(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (30 जुलाई 2019)

दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर


(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (30 जुलाई 2019)


:: राष्ट्रीय समाचार ::

ओडिशा रसगुल्ला को भी भौगोलिक संकेत (जीआइ टैग)

  • लगभग एक साल से बंगाल और ओडिशा के बीच रसगुल्ले पर जारी बहस के बीच सोमवार को ओडिशा रसगुल्ला को भी भौगोलिक संकेत (जीआइ टैग) मिल गया है। इसके पहले बंगाल सरकार को नवंबर 2017 में बंगाल रसगुल्ले के लिए जीआइ टैग मिल चुका है।
  • बंगाल को टैग मिलने के बाद ओडिशा सरकार ने भी ओडिशा रसगुल्ला की विशेष पहचान के लिए चेन्नई स्थित जीआइ टैग पंजीकरण कार्यालय में आवेदन किया था। यहां से सोमवार को ओडिशा रसगुल्ला के लिए जीआइ टैग का आधिकारिक सर्टिफिकेट कार्यालय की वेबसाइट पर जारी कर दिया गया।

विवाद का हुआ अंत

  • पश्चिम बंगाल व ओडिशा, दोनो ही दावा कर रहे थे कि रसगुल्ला की खोज उनके राज्य में हुई है। बाद में पाया गया कि ओडिशा रसगुल्ला व बंगाल रसगुल्ला, दोनों ही अपने में विशेष और अलग हैं। नवंबर 2017 में पश्चिम बंगाल को बंगाल रसगुल्ला के लिए जीआइ टैग मिला था। अब ओडिशा को भी जीआइ टैग मिलने के बाद एक बात साफ हो गई है कि रसगुल्ले के दो प्रकार हैं। बंगाल रसगुल्ला व ओडिशा रसगुल्ला।

दोनों के हैं अपने दावे

  • हालांकि बंगाल का दावा है कि रसगुल्ले की खोज नवीन चंद्र दास(जन्म 1845) ने कोलकाता स्थित अपने बागबाजार के घर में की थी। जबकि ओडिशा इसे सदियों पुरानी निलाद्री विजे की परंपरा का मानता है। 2015 में ओडिशा सरकार द्वारा गठित एक कमेटी ने दावा किया था कि रसगुल्ले की खोज ओडिशा में ही हुई है, जहां यह सदियों से पुरी स्थित प्रभु जगन्नाथ को अर्पित की जाती रही है।

बंगाल ने बंगाल रसगुल्ले के लिए मांगा था टैग

  • 2016 में पश्चिम बंगाल सरकार ने जीआइ टैग के लिए आवेदन किया। हालांकि पश्चिम बंगाल का आवेदन बंगाल रसगुल्ले के लिए था। नवंबर 2017 में जब पश्चिम बंगाल को रसगुल्ले के लिए जीआइ टैग मिला था तब जीआइ कार्यालय ने स्पष्ट कर दिया था कि यह टैग सिर्फ बंगाल रसगुल्ले के लिए जारी किया गया है। अगर ओडिशा अपने प्रकार के रसगुल्ले की उत्पत्ति, स्वाद, रंग व बनाने के तरीके के लिए टैग चाहता है तो वह आवेदन के लिए स्वतंत्र है।

क्या है जीआइ टैग?

  • जियोग्राफिकल इंडिकेशन (जीआइ टैग) वह नाम या पहचान है जो किसी क्षेत्र विशेष में पाई जानेवाली विशेष सामग्री को दी जाती है। टैग के तहत सिर्फ उत्पाद के क्षेत्र की नहीं, उसके स्वाद व बनाने के तरीके को भी पहचान दी जाती है।

मकराना का संगमरमर ग्लोबल हेरिटेज की सूची में शामिल

  • दुनिया भर में अपनी सफेदी के लिए प्रसिद्ध राजस्थान के मकराना के मार्बल को ग्लोबल हेरिटेज में शामिल किया गया है। इंटरनेशनल यूनियन ऑफ जूलॉजिकल साइंस (आईयूजीस) की एग्जीक्यूटिव कमेटी ने ग्लोबल हेरिटेज स्टोन रिसोर्सेज के भारतीय शोध दल के प्रस्ताव पर मकराना को दुनिया की विरासत माना है और इसे ग्लोबल हेरिटेज के रूप में मान्यता दी है। मकराना मार्बल को हेरिटेज सूची में शामिल किए जाने से प्रदेश के लोगों में खुशी का माहौल है।

दुनिया की कई इमारतों में मकराना मार्बल ने लगाए चार चांद

  • दुनिया की कई इमारतों में मकराना का मार्बल लगा हुआ है। यहां के सफेद मार्बल की धूम जहां पूरी दुनिया में वहीं, आगरा के ताजमहल की खूबसूरती में मकराना के मार्बल का बड़ा योगदान है। पूरा का पूरा ताजमहल मकराना के मार्बल से बना है। जयपुर राजपरिवार का सिटी पैलेस और बिड़ला मंदिर भी मकराना मार्बल से बना हुआ है। हालांकि मकराना में खानों से मार्बल का इतना ज्यादा दोहन हो गया है कि अब यहां मार्बल बेहद कम बचा है। मार्बल की खानें इतना ज्यादा अंदर चली गई है कि नीचे से पत्थर लाना मुश्किल हो रहा है। अब यहां मार्बल की खानें वहां अवैध रूप से चल रही है।
  • आईयूजीएस के अनुसार, मकराना का मार्बल भूगर्भीय दृष्टि से कैंब्रियन काल के पहले कायांतरित चट्टानों से बना है। यह मूल रूप से चूना पत्थर के कायांतरण से बनती है। यह श्रेणी संगमरमर के विश्व की सबसे उत्कृष्ट श्रेणी में से माना जाता है। मकराना के मार्बल के बारे में माना जाता है कि इसकी सफेदी हमेशा बरकरार रहती है। यह हमेशा चमकता है। पृथ्वी को बचाने के लिए और पृथ्वी के अंदर के खोज के लिए वैश्विक सहयोग से 1961 में आईयूजीएस का गठन किया गया था और 121 देश इसके सदस्य है। दो साल पहले इसके लिए एक टीम ने मकराना से सैंपल लिया था और 2018 में प्रपोजल बनाकर भेजा गया था। मकराना के मार्बल को हेरिटेज स्टोन श्रेणी में शामिल किए जाने के बाद राज्य सरकार का उद्योग व खान विभाग भी अब यहां के खनन व्यवसाय पर एक बार फिर नए सिरे से ध्यान देने में जुटा है।

मैन वर्सेस वाइल्ड (Man Vs Wild)

  • मैन वर्सेस वाइल्ड, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दुनिया का लोकप्रिय शो Man vs Wild में नजर आने वाले हैं। डिस्कवरी टीवी के इस कार्यक्रम के लिए पीएम मोदी ने वाइल्डलाइफ एडवेंचर यात्रा की शूटिंग की है। ये एपिसोड 12 अगस्त को रात 9 बजे टेलिकास्ट होगा। इस शो के होस्ट बीयर ग्रिल्स ने खुद एक वीडियो ट्वीट करके इसकी जानकारी दी। इस एपिसोड में वन्यजीव संरक्षण और पर्यावरण बदलाव जैसे महत्वपूर्ण मुद्दों को भी संबोधित किया जाएगा।
  • पीएम मोदी से पहले इस शो में पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति बाराक ओबामा समेत कई कई हस्तियां इस शो का हिस्सा बन चुकी हैं। इस शो के एंकर बीयर ग्रिल्स पर एडवेंचर और स्टंट का खुमार इस तरह सवार है कि उन्होंने अपने बेटे की जान दांव पर लगा दी थी। यहीं नहीं उन्हें इस वजह से सेना छोड़नी पड़ी थी।

