यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए ब्रेन बूस्टर (विषय: यूनेस्को ग्लोबल जियो पार्क (UNESCO Global Geo Park)

यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए ब्रेन बूस्टर (Brain Booster for UPSC & State PCS Examination)


यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए करेंट अफेयर्स ब्रेन बूस्टर (Current Affairs Brain Booster for UPSC & State PCS Examination)


विषय (Topic): यूनेस्को ग्लोबल जियो पार्क (UNESCO Global Geo Park)

यूनेस्को ग्लोबल जियो पार्क (UNESCO Global Geo Park)

चर्चा का कारण

  • ‘भारतीय राष्ट्रीय कला एवं सांस्कृतिक धरोहर न्यास’ (INTACH), विशाखापट्टनम (आंध्र प्रदेश) का ‘एर्रा मट्टी डिब्बालू’ (लाल रेत के टीले), प्राकृतिक चट्टानीय संरचनाओं, बोर्रा गुफाओं और ज्वालामुखीय ऐश निक्षेपण आदि भू-वैज्ञानिक स्थलों के लिये ‘यूनेस्को ग्लोबल जियो पार्क’ के रूप में मान्यता प्राप्त करने हेतु प्रयासरत है।

पृष्ठभूमि

  • उल्लेखनीय है कि 44 देशों में 161 ‘यूनेस्को ग्लोबल जियो पार्क’ हैं, लेकिन अभी तक भारत का एक भी भू-वैज्ञानिक स्थल इसमें शामिल नहीं किया गया है।
  • जियोपार्क एक एकीकृत क्षेत्र है जो एक स्थायी तरीके से भूगर्भीय विरासत की सुरक्षा और उपयोग को आगे बढ़ाता है और वहां रहने वाले लोगों के आर्थिक कल्याण को बढ़ावा देता है।
  • यह पहल स्थानीय समुदायों के साथ सक्रिय रूप से जुड़कर पृथ्वी की भू-विविधता की सुरक्षा को बढ़ावा देती है।

विशाखापट्टनम के जियो स्थल

  • एर्रा मट्टी डिब्बालू
  • विशाखापट्टनम और भीमुनिपत्तन के बीच स्थित यह तटीय लाल तलछट के टीले हैं।
  • इस भूवैज्ञानिक विरासत स्थल को भारत के राष्ट्रीय भूवैज्ञानिक विरासत स्मारक स्थलों में भी अधिसूचित किया गया है

मंगामरिपेटा में प्राकृतिक चट्टानीय संरचनाएँ

  • यह पूर्वी घाट में थोटलाकोंडा बौद्ध स्थल के सामने मंगामरिपेटा तट पर स्थित एक प्राकृतिक चट्टानीय मेहराब है।
  • विद्वानों के अनुसार यह लगभग 10,000 वर्ष पूर्व की संरचना हो सकती है, जो तिरुमाला पहाडि़यों में स्थित सिलथोरनम के प्राकृतिक रॉक आर्क के समान है।

बोर्रा गुफाएँ:

  • समुद्र तल से 1,400 मीटर की ऊंचाई पर स्थित, ये अद्भुत गुफाएं पर्यटकों के लिए विशेष आकर्षण का केन्द्र है।
  • इस क्षेत्र में चूना पत्थर के जमाव पर गोस्थानी नदी के प्रवाह के परिणामस्वरूप ये गुफाएं अस्तित्व में आईं हैं।
  • इन गुफाओं में स्टैलेक्टाइट और स्टैलेग्माइट संरचनाएँ पाई जाती है।

ज्वालामुखी ऐश

  • ऐसा माना जाता है कि यह अराकू (आंध्र प्रदेश) के पास 73,000 वर्ष पूर्व इंडोनेशिया में टोबा के ज्वालामुखी विस्फोट से उत्पन्न राख का निक्षेप है।

UNESCO ग्लोबल जिओ पार्क, बायोस्फीयर रिजर्व और वर्ल्ड हेरिटेज साईट में अंतर

  • प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण की दिशा में यूनेस्को की ‘ग्लोबल जियो पार्क’ पहल के अलावा दो अन्य प्रमुख पहल ‘बायोस्फीयर रिजर्व’ और ‘विश्व विरासत स्थल’ हैं। परन्तु ये एक दुसरे से निम्नलिखित प्रकार से भिन्न हैः
  • बायोस्फीयर रिजर्व- यह जैविक और सांस्कृतिक विविधता के समरस प्रबन्धन से सम्बंधित है।
  • विश्व धरोहर स्थल- यह उत्कृष्ट सार्वभौम महत्त्व के प्राकृतिक एवं सांस्कृतिक स्थलों के संरक्षण को बढ़ावा देता है।
  • यूनेस्को ग्लोबल जियोपार्क- यह उन स्थलों को अंतर्राष्ट्रीय मान्यता प्रदान करता है जो स्थानीय समुदायों के सक्रिय सहयोग से पृथ्वी की जैव विविधता के संरक्षण के महत्त्व एवं सार्थकता को बढ़ावा देता है।
  • निष्कर्षतः यह कहा जा सकता है कि ये तीनों मिलकर न केवल हमारी धरोहर का चित्रण करते हैं अपितु साथ-साथ विश्व की सांस्कृतिक, जैविक एवं भू-वैज्ञानिक विविधता का संरक्षण करते हुए सतत आर्थिक विकास को प्रोत्साहित करते हैं।