(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (26 जुलाई 2019)

दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर


(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (26 जुलाई 2019)


:: राष्ट्रीय समाचार ::

बुंदेलखंड की जल चौपाल

  • जल है तो कल है और जल ही जीवन है जैसी बातें अब बुंदेलियों के जेहन में उतर चुकी है। बांदा में गांव-गांव आयोजित हुईं जल चौपालें इस बात की गवाह हैं। इसके तहत तालाब-कुआं जियाओ अभियान ने भी गति पकड़ ली है। जल संरक्षण की इस अनूठी पहल की गूंज प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) तक पहुंच गई। जिसके बाद जल शक्ति मंत्रालय ने इस अभियान का जायजा लिया।
  • लोकसभा चुनाव के दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बांदा, उप्र की जनसभा में कहा था कि अब बारी है बुंदेलखंड में पानी की समस्याओं से निपटने की। प्रधानमंत्री के इस बात ने बुंदेलियों में जोश भर दिया। चुनाव बाद ही यहां जल संरक्षण के लिए विशेष अभियान शुरू कर दिया गया। पहले चरण में गांव-गांव जल चौपालें आयोजित की गईं, फिर दूसरे चरण में तालाब-कुआं जियाओ अभियान शुरू हुआ।
  • कुएं-तालाबों का पूजन और दीपदान जिला प्रशासन ने पहले चरण में भूजल बढ़ाओ, पेयजल बचाओ अभियान के तहत छह ब्लाकों में जल चौपालों का आयोजन किया। ग्रामीणों को जल संरक्षण के प्रति जागरूक करने के बाद दूसरा चरण 10 मई से शुरू किया गया। इसे कुआं-तालाब जियाओ नाम दिया गया। अभियान में गांव-गांव तालाबों और कुओं का पूजन शुरू कराया गया। जिले की 471 ग्राम सभाओं में दीपदान कार्यक्रम हुआ।

अभियान के तहत हुए कार्य

  • पुराने तालाब : 2200
  • खुदवाए गए तालाब : 356
  • कुओं की संख्या : 7500
  • साफ किए गए कुएं : 3488
  • तालाबों में दीपदान : 2145

:: अंतराष्ट्रीय समाचार ::

अमेरिका-ईरान तनाव

  • अमेरिका के साथ बढ़े टकराव के बीच ईरान ने कुछ ऐसे संकेत दिए हैं जिससे आने वाले दिनों में दोनों देशों के बीच तनाव कम होने की उम्मीद बढ़ी है। ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने प्रतिबंध हटने पर अमेरिका के साथ बातचीत करने के संकेत दिए। रूहानी ने ब्रिटेन को टैंकरों की अदला-बदली का प्रस्ताव भी दिया है।
  • तेहरान में कैबिनेट की बैठक के बाद रूहानी ने अमेरिका के साथ अप्रत्यक्ष बातचीत करने के संकेत दिए। ईरान की आधिकारिक सरकारी वेबसाइट की एक रिपोर्ट के अनुसार रूहानी ने कहा, 'बेशक ऐसे देश हैं जो अमेरिका और हमारे बीच में मध्यस्थ का काम कर रहे हैं। पत्राचार और बातचीत चल रही है और सबको पता होना चाहिए कि हम कभी बातचीत के अवसर को नहीं छोड़ेंगे।'
  • वॉशिंगटन और तेहरान के बीच तनाव तब ज्यादा बढ़ गया था जब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान पर 2015 के परमाणु समझौते का पालन न करने का आरोप लगाते हुए अमेरिका को अलग कर लिया था साथ ही ईरान पर कई आर्थिक प्रतिबंध लगा दिए थे।
  • रहानी ने बुधवार को कहा कि ईरान पर लगाए गए प्रतिबंध अगर हटाए जाते हैं तो वह वाशिंगटन के साथ बातचीत के लिए फिर से तैयार हो सकते हैं।
  • उन्होंने कहा कि अगर दूसरे पक्ष की ओर से सही और संतुलित कदम उठाया जाता है और चल रहे इस आर्थिक युद्ध में संघर्ष विराम की घोषणा की जाती है तो एक दूसरे से बात करने और किसी निष्कर्ष पर आने का अवसर मिलेगा।
  • रूहानी ने यूरोपीय देशों के साथ तनाव कम करने के संकेत भी दिए हैं। उन्होंने सुझाव दिया कि वे ब्रिटेन का टैंकर छोड़ सकते हैं, लेकिन बदले में ब्रिटेन जिब्राल्टर के तट से जब्त किए गए ईरानी जहाज को छोड़े। रूहानी का बयान यह भी दर्शाता है कि ईरान ने बदले की कार्रवाई में ही ब्रिटेन का टैंकर जब्त किया था।
  • ईरान ने दो दिन पहले ब्रिटिश फ्लैग लगे स्वीडेन की कंपनी के मालिकाना हक वाले तेल टैंकर को होरमुज जलडमरूमध्य में पकड़ा था। इसके चालक दल के 23 सदस्यों में से 18 भारतीय हैं। बुधवार को कंपनी ने कैप्टन से बातचीत के बाद कहा था कि चालक दल के सभी सदस्य सुरक्षित हैं।
  • ब्रिटिश रॉयल नौसेना के सैनिकों ने चार जुलाई को जिब्राल्टर के तट पर ईरान के टैंकर को जब्त कर लिया था। आरोप था कि टैंकर सीरिया के लिए तेल आपूर्ति लेकर निकला था जोकि यूरोपीय संघ के प्रतिबंधों का खुला उल्लंघन है। ब्रिटेन में तब के विदेश सचिव जेरेमी हंट ने अपने ईरानी समकक्ष से बातचीत में कहा था कि पकड़ा गया जहाज ग्रेस-1 लौटाया जा सकता है अगर उन्हें यह गारंटी मिले कि यह सीरिया नहीं जाएगा। यह मामला जिब्राल्टर की अदालत में है जहां टैंकर की जब्ती को 15 अगस्त तक बढ़ा दिया गया है।

