यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए ब्रेन बूस्टर (विषय: चौथा भारत ऊर्जा मंच (4th India Energy Forum)

यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए ब्रेन बूस्टर (Brain Booster for UPSC & State PCS Examination)


यूपीएससी और राज्य पीसीएस परीक्षा के लिए करेंट अफेयर्स ब्रेन बूस्टर (Current Affairs Brain Booster for UPSC & State PCS Examination)


विषय (Topic): चौथा भारत ऊर्जा मंच (4th India Energy Forum)

चौथा भारत ऊर्जा मंच (4th India Energy Forum)

चर्चा का कारण

  • हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चौथे भारत ऊर्जा मंच सेरावीक में उद्घाटन भाषण दिया। फोरम के इस संस्करण की थीम ‘बदलती दुनिया में भारत का ऊर्जा भविष्य’ है।

भारत का ऊर्जा खपत का लक्ष्य

  • ऊर्जा की मांग में एक तिहाई तक की गिरावट, दामों में अस्थिरता, निवेश संबंधित निर्णयों पर प्रभाव, अगले कुछ सालों में वैश्विक स्तर पर ऊर्जा की मांग में कमी का अनुमान जैसी चुनौतियों के बावजूद भारत ऊर्जा के अग्रणी उपभोक्ता के रूप में उभरा है और आने वाले समय में यह अपनी ऊर्जा खपत को लगभग दोगुना करेगा।
  • भारत की ऊर्जा योजना का लक्ष्य सतत विकास के लिए भारत की प्रतिबद्धताओं का पालन करते हुए ऊर्जा न्याय को सुनिश्चित करना है। इसका मतलब है कि भारतीयों के जीवन में सुधार के लिए कम कार्बन फुटप्रिंट के साथ अधिक ऊर्जा की आवश्यकता है।
  • भारत अन्वेषण और लाइसेंसिंग नीति में सुधार करने के साथ , राजस्व से उत्पादन को बढ़ाने पर फोकस शिफ्रट करना, पारदर्शिता और सुगठित प्रक्रिया पर फोकस करना और रिफाइनिंग की क्षमता को 2025 तक 250 से 400 मिलियन मीट्रिक टन प्रति वर्ष तक बढ़ाने की योजना पर काम कर रहा है। घरेलू गैस का उत्पादन सरकार की प्राथमिकताओं में शामिल है और यह एक राष्ट्र एक गैस ग्रिड के जरिए प्राप्त किया जाएगा ताकि देश को गैस आधारित अर्थव्यवस्था की ओर आगे बढ़ाया जाए।
  • भारत लंबे समय में अपनी ऊर्जा खपत को करीब दोगुना करने के लिए प्रयासरत है। अभी भारत रोजाना 50 लाख बैरल तेल के बराबर ऊर्जा की खपत करता है।

भारत का विमानन बाजार

  • घरेलू विमानन के मामले में भारत तीसरा सबसे बड़ा और सबसे तेजी से आगे बढ़ता विमानन का बाजार है और 2024 तक भारतीय वाहकों के जहाजी बेड़े का आकार 600 से 1200 तक करने का अनुमान है।

भारत का नवीकरणीय ऊर्जा का लक्ष्य

  • भारत द्वारा 2022 तक 175 गीगावाट नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता प्राप्त करने का लक्ष्य रखा गया जिसे अब बढ़ाकर 2030 तक 450 गीगावाट कर दिया गया है। बाकी औद्योगिक दुनिया के मुकाबले सबसे कम कार्बन उत्सर्जन वाले देशों में से एक होने के बावजूद भारत जलवायु परिवर्तन से अपनी लड़ाई के प्रयास को जारी रखेगा।

भारत के ऊर्जा मैप के सात प्रमुख उद्देश्य

  • गैस आधारित अर्थव्यवस्था की ओर बढ़ने के लिए हमारे प्रयासो में तेजी लाना।
  • जीवाश्म ईंधन विशेष रूप से पेट्रोलियम और कोयले का स्वच्छ उपयोग।
  • जीव-ईंधन हेतु घरेलू स्रोतों पर निर्भरता।
  • 2030 तक 450 गीगावाट की नवीकरणीय ऊर्जा का लक्ष्य प्राप्त करना।
  • गतिशीलता को डी-कार्बाेनाइज (गैर-कार्बन उत्पन्न) करने के लिए बिजली के योगदान को बढ़ाना।
  • हाइड्रोजन सहित उभरते ईंधनों की ओर बढ़ना।
  • सभी ऊर्जा प्रणालियों में डिजिटल नवाचार बढ़ाना।

सेरावीक

  • सेरावीक दुनिया का प्रमुख ऊर्जा कार्यक्रम है। सेरावीक (Cambridge Energy Research Associates-CERA Week) की स्थापना वर्ष 1983 में कैम्ब्रिज में हुई थी।