(दैनिक समसामयिकी) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए PIB का संकलन (The Gist of PIB for UPSC, UPPSC/UPPCS, MPSC, BPSC & All State PCS Exams) - 22 जून 2019


(दैनिक समसामयिकी) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए PIB का संकलन (The Gist of PIB for UPSC, UPPSC/UPPCS, MPSC, BPSC & All State PCS Exams) - 22 जून 2019


1. देश के 91 प्रमुख जलाशयों के जलस्तर में एक प्रतिशत की कमी दर्ज की गयी-

  • 20 जून 2019 को समाप्त सप्ताह के दौरान देश के 91 प्रमुख जलाशयों में 27.265 BCM जल संग्रह हुआ यह कुल संग्रहण क्षमता का 17 प्रतिशत है।
  • पिछले वर्ष की इसी अवधि के कुल संग्रहण का 92 प्रतिशत तथा पिछले दस वर्षों के औसत जल संग्रहण का 93 प्रतिशत है।
  • इन 91 जलाशयों में से 37 जलाशय ऐसे है जो 60 मेगावट से अधिक की स्थापित क्षमता के साथ पन बिजली लाभ देते है।
  • पिछले वर्ष की इसी अवधि की तुलना में जिन राज्यों में जल संग्रहण बेहतर है उनमें हिमाचल प्रदेश पंजाब, ओडिशा, गुजरात और उत्तराखण्ड शामिल है।
  • उत्तर प्रदेश में जल संग्रहण समान स्तर पर है।

2. IIIDEM (India International Institute of Democracy and Election Management) यह म्यांमार के निर्वाचन अधिकारियों के लिए चुनाव प्रौद्योगिकी पर क्षमता विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन-

  • IIIDEM द्वारा 5 दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया।
  • इस अवसर पर दुनिया भर में लोकतंत्र को मजबूत करने और प्रौद्योगिकी के उपयोग के माध्यम से चुनावी प्रक्रिया में पारदर्शिता, विश्वास और निष्पक्षता के लिए चुनाव प्रबंधन निकायों के बीच चुनावों की बेहतरीन प्रक्रियाओं को साझा करना है।
  • चुनाव प्रौद्योगिकी में क्षमता विकास पर 2018-19 के दौरान आयोजित किए जाने वाले 9 कार्यक्रमों की श्रृंखला का यह 7वाँ कार्यक्रम है।
  • इस कार्यक्रम का संचालन भारतीय निर्वाचन आयोग के अनुभवी अधिकारियों द्वारा विदेश मंत्रालय के माध्यम से म्यांमार के निर्वाचन आयोग द्वारा किए गए अनुरोध पर इस कार्यक्रम की रूपरेखा का निर्माण किया गया है।

3. जीवन शैली से जुड़ी बीमरियों से बचाव का बेहतर स्वास्थ और मानसिक संतुलन सुनिश्चित करने के लिए योग को स्कूली पाठ्यक्रमों में शामिल किया जाना चाहिए- उपराष्ट्रपति

  • पांचवे अर्न्तराष्ट्रीय योग दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में प्राचीन स्वास्थ्य पद्धति योग को बेहतर शारीरिक और मानसिक स्वास्थ के साथ अनुशासित जीवन जीने के लिए बहुत उपयोगी बताया गया एवं इसको केन्द्र तथा राज्य सरकारों से स्कूली पाठ्यक्रम में शामिल करने की अपील की।
  • अधिक संसाधनो को प्राप्त करने, धन, सुख और शक्ति की लालसा तथा प्राकृतिक संसाधनों क अंधाधुंध दोहन के स्वार्थों विचारों का परिणाम आज हम जलवायु परिवर्तन और बढ़ती असमानताओं के रूप में देख रहे है।
  • योग सभी जीवों के साथ सहअस्तित्व की भावना के साथ जीने के भारतीय दर्शन का प्रतिबिम्ब करता है। ऐसे में हमें बेहतर भविष्य के लिए इसका अनुसरण करते हुए प्रकृति के साथ सामंजस्य बनाकर रहना सीखना चाहिए।

Courtesy: PIB