कश्मीर पर मध्यस्थता की बात,ट्रंप ने की 'बड़ी राजनयिक भूल'

  • ट्रंप ने सोमवार को पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के साथ बैठक के दौरान यह बयान देकर दुनिया को स्तब्ध कर दिया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जापान के ओसाका में जी20 शिखर सम्मेलन के दौरान कश्मीर मामले को सुलझाने में उनकी मदद मांगी थी।
  • अमेरिकी राष्ट्रपति के इस बयान के तुरंत बाद भारत ने इसे खारिज करते हुए कहा था कि मोदी ने ऐसा कोई अनुरोध नहीं किया और कश्मीर भारत और पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय मामला है।
  • ट्रंप के के बयान के बाद खुद अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने नुकसान की भरपाई की कोशिश करते हुए कहा कि वह कश्मीर को भारत एवं पाकिस्तान के बीच द्विपक्षीय मामला मानता है और वह तभी मदद के लिए तैयार होगा, जब दोनों देश चाहेंगे।
  • अमेरिका के शीर्ष दैनिक 'द वॉशिंगटन पोस्ट' ने अपनी एक रिपोर्ट में कहा, 'ट्रंप ने हद दर्जे की राजनयिक भूल की है।' अखबार ने आगे कहा, 'भारत के साथ व्यापार युद्ध के बाद, कश्मीर मामले पर उनकी भूल एक अहम देश को और विमुख कर देगी, जिसकी मित्रता की अमेरिका को चीन के बढ़ते प्रभाव से मुकाबला करने के लिए आवश्यकता है।'
  • अखबार ने आगे कहा, 'राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू बुश और बराक ओबामा ने भारत के साथ संबंधों में सुधार किया, ट्रंप कुछ गलत शब्दों से उनके किए पर पानी फेर रहे हैं।'
  • समाचार पत्र ने कहा, 'वह अफगानिस्तान से अमेरिकी बलों को वापस लाने पर ध्यान केंद्रित करना चाहते हैं और उन्हें लगता है कि यदि वह पाकिस्तान को खुश करते हैं, तो अमेरिका वहां से सम्मान से साथ निकल पाएगा।'
  • समाचार पत्र की रिपोर्ट में कहा गया है, 'अफगानिस्तान से अमेरिका के निकलने में मदद करने में पाकिस्तान का हित है। इससे तालिबान, हक्कानी नेटवर्क को वर्चस्व बनाने में मदद मिलेगी, लेकिन हमेशा की तरह, ट्रंप को इस बार भी पता नहीं है कि उन्हें मूर्ख बनाया जा रहा है।'

