यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में डेली करेंट अफेयर्स MCQ क्विज़ (Daily Hindi Current Affair MCQ Quiz for UPSC/State PSC Exams) : 20, अक्टूबर 2021


यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में डेली करेंट अफेयर्स MCQ क्विज़

(Daily Current Affairs MCQ Quiz for UPSC, IAS, UPPSC/UPPCS, MPPSC. BPSC, RPSC & All State PSC Exams)

तारीख (Date): 20, अक्टूबर 2021


प्रश्न 1. निम्नलिखित कथनों में से असत्य कथन कौन सा है ?

A. ग्लोबल ट्यूबरक्लोसिस रिपोर्ट , 2021 विश्व स्वास्थ्य संगठन ने जारी की है।
B. 2018 में संयुक्त राष्ट्र की टीबी पर आयोजित पहली बैठक में राष्ट्राध्यक्षो ने तय किया था कि 2024 तक टीबी से जुड़े टारगेट प्राप्त करेंगे।
C. पहली ग्लोबल ट्यूबरक्लोसिस रिपोर्ट WHO द्वारा 1997 में लांच की गई थी।
D. ग्लोबल टीबी वॉचलिस्ट में कंबोडिया , रूस और जिम्बाम्बे को शामिल किया गया है।

उत्तर: (B)

व्याख्या : हाल ही में WHO द्वारा ग्लोबल ट्यूबरक्यूलोसिस रिपोर्ट , 2021 जारी की गई है। रिपोर्ट में बताया गया है कि दुनिया भर में 4.1 मिलियन लोग वर्तमान ( 2020) में ट्यूबरक्लोसिस की बीमारी का सामना कर रहे हैं।

2019 में यह आंकड़ा 2.9 मिलियन था। सरल शब्दों में कहें तो वैश्विक क्षय रोग रिपोर्ट -2021’ (ग्लोबल ट्यूबरकुलोसिस रिपोर्ट- 2021) के मुताबिक, बीते एक दशक में क्षय रोग से सबसे ज्यादा 15 लाख मौत 2020 में हुई हैं। इसकी एक तिहाई यानी पांच लाख मौत भारत में हुईं।

सबसे ज्यादा मरीज भारत, इंडोनेशिया, नाइजीरिया, पाकिस्तान और दक्षिण अफ्रीका जैसे देशों में हैं। मौतों में मात्र 9.2 फीसद की कमी हो सकी है। ग्लोबल टीबी वॉचलिस्ट में कंबोडिया , रूस और जिम्बाम्बे को शामिल किया गया है।

2018 में संयुक्त राष्ट्र की टीबी पर आयोजित पहली बैठक में राष्ट्राध्यक्षो ने तय किया था कि 2022 तक टीबी से जुड़े टारगेट प्राप्त करेंगे जिसकी समीक्षा बैठक 2023 में की जाएगी।

पहली ग्लोबल ट्यूबरक्लोसिस रिपोर्ट WHO द्वारा 1997 में लांच की गई थी। SDG टारगेट 3.3 में UN द्वारा ट्यूबरक्लोसिस , एड्स , मलेरिया जैसी बीमारियों को 2030 तक खत्म करने का लक्ष्य तय किया गया है। वहीं भारत सरकार द्वारा वर्ष 2025 तक टीबी को खत्म करने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।

प्रश्न 2. देश का पहला ऐल्कोहल म्यूजियम हाल ही में भारत के किस राज्य में खोला गया है ?

A. बिहार
B. उत्तर प्रदेश
C. गोवा
D. झारखंड

उत्तर: (C)

व्याख्या: हाल ही में गोवा के कैंडोलिम बीच में देश का पहला एल्कोहल म्यूजियम खोला गया है जिसमें शताब्दियों पुराने ऐल्कोहल बॉटल्स , ग्लॉसवेयर और उपकरणों को रखा गया है।

इसे ऑल एबाउट ऐल्कोहल म्यूजियम के नाम से जाना गया है । गोवा का कैंडोलिम बीच अपने ऐल्कोहलिक पेय पदार्थ फेनी के लिए विश्व प्रसिद्ध है। 2016 में फेनी को गोवा का हेरिटेज ड्रिंक भी घोषित किया जा चुका है।

