नाम के इलाके में 2012 में लड़ाकों ने एक गुट बनाया था जिसे isis khorasan कहते हैं।
2. ISIS-K गुट का अल कायदा से गठजोड़ है और यह इस्लामिक अमीरात की स्थापना पर बल देता है।

उपरोक्त में से कौन से कथन सत्य हैं?

A. केवल 1
B. केवल 2
C. 1 और 2 दोनों
D. न तो 1 न ही 2

उत्तर: (C)

व्याख्या: काबुल एयरपोर्ट पर गुरुवार को हुए आत्मघाती हमलों का मुख्य संदिग्ध अफगानिस्तान में इस्लामिक स्टेट (IS) से संबधित आतंकी संगठन है. जिसे इस्लामिक स्टेट खोरासान (ISIS-K) के नाम से जाना जाता है. हाल के महीनों में ISIS-K से जुड़े हमलों की तीव्रता से कई लोग चिंतित हैं. आइसिस-के की स्थापना छह साल पहले हुई थी. सत्ता और प्रभुत्व की लड़ाई में तालिबान को ये गुट अपना दुश्मन मानता है.

ईरान, तुर्कमेनिस्तान, अफगानिस्तान की सीमा पर खोरासान नाम के इलाके में 2012 में लड़ाकों ने एक गुट बनाया था. 2014 में इस गुट का ISIS के प्रति झुकाव हुआ और वो इस्लामिक स्टेट की मुहिम में शामिल हो गए. ISIS के करीब 20 मॉड्यूल हैं, जिसमें सबसे खतरनाक ISIS-K यानी खोरासान गुट है. दक्षिण एशिया में खोरासान का नेटवर्क सबसे मजबूत है. ISIS का खोरासान मॉड्यूल इस वक्त सबसे ज्यादा सक्रिय है.