यूपीएससी, आईएएस, सिविल सेवा और राज्य लोक सेवा आयोग की मुख्य परीक्षा के लिए इतिहास (वैकल्पिक विषय) का ऑनलाइन बैच (बैच कोड - OOHH5)


यूपीएससी, आईएएस, सिविल सेवा और राज्य लोक सेवा आयोग की मुख्य  परीक्षा के लिए इतिहास (वैकल्पिक विषय) का ऑनलाइन बैच (बैच कोड - OOHH5)


वैकल्पिक विषय इतिहास ऑनलाइन बैच प्रारम्भ

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC IAS/IPS) एवं राज्य लोक सेवा आयोग (UPPCS, BPSC and All State PSC/PCS) द्वारा आयोजित मुख्य (Mains) परीक्षा हेतु प्रतिबद्ध कार्यक्रम

वैकल्पिक विषय (इतिहास) ऑनलाइन बैच-2020-21 (From 27th July 2020 at 2:30 pm)-

जिस दुनिया को हम वर्तमान में देख रहे हैं वह अतीत की उपलब्धियों पर ही आधारित है, ऐसे में भला कौन होगा जिसे अपने पूर्वजों अपनी मिट्टी तथा अपने नायकों को जानने की इच्छा नही होगी। किसी भी देश में भावी प्रशासकों के लिए इतिहास का ज्ञान अनिवार्य माना गया है। सिविल सेवाओं में वैकल्पिक विषय इतिहास काफी लोकप्रिय एवं सफलता देने वाला विषय रहा है एवं बना हुआ है। अंतिम चयन में इस विषय का काफी महत्व है जैसे-

  • इतिहास कहानी की तरह होता है अतः यह अध्ययन करने में काफी रूचिकर होता है।
  • वैकल्पिक विषय इतिहास एक अंकदायी विषय है जिसमें उच्च स्कोर आते रहे हैं जैसे- किरण कौशल (AIR-3, IAS), अजय मिश्रा (AIR-5, IAS), जय प्रकाश मौर्या (AIR-9, IAS), गौरव कुमार (AIR-31, IAS), आदि।

इतिहास वैकल्पिक विषय के रूप में चयन करने वाले अभ्यर्थियों को परीक्षा के सभी चरणों में काफी मदद मिलती है। जैसे-

प्रारंभिक परीक्षाः-

  • IAS एवं PSC/PCS की प्रांरभिक परीक्षा में इतिहास से काफी प्रश्न पूछे जाते है अतः प्री-क्वालीफाई करना अपेक्षाकृत आसान होता है।

मुख्य परीक्षाः-

  • सामान्य अध्ययनः प्रथम प्रश्न पत्र- (संस्कृति एवं विरासत, आधुनिक भारत, स्वतंत्रता पश्चात् भारत, विश्व इतिहास)
  • सामान्य अध्ययनः द्वितीय प्रश्न पत्र- (संविधान का विकास, स्वतंत्रता पश्चात् भारत की विदेश नीति)
  • सामान्य अध्ययनः तृतीय प्रश्न पत्र- (वैश्वीकरण के पूर्व अर्थव्यवस्था एवं विज्ञान का विकास)
  • सामान्य अध्ययनः चतुर्थ प्रश्न पत्र- (भारत एवं विश्व के महान विचारकों, नेताओं एवं सुधारकों के जीवन एवं उनके उपदेश)

निबंधः-

  • निबंध में प्रायः एक प्रश्न इतिहास एवं संस्कृति से पूछे जाते है (125 अंक)

सिविल सेवा परीक्षा एवं वैकल्पिक विषय इतिहासः-

  • प्रथम प्रश्न पत्र 250 अंक (प्राचीन एवं मध्यकालीन भारत)
  • द्वितीय प्रश्न पत्र 250 अंक (आधुनिक भारत एवं विश्व इतिहास)