चीन और अमेरिका के संबंधों में तनाव

  • अमेरिकी नौसेना का एक युद्धपोत बुधवार को ताइवान जलडमरूमध्य (स्ट्रेट) से होकर गुजरा। अमेरिका के इस कदम से चीन नाराज हो सकता है। यह पोत ताइवान के पास से ऐसे वक्त में गुजरा है, जब वाशिंगटन और बीजिंग के संबंधों में तनाव है। नौसेना प्रवक्ता क्ले डॉस के मुताबिक, 'हिद-प्रशांत क्षेत्र में स्वतंत्र आवाजाही सुनिश्चित करने के लिए अमेरिका की प्रतिबद्धता को दर्शाने के लिए एक युद्धपोत ताइवान स्ट्रेट से होकर गुजरा। अमेरिकी नौसेना उन सभी जगहों पर अपने अभियान संचालित करेगी, जहां अंतरराष्ट्रीय कानून लागू होते हैं।'
  • ताइवान को चीन अपना क्षेत्र मानता है और वह इस क्षेत्र में किसी अन्य देश का हस्तक्षेप पसंद नहीं करता है। हालांकि अमेरिका इसकी परवाह किए बगैर ताइवान को सैन्य साजो-सामान मुहैया कराता रहता है। अमेरिका ने हाल ही में ताइवान को दो अरब डॉलर के हथियार बेचने की मंजूरी दी है। इस पर चीन की ओर से कड़ा एतराज जताया गया है। बीजिंग ने गत बुधवार को एक बयान में अमेरिका को आगाह किया कि अगर ताइवान की आजादी को लेकर कोई भी कदम उठाया जाता है तो वह युद्ध के लिए तैयार है।

ब्रिटिश नौसेना होर्मुज स्ट्रेट में अपने जहाजों को देगी सुरक्षा

  • ईरान की जल सीमा के सटे होर्मुज स्ट्रेट (खाड़ी) से गुजरने वाले ब्रिटेन के जहाजों की सुरक्षा की जिम्मेदारी ब्रिटिश नौसेना को सौंपी गई है। ब्रिटेन सरकार ने यह कदम खाड़ी में ईरानी सैनिकों के ब्रिटिश जहाज को जब्त करने के कदम के बाद उठाया है।
  • इससे पहले चार जुलाई को ब्रिटिश नौसेना ने सीरिया जा रहे ईरानी तेल टैंकर को जिब्राल्टर के पास जब्त कर लिया था। उसके चालक दल के सदस्यों में ज्यादातर भारतीय हैं। ब्रिटिश अधिकारियों ने बंदी भारतीयों को स्वस्थ और सुरक्षित बताया है।
  • ब्रिटिश रक्षा मंत्रालय ने बयान जारी कर कहा है कि जिस भी जहाज पर ब्रिटेन का झंडा लगा होगा, नौसेना उन सभी को सुरक्षा देगी। यह बयान हफ्ते भर से ब्रिटिश झंडे वाले जहाज स्टेना इंपेरो को ईरान द्वारा रोके जाने के बाद आया है। जहाज पर सवार चालक दल के 23 सदस्य ईरान के कब्जे में हैं।
  • इस बीच फ्रांस ने कहा है कि वह खाड़ी में अतिरिक्त सुरक्षाबल नहीं भेजने जा रहा। लेकिन तैनात बल से मिलने वाली सूचनाओं को साझा करने में उसे कोई हर्ज नहीं है। स्टेना इंपेरो को रोकने से पहले ईरान ने अपने तेल टैंकर को जिब्राल्टर के पास रोके जाने पर ब्रिटेन को चेताया था। ब्रिटेन का युद्धपोत एचएमएस मॉन्ट्रॉस खाड़ी में सहायक सैन्य जहाजों के साथ मौजूद है। लेकिन स्टेना इंपेरो को ईरान के कब्जे में जाने से वह बचा नहीं पाया। दुनिया के सबसे व्यस्त जल मार्गों में शुमार इस खाड़ी में ब्रिटेन ने अपनी सुरक्षा को सर्वोच्च स्तर पर पहुंचा दिया है और जहाजों को आगाह किया है कि वे ईरानी जल सीमा से दूर रहें।

सऊदी को हथियार बिक्री से रोकने वाले प्रस्तावों पर ट्रंप का वीटो

  • अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने सऊदी अरब को अरबों डॉलर के हथियार बेचने पर रोक लगाने के लिए संसद में पेश तीन प्रस्तावों पर वीटो लगा दिया। ट्रंप के इस कदम की संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा की स्पीकर नैंसी पेलोसी ने तीखी आलोचना की है।
  • ट्रंप ने अपने फैसले का बचाव करते हुए कहा, 'ये प्रस्ताव अमेरिका की वैश्विक प्रतिस्पर्धा को कमजोर करेगा और हमारे सहयोगियों और साझीदारों के साथ महत्वपूर्ण संबंधों को नुकसान पहुंचाएगा।' उन्होंने यह भी कहा, 'सऊदी अरब में रह रहे 80 हजार से ज्यादा अमेरिकियों की रक्षा करना भी हमारा दायित्व बनता है। इन्हें यमन के हाउती विद्रोहियों से खतरा है।'
  • स्पीकर पेलोसी ने एक बयान में कहा, 'यह चकित करने वाला है कि राष्ट्रपति ने न सिर्फ पत्रकार जमाल खशोगी की जघन्य हत्या समेत सऊदी अरब के भयावह कृत्यों पर आंखे मूंद लेना पसंद किया है बल्कि उसे और ज्यादा हथियार बेचने की मंजूरी भी दे दी है। राष्ट्रपति के शर्मनाक वीटो ने संसद की इच्छा को कुचलने का काम किया है। संसद निगरानी करने की जिम्मेदारी का बखूबी निर्वहन करती रहेगी।'
  • सऊदी अरब को 810 करोड़ डॉलर (करीब 56 हजार करोड़ रुपये) के हथियार बेचने के सौदे पर प्रतिबंध लगाने वाले प्रस्ताव अमेरिकी संसद के निचले सदन प्रतिनिधि सभा में पेश किए गए थे। इन प्रस्तावों पर गत बुधवार को प्रतिनिधि सभा ने मुहर लगा दी थी। इस सदन में विपक्षी डेमोक्रेटिक पार्टी बहुमत में है।

