यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए ब्रेन बूस्टर (विषय: हाइपरसोनिक टेक्नोलॉजी डिमांस्ट्रेटर व्हीकल मिसाइल परीक्षण (Hypersonic Technology Demonstrator Vehicle Missile Test)

यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए ब्रेन बूस्टर (Brain Booster for UPSC & State PCS Examination)


यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए करेंट अफेयर्स ब्रेन बूस्टर (Current Affairs Brain Booster for UPSC & State PCS Examination)


विषय (Topic): हाइपरसोनिक टेक्नोलॉजी डिमांस्ट्रेटर व्हीकल मिसाइल परीक्षण (Hypersonic Technology Demonstrator Vehicle Missile Test)

हाइपरसोनिक टेक्नोलॉजी डिमांस्ट्रेटर व्हीकल मिसाइल परीक्षण (Hypersonic Technology Demonstrator Vehicle Missile Test)

चर्चा का कारण

  • रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन जल्द ही 800 किलोमीटर रेंज की निर्भय सब-सोनिक क्रूज मिसाइल का परीक्षण करेगा। विश्लेषकों का मानना है कि सेना और नौसेना में शामिल करने की औपचारिक शुरुआत से पहले रॉकेट बूस्टर मिसाइल को अंतिम रूप दिया जा रहा है। पिछले 35 दिनों में भारत के प्रमुख रक्षा अनुसंधान संगठन द्वारा यह दसवीं मिसाइल परीक्षण होगी।

प्रमुख बिन्दु

  • डीआरडीओ ने मेड इन इंडिया की रणनीति के तहत परमाणु और पारंपरिक मिसाइलों के विकास को तेजी से उत्पादन करने का प्रयास किया है। डीआरडीओ ने करीब एक महीने में हर चौथे दिन में एक मिसाइल दागी है, जो वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) से पीछे हटने के लिए चीन के इनकार की पृष्ठभूमि के ख़िलाफ़ डीआरडीओ की तैयारी को दर्शाता है।
  • अमेरिका का अनुमान है कि चीन ने लद्दाख में गहराई वाले स्थानों पर लगभग 60,000 सैनिक जुटा रखे हैं। ऐसे में रक्षा अनुसंधान संगठन द्वारा मिसाइल परीक्षण बेहद महत्वपूर्ण है।
  • भारत ने स्वदेशी हाइपरसोनिक टेक्नोलॉजी डिमांस्ट्रेटर व्हीकल (एचएसटीडीवी) का सफलतापूर्वक परीक्षण सात सितंबर को कर लिया है। अमेरिका, रूस और चीन के बाद ऐसी उपलब्धि हासिल करने वाला भारत चौथा देश बन गया है। देश में हाइपरसोनिक क्रूज मिसाइल प्रणाली के विकास को आगे बढ़ाने के लिए यह परीक्षण एक बड़ा कदम है।
  • भारत ने पांच अक्टूबर को ओडिशा अपतटीय क्षेत्र स्थित एक परीक्षण केंद्र से देश में विकसित ‘सुपरसोनिक मिसाइल असिस्टेड रिलीज ऑफ टॉरपीडो’ (स्मार्ट) प्रणाली का सफल प्रायोगिक परीक्षण किया था। ‘स्मार्ट’ प्रणाली पनडुब्बी विध्वंसक अभियानों के लिए हल्के वजन की टॉरपीडो प्रणाली है। आधिकारिक बयान में कहा गया कि परीक्षण और प्रदर्शन पनडुब्बी रोधी क्षमता स्थापित करने में काफी महत्वपूर्ण है।
  • भारत ने नौ अक्टूबर को भारतीय वायु सेना के एसयू-30 एमकेआई लड़ाकू विमान से नई पीढ़ी की एक विकिरण रोधी मिसाइल का सफल परीक्षण किया जो लंबी दूरी से विविध प्रकार के शत्रु रडारों, वायु रक्षा प्रणालियों और संचार नेटवर्कों को ध्वस्त कर सकती है। अधिकारियों ने कहा कि मिसाइल रुद्रम-1, भारत की पहली स्वदेश निर्मित विकिरण रोधी शस्त्र प्रणाली है।

मिसाइल परीक्षण महत्वपूर्ण क्यों?

  • पड़ोसी देश चीन के साथ बॉर्डर पर तनाव के बीच भारत अपनी रक्षा ताकत को और मजबूत करने में लगा है। साथ ही रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन रणनीतिक मिसाइलों के क्षेत्र में कुल आत्मनिर्भरता को पूरा करने की दिशा में काम कर रहा है और इस वर्ष के शुरू में रक्षा क्षेत्र में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा आत्मनिर्भर भारत के आ“वान के बाद अपने प्रयासों को और बढ़ाया है।
  • चीन के साथ पूर्वी लद्दाख में जारी गतिरोध के बीच भारत एक नई एयर-लॉन्च मिसाइल विकसित कर रहा है जो 10 किमी से अधिक की दूरी से दुश्मन के टैंक को मार गिराने में सक्षम होगी। एयर-लॉन्च मिसाइल विकसित होने के बाद भारत अपने सरहदों की रक्षा और मजबूती से कर सकेगा।

रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन

  • डीआरडीओ का गठन वर्ष 1958 में भारतीय सेना के तत्कालीन तकनीकी विकास प्रतिष्ठान और रक्षा विज्ञान संगठन के तकनीकी विकास एवं उत्पादन निदेशालय को परस्पर मिलाकर किया गया था।
  • रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन भारत सरकार के रक्षा मंत्रलय के अंतर्गत एक अनुसंधान एवं विकास विंग है, जो अत्याधुनिक रक्षा प्रौद्योगिकियों और प्रणालियों में आत्मनिर्भरता हासिल कर भारत के सैन्य बलों को सशक्त बनाने का लक्ष्य रखता है।