राइस फोर्टीफिकेशन' योजना

  • राशन प्रणाली में सुधार और पोषक तत्वों से भरपूर चावल वितरण की राइस फोर्टिफिकेशन योजना समेत खाद्य संबंधी कई मसौदे पर विचार-विमर्श और फैसला लेने के लिए राज्यों के खाद्य मंत्रियों का सम्मेलन आयोजित किया गया है। एक अगस्त को राजधानी दिल्ली में होने वाले इस सम्मेलन में उपभोक्ताओं के हितों से जुड़े कई मसलों पर चर्चा होने की उम्मीद है।
  • खाद्य मंत्रियों के सम्मेलन में इस योजना इस योजना पर विस्तार से चर्चा होगी, ताकि इसे पूरे देश में एक साथ लागू कर दिया जाए। राशन प्रणाली के तहत गरीबों को दिये जाने वाले चावल को पोषक तत्वों से भरपूर बनाकर दिया जाएगा।
  • राशन फोर्टिफिकेशन प्रोग्राम को स्कूलों में चलाये जा रहे मिड डे मील में लागू किये जाने की योजना है। चावल में आयरन, फोलिक एसिड और विटामिन बी-12 मिलाया जाएगा। ऐसा करने में प्रति किलोग्राम चावल पर 60 पैसे की लागत आएगी, जिसे सरकार उठायेगी।
  • सम्मेलन में दूसरा सबसे बड़ा मुद्दा राइस फोर्टिफिकेशन का होगा। इसके तहत गरीबों के लिए सूक्ष्म तत्वों से युक्त चावल वितरण की योजना है। देश में महिलाओं व बच्चों में एनीमिया की भारी कमी के मद्देनजर यह योजना तैयार की गई है। शुरुआती दौर में पायलट प्रोजेक्ट के तहत देश के नौ राज्यों के 15 जिलों को शामिल करने की योजना थी। लेकिन अब इसे पूरे देश में लागू करने पर विचार किया जा रहा है।

'वन नेशन वन कार्ड'

  • राशन प्रणाली में राशन कार्ड को कहीं भी उपयोग करने लायक बनाने के लिए सभी राज्यों से विचार विमर्श कर लिया गया है। इसके मसौदे पर एक अगस्त को खाद्य मंत्रियों के सम्मेलन में अंतिम मुहर लग सकती है। राशन कार्ड को अंतरराज्यीय बनाने के लिए अब तक चार राज्यों के बीच परस्पर सहमति बन गई है।
  • इनमें पहला क्लस्टर आंध्र प्रदेश और तेलंगाना के बीच बना है। इन दोनों राज्यों के उपभोक्ता एक दूसरे राज्य में जाकर राशन उठा सकते हैं। इसी तरह दूसरा क्लस्टर गुजरात और महाराष्ट्र के बीच बनाया गया है। खाद्य मंत्रियों के सम्मेलन में बाकी राज्यों के बीच भी सहमति बनाने की कोशिश की जाएगी। आने वाले दिनों में राशन के लिए 'वन नेशन वन कार्ड' प्रणाली पूरे देश में लागू करने की योजना है।

आर-27 मिसाइल सौदा

  • भारत ने के साथ एक और मिसाइल सौदा किया है। भारत ने हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल आर-27 की खरीद के लिए 1500 करोड़ रुपये का करार किया है। इन मिसाइलों को सुखोई 30 लड़ाकू विमानों में इस्तेमाल किया जाएगा।
  • लंबी मारक क्षमता की ये मिसाइल सुखोई विमानों को दुश्मन विमानों पर दूर से निशाना लगाने की क्षमता प्रदान करेगा। आर-27 मिसाइल मध्यम से लंबी मारक क्षमता की हवा से हवा में मार करने वाली मिसाइल है। रूस इस मिसाइल को अपने मिग और सुखोई लड़ाकू विमानों में इस्तेमाल करता है।
  • यह करार सरकार ने 10-आई प्रोजेक्ट के तहत लिया है। इस प्रोजेक्ट में तय किया गया है कि एक विशिष्ट न्यूनतम अवधि के लिए तीनों सेनाओं के पास जरूरी हथियार व्यवस्था और अतिरिक्त साजोसामान उपलब्ध रहे।

:: अंतराष्ट्रीय समाचार ::

संसदीय न्यायिक समिति के अध्यक्ष ने ट्रंप पर महाभियोग चलाने की वकालत

  • अमेरिकी संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा की न्यायिक समिति के अध्यक्ष जेरोल्ड नडलर ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप पर महाभियोग चलाने की वकालत की है। नडलर ने कहा, 'राष्ट्रपति ट्रंप महाभियोग का सामना करने के पात्र हैं। उन्होंने कई ऐसे अपराध किए हैं जिनके आधार पर उन पर महाभियोग चलाया जा सकता है।'
  • बीते शुक्रवार को ही इस समिति ने मुलर की रिपोर्ट से संबंधित सभी जानकारी उजागर करने की मांग की थी। समिति के अनुसार, इस रिपोर्ट की जानकारियों के आधार पर ही ट्रंप पर महाभियोग चलाने या नहीं चलाने का फैसला हो सकता है।

पृष्ठभूमि

  • वर्ष 2016 के चुनाव में ट्रंप और रूस की साठगांठ की जांच करने वाले मुलर ने गत 18 अप्रैल को अटार्नी जनरल विलियम बार को अपनी रिपोर्ट सौंपी थी। बार ने इस रिपोर्ट का चार पेज का सार संसद में पेश कर ट्रंप के खिलाफ मुलर को कोई भी सुबूत नहीं मिलने की बात कही थी। दूसरी तरफ मई में मुलर ने अपनी रिपोर्ट पर बयान देते हुए कहा था कि ट्रंप के कई कदम ऐसे हैं जिन्हें कानून का उल्लंघन
  • मुलर की रिपोर्ट के आधार पर विपक्षी डेमोक्रेटिक पार्टी ट्रंप पर महाभियोग चलाने की मांग कर रही है। पार्टी के कई नेता हालांकि इसके खिलाफ भी हैं। उनका कहना है कि निचले सदन में उनके पास बहुमत है लेकिन सीनेट में यह प्रस्ताव विफल हो जाएगा। निचले सदन की अध्यक्ष नैंसी पेलोसी ने भी महाभियोग के उल्टे असर को लेकर चेतावनी दी थी। जुलाई में सांसद अल ग्रीन ने महाभियोग को लेकर प्रस्ताव दिया था जिसे 95 के मुकाबले 322 वोटों से खारिज कर दिया गया था।