उत्तर कोरिया ने छोटी दूरी की बैलेस्टिक मिसाइल की लॉन्च

  • दक्षिण कोरिया ने दावा किया है कि उत्तर कोरिया ने दो महीने की शांति के बाद एक बार फिर बैलेस्टिक मिसाइल का परीक्षण किया है। नए तरीके की दो शॉर्ट रेंज बैलेस्टिक मिसाइल को गुरुवार को समुद्र में दागा गया। पूर्वी सागर में गिरने से पहले मिसाइलों ने करीब 430 किलोमीटर और 690 किमी की दूरी तक उड़ान भरी। यह पुष्टि दक्षिण कोरिया के संयुक्त चीफ ऑफ स्टाफ ने की।
  • बताया जा रहा है कि वॉशिंगटन और प्योंगयांग के बीच जारी परमाणु निरस्त्रीकरण की वार्ता के दौरान दबाव बनाने के लिय उत्तर कोरिया ने यह परीक्षण किया है। अमेरिका और दक्षिण कोरिया के बीच अगले महीने होने वाले सैन्य अभ्यासों को लेकर चेतावनी दिए जाने के बाद यह कदम उठाया है। ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ ने दोनों मिसाइलों को शॉर्ट-रेंज बैलेस्टिक मिसाइल बताया, लेकिन इसके बारे में ज्यादा जानकारी नहीं दी।
  • गुरुवार को एक राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की बैठक के बाद दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति ब्लू हाउस ने कहा कि उत्तर कोरिया द्वारा लॉन्च की गई मिसाइल "एक नई तरह की छोटी दूरी की बैलिस्टिक मिसाइलों" थीं। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों द्वारा उत्तर कोरिया पर बैलिस्टिक तकनीक का उपयोग करके किसी भी प्रक्षेपण में शामिल होने पर प्रतिबंध लगाया गया है।
  • लिहाजा, उत्तर कोरिया को नए प्रक्षेपणों पर अंतर्राष्ट्रीय आलोचना का सामना कर सकता है। मगर, उत्तर कोरिया के लिए ऐसा होने की संभवना कम ही है क्योंकि उस पर संयुक्त राष्ट्र के 11 प्रतिबंध पहले से ही लगे हैं और नए दंडात्मक उपायों के तहत प्रतिबंध तभी लग सकता है, जब वह लंबी दूरी के बैलिस्टिक लॉन्च करे, न कि छोटी दूरी के बैलिस्टिक लॉन्च।
  • उत्तर कोरिया ने आखिरी बार 9 मई को छोटी दूरी की मिसाइलें दागी थीं, जिसे अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने काफी साधारण मिसाइलें करार दिया था। उन्होंने कहा था कि इससे उत्तर कोरिया नेता किम जोंग उन के साथ उनके रिश्ते प्रभावित नहीं होंगे। किम और ट्रंप असैन्यीकृत क्षेत्र में 30 जून को हुई बैठक में वार्ता फिर से शुरू करने पर सहमत हो गए थे।
  • इस बैठक के बाद अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो ने कहा था कि कार्यकारी स्तर की वार्ता जुलाई मध्य में शुरू होगी। हालांकि, पिछले सप्ताह उत्तर कोरिया ने सैन्य अभ्यासों को लेकर चेतावनी दी थी। ये सैन्य अभ्यास कुछ वर्षों से बंद थे और परमाणु संपन्न देश के साथ तनाव कम करने के लिए इन अभ्यासों को रोक दिया गया था।

:: राजव्यवस्था एवं महत्वपूर्ण विधेयक ::

