यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए ब्रेन बूस्टर (विषय: भारत और जापान के बीच शैक्षणिक और अनुसंधान सहयोग पर समझौता ज्ञापन (MoU on Academic and Research Cooperation between India and Japan)

यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए ब्रेन बूस्टर (Brain Booster for UPSC & State PCS Examination)


यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए करेंट अफेयर्स ब्रेन बूस्टर (Current Affairs Brain Booster for UPSC & State PCS Examination)


विषय (Topic): भारत और जापान के बीच शैक्षणिक और अनुसंधान सहयोग पर समझौता ज्ञापन (MoU on Academic and Research Cooperation between India and Japan)

भारत और जापान के बीच शैक्षणिक और अनुसंधान सहयोग पर समझौता ज्ञापन (MoU on Academic and Research Cooperation between India and Japan)

चर्चा का कारण

  • हाल ही में केंद्रीय मंत्रिमंडल द्वारा भारत और जापान के बीच एक समझौता ज्ञापन को मंजूरी दी गई है। इस एमओयू को राष्ट्रीय वायुमंडलीय अनुसंधान प्रयोगशाला (NARL) और जापान के क्योटो विश्वविद्यालय के अंतर्गत संचालित अनुसंधान संस्थान फॉर सस्टेनेबल ह्यूमनोस्फीयर (RISH) के बीच हस्ताक्षर किये गये हैं।

प्रमुख बिन्दु

  • इस समझौता ज्ञापन पत्र के माध्यम से एनएआरएल और आरआईएसएच के बीच अनुसंधान सुविधाओं का उपयोग किया जाएगा।
  • वायुमण्डलीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी, समन्वयात्मक वैज्ञानिक प्रयोगों/अभियानों और प्रतिमान अध्यनों से संबंधित क्षेत्रों में सहयोग को बढ़ावा दिया जाएगा।
  • इसके साथ-साथ वैज्ञानिक विशेष सामग्री, प्रकाशनों और सूचनाओं का आदान-प्रदान, संयुक्त अनुसंधान बैठकें एवं कार्यशालाएं, संकाय छात्रों एवं अनुसंधानकर्ताओं के मध्य ज्ञान के आदान प्रदान को जारी रखा जाएगा।
  • इस समझौते ज्ञापन पत्र के माध्यम से जापान के शिगराकी में मध्य और ऊपरी वायुमंडलीय रडार, भूमध्यवर्ती वायुमंडलीय रडार (ईएआर) और आरआईएसएच में उपलब्ध अनुपूरक उपकरणों के साथ-साथ एनएआरएल में मध्यमंडल-समतापमंडल-क्षोभमंडल (एमएसटी) रडार एवं उपलब्ध अनुपूरक उपकरणों जैसी सुविधाओं का परस्पर उपयोग किया जा सकेगा।

पृष्ठभूमि

  • भारत और जापान द्वारा इस व्यवस्था को एक समझौता ज्ञापन पत्र के माध्यम से 2008 में गठित किया गया था। उपरोक्त समझौते ज्ञापन पत्र को 2013 में नवीनीकृत किया गया। दोनों पक्षों ने नए दिशा-निर्देशों के अनुरूप सहयोगात्मक अनुसंधान को प्रोत्साहन देने के लिए एक नवीन समझौते ज्ञापन पत्र पर नवंबर 2020 में हस्ताक्षर किए और इनका आदान-प्रदान किया। एनएआरएल के वैज्ञानिक आरआईएसएच द्वारा संचालित वायुमंडलीय रडार अंतर्राष्ट्रीय स्कूल में संसाधन व्यक्तियों के तौर पर कार्य करते हैं।

भारत-जापान

  • भारत और जापान सालाना 2+2 वार्ता का आयोजन करते हैं। अमेरिका के बाद जापान ऐसा दूसरा देश है जिसके साथ भारत का ऐसा संवाद प्रारूप है।
  • जापान को भारत पेट्रोलियम उत्पाद, रसायन आदि निर्यात करता है।
  • भारत जापान से परिवहन, मशीनरी, लोहा और इस्पात, इलेक्ट्रॉनिक सामान इत्यादि आयात करता है।
  • भारत में जापान का प्रत्यक्ष विदेशी निवेश मुख्य रूप से विद्युत उपकरण, ऑटोमोबाइल, दूरसंचार, दवा क्षेत्र में है।
  • जापान ने दिल्ली-मुंबई औद्योगिक गलियारे में 90 बिलियन अमरीकी डालर का निवेश किया है। यह औद्योगिक पार्क, नए शहर, बंदरगाह और हवाई अड्डे स्थापित करेगा।
  • जापान भारत को परमाणु रिएक्टर और परमाणु तकनीक की आपूर्ति करता है।
  • भारत और जापान दोनों ही देश संयुक्त राष्ट्र के सदस्य है। साथ ही दोनों देश G-4 समूह (भारत, ब्राजील, जर्मनी और जापान) के सदस्य हैं, जो संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (UNSC) की स्थायी सदस्यता के लिये एक दूसरे की दावेदारी का समर्थन करते हैं।
  • इसके अतिरिक्त दोनों देशों की वायु सेनाओं के द्वारा फ्शिन्यु मैत्रीय् और थल सेनाओं द्वारा ‘धर्म गार्जियन’ नामक संयुक्त सैन्य अभ्यास का आयोजन किया जाता है।