ब्रिटेन ने ईरान के साथ टैंकरों की अदला-बदली की बात खारिज की

  • लंदन ब्रिटेन के विदेश मंत्री डोमिनिक राब ने खाड़ी में तनाव कम करने के लिये जब्त किए गए तेल टैंकरों की ईरान के साथ अदला-बदली करने के विचार को सोमवार को खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि यह अदला-बदली के बारे में नहीं है। यह अंतरराष्ट्रीय कानून और अंतरराष्ट्रीय कानून और अंतरराष्ट्रीय विधि व्यवस्था के नियमों को बरकरार रखने के बारे में है।
  • ब्रिटेन ने दिया अंतरराष्ट्रीय कानूनों का हवाला ब्रिटेन के विदेश मंत्री ने कहा कि इसी पर ही हम जोर दे रहे हैं। अंतरराष्ट्रीय कानूनों के तहत प्रक्रिया आगे बढ़नी चाहिए।

पृष्ठभूमि

  • ब्रिटिश अधिकारियों ने जुलाई के शुरू में ईरान के एक तेल टैंकर को पकड़ लिया था। ब्रिटेन ने आरोप लगाया था कि यह सीरिया पर यूरोपीय संघ द्वारा लगाए गए प्रतिबंधों का उल्लंघन कर रहा था। जवाबी कार्रवाई में ईरान के रिवॉल्यूशनरी गार्ड्स ने 19 जुलाई को हरमुज जलडमरूमध्य में ब्रिटेन के झंडे वाले एक टैंकर को पकड़ लिया था जिस पर चालक दल के 23 सदस्य सवार थे।
  • ईरान ने वियना में परमाणु समझौते की बैठक में कहा था कि ईरान का टैंकर जब्त करना परमाणु समझौते का उल्लंघन था। टैंकर जब्त करने पर पूर्व ब्रिटिश पीएम थरीजा मे ने कहा था, ‘टैंकर को झूठे और अवैध बहानों से जब्त किया गया है और ईरानियों को इसे और इसके चालक दल को तत्काल छोड़ देना चाहिए।' टैंकर के चालक दल में 18 भारतीय भी सवार हैं।
  • ईरान ने दावा किया कि एक मछली पकड़ने वाली नौका को टक्कर मारने के बाद आपात संकेत का जवाब नहीं देने और ट्रांसपोंडर को बंद कर देने की वजह से टैंकर को जब्त किया गया। ईरान सरकार के प्रवक्ता अली रबीई ने तेहरान में सोमवार को संवाददाता सम्मेलन में कहा कि ब्रिटेन के टैंकर को जब्त करना ईरान का कदम कानूनी है।

ताइवान के निकट चीन का सैन्याभ्यास

  • चीन की सेना ताइवान के नजदीक पूर्वी चीन सागर और दक्षिण चीन सागर में सैन्य अभ्यास कर रही है। यह युद्धाभ्यास ऐसे वक्त हो रहा है जब चीन ने हाल में चेतावनी दी थी कि यदि ताइवान स्वतंत्रता की ओर बढ़ा तो युद्ध छिड़ सकता है। दरअसल, अमेरिका द्वारा ताइवान को 2.2 अरब डॉलर के रक्षा सौदे को मंजूरी देने के बाद से यह विवाद गरमाया हुआ है।
  • चीन के समुद्री सुरक्षा प्रशासन के मुताबिक, यह सैन्य अभ्यास पूर्वी चीन सागर में पिछले हफ्ते बृहस्पतिवार से शुरू हुआ और इस हफ्ते शुक्रवार को दक्षिण चीन सागर में समाप्त होगा। इन सैन्य गतिविधियों के चलते पूर्वी झेजियांग और दक्षिणी ग्वांगडोंग प्रांतों के तट से लगते समुद्री इलाके के हवाई और जल क्षेत्र को बंद रखा गया है। हालांकि इस अभ्यास को किस पैमाने और इसमें किस तरीके की सेना शामिल है इसका विवरण नहीं दिया गया है।
  • यह अभ्यास ऐसे वक्त भी हो रहा है जब हाल में अमेरिकी नौसेना का जंगी जहाज ताइवान जलडमरूमध्य से होकर गुजरा है, जिसपर चीन ने आपत्ति जताई थी। बता दें कि 2016 में राष्ट्रपति त्साई इंग-वेन के सत्ता में आने के बाद से बीजिंग और ताइपे के बीच संबंध खराब हैं क्योंकि उनकी पार्टी इस विचार को मान्यता देने से इनकार करती है कि ताइवान ‘एक चीन’ का हिस्सा है। इसके बाद से ही चीन ने ताइवान के निकट सैन्य अभ्यास बढ़ा दिए हैं और द्वीप पर आर्थिक दबाव भी डाल दिया है।

डब्ल्यूटीओ में विकासशील दर्जे पर विवाद

  • चीन ने सोमवार को कहा कि अमेरिका का विश्व व्यापार संगठन (डब्ल्यूटीओ) में चीन का ‘विकासशील राष्ट्र’ का दर्जा उससे वापस लेने की चेतावनी उसके ‘घमंड’ और ‘स्वार्थीपन’ को बताता है। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा शुक्रवार को अमेरिकी व्यापार प्रतिनिधि राबर्ट लाइथाइजर को भेजे गए एक निर्देश के बाद चीन ने सोमवार को यह प्रतिक्रिया जाहिर की।
  • इस निर्देश में कहा गया है कि व्यापार नियमों की वैश्विक व्यवस्था का संचालन और विवादों का निपटारा करने वाले डब्ल्यूटीओ द्वारा ‘‘विकसित और विकासशील देशों के बीच किया जाने वाला विभाजन अब पुराना पड़ गया है। इसका परिणाम यह हो रहा है कि डब्ल्यूटीओ के कुछ सदस्य बेजा फायदा उठा रहे हैं।’’
  • माना जा रहा है कि यह निर्देश चीन को ध्यान में रखकर दिया गया है। चीनी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता ने कहा कि एक या कुछ देशों को यह निर्णय करने का अधिकार नहीं होना चाहिए कि किसी देश को विकासशील देशों की श्रेणी में रखना है किसे नहीं। चीन को वास्तविक व्यापार निष्पक्षता प्राप्त करने के लिये विकासशील अर्थव्यवस्था का दर्जा बनाये रखने की जरूरत है।
  • इस निर्देश में कहा गया है, ‘‘ 90 दिनों के भीतर डब्ल्यूटीओ नियमों में सुधार की दिशा में सार्थक और ठोस कदम उठाए बिना , अमेरिका डब्ल्यूटीओ के किसी भी सदस्य देश को अब विकासशील देश के तौर पर नहीं लेगा। अनुचित तरीके से खुद को विकासशील देश घोषित करके डब्ल्यूटीओ नियमों के लचीलेपन और उसके समझौतों के तहत फायदा उठाने वाले देशों को अब अमेरिका विकासशील नहीं मानेगा।’’
  • यह निर्देश मंगलवार और बुधवार को अमेरिकी तथा चीनी वार्ताकारों के बीच शंघाई में होने वाली बैठक से पहले जारी किया गया है। इस बैठक का मकसद दोनों देशों के बीच एक व्यापार विवाद को सुलझाना है जिसके चलते दोतरफा कारोबार पर 360 अरब डालर मूल्य का शुल्क लगाया गया था।

डब्ल्यूटीओ में विकासशील देश का दर्जा

  • डब्ल्यूटीओ में विकासशील देश का दर्जा मिलने से विश्व व्यापार संगठन संबंधित सरकारों को मुक्त व्यापार प्रतिबद्धताओं को पूरा करने के लिए लंबी समय-सीमा प्रदान करता है और साथ ही ऐसे देशों को अपने कुछ घरेलू उद्योगों का संरक्षण करने तथा राजकीय सहायता जारी रखने की अनुमति होती है।