बच्चों के यौन शोषण के मामलों की सुनवाई के लिए विशेष अदालतों की स्थापना

  • शीर्ष अदालत ने गुरुवार को बच्चों के यौन शोषण से जुड़े मामलों की सुनवाई के लिए हर जिले में विशेष अदालतों की स्थापना करने के निर्देश दिए। सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इन अदालतों के लिए फंडिंग का जिम्मा केंद्र का रहेगा। यहां केवल बच्चों से जुड़े यौन अपराध मामलों की सुनवाई होगी। अदालत ने केंद्र को निर्देश दिए कि 60 दिनों के भीतर इन विशेष अदालतों का गठन किया जाए।
  • सुप्रीम कोर्ट ने कहा- ऐसे जिलों में विशेष अदालतों की स्थापना की जाए, जहां पॉक्सो के तहत दर्ज केसों की संख्या 100 से ज्यादा है। 30 दिनों में केंद्र को यह बताना होगा कि इन अदालतों की स्थापना और वहां के अभियोक्ताओं की नियुक्ति को लेकर उसकी क्या योजना होगी?
  • शीर्ष अदालत ने कहा- केंद्र यह सुनिश्चित करे कि बच्चों के यौन शोषण के मामलों की सुनवाई के लिए संवेदनशील वकीलों की नियुक्ति हो। प्रोटेक्शन ऑफ चिल्ड्रन फ्रॉम सेक्सुअल ऑफेंसेस एक्ट (पॉक्सो) के तहत दर्ज मामलों में राज्य के मुख्य सचिव यह निश्चित करें कि फॉरेंसिक रिपोर्ट समय से फाइल हो।

उच्चतम न्यायालय की रजिस्ट्री

  • प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई ने अविलंब सुनवाई के मुकदमों के सूचीबद्ध नहीं होने पर उच्चतम न्यायालय की रजिस्ट्री की कार्यशैली पर नाराजगी व्यक्त करते हुये बृहस्पतिवार को कहा कि शीर्ष अदालत की रजिस्ट्री में ‘बुनियादी रूप से कुछ गड़बड़ी है।’’ प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता और न्यायमूर्ति अनिरूद्ध बोस की तीन सदस्यीय पीठ ने कहा कि रोजाना ऐसे वकीलों की लंबी कतार लगी होती है जो चाहते हैं कि उनका मामला सुनवाई के लिये शीघ्र सूचीबद्ध किया जाये क्योंकि न्यायालय के आदेश के बावजूद उसे कार्यसूची से हटा दिया गया है।
  • न्यायमूर्ति गोगोई तीन अकटूबर, 2018 को देश के 46वें प्रधान न्यायाधीश का कार्यभार ग्रहण करने के दिन से ऐसी व्यवस्था करने का प्रयास कर रहे हैं जिससे कि वकीलों को शीघ्र सुनवाई के लिये अपने मामले का उल्लेख नहीं करना पड़े और उनके मुकदमे एक निश्चित अवधि के भीतर स्वत: ही सूचीबद्ध हो जायें।
  • पीठ ने इसके बाद इस तथ्य का उल्लेख किया कि उच्च न्यायालय में एक सप्ताह में करीब छह हजार नये मामले दायरे होते हैं जबकि उच्चतम न्यायालय में इस अवधि में करीब एक हजार मामले दायर होते हैं लेकिन इसके बाद भी शीर्ष अदालत की रजिस्ट्री प्रभावी तरीके से इनका निबटारा करने में असमर्थ है। पीठ ने कहा कि उच्च न्यायालयों की तुलना में उच्चतम न्यायालय में मुकदमों के सूचीबद्ध होने में ज्यादा वक्त लगता है। पीठ ने कहा कि उच्च न्यायालय के न्यायाधीश को शीर्ष अदालत के न्यायाधीश की तुलना में कहीं अधिक मुकदमों पर विचार करना होगा।

:: आर्थिक समाचार ::