वर्ष 2013 में गोवा के फेनी को भौगोलिक संकेतक यानी GI tag का भी दर्जा दिया जा चुका है। गोवा के cashew feni को GI टैग दिया जा चुका है। इसके लिए गोवा में cashew apples उगाए जाते हैं।

गोवा में फेनी का चलन करीब 500 साल पुराना है।

गोवा में खासतौर से दो तरह का फेनी सबसे पॉपुलर है। एक काजू फेनी (Cashew Feni) और दूसरा नारियल फेनी (Coconut Feni) है।

काजू फेनी की तुलना में नारियल फेनी का चलन ज्‍यादा पुराना है। गोवा में नारियल की उपलब्‍धता भरपूर रहती थी, यही कारण है कि यहां पहली बार नारियल से फेनी से तैयार किया गया। हालांकि, पुर्तगाल से आने वाले लोगों ने यहां काजू से फेनी बनाने का काम शुरू किया।

प्रश्न 3. निम्नलिखित कथनों पर विचार करें ।

1. डॉक्टर सुब्रमण्यम चंद्रशेखर को 1983 में भौतिकी के क्षेत्र में डॉक्‍टर विलियम फाऊलर के साथ संयुक्त रूप से नोबेल पुरस्कार से सम्‍मानित किया गया था।
2. उनकी खोजों से न्यूट्रॉन तारे और ब्लैक होल के अस्तित्व की धारणा कायम हुई थी।

उपरोक्त में से कौन से कथन सत्य है / हैं ?

A. केवल 1
B. केवल 2
C. 1 और 2 दोनों
D. न तो 1 न ही 2

उत्तर: (B)

व्याख्या : 19 अक्टूबर यानी आज भारत के महान भौतिक खगोल शास्त्री डॉक्टर सुब्रमण्यम चंद्रशेखर की बर्थ एनीवर्सरी है।डॉक्‍टर सुब्रह्मण्यम चंद्रशेखर उन भारतीयों में से हैं जिन्‍हें नोबेल पुरस्‍कार से सम्‍मानित किया गया था।

19 अक्टूबर 1910 को लाहौर में जन्‍मे चंद्रशेखर भारतीय-अमेरिकी खगोलशास्त्री थे। फिजिक्‍स पर की गई रिसर्च के लिए उन्हें विलियम ए फाउलर के साथ संयुक्त रूप से वर्ष 1983 भौतिकी का नोबेल पुरस्कार दिया गया था।

वर्ष 1934 में महज 24 वर्ष की आयु में ही उन्होंने तारों के गिरने और लुप्त होने की गुत्‍थी सुलझा ली थी। 11 जनवरी 1935 को लंदन की रॉयल एस्ट्रोनॉमिकल सोसाइटी में उन्‍होंने इसको लेकर अपना रिसर्च पेपर भी सब्मिट कर दिया था।

इस रिसर्च के मुताबिक सफेद बौने तारे जिसको व्हाइट ड्वार्फ स्‍टार कहा जाता है वो एक निश्चित द्रव्यमान यानी डेफिनेट मास हासिल करने के बाद अपने भार में वृद्धि नहीं कर सकते है। यही वजह है कि वो अंत में ब्‍लैक होल में तब्‍दील हो जाते हैं।

उनकी रिसर्च में कहा गया था कि जिन तारों का डेफिनेट मास आज सूर्य से 1.4 गुना अधिक होगा, वे तारे आखिर में सिकुड़ कर बहुत भारी हो जाएंगे। इस तरह से वो अपने अंत तक पहुंच जाते हैं।

प्रश्न 4. कोरिंगा वन्यजीव अभयारण्य के आस पास के 177 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र को ईको सेंसिटिव जोन घोषित किया गया है । यह अभयारण्य कहाँ स्थित है ?

A. ओडिशा
B. गोवा
C. तेलंगाना
D. आंध्र प्रदेश

उत्तर: (D)

व्याख्या: भारत सरकार के पर्यावरण वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय ने हाल ही में आंध्र प्रदेश में स्थित कोरंगा वन्यजीव अभयारण्य के 177 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र को पर्यावरण संरक्षण अधिनियम 1986 की धारा तीन के तहत इको सेंसेटिव जोन घोषित किया है। इस अभयारण्य का कुल विस्तार 235.70 वर्ग किलोमीटर है और इसमें पूरा होप आइलैंड भी शामिल है।