:: आर्थिक समाचार ::

अनियमित जमा योजनाएं विधेयक, 2019

  • अनियमित जमा योजनाएं विधेयक, 2019 संसद में पारित हो गया है। इस तरह अब पोंजी स्कीमों अथवा फर्जी जमा योजनाओं पर लगाम लगेगी और गरीब जमाकर्ताओं को धोखेबाज कंपनियों से बचाया जा सकेगा। मंगलवार को राज्यसभा ने ध्वनिमत से यह बिल पास कर दिया जबकि लोकसभा इसे 24 जुलाई को ही पारित कर चुकी है। अब तक पोंजी स्कीमों के 978 मामलों की पहचान की गई है जिनमें 326 मामले अकेले पश्चिम बंगाल में पाए गए हैं।

बिल से जुड़ी बड़ी बातें -

  • बिल में देश में धोखाधड़ी के जरिए जमा एकत्र करने वाली फर्मों को दंडित करने का प्रावधान है। अभी ये फर्में कानूनी खामियों एवं प्रशासनिक कमजोरियों का फायदा उठाकर गरीब लोगों से जमा एकत्र कर गायब हो जाती हैं।
  • पोंजी योजनाओं से वसूली और जब्त राशि पर पहला हक जमाकर्ताओं का होगा। केंद्र और राज्य सरकारों को नियम एवं दिशानिर्देश बनाने का अधिकार होगा। पोंजी या इसी तरह की किसी भी जमा योजनाओं पर अंकुश का प्रावधान है।
  • इस तरह की किसी भी जमा योजनाओं के प्रचार प्रसार पर रोक लगेगी। बिल में एक साल से लेकर दस साल तक सजा का प्रावधान किया गया है। साथ ही दो लाख से लेकर 50 करोड़ रुपये तक आर्थिक जुर्माने का प्रावधान है।
  • विधेयक में सामान्य व्यवसाय प्रक्रिया के सिलसिले में जमा की गई राशियों को छोड़कर अन्य तरह से जमा की गई राशियों को नियमित करने तथा जमाकर्ताओं के हितों की सुरक्षा के लिए समग्र प्रावधान किए गए हैं।

ट्रेनों में पार्सल की जिम्मेदारी अब अमेजन इंडिया को

  • ई-कॉमर्स कंपनी अमेजन इंडिया के कर्मचारी जल्द ही रेलवे स्टेशनों पर पार्सल की जिम्मेदारी संभालते नजर आएंगे। रेलवे ने फिलहाल पायलट प्रोजेक्ट के तौर पर उसे दो राजधानी ट्रेनों में यह जिम्मेदारी सौंपी है। एक माह बाद काम की समीक्षा के बाद इसका दायरा बढ़ाया जा सकता है। प्रयोग सफल रहा तो अन्य ट्रेनों में भी पार्सल का काम बड़ी निजी कंपनियों के हवाले करने की राह खुल जाएगी।
  • मुंबई राजधानी (12952/12951) और सियालदह राजधानी (12314/12313) से इस योजना की शुरुआत हो रही है। इन दोनों ट्रेनों में गार्ड के डिब्बे के साथ लगने वाले एसएलआर (पार्सल वैगन) में ढाई टन पार्सल के परिवहन की अनुमति अमेजन इंडिया को दी गई है। एक एसएलआर की क्षमता चार टन होती है, जो अभी पूरी तरह से रेलवे के पास है। लेकिन, अब इन ट्रेनों में रेलवे मात्र डेढ़ टन सामान ही बुक कर सकेगा। इस संबंध में रेलवे बोर्ड ने उत्तर रेलवे, पूर्व रेलवे और पश्चिम रेलवे को आदेश जारी कर दिया है।

2020 में लॉन्च होगी 5जी सर्विस

  • हुवावे विवाद के बीच केंद्र सरकार ने भारत में 5जी लॉन्च करने के तैयारी शुरू कर दी है। इसके तहत दूरसंचार विभाग ने 5जी ट्रायल के लिए गाइडलाइंस जारी की है। ट्रायल के लिए 400 MHz रेडियो तरंगों का उपयोग होगा। कंपनियों के ट्रायल के बाद वर्ष 2020 तक भारत में कमर्शियली रूप से 5 जी सर्विसेस शुरू हो जाएंगी।
  • सरकार की योजना इस वर्ष के अंत तक 5 जी सेवाओं के लिए स्पेक्ट्रम नीलामी करने की है। इससे पहले ट्रायल के लिए कंपनियों को आवेदन करना होगा। दो महीने के भीतर ट्रायल के लिए परमिट जारी होगा। ट्रायल की अवधि न्यूनतम तीन महीने और अधिकतम दो साल होगी।
  • केंद्र सरकार ने 5जी टेस्ट में चीनी टेलीकॉम की दिग्गज कंपनी हुवावे की भागीदारी पर फैसला करने के लिए प्रधान वैज्ञानिक सलाहकार की अध्यक्षता में एक समिति बनाई है।

:: पर्यावरण और पारिस्थितिकी ::

अर्थ ओवरशूट डे

  • अंतरराष्ट्रीय संस्था ग्लोबल फुट प्रिंट की रिपोर्ट के मुताबिक हमने सोमवार (29 जुलाई) तक इस साल यानी 2019 के लिए धरती के समस्त संसाधनों का इस्तेमाल कर लिया है। साल भर के लिए नियत संसाधन हम सबने इतने कम दिन में ही खत्म कर दिया है। पिछले बीस साल में अर्थ ओवरशूट डे दो महीने आगे आ चुका है। यानी आज से हम उधार के संसाधनों पर जीवित रहेंगे।
  • अंधाधुंध दोहन ने एक धरती से हमारी जरूरतें पूरी नहीं हो रही हैं। विशेषज्ञों के अनुसार इसे पूरा करने के लिए 1.75 धरती की दरकार है। 2030 यह जरूरत बढ़कर दो पृथ्वी की हो जाएगी।
  • 1969 में धरती एक साल में जितना संसाधन तैयार करती थी, पूरी दुनिया उसका इस्तेमाल करीब 13 महीने करती थी। दिन बदले, तस्वीर बदली। आज हम धरती के एक साल के लिए तय संसाधन करीब सात महीने में ही समाप्त कर दे रहे हैं।
  • विकास के नाम पर विनाश की ओर बढ़ रही है दुनिया। दोनों में संतुलन साधने की बात तमाम विशेषज्ञ करते हैं। अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए जंगल काटते जा रहे हैं। भू क्षरण जारी है। जैव विविधता घट रही है। वायुमंडल में कार्बन डाईऑक्साइड का जमाव चरम पर होता जा रहा है। इन सबके असर से ग्लोबल वार्मिंग का दैत्य सामने आया है जिसने पूरी जलवायु बदल कर रख दी है।

क्या है अर्थ ओवरशूट डे?