महिला उद्यमियों की मदद के लिए साथ आए वाट्सएप और नीति आयोग

  • देश में महिला उद्यमियों को बढ़ावा देने के लिए एक मजबूत परितंत्र के विकास के मकसद से लोकप्रिय मैसेजिंग एप कंपनी वाट्सएप ने गुरुवार को नीति आयोग के साथ एक साझेदारी की। वाट्सएप सरकारी थिंक टैंक नीति आयोग के साथ मिलकर महिला उद्यमियों की क्षमता बढ़ाने के लिए साल भर कार्यक्रम चलाएगी। इसके साथ ही कंपनी महिला उद्यमियों के सामने आने वाली चुनौतियों का समाधान करने के लिए विशेष कार्यक्रमों का भी विकास करेगी।
  • नीति आयोग के ‘वुमन ट्रांसफॉर्मिग इंडिया’ (डब्ल्यूटीआइ) पुरस्कार-2019 की विजेताओं को वाट्सएप एक लाख डॉलर (करीब 69 लाख रुपये) की सहायता भी देगी।
  • डब्ल्यूटीआइ पुरस्कार का आयोजन नीति आयोग और संयुक्त राष्ट्र संयुक्त तौर पर करते हैं। इसमें कारोबार, उद्यमिता और सामाजिक चुनौतियों के समाधान की पहल के क्षेत्र में विशेष उपलब्धि हासिल करने वाली महिलाओं को सम्मानित किया जाता है। नीति आयोग के सीईओ अमिताभ कांत ने कहा कि भारत ऐसे देशों में शामिल है, जहां स्टार्ट-अप का ईकोसिस्टम सर्वाधिक जीवंत है। अगला बड़ा बदलाव महिला उद्यमियों की ओर से आने वाला है। इसमें डिजिटल माध्यम सबसे बड़ी भूमिका निभाएगी।

जीएसटी काउंसिल की 36वीं बैठक

  • जीएसटी काउंसिल की गुरुवार को होने वाली बैठक टल गई है। अब इस बैठक की अगली तारीख की घोषणा बाद में होगी। संसद में चल रहे बजट सत्र में वित्त मंत्री को राज्य सभा में आईबीसी बिल पर चर्चा के लिए शामिल होना था, जिसकी वजह से इस बैठक को टाला गया है।
  • यह वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की अध्यक्षता में जीएसटी काउंसिल की 36वीं बैठक होगी। इस बैठक में इलेक्ट्रिकल व्हीकल पर टैक्स सहित कई अहम फैसले लिए जाने हैं। अधिकारियों ने बताया कि परिषद की 36वीं बैठक में सौर ऊर्जा उत्पादक प्रणालियों एवं विंड टर्बाइन परियोजनाओं पर जीएसटी लगाए जाने के बाबत उनमें वस्तुओं और सेवाओं के मूल्यांकन के विषय में भी फैसला किया जाएगा। इसके अतिरिक्त आम लोगों के लिए भी फैसले लिए जा सकते हैं।
  • परिषद में राज्यों के वित्त मंत्री सदस्य हैं। इसकी यह बैठक विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए होगी। परिषद ने पिछले महीने आयोजित अपनी बैठक में इलेक्ट्रिक वाहनों, इलेक्ट्रिक चार्जरों एवं ई-वाहन किराये पर लेने पर जीएसटी लगाने से जुड़े मुद्दे को अधिकारियों की समिति को भेज दिया था।
  • ई-वाहनों के घरेलू स्तर पर विनिर्माण को बढ़ावा देने को केंद्र ने जीएसटी की दर को 12 फीसदी से घटाकर पांच फीसदी करने की सिफारिश की है। पेट्रोल और डीजल कारों एवं हाइब्रिड वाहनों पर जीएसटी की दर पहले से 28 फीसदी पर है। साथ ही इन पर उपकर भी लिया जाता है।

हैसब्रो इंक-दुनिया की सबसे बड़ी खिलौना कंपनी

  • अमेरिका और चीन के बीच चल रहे ट्रेड वार के बीच एक और दिग्गज कंपनी चीन से रुखसत होने की तैयारी कर रही है। दुनिया की सबसे बड़ी खिलौना कंपनी हैसब्रो इंक चीन को जल्द ही अलविदा कहने की तैयारी में है। यह दिग्गज अमेरिकी कंपनी भारत और वियतनाम में नए उत्पादन संयंत्रों पर फोकस कर रही है। कंपनी के पास फ्रोजन और एवेंजर्स जैसे मशहूर ब्रांड्स का लाइसेंस है। हैसब्रो के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) ब्रायन गोल्डनर ने दूसरी तिमाही के नतीजे जाहिर करने के बाद एक कांफ्रेंस कॉल में इस बात की जानकारी दी।
  • गोल्डनर ने कहा कि चीन में अमेरिकी कंपनियों का उत्पादन अगले साल के अंत तक घटकर 50 फीसद पर आ सकता है। वहां अमेरिकी कंपनियां पहले ही उत्पादन घटाकर दो-तिहाई (66 फीसद) से कम पर ले आई हैं। उन्होंने कहा, 'हम उत्पादन के लिए दुनियाभर के नए बाजारों की ओर कदम बढ़ा रहे हैं। इसलिए हम नए बाजारों में प्रवेश कर खुशी का अनुभव कर रहे हैं।' हालांकि चीन और अमेरिका के बीच ट्रेड वार पर इस महीने के आखिर में नए सिरे से बातचीत होने की संभावना है। लेकिन पिछले कुछ महीनों के दौरान कई कंपनियों ने चीन में उत्पादन पर निर्भरता कम करने की योजना बना ली है।
  • ट्रेड वार पर कोई नतीजा नहीं निकलता देखते हुए इंटेल कॉर्प जैसी बड़ी कंपनियां चीन में अपने उत्पादन की समीक्षा कर रही हैं। चीन दशकों से दुनियाभर की कंपनियों के लिए उत्पादन का प्रमुख स्रोत रहा है। लेकिन अब यह गणित बदलता दिख रहा है। हालांकि गोल्डनर ने माना कि चीन में अभी भी कम कीमत में उच्च गुणवत्ता वाले उत्पादों के निर्माण की क्षमता है। वह किसी न किसी रूप में कंपनी के दुनियाभर के नेटवर्क के लिए प्रमुख बाजार रहने वाला है। लेकिन ट्रेड वार की चिंता के बीच उसे पहले ही कारोबारी दिक्कतों का सामना करना पड़ा है।

