यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए ब्रेन बूस्टर (विषय: G20 श्रम और रोजगार मंत्रियों की बैठक (G20 Labor and Employment Ministers Meeting)

यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए ब्रेन बूस्टर (Brain Booster for UPSC & State PCS Examination)


यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए करेंट अफेयर्स ब्रेन बूस्टर (Current Affairs Brain Booster for UPSC & State PCS Examination)


विषय (Topic): G20 श्रम और रोजगार मंत्रियों की बैठक (G20 Labor and Employment Ministers Meeting)

महाराष्ट्र में नए डॉप्लर रडार लगाने की योजना (Maharashtra Plans to Install New Doppler Radars)

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में केंद्रीय श्रम एवं रोजगार मंत्री श्री संतोष गंगवार ने इटली की अध्यक्षता में आयोजित जी-20 के श्रम और रोजगार मंत्रियों की बैठक को संबोधित करते हुए कहा कि भारत में नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति-2020 का उद्देश्य स्कूल और उच्च शिक्षा प्रणालियों में सुधार करना है।

मुख्य बिंदु

  • संयुक्त शिक्षा और श्रम एवं रोजगार मंत्रियों की घोषणा पर अपने मंत्रिस्तरीय संबोधन में श्री गंगवार ने युवा पीढ़ी को काम की दुनिया की आगामी चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार करने हेतु शिक्षा प्रणाली और श्रम बाजार के महत्व को स्वीकार किया, जो तेजी से विकसित हो रहा है और महामारी के कारण अब और अधिक चुनौतीपूर्ण बन गया है।
  • उन्होंने कहा कि भारत ने युवाओं के क्षमता निर्माण और कौशल विकास के लिए कई पहल की है।
  • राष्ट्रीय कौशल विकास मिशन के परिणामस्वरूप सभी क्षेत्रों में कौशल प्रयासों का अभिसरण हो रहा है।
  • प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना, युवाओं को बेहतर अवसर मुहैया कराने के लिए उद्योग से संबंधित कौशल प्रशिक्षण लेने में सक्षम बनाती है।
  • इस वर्चुअल मीटिंग के दौरान G20 मंत्रियों ने स्कूल से ऑफिस में बदलाव पर अपने विचारों का आदान-प्रदान किया।
  • रोजगार कार्य समूह ने महिला रोजगार, सामाजिक सुरक्षा और दूरस्थ कार्य सहित प्रमुख मुद्दों पर विचार-विमर्श किया।
  • वर्ष 2014 में G20 नेताओं ने ब्रिस्बेन में वर्ष 2025 तक पुरुषों और महिलाओं के बीच श्रम शक्ति भागीदारी दर में अंतर को 25% तक कम करने का संकल्प लिया, जिसका उद्देश्य 100 मिलियन महिलाओं को श्रम क्षेत्र में लाना, वैश्विक एवं समावेशी विकास को बढ़ाना और गरीबी एवं असमानता को कम करना था।
  • मंत्रियों ने युवाओं को उनकी शिक्षा पूरी करने के बाद कार्य स्थान में एक सुचारु परिवर्तन के लिए अच्छी तरह से लैस करने की आवश्यकता को दोहराया।
  • यह कदम सामाजिक और आर्थिक रूप से वंचित जनसंख्या समूहों से संबंधित शिक्षार्थियों के लिए विशेष रूप से महत्वपूर्ण है, जिनके पीछे छूट जाने का खतरा अधिक होता है।
  • भारत 21वीं सदी के वैश्विक कार्यक्षेत्र के लिए आवश्यक ज्ञान, कौशल और दृष्टिकोण विकसित करने में अपने युवाओं की मदद करने के लिए प्रतिबद्ध है। भारत का दृष्टिकोण व्यावसायिक शिक्षा को सामान्य शैक्षणिक शिक्षा के साथ एकीकृत करना है। यह मांग संचालित, योग्यता आधारित और मॉडड्ढूलर व्यावसायिक पाठड्ढक्रमों पर भी ध्यान केंद्रित कर रहा है।
  • भारत मौजूदा राष्ट्रीय शिक्षुता प्रशिक्षण योजना (National Apprenticeship Training Scheme) को साकार करके युवाओं के लिए शिक्षा के बाद शिक्षुता (apprenticeship) के अवसरों को भी बढ़ा रहा है।

ब्रिस्बेन लक्ष्य तथा G20 रोडमैप के बारे में

  • इसे श्रम बाजारों के साथ-साथ सामान्य रूप से समाजों में महिलाओं और पुरुषों हेतु समान अवसर तथा परिणाम प्राप्त करने के लिये विकसित किया गया है। ब्रिस्बेन लक्ष्य की ओर तथा उससे आगे G20 रोडमैप को इस प्रकार निर्धारित किया गया है-
  • महिलाओं के रोजगार की मात्र और गुणवत्ता में वृद्धि करना।
  • समान अवसर सुनिश्चित करना और श्रम बाजार में बेहतर परिणाम प्राप्त करना।
  • सभी क्षेत्रों और व्यवसायों में महिलाओं और पुरुषों के समान वितरण को बढ़ावा देना।
  • लैंगिक वेतन अंतर से निपटना।
  • महिलाओं तथा पुरुषों के बीच भुगतान और अवैतनिक काम के अधिक संतुलित वितरण को प्रोत्साहित करना।
  • श्रम बाजार में भेदभाव और लैंगिक रुढि़बद्धता का समाधान करना।

G20 देश के बारे में

  • G20 समूह विश्व बैंक एवं अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष के प्रतिनिधि, यूरोपियन संघ एवं 19 देशों का एक अनौपचारिक समूह है।
  • 20 समूह विश्व की प्रमुख उन्नत और उभरती अर्थव्यवस्थाओं वाले देशों को एक साथ लाता है। यह वैश्विक व्यापार का 75%, वैश्विक निवेश का 85%, वैश्विक सकल घरेलू उत्पाद का 85% तथा विश्व की दो-तिहाई जनसंख्या का प्रतिनिधित्त्व करता है।
  • G20 सदस्य देशों में शामिल हैं- जर्मनी, सऊदी अरब, अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा, चीन, ब्राजील, फ्रांस, भारत, दक्षिण कोरिया, संयुक्त राज्य अमेरिका, इटली, जापान, इंडोनेशिया, मैक्सिको, यूनाइटेड किंगडम, रूस, दक्षिण अफ्रीका, तुर्की और यूरोपीय संघ।