  • अर्थ ओवरशूट डे की अवधारणा ग्लोबल फुटप्रिंट नेटवर्क तथा ब्रिटेन के न्यू इकोनॉमिक फाउंडेशन द्वारा रखी गयी थी। यह प्रत्येक वर्ष के उस दिवस का सूचक है जिस दिन उस वर्ष के लिए आवंटित प्राकृतिक संसाधनों का उपभोग मानव ने कर लिया। पहला ओवरशूट डे 2006 मनाया गया था।

अर्थ ओवरशूट डे की शुरुआत

  • 1986 इस दिवस की गणना की जा रही है। तब से हर साल यह दिवस पिछले साल के दिवस से पहले आता जा रहा है। 1993 में यह 21 अक्टूबर को था तो 2003 में 22 सितंबर को और 2017 में 2 अगस्त को तय था।
  • हमें केवल एक पृथ्वी मिली है। यह हमारे अस्तित्व के लिए सर्वाधिक महत्वपूर्ण है। हम विनाशक परिणामों के बिना 1.75 (पृथ्वी) का इस्तेमाल नहीं कर सकते।

ग्रीन ट्रिब्यूनल ने मनाली और मैक्लोड़गंज में व्यावसायिक निर्माण पर लगाई रोक

  • नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) ने बड़ा फैसला लेते हुए मनाली और मैक्लोड़गंज में व्यावसायिक निर्माण पर रोक लगा दी है। वहीं, सरकारी व निजी निर्माण के लिए रोक नहीं रहेगी। ऐसे में मनाली और मैक्लोड़गंज में नियमों के अनुसार अब सरकारी व निजी निर्माण ही हो सकेंगे। कोई भी व्यावसायिक निर्माण नहीं होगा।

पृष्ठभूमि

  • मनाली और मैक्लोड़गंज में कैरिंग कपैसिटी का पता लगाने के लिए नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (NGT) की ओर से कमेटी गठित की थी। कमेटी ने अपनी रिपोर्ट गुरुवार को एनजीटी (NGT) को सौंपी थी। इसमें व्यावसायिक निर्माण आदि पर पूर्णता रोक लगाने की सिफारिश की थी। रिपोर्ट स्टडी के लिए एनजीटी ने मामले की सुनवाई आज तक यानि 29 जुलाई तक बढ़ा दी थी। आज मामले पर सुवनाई हुई। सुनवाई के दौरान एनजीटी (NGT) ने मनाली और मैक्लोड़गंज व्यावसायिक निर्माण पर रोक लगाई है। वहीं, हैंडपंप या बोरबैल आदि लगाने के लिए आईपीएच से अनापत्ति प्रमाण पत्र लेना होगा।

अमेजन के जंगलों में मिला विश्व के सबसे छोटे बंदर का जीवाश्म

  • वैज्ञानिकों ने अमेजन के जंगलों में विश्व के सबसे छोटे बंदर के जीवाश्म का पता लगाया है। माना जा रहा है कि इसका वजन एक हम्सटर (चूहों की प्रजाति का जीव) के बराबर रहा होगा। अमेरिका की ड्यूक यूनिवर्सिटी और पेरू की नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ पिउरा के शोधकर्ताओं की टीम को 18 मिलियन वर्ष (1.8 करोड़ वर्ष ) पुराने जीवाश्म के दांत मिले हैं, जो एक नई प्रजाति के छोटे बंदर से संबंधित है। ह्यूमन इवोल्यूशन नामक पत्रिका में प्रकाशित हुए अध्ययन के मुताबिक, यह जीवाश्म अत्यंत महत्वपूर्ण है। इसकी मदद से बंदरों के जीवाश्म रिकॉर्ड में 15 मिलियन (1.5 करोड़) वर्ष के अंतर को पाटा जा सकता है क्योंकि शोधकर्ताओं को बंदरों के इतने पुराने जीवाश्म नहीं मिले हैं।
  • यह जीवाश्म दक्षिण- पूर्वी पेरू में रियो ऑल्टो मादरे डी डिओस नदी के तट पर बलुआ पत्थर में मिला। पत्थर से इसे अलग करने के लिए शोधकर्ताओं ने पत्थरों के टुकड़ों को खोदकर उन्हें बोरों में डाला और पानी में भीगने के लिए छोड़ दिया। बाद में पत्थरों में दफन हुए जीवाश्म (दांतों, जबड़ों और हड्डियों के टुकड़ों) को छानकर उससे अलग कर लिया। इस दौरान शोधकर्ताओं की टीम को बंदर के दांत समेत चूहे, चमगादड़ और अन्य कई जानवरों के जीवाश्म मिले, जिनका कुल वजन 2000 पाउंड (लगभग 1 किलोग्राम) था।
  • शोधकर्ताओं ने अब इन जीवाश्मों को पेरू की नेशनल यूनिवर्सिटी ऑफ पिउरा के संग्रहालय में रख दिया है, जहां शोधकर्ताओं इनका अध्ययन कर बंदरों के विकास का पता लगाएंगे। माना जाता है कि लगभग 40 मिलियन साल पहले दक्षिण अफ्रीका से बंदर दक्षिण अमेरिका में प्रवास कर गए थे। आज बंदरों की अधिकांश प्रजातियां अमेजन के वर्षावन में निवास करती हैं।

देश में सबसे ज्यादा प्रदूषण फैलानी वाली उद्योग

  • महाराष्ट्र और गुजरात में सबसे ज्यादा प्रदूषण फैलाने वाली इंडस्ट्री हैं। वे प्रदूषण नियंत्रण मानदंडों का पालन नहीं कर रही हैं। जबकि तमिलनाडु में नियम तोड़ने का एक भी मामला नहीं पाया गया है। ये जानकारी पिछले हफ्ते लोकसभा में पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के राज्य मंत्री बाबुल सुप्रियो ने दी है। देश में करीब 518 ऐसी इंडस्ट्री हैं, जो नियमों को दरकिनार कर लगातार प्रदूषण फैला रही हैं। इनमें से 50% से भी ज्यादा इंडस्ट्री केवल महाराष्ट्र और गुजरात में हैं।
  • देश में प्रदूषण फैलानी वाली 4264 इंडस्ट्री थीं, जिनमें से 496 बंद हो गईं। जो इंडस्ट्रीज चल रही है, उनमें से 518 प्रदूषण से जुड़े नियमों का पालन नहीं कर रही हैं। सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड इनमें से अब तक 156 इंडस्ट्री को बंद करने का आदेश दे चुका है।
  • सीपीसीबी ने अब तक अकेले महाराष्ट्र के ही 5 उद्योगों पर कार्रवाई की है। जम्मू-कश्मीर में 55 में से 52 इंडस्ट्री नियमों का पालन करती हैं। यूपी में 807 इंडस्ट्री हैं जिनमें से 782 इंडस्ट्री नियमों का पालन करती हैं। 25 नियमों का पालन नहीं करतीं। पालन न करने वाली 24 इंडस्ट्री को सीपीसीबी ने बंद करने के आदेश जारी किए हैं।