वित्त मंत्रालय विदेशों से जारी किए जाने वाले सरकारी बॉन्ड पर करे अध्ययन: पीएमओ

  • नई दिल्ली कई विशेषज्ञों द्वारा चिंता जताए जाने को देखते हुए प्रधानमंत्री कार्यालय (PMO) ने वित्त मंत्रालय से कहा है कि वह विदेशों में जारी किए जाने वाले सरकारी बॉन्ड पर एक विस्तृत अध्ययन करे। सूत्रों ने जानकारी दी कि प्रधानमंत्री कार्यालय ने वित्त मंत्रालय से इसे लेकर भारतीय रिजर्व बैंक के पूर्व गवर्नरों और डिप्टी गवर्नरों द्वारा जतायी गई चिंता का विश्लेषण करने के लिए कहा है।
  • सूत्रों ने बताया कि विस्तृत अध्ययन के बाद ही इस विषय पर कोई फैसला किया जाएगा। उल्लेखनीय है कि वित्त वर्ष 2019-20 के बजट में वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने घोषणा की थी कि सरकार अपने कर्ज का एक हिस्सा विदेशी मुद्रा में सरकारी बॉन्ड विदेशी बाजारों में जारी कर जुटाएगी। इसका कई अर्थशास्त्रियों, विशेषज्ञों और यहां तक कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की आर्थिक शाखा स्वदेशी जागरण मंच ने भी विरोध किया है।

बाजार पूंजीकरण के लिहाज से टीसीएस फिर पहले स्थान पर

  • टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) बृहस्पतिवार को बाजार पूंजीकरण के लिहाज से रिलायंस इंडस्ट्रीज को पीछे छोड़ते हुए फिर से पहले पायदान पर आ गयी।
  • बंबई शेयर बाजार में कारोबार समाप्त होने पर टीसीएस का बाजार पूंजीकरण 7,98,620.04 करोड़ रुपये रहा। यह रिलायंस इंडस्ट्रीज के 7,81,164.46 करोड़ रुपये के मुकाबले 17,455.58 करोड़ रुपये अधिक है।टीसीएस का शेयर 1.51 प्रतिशत बढ़कर 2,128.30 रुपये पर पहुंच गया।
  • वहीं आरआईएल का शेयर 2.11 प्रतिशत घटकर 1,232.30 रुपये पर आ गया।टीसीएस और आरआईएल के अलावा शीर्ष पांच मूल्यवान कंपनियां एचडीएफसी बैंक (6,24,666.23 करेड़ रुपये), एचडीएफसी (3,78,824.35 करोड़ रुपये) तथा एचयूएल (3,75,809.46 करोड़ रुपये) हैं।शेयर भाव में बदलाव के साथ कंपनियों का बाजार पूंजीकरण भी बदलता है।

:: पर्यावरण और पारिस्थितिकी ::

हिम तेंदुए

  • ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क में स्नो लैपर्ड यानी हिम तेंदुए संरक्षित हो रहे हैं। पार्क में पिछले माह लगाए गए सीसीटीवी कैमरों में इसकी हलचल कैद हुई है। हालांकि अभी विभाग ने एक ही क्षेत्र के कैमरों को खंगाला है और उसमें हिम तेंदुआ दिखा है।
  • ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क में अरसे से हिम तेंदुए की मौजूदगी के सुबूत मिल रहे थे। इस बात को पुख्ता करने के लिए वन विभाग ने नेचर कंजरवेशन फाउंडेशन के साथ मिलकर 50 सीसीटीवी कैमरे पार्क के अलग-अलग क्षेत्रों में लगाए थे। जुलाई के पहले सप्ताह में तीर्थन वैली में लगाए गए कुछ कैमरों की जांच की गई तो उसमें हिम तेंदुए की हलचल कैद हुई। इसके बाद वाइल्ड लाइफ विग अब अन्य जगहों पर लगाए गए कैमरों की जांच भी करेगा। तीर्थन घाटी सहित सैंज, जीवानाग, खीर गंगा आदि क्षेत्रों में यह सीसीटीवी कैमरे लगाए हैं।