यह निर्णय इसलिए लिया गया है कि काकीनाडा शहर की भविष्य की विकास जरूरतों , काकीनाडा बंदरगाह की वर्तमान गतिविधियों , मत्स्यन गतिविधियों से कोरिंगा वन्यजीव अभयारण्य के जीव जंतुओं को खतरे का सामना करना पड़ सकता है। इन जीवों में खासकर फिशिंग कैट , इंडियन स्मूथ कोटेड otter , ओलिव रिडले टर्टल और कई पक्षी प्रजातियां शामिल हैं।

इसके अलावा हाल ही में केरल के वायनाड वन्यजीव अभयारण्य के 88.21 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र को भी इको सेंसेटिव जोन घोषित करने के लिए केरल राज्य सरकार ने भारत के पर्यावरण मंत्रालय के समक्ष इसके लिए आवेदन प्रस्तुत किया है।

इसके अलावा हाल ही में चीड और बांज के घने वन के लिए समृद्ध उत्तराखंड के कुमांऊ क्षेत्र की शांत वादियों में स्थित बिनसर वन्यजीव अभयारण्य को भी पारिस्थितिकी संवेदी क्षेत्र (इको-सेंसिटिव जोन) घोषित कर दिया गया है।

राष्ट्रीय उद्यानों और वन्यजीव अभयारण्यों के आस-पास इको-सेंसिटिव ज़ोन के लिये घोषित दिशा-निर्देशों के तहत निषिद्ध उद्योगों को इन क्षेत्रों में काम करने की अनुमति नहीं है।

ये दिशा-निर्देश वाणिज्यिक खनन, जलाने योग्य लकड़ी के वाणिज्यिक उपयोग और प्रमुख जल-विद्युत परियोजनाओं जैसी गतिविधियों को प्रतिबंधित करते हैं।

कुछ गतिविधियों जैसे कि पेड़ गिराना, भूजल दोहन, होटल और रिसॉर्ट्स की स्थापना सहित प्राकृतिक जल संसाधनों का वाणिज्यिक उपयोग आदि को इन क्षेत्रों में नियंत्रित किया जाता है।

प्रश्न 5. हाल ही में विश्व का पहला देश कौन बना है जिसने फॉरेस्ट कार्बन पार्टनरशिप फैसिलिटी से उत्सर्जन कटौती करने के लिये भुगतान प्राप्त किया है ?

A. भारत
B. ब्राज़ील
C. मोज़ाम्बिक
D. नार्वे

उत्तर: (C)

व्याख्या: अफ्रीकी देश मोज़ाम्बिक विश्व का पहला देश बना है जिसने फॉरेस्ट कार्बन पार्टनरशिप फैसिलिटी से उत्सर्जन कटौती ( Emission Reduction)करने के लिये भुगतान प्राप्त किया है।

वर्ष 2019 से 1.28 मिलियन टन कार्बन उत्सर्जन कटौती करने के लिए मोज़ाम्बिक को फॉरेस्ट कार्बन पार्टनरशिप फैसिलिटी के तहत वर्ल्ड बैंक द्वारा 6.4 मिलियन डॉलर दिया गया है।

फॉरेस्ट कार्बन पार्टनरशिप फैसिलिटी सरकारों ,व्यवसायों, सिविल सोसाइटी और स्वदेशी पीपुल्स ऑर्गेनाइजेशन का एक ग्लोबल पार्टनरशिप है जिसका मुख्य जोर वनों की कटाई और वनों के अवमूल्यन से होने वाले उत्सर्जन में कटौती करना है।

इसके अलावा इसका उद्देश्य फॉरेस्ट कार्बन स्टॉक का संरक्षण करना, वनों का धारणीय प्रबंधन करना और विकासशील देशों में कार्बन स्टॉक का संवर्धन करना है।

इसे 2008 में लांच किया गया था और इसमें 47 विकासशील देश सदस्य के रूप में शामिल हैं जहां यह कार्य करता है जिसमें अफ्रिका एशिया लेटिन अमेरिका और कैरेबियन देश शामिल हैं।

इंडोनेशिया के बाली में UNFCCC के COP 13 ( वर्ष 2007 ) में वर्ल्ड बैंक , नेचर कंजर्वेन्सी और 9 डोनर्स द्वारा फॉरेस्ट कार्बन पार्टनरशिप फैसिलिटी को विकसित किया गया था और 2008 में इसे लांच कर दिया गया था।