बाघों के अनुमान के चौथे चक्र- 2018

  • अंतर्राष्‍ट्रीय बाघ दिवस के अवसर पर, प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज नई दिल्‍ली में अपने आवास पर बाघों के अखिल भारतीय अनुमान-2018 के चौथे चक्र के परिणाम जारी किए। सर्वेक्षण के अनुसार 2018 में भारत में बाघों की संख्‍या बढ़कर 2,967 हो गई है।
  • देश में वन क्षेत्र भी बढ़ा है। ‘संरक्षित क्षेत्रों’ में भी बढ़ोतरी हुई है। वर्ष 2014 में 692 संरक्षित क्षेत्र थे, जिनकी संख्‍या 2019 में बढ़कर 860 से अधिक हो गई है। ‘सामुदायिक शरणस्‍थलों’ की संख्‍या भी बढ़कर 100 हो गई है, जो 2014 में केवल 43 थी।
  • बाघों की संख्‍या में 33 प्रतिशत की वृद्धि विभिन्‍न चक्रों के बीच दर्ज अब तक की सबसे अधिक है, जो 2006 से 2010 के बीच 21 प्रतिशत और 2010 और 2014 के बीच 30 प्रतिशत थी। बाघों की संख्‍या में वृद्धि 2006 से बाघों की औसत वार्षिक वृद्धि दर के अनुरूप है। मध्‍य प्रदेश में बाघों की संख्‍या सबसे अधिक 526 पाई गई, इसके बाद कर्नाटक में 524 और उत्‍तराखंड में इनकी संख्‍या 442 थी। यह देश के लिए गौरव का क्षण है कि उसने बाघों की संख्‍या दोगुनी करने की सेंट पीटर्सबर्ग घोषणापत्र की प्रतिबद्धता को 2022 की समय सीमा से पहले ही हासिल कर लिया है।
  • छत्‍तीसगढ़ और मिजोरम में बाघों की संख्‍या में गिरावट देखने को मिली, जबकि ओडिशा में इनकी संख्‍या अपरिवर्तनशील रही। अन्‍य सभी राज्‍यों में सकारात्‍मक प्रवृत्ति देखने को मिली। बाघों के सभी पांच प्राकृतिक वासों में उनकी संख्‍या में बढ़ोतरी देखने को मिली।
  • भारत अपने यहां बाघों की संख्‍या का आकलन करने के लिए मार्क-रीकैप्‍चर फ्रेमवर्क को शामिल कर दोहरे प्रतिचयन दृष्टिकोण का इस्‍तेमाल करता रहा है, जिसमें विज्ञान की तरक्‍की के साथ समय- समय पर सुधार हुआ है।
  • चौथे चक्र के दौरान सरकार की डिजिटल इंडिया पहल के साथ, एक एन्‍ड्रॉयड आधारित एप्‍लीकेशन-एम-एसटीआरआईपीईएस (मॉनिटरिंग सिस्‍टम फॉर टाइगर्स इंटेंसिव प्रोटेक्‍शन एंड इकोलॉजिकल स्‍टेट्स) का इस्‍तेमाल करते हुए आंकड़े एकत्र किए गए और एप्‍लीकेशन के डेस्‍कटॉप मॉडयूल पर इनका विश्‍लेषण किया गया। इस एप्‍लीकेशन ने करीब 15 महीने में भारी मात्रा में एकत्र किए गए आंकड़ों का विश्‍लेषण आसान बना दिया। इस दौरान राज्‍य के वन अधिकारियों ने 52,2,996 किलोमीटर पैदल चलकर वनों में स्थित बाघों के प्राकृतिक वास के 3,81,400 वर्ग किलोमीटर क्षेत्र का सर्वेक्षण किया। इसमें 3,17,958 प्राकृतिक वास भूखंड थे, जिनमें 5,93,882 मानव दिवस का कुल मानव निवेश किया गया। इसके अलावा 26,760 स्‍थानों पर कैमरे लगाए गए, जिन्‍होंने वन्‍य जीवों की 35 मिलियन तस्‍वीरें दीं, जिनमें 76,523 तस्‍वीरें बाघों की थीं। आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सॉफ्टवेयर का इस्‍तेमाल करने के कारण थोड़े ही समय में इन चित्रों को अलग करना संभव हुआ।

:: विज्ञान और प्रौद्योगिकी ::

एमिसैट परियोजना : ‘कौटिल्य’

  • चंद्रयान-2 को रवाना किए जाने के कुछ दिन पहले भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (इसरो) ने रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (डीआरडीओ) के एक छोटे से उपग्रह को सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से पीएसएलवी सी-45 रॉकेट के जरिए पृथ्वी की कक्षा में पहुंचाया। रक्षा मंत्रालय ने इस परियोजना को गुपचुप रखा। दरअसल, पीएसएलवी सी-45 रॉकेट ने एक जासूसी उपग्रह (इलेक्ट्रोमैग्नेटिक इंटेलीजेंस-गैदेरिंग सैटेलाइट, एमिसैट) को अंतरिक्ष में पहुंचाया था। इसे ‘सन सिंक्रोनस पोलर आॅर्बिट’ कही जाने वाली कक्षा में पहुंचाया।
  • विद्युत चुंबकीय स्पेक्ट्रम को मापने में सक्षम एमिसैट को अंतरिक्ष में भारत की ‘आंख और कान’ कहा जा रहा है। एमिसैट परियोजना को लेकर कोई विवाद न हो, इसलिए कई अन्य देशों के 28 उपग्रह (अमेरिका के 24, लिथुआनिया के दो और स्पेन एक स्विट्जरलैंड के एक-एक उपग्रह) को लेकर लगभग 239 किलोग्राम वजनी पीएसएलवी रॉकेट ने उड़ान भरी और इन सभी को पृथ्वी की कक्षा में पहुंचाया। इसरो के मुताबिक, एमिसैट के साथ-साथ अन्य देशों के 28 उपग्रहों को पृथ्वी की अलग-अलग कक्षाओं में स्थापित किया गया।
  • एमिसैट का मुख्य मकसद सरहद पर इलेक्ट्रॉनिक या किसी तरह की मानवीय गतिविधि पर नजर रखना है। यह उपग्रह सीमा पर रडार और सेंसर के सिग्नल पकड़ेगा। दुश्मनों की संचार से जुड़ी किसी भी तरह की गतिविधि का पता भारतीय सुरक्षा एजंसियों को चल जाएगा। इसके जरिए दुश्मन देशों की रडार प्रणाली पर नजर रखने के साथ ही उनकी जगह का भी पता लगाया जा सकेगा। यह दुश्मन के इलाकों का सही इलेक्ट्रॉनिक नक्शा बना सकेगा। दुश्मन के इलाके में मौजूद मोबाइल समेत अन्य संचार उपकरणों की सही जानकारी भी मिलेगी।
  • रक्षा मंत्रालय के इस प्रोजेक्ट का नाम ‘कौटिल्य’ रखे जाने की खास वजह है। ईसा पूर्व दूसरी शती के महान कूटनीतिज्ञ कौटिल्य के नाम पर डीआरडीओ ने ‘प्रोजेक्ट कौटिल्य’ शुरू किया था। आठ साल में वैज्ञानिकों ने 436 किलोग्राम वजनी एमिसैट को बनाया। यह दुश्मन देशों के रेडार नेटवर्क की निगरानी के साथ ही युद्ध की सूरत में दुश्मन की वायु रक्षा प्रणाली को जाम करने में सक्षम है। एमिसैट पड़ोसी देशों चीन और पाकिस्तान में चल रही है गतिविधियों पर निगरानी रखने में सक्षम तो है ही तटीय क्षेत्रों पर भी नजर रख रहा है।
  • सबसे पहली बार एमिसैट का जिक्र रक्षा मंत्रालय की वार्षिक रिपोर्ट 2013-14 में किया गया था। इसके पेलोड को ‘प्रोजेक्ट कौटिल्य’ के तहत डीआरडीओ के डिफेंस इलेक्ट्रॉनिक्स रिसर्च लैबोरेट्री (डीएलआरएल), हैदराबाद में विकसित किया गया है। रक्षा मंत्रालय ने एमिसैट के बारे में बहुत कम जानकारियां सार्वजनिक की हैं।
  • एमिसैट उपग्रह को इजरायल के जासूसी उपग्रह ‘सरल’ (सेटलाइट विद आर्गोस एंड अल्टिका) की तर्ज पर विकसित किया गया है। एमिसैट में रडार की ऊंचाई को नापने वाला यंत्र अल्टिका लगा है, जिसे डीआरडीओ ने ही विकसित किया है। इस उपग्रह की खासियत जमीन से सैकड़ों किलोमीटर की ऊंचाई पर रहते हुए जमीन की संचार प्रणालियों, रेडार और अन्य इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के सिग्नल को पकड़ना है। यह उपग्रह बर्फीली घाटियों, बारिश वाले और तटीय इलाकों, जंगल और समुद्री की लहरों को बहुत आसानी से नापने की क्षमता रखता है।