मुख्य परीक्षा की दृष्टि से वैकल्पिक विषय इतिहास में सब कुछ पढ़ना नहीं होता है बल्कि चयनात्मक अध्ययन द्वारा मुख्य घटनाओं, संकल्पना, विमर्श, परिवर्तन एवं निरन्तरता को ध्यान में रखकर तैयारी करनी होती है। सही रणनीति, उचित मार्गदर्शन एवं बेहतर प्रबंधन के द्वारा विषय को बेहतर ढंग से तैयार किया जा सकता है यही कारण है कि इस विषय के साथ सिविल सेवा परीक्षा में उच्च रैंक आते रहें हैं।

शिक्षक के बारे में:

विजय वेद सर

विजय वेद सर इतिहास विषय के जाने माने विशेषज्ञ, ध्येय आई.ए.एस. के प्रमुख फैकल्टी एवं मार्गदर्शक है। इतिहास विषय से वे नेट/जे.आर.एफ. है। Indian Council of Historical Research में पुरातात्विक परिप्रेक्ष्य में ‘‘मानव एवं पर्यावरण’’ तथा ‘‘मन्दिर की पंचायतन शैली’’ जैसे विषयों पर इनका शोधकार्य अत्यधिक समृद्ध रहा है जिसे समय-समय पर NISCAIR ने अंतर्राष्ट्रीय जनरल में प्रमुख लेख के रूप में महत्वपूर्ण स्थान दिया है। हाल ही में सोनौली के उत्खनन एवं उसके निर्वचन के संदर्भ में Archaeological Survey of India के रिपोर्ट पर ICHR के समक्ष इन्होंने महत्वपूर्ण सुझाव प्रस्तुत किया। जिसमे नये संदर्भ एवं आयाम होने के कारण संस्था ने इसे स्वीकृति देते हुये शोधकार्य को नयी दिशा दी है।

एक शिक्षक के रूप में विजय वेद सर विगत 12 वर्षों से अध्यापन एवं मार्गदर्शन कर रहे है। ध्येय आई.ए.एस. में सामान्य अध्ययन से जुड़े इतिहास के खण्ड एवं वैकल्पिक विषय इतिहास पढ़ाते आये हैं। इनके मार्गदर्शन में वैकल्पिक विषय इतिहास से अनेक अभ्यर्थी सफल हुये हैं जिसमें मिंटू लाल (IAS 2018, 302 Marks), जगदीश कुमार (IAS 2018, 298 Marks), कंचन झॉ (BPSC / SDM), परमानन्द (UPPSC/ Dy. SP), अमित यादव (UPPSC), संजय कुमार (UPPSC) आदि शामिल हैं।

ऑनलाइन कोर्स की विशेषताएं

  • Mode - ऑनलाइन
  • माध्यम- हिन्दी
  • समयावधि - लगभग 6 माह
  • पाठ्यक्रम को व्यापक रूप से 300+ Hours में Live Video Session के द्वारा कवर किया जाएगा।
  • प्रत्येक टॉपिक पर डिस्कशन ग्राफिक्स, मैप एवं रेखाचित्र द्वारा अभ्यर्थियों को बेहतर ढंग से समझाना।
  • प्रत्येक टॉपिक पर उच्च स्तरीय एवं अद्यतन पाठ्य सामग्री उपलब्ध कराना।
  • पूर्ववर्ती वर्षों में आये प्रश्नों एवं सम्भावित प्रश्नों पर चर्चा एवं फ्रेमिंग।
  • प्रत्येक टॉपिक के अंत में क्लास टेस्ट एवं समस्या का निवारण।
  • लोक सेवा आयोग द्वारा पूछे जाने वाले प्रश्नों के स्तर के अनुरूप नियमित एवं निःशुल्क टेस्ट लिया जाएगा। जिसका मूल्यांकन विजय वेद सर के निर्देशन में टीम ध्येय आई.ए.एस. (वैकल्पिक विषय इतिहास) द्वारा किया जाएगा।

नोट- आवश्यकतानुसार अभ्यर्थियों के समक्ष कुछ शर्तों के अधीन यह विकल्प होगा कि वह ऑनलाइन से आपॅफ़लाइन कोर्स में अपना रजिस्ट्रेशन/प्रवेश परिवर्तित कर सके।

एडमिशन की प्रक्रिया-

एडमिशन ओपन

इस कोर्स में प्रवेश लेने की प्रक्रिया इस प्रकार है:

  • पंजीकरण फॉर्म भरें
  • दिए गए विकल्पों के माध्यम से ऑनलाइन या ऑफलाइन भुगतान करें
  • दिए गए प्रारूप में अपना भुगतान विवरण सबमिट करें

या

आप सीधे संपर्क के लिए हमारे समर्पित मोबाइल नंबरों 8853467068, 9205962002 पर कॉल कर सकते हैं और व्हाट्सएप 9205274741 से संपर्क कर सकते हैं।

तकनीकी जरूरत-

  • छात्रों को उचित इंटरनेट कनेक्शन के साथ एंड्रॉइड स्मार्ट फोन/टैबलेट होना अनिवार्य है।
  • लाइव और विलंबित कक्षाएं ध्येय IAS के मोबाइल एप्लिकेशन (एंड्रॉइड ऐप) में स्ट्रीम होगी।

कोर्स की फीस-

  • Rs. 25,000 + जीएसटी
    (वन टाइम पेमेंट पर 10% अतिरिक्त छूट)

Payment Options

Scan QR Code

Direct Transfer in Bank Account

किसी भी सहयता के लिए हमें कॉल करें: 8853467068, 9205962002 और व्हाट्सएप से संपर्क करें 9205274741

For Registration Please fill the form below

:: अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न (FAQ) ::

प्रश्न; अगर मुझे पाठ्यक्रम या शिक्षक के पढ़ाने की शैली पसंद नहीं है तो इसके लिए क्या विकल्प है?
उत्तर: इसके लिए सबसे उचित तरीका यह है कि आप हमारे यूट्यूब DHYEYA IAS पर जा कर ऑनलाइन पाठ्यक्रम के प्ले लिस्ट को सेलेक्ट करें। उसके उपरांत आप वहां पर हमारे डेमो वीडियो को देखें। यदि आपको पसंद आता है तभी आप एडमिशन ले। एडमिशन लेने के उपरांत हम किसी भी ऐसे अनुरोध पर विचार करने में हम असमर्थ होंगे।

प्रश्न: यदि ऑनलाइन पाठ्यक्रम के दौरान कोई छात्र अपने किसी प्रश्न या शंका या संदेह को दूर करना चाहे, तो यह कैसे संभव होगा?
उत्तर: आपके किसी भी प्रकार के प्रश्न या शंका या संदेह को दूर करने के लिए हमारी एक अकादमिक टीम होगी जो आपकी सहायता के लिए सदैव तत्पर रहेंगे। आपको बस अपनी रजिस्ट्रेशन आईडी बता कर हमारी टीम के साथ अपनी समस्या पर विस्तृत रूप से चर्चा कर सकते हैं।

प्रश्न: क्या छात्रों के पास पाठ्यक्रम की अवधि के दौरान अपना प्रवेश रद्द करने का विकल्प होगा?
उत्तर: हाँ, एक बार एडमिशन लेने के बाद छात्र पाठ्यक्रम प्रारंभ होने के 6 दिनों के भीतर प्रवेश रद्द कर सकेंगे। हालाँकि इस पाठ्यक्रम में प्रवेश लेने से पहले हम आपको सुझाव देते हैं कि आप हमारे YouTube चैनल पर अपलोड किए गए डेमो वीडियो की गुणवत्ता से पूरी तरह से संतुष्ट हों जाये उसके उपरान्त ही निर्णय ले।

  • फीस के रिफंड हमारे संस्था के नियमानुसार रहेंगे। इस प्रक्रिया को पूरा करने में न्यूनतम 30 दिन लगेंगे। रिफंड की स्थिति में जीएसटी और प्रोसेसिंग शुल्क की कटौती की जाएगी।

DHYEYA IAS संस्थान का मूल विश्वास यह है कि हमारा ऑनलाइन पाठ्यक्रम उस अभ्यर्थियों की शैक्षणिक आवस्यकतओं को पूरा करने में सक्षम होगा जो नियमित रूप से क्लास लेने के बजाय सामान्य तौर पर अपने मूल स्थान पर रहते हुए स्व-अध्ययन द्वारा सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी करते हैं।