यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए ब्रेन बूस्टर (विषय: RMIFC और EMASOH (RMFC and EMASOH)

यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए ब्रेन बूस्टर (Brain Booster for UPSC & State PCS Examination)


यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए ब्रेन बूस्टर (Brain Booster for UPSC & State PCS Examination)


विषय (Topic): RMIFC और EMASOH (RMFC and EMASOH)

RMIFC और EMASOH (RMFC and EMASOH)

चर्चा का कारण

  • हाल ही में पर्यवेक्षक के रूप में हिंद महासागर आयोग (आईओसी) में शामिल होने के बाद, भारत मेडागास्कर में क्षेत्रीय समुद्री सूचना संलयन केंद्र (Regional Maritime Information Future Centre- RMIFC) तथा होर्मुज जलडमरूमध्य में यूरोपीय समुद्री निगरानी पहल (EMASOH) में नौसेना संपर्क अधिकारियों को नियुक्त करने पर विचार कर रहा है।

प्रमुख बिन्दु

  • RMFIC हिन्द महासागर आयोग के अंतर्गत कार्य करता है। ज्ञातव्य है कि भारत, जापान तथा संयुक्त राष्ट्र को मार्च, 2020 में पर्यवेक्षक का दर्जा प्रदान किया गया है। इसका मुख्यालय मेडागास्कर में स्थित है।
  • क्षेत्रीय समुद्री सूचना संलयन केंद्र की स्थापना का उद्देश्य समुद्री गतिविधियों पर निगरानी के माध्यम से समुद्री अधिकार-क्षेत्र जागरूकता (Maritime Domain Awareness) में वृद्धि करना तथा सूचना साझाकरण एंव विनिमय को प्रोत्साहन देना है।

यूरोपीय समुद्री निगरानी पहल (EMASOH)

  • बेल्जियम, डेनमार्क, नीदरलैंड और फ्रांस के संयुक्त पहल से EMASOH का मुख्यालय अबू धाबी में फ्रांसीसी नौसैनिक अड्डे पर स्थापित किया गया है।
  • इसकी स्थापना का प्रमुख उद्देश्य समुद्र में होने वाली गतिविधियों की निगरानी करना तथा फारस की खाड़ी एवं होर्मुज जलडमरूमध्य में नौपरिवहन की स्वतंत्रता का दायित्व लेना है। इस पहल की शुरूआत फ्रांस के नेतृत्व में फरवरी, 2020 में किया गया।

हिंद महासागर आयोग

  • आईओसी दक्षिण पश्चिम हिंद महासागर में एक क्षेत्रीय मंच है जिसमें पांच राष्ट्र शामिल हैं - कोमोरोस, फ्रांस (रीयूनियन), मेडागास्कर, मॉरीशस और सेशेल्स। चीन और यूरोपीय संघ (ईयू) क्रमशः 2016 और 2017 के बाद से आईओसी में पर्यवेक्षक रहे हैं।
  • हिंद महासागर आयोग की स्थापना वर्ष 1982 में मॉरीशस के पोर्ट लुई में की गयी थी। इसका मुख्यालय एबेने मॉरीशस में अवस्थित है। यह एक अंतर-सरकारी संगठन है।

हिंद महासागर क्षेत्र हेतु सूचना संलयन केंद्र

  • भारतीय नौसेना ने दिसंबर 2018 में गुरुग्राम में सूचना प्रबंधन और विश्लेषण केंद्र (IMAC) के परिसर में IFC-IOR की स्थापना की ताकि क्षेत्र में समुद्री गतिविधियों पर नजर रखी जा सके।
  • फ्रांस IFC-IOR में एक Liasion अधिकारी तैनात करने वाला पहला देश बन गया, जिसके बाद अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, जापान और यूनाइटेड किंगडम सहित कई अन्य देशों ने नौ सेना संपर्क अधिकारी नियुत्तफ़ करने की घोषणा की।
  • भारत ने कई देशों के साथ श्वेत शिपिंग समझौतों, लॉजिस्टिक्स सपोर्ट अग्रीमेंट (एलएसए) और समुद्री सहयोग समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैं। उदाहरण के लिए, वर्चुअल समिट में, भारत और ऑस्ट्रेलिया ने इंडो-पैसिफिक में समुद्री सहयोग के लिए एक साझा विजन पर एक संयुक्त घोषणा की, जिसमें उन्होंने फ्नौसेना-से-नौसेना सहयोग को गहरा करने और इंडो-पैसिफिक क्षेत्र में समुद्री अधिकार-क्षेत्र जागरूकता (एमडीए) को मजबूत करनेय् पर सहमति व्यक्त की।
  • आईएफसी-आईओआर दुनिया भर में इसी तरह के केंद्रों के साथ समन्वय कर रहा है। इनमें -आभासी क्षेत्रीय समुद्री यातायात केंद्र, हॉर्न ऑफ अफ्रीका का समुद्री सुरक्षा केंद्र ,समुद्री डकैती और सशस्त्र डकैती पर क्षेत्रीय सहयोग समझौता, सूचना संलयन केंद्र- सिंगापुर और अंतर्राष्ट्रीय समुद्री ब्यूरो-पाइरेसी रिपोर्टिंग केंद्र शामिल हैं।