शेर बहादुर देउबा (Sher Bahadur Deuba) : डेली करेंट अफेयर्स

शेर बहादुर देउबा (Sher Bahadur Deuba)

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में नेपाल की राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी ने विपक्षी नेपाली कांग्रेस पार्टी के नेता शेर बहादुर देउबा को देश का नया प्रधानमंत्री नियुक्त किया है।

प्रमुख बिंदु

  • शेर बहादुर देउबा नेपाल के नए प्रधानमन्त्री बने हैं।
  • दरअसल सुप्रीम कोर्ट द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री के. पी. शर्मा ओली की ओर से संसद भंग करने के निर्णय को पलट दिया था और भंडारी को देउबा को प्रधान मंत्री नियुक्त करने का निर्देश दिया था ।

शेर बहादुर देउबा

  • शेर बहादुर देउबा का जन्म 13 जून, 1946 को हुआ था।
  • वह लंबे वक्त से नेपाली कांग्रेस सभापति हैं।
  • उन्होने नेपाल के 40वें प्रधानमंत्री के रूप में साल 2017 में शपथ ली थी।
  • इससे पहले 1995 से 1997 तक, फिर 2001 से 2002 तक और 2004 से 2005 तक नेपाल के प्रधानमंत्री रह चुके हैं।
  • वे नेपाली कांग्रेस के अध्यक्ष भी हैं।

शेर बहादुर देउबा का राजनीतिक करियर

  • नेपाल की राजनीति में शेर बहादुर देउबा के करियर की बात करें तो उन्होंने 1965 में स्टूडेंट्स पॉलिटिक्स से अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत की थी। इस समय वह महज 19 साल के थे।
  • साल 1965 से 1968 तक उन्होंने सुदूर-पश्चिमी छात्र समिति, काठमांडू के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया।
  • इसके अलावा, शेर बहादुर देउबा नेपाल छात्र संघ के संस्थापक सदस्य थे, जो नेपाली कांग्रेस का एक सहयोगी संगठन था।
  • वर्ष 1960 और 1970 के दशक में पंचायत व्यवस्था के खिलाफ काम करने के लिए उन्हें रुक-रुककर 9 साल की जेल भी हुई।
  • फिर1980 के दशक में नेपाली कांग्रेस की राजनीतिक सलाहकार समिति के समन्वयक के रूप में भी उन्होंने अपना योगदान दिया।

अनुच्छेद 76 (7)

  • नेपाल के संविधान के अनुच्छेद 76 (7) के तहत, प्रधानमंत्री प्रतिनिधियों के सदन को भंग कर सकते हैं और छह महीने के भीतर चुनाव कराने की नई तारीख की घोषणा कर सकते हैं, यदि प्रधानमंत्री की नियुक्ति खंड (5) के तहत विश्वास मत में विफल हो जाती है या जब किसी सदस्य को प्रधानमंत्री के रूप में नियुक्त नहीं किया जा सकता है।