यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए ब्रेन बूस्टर (विषय: जम्मू-कश्मीर एकीकृत शिकायत निवारण और निगरानी प्रणाली (Jammu and Kashmir Integrated Grievance Redressal and Monitoring System)

यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए ब्रेन बूस्टर (Brain Booster for UPSC & State PCS Examination)


यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए करेंट अफेयर्स ब्रेन बूस्टर (Current Affairs Brain Booster for UPSC & State PCS Examination)


विषय (Topic): जम्मू-कश्मीर एकीकृत शिकायत निवारण और निगरानी प्रणाली (Jammu and Kashmir Integrated Grievance Redressal and Monitoring System)

जम्मू-कश्मीर एकीकृत शिकायत निवारण और निगरानी प्रणाली (Jammu and Kashmir Integrated Grievance Redressal and Monitoring System)

चर्चा का कारण

  • हाल ही में जम्मू-कश्मीर के एलजी मनोज सिन्हा ने प्रशासनिक अमले को बेहतर और उनके काम करने की गुणवत्ता सुधारने के लिए जम्मू-कश्मीर एकीकृत शिकायत निवारण और निगरानी प्रणाली (जेके-आईग्राम) की शुरुआत की, जिसके तहत शिकायत निवारण प्रणाली का अब विकेन्द्रीकरण होगा।
  • गौरतलब है कि यह शिकायत निवारण प्रणाली वर्ष 2018 में सरकार द्वारा शुरू किए गए मौजूदा शिकायत निवारण तंत्र को प्रतिस्थापित करेगी। इससे पहले कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन मंत्रलय के प्रशासनिक सुधार और लोक शिकायत विभाग (डीएआरपीजी) वर्ष 2019 से राष्ट्रीय स्तर पर ऑनलाइन नागरिक शिकायतों के समाधान के लिए डाटा आधारित नवाचार’ का शुभारम्भ कर चुका है।

आवश्यकता क्यों?

  • प्रशासन और शासन से जुड़े अन्य विभागों के अधिकारी लोगों के लिए उपलब्ध नहीं रहते हैं। इसलिए जेएंडके आईजीआरएमएस को शुरू करने का फैसला लिया गया।

प्रमुख बिन्दु

  • जेके-आईग्राम अभी पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर जम्मू, श्रीनगर और रियासी जिले में ही शुरू किया जा रहा है। किन्तु धीरे-धीरे 2 अक्टूबर तक शेष जिलों में चलाया जाएगा।
  • शिकायतों के निपटान और निगरानी के लिए जिला कलेक्टरों/उपायुक्त को प्राथमिक स्तर के रूप में रिसीवर बनाया गया है। इस प्रकार, केंद्र शासित प्रदेश के 20 जिलों में लगभग 1500 सार्वजनिक कार्यालयों की मैपिंग करके मौजूदा पोर्टल को अब जिला स्तर पर नीचे की ओर एकीकृत कर दिया गया है।
  • यह केंद्र सरकार के साथ जुड़ी देश का पहला ऑनलाइन शिकायत प्रबंधन प्रणाली/ पोर्टल बन रही है। इसमें सबसे ऊपर जिले हैं फिर तहसील और ब्लॉक स्तर तक भी नीचे रखे गए हैं।
  • इसके अलावा इस प्रणाली के सुचारू रूप से चलते रहने के लिए इसमें विभिन्न विभागों के प्रशासनिक सचिव भी तंत्र से जुड़े हुए हैं। इसके अलावा, नई प्रणाली 24’7 उपलब्ध होगी जो आवेदक के ओटीपी प्रमाणीकरण के साथ काम करेगी। प्रत्येक चरण में आवेदक को पावती, शिकायतकर्ता द्वारा प्रतिक्रिया की व्यवस्था भी दी गई है।
  • इसके साथ ही कॉल सेंटर के जरिए उस शिकायत को लेकर रविवार को छोड़कर सभी दिनों में सुबह 9.30 से पूर्वाह्न 5-30 बजे के बीच फोन कॉल भी की जाएगी।

जेके-आईग्राम का महत्व

  • जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल द्वारा यह कदम ऐसे समय में उठाया गया है, जब लोगों में विशेष रूप से कश्मीर घाटी में असंतोष और अलगाव की भावना बढ़ रही है। ज्ञातव्य है कि पिछले वर्ष अनुछेद 370 के निरसन से कश्मीर घाटी में तनाव की स्थिति व्याप्त है।
  • इससे पहले भी जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल द्वारा बैक टू विलेज ’अभियान की भी घोषणा की थी, जिसमें अधिकारी गाँवों का दौरा करेंगे और जनता की शिकायतों का समाधान करेंगे।

महत्व

  • केंद्रीयकृत लोक शिकायत निवारण एवं निगरानी प्रणाली
  • सीपीजीआरएएमएस (CPGRAMS) वेब तकनीक आधारित प्लेटफॉर्म है, जिसका प्रमुख उद्देश्य पीडि़त नागरिकों को कहीं से भी और किसी भी समय शिकायत करने में सक्षम बनाना है, जिसके आधार पर मंत्रलय/विभाग/संगठन/ राज्य सरकार तेजी से जांच कर सके और इन शिकायतों का निस्तारण कर सके।
  • इस पोर्टल पर विशेष पंजीकरण संख्या भी जारी की जाएगी, जिसके आधार पर शिकायतकर्ता अपनी शिकायत पर होने वाली कार्यवाही पर नजर रख सकेंगे।