:: विविध ::

कर्नाटक के CM बी.एस. येदियुरप्पा

  • कर्नाटक के मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा ने ध्वनि मत के जरिए विश्वास प्रस्ताव जीत कर विधानसभा में सोमवार को अपना बहुमत साबित किया. संख्या बल भाजपा सरकार के पक्ष में होने की वजह से कांग्रेस- जद (एस) ने येदियुरप्पा द्वारा पेश किए गए एक पंक्ति के विश्वास प्रस्ताव पर मत विभाजन का दबाव नहीं बनाया.

दुनिया के सर्वश्रेष्ठ सीईओ की सूची

  • सीईओ वर्ल्ड पत्रिका ने 2019 में दुनिया के सबसे अधिक प्रभावशाली मुख्य कार्यकारियों की सूची जारी की है। इस सूची में 10 भारतीय सीईओ शामिल हैं।
  • आर्सेलरमित्तल के चेयरमैन एवं सीईओ लक्ष्मी निवास मित्तल सबसे ऊंची रैंकिंग वाले भारतीय सीईओ हैं। हालांकि, उनकी कंपनी को लक्जमबर्ग की कंपनी के रूप में दर्शाया गया है। इस 121 वैश्विक सीईओ की सूची में रिलायंस इंडस्ट्रीज के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक अंबानी 49वें, आईओसी के सिंह 69वें और ओएनजीसी के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक शशि शंकर 77वें स्थान पर हैं।
  • पत्रिका ने कहा कि कि वॉलमार्ट के सीईओ डगलस मैकमिलन पहले स्थान पर हैं। उनके बाद रॉयल डच शेल के वैश्विक मुख्य कार्यकारी बेन वान ब्यूंडर और आर्सेलरमित्तल के लक्ष्मी मित्तल का नंबर आता है।
    ICC ने आधिकारिक रूप से लॉन्च की वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप
  • अब आईसीसी ने टेस्ट क्रिकेट में भी रोमांच भरने के लिए वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियनशिप की घोषणा कर दी है।
  • इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच एक अगस्त से शुरू हो रही एशेज सीरीज के साथ टेस्ट चैम्पियनशिप की शुरुआत होगी। चैम्पियनशिप में चोटी की नौ टीमें हिस्सा लेंगी। इसमें ऑस्ट्रेलिया, बांग्लादेश, इंग्लैंड, भारत, न्यूजीलैंड, पाकिस्तान, दक्षिण अफ्रीका, श्रीलंका और वेस्टइंडीज शामिल हैं।

ऐसी होगी चैम्पियनशिप

  • चैम्पियनशिप के दौरान अगले दो साल में कुल 27 सीरीज के तहत 71 टेस्ट मैच खेले जाएंगे। इस दौरान चोटी पर रहने वाली दो टीमें जून 2021 में ब्रिटेन में आईसीसी वर्ल्ड टेस्ट चैम्पियन का फाइनल खेलेंगी। हर टीम तीन घरेलू सीरीज और तीन सीरीज विदेशी जमीन पर खेलेंगी।
  • हर मैच के लिए टीमों को प्वाइंट मिलेंगे। हर सीरीज में 120 प्वाइंट होंगे और जितने भी मैच उस सीरीज में खेले जाएंगे, उनमें बराबार बांट दिए जाएंगे। उदाहरण के लिए दो मैचों की सीरीज में हर मैच के लिए 60 प्वाइंट होंगे, जबकि तीन मौचों की सीरीज में हर मैच के लिए 40 प्वाइंट रखे जाएंगे। टाई हुए टेस्ट मैच में 50 फीसद प्वाइंट दिए जाएंगे, जबकि ड्रॉ मैच में 3:1 प्वाइंट उपलब्ध होंगे। चैम्पियनशिप के दौरान कम से कम दो मैच और अधिकतम पांच मैचों की सीरीज दो टीमें खेल सकती हैं।

बर्नल 110 वर्ष में टूर डि फ्रांस के सबसे युवा विजेता

  • ईगन बर्नल टूर डि फ्रांस का खिताब जीत लिया। 22 साल 196 दिन के बर्नल पिछले 110 वर्षों में पहले और कुल तीसरे सबसे युवा साइकिलिस्ट चैंपियन हैं। उनसे पहले लक्समबर्ग के फ्रांसियोस फेबर (22 साल 187 दिन) 1909 में यह उपलब्धि हासिल की थी।

अंजुम मोदगिल ने तोड़ा व‌र्ल्ड रिकॉर्ड

  • दिल्ली में आयोजित 12वीं सरदार सज्जन सिंह सेठी मेमोरियल मास्टर्स शूटिग चैंपियनशिप में शहर की शूटर अंजुम मोदगिल ने 10 मीटर एयर राइफल में विश्व रिकॉर्ड को तोड़ते हुए नया रिकॉर्ड कायम किया है।

उ.प्र. के ध्रुव होंगे यूथ एशिया कप क्रिकेट में भारत की अंडर-19 टीम के कप्तान

  • उत्तर प्रदेश के 18 बरस के विकेटकीपर बल्लेबाज ध्रुव चंद जुरेल श्रीलंका में 3 से 15 सितंबर तक होने वाले यूथ एशिया कप क्रिकेट टूर्नामेंट में भारत की अंडर-19 टीम का नेतृत्व करेंगे। आगरा में जन्मे ध्रुव उत्तर प्रदेश और भारत के लिए जूनियर स्तर पर कामयाब प्रदर्शन कर चुके हैं।

एलिस पैरी

  • ऑस्ट्रेलिया की महिला क्रिकेटर एलिस पैरी ने अपने नाम एक रेकॉर्ड दर्ज कर लिया है। इंग्लैंड के खिलाफ खेली गई उनकी 47 रनों की पारी की बदौलत उनकी टीम को 7 विकेट से जीत मिली। इसके साथ ही वह टी20 इंटरनैशनल में 100 विकेट और 1000 रन बनाने वाली पहली खिलाड़ी (महिला और पुरुष) बन गईं।

