यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए ब्रेन बूस्टर (विषय: इंडियन ब्रेन टेम्प्लेट्स एवं मस्तिष्क एटलस (Indian Brain Templates and Brain Atlas)

यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए ब्रेन बूस्टर (Brain Booster for UPSC & State PCS Examination)


यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए करेंट अफेयर्स ब्रेन बूस्टर (Current Affairs Brain Booster for UPSC & State PCS Examination)


विषय (Topic): इंडियन ब्रेन टेम्प्लेट्स एवं मस्तिष्क एटलस (Indian Brain Templates and Brain Atlas)

इंडियन ब्रेन टेम्प्लेट्स एवं मस्तिष्क एटलस (Indian Brain Templates and Brain Atlas)

चर्चा का कारण

  • हाल ही में, मनोरोग संबंधी बीमारियों के सटीक आकलन करने और न्यूरो-सर्जिकल ऑपरेशन करने में मदद के लिए ‘राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य और स्नायु विज्ञान संस्थान’ (National Institute of Mental Health and Neuro- Sciences- NIMHANS) के न्यूरोसाइंटिस्टों की एक टीम द्वारा पाँच वर्ष तक के बच्चों के लिये बचपन से प्रौढ़ावस्था (छह वर्ष से 60 वर्ष) कवर करते हुए ‘इंडियन ब्रेन टेम्प्लेट्स’ (Indian Brain Templates- IBT) और मस्तिष्क एटलस के पाँच सेट विकसित करने हेतु भारतीय मरीजों के 500 से अधिक ब्रेन स्कैन का अध्ययन किया गया है।

पृष्ठभूमि

  • मॉन्ट्रियल न्यूरोलॉजिकल इंडेक्स (एमएनआई) टेम्प्लेट जो हम वर्तमान में उपयोग करते हैं, कोकेशियान मस्तिष्क टेम्पलेट पर आधारित है तथा इसे उत्तरी अमेरिका के एक शहरी आबादी के छोटे से हिस्से से औसतन 152 स्वस्थ मस्तिष्क स्कैन द्वारा निर्मित किया गया था।
  • स मय के साथ न्यूरोसाइंटिस्टों ने पाया कि कोकेशियान दिमाग एशियाई दिमाग से अलग है।
  • इस परियोजना को भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) और न्यूटन ग्रांट मेडिकल रिसर्च काउंसिल (MRC), यूके द्वारा वित्त पोषित किया गया है।

महत्व

  • इस अध्ययन का महत्व यह है कि न्यूरोसाइंटिस्टों को मॉन्ट्रियल न्यूरोलॉजिकल इंडेक्स (एमएनआई) टेम्पलेट के वर्तमान सार्वभौमिक मानक पर निर्भर होने की आवश्यकता नहीं है। भारत के पास अब भारतीय मस्तिष्क को मापने के लिए अपना मापक होगा।
  • मौजूदा अंतर्राष्ट्रीय टेम्प्लेट्स के सत्यापन प्रयोगों और तुलनाओं में पाया गया कि भारतीय दिमागों के लिए NIMHANS IBT का उपयोग करने से मस्तिष्क की संरचना और कार्य की अंतिम रिपोर्टों में विकृतियों, त्रुटियों या पूर्वाग्रहों को कम करने, संरेखण की सटीकता में प्राप्त परिणामों में काफी सकरात्मकता आई है।

लाभ

  • यह अध्ययन, स्ट्रोक, मस्तिष्क टड्ढूमर और मनोभ्रंश जैसे न्यूरोलॉजिकल विकारों वाले रोगियों के लिए अधिक सटीक संदर्भ मानचित्र प्रदान करेगा।
  • ये, मानव मस्तिष्क एवं मनोवैज्ञानिक कार्यों के समूह अध्ययन में संबंधित जानकारी को और अधिक उपयोगी बनाने में सहायक होंगे, जिससे ‘अटेंशन डेफिसिट हाइपरएक्टिविटी डिसऑर्डर’ (Attention Deficit Hyperactivity Disorder- ADHD), ऑटिज्म, किसी विशेष पदार्थ पर निर्भरता, सिजोफ्रेनिया जैसी मनोरोगों के बारे में समझने में आसानी होगी।
  • यह आने वाली पीढ़ी के तथा आयु-विशिष्ट ‘इंडियन ब्रेन टेम्प्लेट्स’, मस्तिष्क के विकास और आयु वृद्धि को अधिक विश्वसनीय तरीके से समझने में सक्षम बनाएगा।

ब्रेन टेम्प्लेट क्या है?

  • चुम्बकीय अनुनाद इमेजिंग (एमआरआई) से मस्तिष्क की छवियों का डेटाबेस, जब एक साथ संकलित किया जाता है, परिणामस्वरूप ब्रेन टेमपलेट प्राप्त होता है।