विश्व रायनो दिवस (World Rhino Day) : डेली करेंट अफेयर्स

विश्व रायनो दिवस (World Rhino Day)

चर्चा में क्यों?

‘विश्व राइनो दिवस’ (22 सितंबर) पर असम के काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान के मुख्यालय के समक्ष असम सरकार द्वारा राइनो की 2500 सींगो को जला कर जागरूकता फैलाई गई I

राइनो की सभी पांच प्रजातियों के सम्बन्ध में जागरूकता फैलाने के लिए प्रकृति के लिए विश्वव्यापी कोष (डब्लू.डब्लू.एफ़) द्वारा 2010 में ‘विश्व राइनो दिवस’ की घोषणा की गयीI इसे 2011 से प्रतिवर्ष मनाया जा रहा है I

आवास के क्षतिग्रस्त होने और अवैध शिकार के कारण राइनो की प्रजातियों पर विलुप्त होने का संकट मंडरा रहा है I

एक-सींग वाला गैंडा (Greater One-Horned Rhino ...

IUCN की रेड लिस्ट में स्थिति:

  • एक सींग वाले गैंडे - सुभेद्य।
  • ब्लैक राइनो: गंभीर रूप से संकटग्रस्त।
  • व्हाइट राइनो: खतरे या संकट के करीब।
  • जावा राइनो: गंभीर रूप से संकटग्रस्त।
  • सुमात्रन राइनो: गंभीर रूप से संकटग्रस्त।
  • एक सींग वाले गेंडों को इन्डियन राइनो के नाम से जाना जाता है। यह राइनो की प्रजाति में सबसे बड़ा है। भारत विश्व में एक सींग वाले गैंडे की सर्वाधिक संख्या वाला देश है I
  • हाल के वर्षों में भारत में राइनो की संख्या में वृद्धि देखने को मिली है I
  • इसे भारतीय वन्य जीव संरक्षण अधिनियम 1972 की अनुसूची 1 में शामिल किया गया हैI

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान

यह राष्ट्रीय उद्यान असम के ब्रह्मपुत्र घाटी बाढ़ क्षेत्र में 42,996 हेक्टेयर (हेक्टेयर) भूभाग पर स्थित हैI जिसे वर्ष 1974 में राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया था I

इसे 1985 से यूनेस्को की विश्व विरासत सूची में प्राकृतिक स्थल के रूप में शामिल किया I

काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान देश के 52 बाघ संरक्षित क्षेत्रों में भी शामिल है I इसे ‘बर्ड लाइफ इंटरनेशनल’ द्वारा एक महत्त्वपूर्ण पक्षी क्षेत्र के रूप में मान्यता दी गई है।

यह “एक सींग वाले गैंडों” की सबसे बड़ी आबादी (आबादी का लगभग 68% ) वाला निवास स्थान है |

हिमालय के पूर्वी भाग में जैवविविधता ‘हॉट-स्पॉट’ क्षेत्र में स्थित होने के कारण जैव विविधता धनी क्षेत्र है जहाँ वनस्पतियों जीव जन्तुओं की विभिन्न प्रजातियाँ पायी जाती हैं I यहाँ प्रमुख जीवधारियों में गैंडा (2,401), बाघ (116), हाथी (1,165), एशियाई जंगली भैंस तथा पूर्वी बारहसिंघा (1,148) शामिल हैं I

उत्तराखंड के जिम कॉर्बेट राष्ट्रीय उद्यान और कर्नाटक में बांदीपुर राष्ट्रीय उद्यान के बाद भारत में धारीदार बिल्लियों की तीसरी सबसे ज़्यादा जनसंख्या काजीरंगा राष्ट्रीय उद्यान में पाई जाती है ।

असम के अन्य महत्वपूर्ण राष्ट्रीय उद्यान – मानस राष्ट्रीय उद्यान, डिब्रू सैखोवा राष्ट्रीय उद्यान, ओरंग राष्ट्रीय उद्यान और नामेरी राष्ट्रीय उद्यान महत्वपूर्ण हैं I