दालिलाह ने बाधा दौड़ में विश्व रिकार्ड बनाया

  • ओलंपिक चैंपियन दालिलाह मुहम्मद ने अमेरिकी चैंपियनशिप में 400 मीटर बाधा दौड़ में जीत के दौरान महिला एथलेटिक्स में लंबे समय से चला आ रहा विश्व रिकार्ड तोड़ा। रविवार को बारिश से भीगे ड्रेक स्टेडियम में 29 साल की दालिलाह ने 52 .20 सेकेंड के समय के साथ नया विश्व रिकार्ड बनाया। दालिलाह ने 16 साल पहले 2003 में रूस की यूलिया पेचोनकिना के 52 .34 सेकेंड के पिछले विश्व रिकार्ड में सुधार किया।

स्नाइपर फ्रंटियर प्रतियोगता : 2019

  • भारतीय सेना का 9 सदस्य दल स्नाइपर फ्रंटियर प्रतियोगिता में हिस्सा लेने के लिए बेलारूस रवाना हो गया है। यह प्रतियोगिता अंतर्राष्ट्रीय सैन्य खेल का हिस्सा है जो बेलारूस में 03 अगस्त से 17 अगस्त, 2019 तक चलेगी। इस 13 दिवसीय प्रतियोगिता में गहन स्नाइपर प्रतियोगिता होगी जिसमें भागीदारों की मानसिक, शारीरिक और फायरिंग कुशलता देखी जाएगी।

एलसीयूएल-56

  • विशाखापत्‍तनम में एलसीयू एल-56 में फाइट लैंडिंग क्राफ्ट यूटिलिटि (एलसीयू) श्रेणी के छठे मार्क– IV को शामिल किया। यह युद्ध पोत कलकत्‍ता स्थित मिनी रत्‍न श्रेणी-1 तथा देश का अग्रणी पोत कारखाना गार्डेन रिच शिपबिल्‍डर्स एंड इंजीनियर्स लिमिटेड (जीआरएसई) का 100वां युद्ध पोत है।

:: प्रिलिमिस बूस्टर ::

  • हाल ही में किस उत्पाद को भौगोलिक संकेत (जीआइ टैग) प्रदान किया गया ? (ओडिशा के रसगुल्ले)
  • रसगुल्ले के जीआई टैग को लेकर किन दो राज्यों के मध्य विवाद चल रहा था? (पश्चिम बंगाल और ओडिशा)
  • हाल ही में भारत के किस उत्पाद/ वस्तु को ग्लोबल हेरिटेज में शामिल किया गया है? (मकराना का मार्बल)
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वाइल्डलाइफ एडवेंचर से जुड़े किस प्रोग्राम में नजर आएंगे? (मैन वर्सेस वाइल्ड)
  • मैन वर्सेस वाइल्ड के होस्ट कौन है? (बीयर ग्रिल्स)
  • हाल ही में भारत ने किस देश से हवा में मार करने वाली मिसाइल आर-27 खरीदने हेतु सौदा किया गया है? (रूस)
  • मिसाइल आर-27 को किन लड़ाकू विमानों में इस्तेमाल किया जाएगा? (सुखोई 30)
  • अमेरिकी राष्ट्रपति पर किस रिपोर्ट के आधार पर महाभियोग चलाए जाने का खतरा मंडरा रहा है? (मूलर रिपोर्ट)
  • भारत में पोंजी स्कीमों अथवा फर्जी जमा योजनाओं पर लगाम लगाने हेतु संसद में कौन सा विधेयक प्रस्तुत किया गया है? (अनियमित जमा योजनाएं विधेयक, 2019)
  • किस ई-कॉमर्स कंपनी के द्वारा रेलवे स्टेशन पर पार्सल व्यवस्था संभालने का ट्रायल किया जा रहा है? (अमेज़न इंडिया)
  • अर्थ ओवरशूट डे की अवधारणा के अनुसार किस तिथि तक हम 2019 के लिए निर्धारित धरती के समस्त संसाधनों का उपभोग कर लेंगे? (29 जुलाई)
  • किस वर्ष अर्थ ओवरशूट डे की शुरुआत की गई थी एवं यह किस संस्था के द्वारा जारी किया जाता है? (2006, ग्लोबल फुटप्रिंट नेटवर्क)
  • हाल ही में नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल के द्वारा किन पर्यटन स्थलों पर व्यवसायिक निर्माण पर रोक लगा दी गई है? (मनाली और मैक्लोड़गंज)
  • बाघों के अनुमान के चौथे चक्र- 2018 के अनुसार किस राज्य में बाघों की सर्वाधिक संख्या दर्ज की गई है? (मध्‍य प्रदेश 526)
  • सेंट पीटर्सबर्ग घोषणापत्र की प्रतिबद्धता के अनुसार भारत को किस वर्ष तक बाघों की संख्या दुगनी करनी थी? (2022)
  • भारत के किस उपग्रह को अंतरिक्ष में भारत की ‘आँख और कान’ कहा जाता है? (एमिसैट)
  • हाल ही में किस ने कर्नाटक के मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेते हुए अपना बहुमत साबित किया है? (बी एस येदियुरप्पा)
  • सीईओ वर्ल्ड पत्रिका 2019 के अनुसार किस सीईओ ने सर्वोच्च रैंकिंग हासिल की? (वॉलमार्ट के सीईओ डगलस मैकमिलन)
  • क्रिकेट की वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप की शुरुआत किस सीरीज के साथ प्रारंभ होगी? (इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया के बीच एशेज सीरीज के साथ)
  • हाल ही में किस खिलाड़ी के द्वारा ‘टूर डि फ्रांस’ का खिताब जीता गया? (ईगन बर्नल)
  • सज्जन सिंह सेठी मेमोरियल मास्टर्स शूटिग चैंपियनशिप में किस शूटर के द्वारा 10 मीटर राइफल में नया विश्व रिकॉर्ड बनाया गया है? (अंजुम मोदगिल)
  • यूथ एशिया कप क्रिकेट टूर्नामेंट में भारत की अंडर-19 टीम का कप्तान किस खिलाड़ी को बनाया गया है? (ध्रुव चंद जुरेल)
  • किस खिलाड़ी के द्वारा सबसे पहले टी20 इंटरनैशनल में 100 विकेट और 1000 रन बनाने की उपलब्धि हासिल की गई है? (एलिस पैरी-ऑस्ट्रेलिया)
  • हाल ही में किस महिला खिलाड़ी के द्वारा 400 मीटर बाधा दौड़ में एथलेटिक्स का विश्व रिकॉर्ड ध्वस्त किया गया? (दालिलाह मुहम्मद)
  • स्नाइपर फ्रंटियर प्रतियोगिता का आयोजन कहां किया जा रहा है? (बेलारूस)
  • हाल ही में गार्डेन रिच शिपबिल्‍डर्स एंड इंजीनियर्स लिमिटेड (जीआरएसई) द्वारा निर्मित100वां युद्ध पोत सेना में सम्मिलित किया गया है। इस युद्ध पोत का क्या नाम है (एलसीयू एल-56)

स्रोत साभार: Dainik Jagran (Rashtriya Sanskaran), Dainik Bhaskar (Rashtriya Sanskaran), Rashtriya Sahara (Rashtriya Sanskaran) Hindustan Dainik (Delhi), Nai Duniya, Hindustan Times, The Hindu, BBC Portal, The Economic Times (Hindi & English), PTI, PIB

<< मुख्य पृष्ठ पर वापस जाने के लिये यहां क्लिक करें