हिम तेंदुआ के बारे में

  • हिम तेंदुए 3500 से 4000 मीटर की ऊंचाई पर रहते हैं पर कई बार बर्फबारी के दौरान निचले क्षेत्रों में भी आ जाते हैं। जिस क्षेत्र में हिम तेंदुआ सीसीटीवी कैमरे में दिखा है वह 3000 मीटर के आसपास की ऊंचाई का बताया जा रहा है। विभाग सभी फुटेज खंगालने के बाद यह जांच करेगी कि यह एक ही हिम तेंदुआ है या अलग-अलग हैं। इससे विभाग के पास यह जानकारी इकट्ठी होगी कि इस क्षेत्र में कितने हिम तेंदुए हैं।
  • हिम तेंदुआ लाहुल-स्पीति जिला की स्पीति घाटी में पाया जाता है। यहां इनकी संख्या 15 से 20 तक आंकी गई है। एक विशेष प्रोजेक्ट के तहत इन पर निगरानी रखी जा रही है। भारत के अलावा यह जम्मू-कश्मीर, अफगानिस्तान, पाकिस्तान के ऊंचाई वालों क्षेत्रों में मिलता है।

:: विविध ::

आईएनएस तरकश

  • रूस और भारत के बीच 'विशेष और विशेषाधिकार प्राप्त सामरिक साझेदारी' को मान्यता देने और दोनों देशों के बीच मजबूत संबंधों के लिए, भारतीय नौसेना का जहाज तरकश 25 जुलाई, 2019 को रूसी नौसेना दिवस परेड में भाग लेने के लिए रूस के सेंट पीटर्सबर्ग पहुंचा। स्वागत समारोह के हिस्से के रूप में रूसी नौसेना बैंड के लाइव प्रदर्शन सहित रूसी नौसेना के अधिकारियों द्वारा जहाज का बंदरगाह पर स्वागत किया गया।
  • कैप्टन सतीश वासुदेव के कमान वाला आईएनएस तरकश रूस के कैलिनिनग्राद में यानटार शिपयार्ड द्वारा निर्मित अत्याधुनिक टीईजी श्रेणी के युद्धक जहाजों (पी1135.6) में शामिल है। अनेक हथियारों और सेंसरों से सुसज्ज्ति इस जहाज पर 30 अधिकारियों सहित कम से कम 250 कार्मिकों से बने चालक दल के लिए इसमें जगह मौजूद है। इसमें छोटे आकार के राडार, इन्फ्रारेड, एकॉस्टिक और मेग्नेटिक सिग्नेचरों जैसी अत्याधुनिक युद्धक विशेषताएं शामिल हैं, जिनके परिणामस्वरूप दुश्मनों द्वारा समुद्र में इसका पता लगाना मुश्किल होता है।

:: प्रिलिमिस बूस्टर ::

  • भारतीय नौ-सेना का कौन सा जहाज रूसी नौसेना दिवस परेड में सम्मिलित होगा? (आई एन एस तरकस)
  • हाल ही में किस राष्ट्रीय उद्यान में हिम तेंदुए की गतिविधियां दर्ज हुई है? (ग्रेट हिमालयन नेशनल पार्क)
  • बाजार पूंजीकरण के लिहाज से कौन सी भारतीय कंपनी शीर्ष स्थान पर काबिज है? (टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज -टीसीएस)
  • देश में महिला उद्यमियों को बढ़ावा देने के लिए नीति आयोग ने किस संस्था के साथ साझेदारी की है? (व्हाट्सएप)
  • ‘वुमन ट्रांसफॉर्मिग इंडिया’ (डब्ल्यूटीआइ) पुरस्कार का आयोजन किन संस्थाओं के द्वारा किया जाता है? (नीति आयोग और संयुक्त राष्ट्र)
  • हाल ही में उच्चतम न्यायालय द्वारा बच्चों के यौन शोषण से जुड़े मामलों की त्वरित सुनवाई के लिए विशेष अदालतों की स्थापना हेतु निर्देश दिए हैं। किसी भी जिले में ऐसे विशेष अदालतों की स्थापना हेतु पॉक्सो के तहत दर्ज न्यूनतम केसों की संख्या कितनी होनी चाहिए? (100 से ज्यादा)
  • हाल ही में जल संरक्षण की दिशा में चर्चा में आई ‘जल चौपालें’ किससे संबंधित है? (बुंदेलखंड)

स्रोत साभार: Dainik Jagran (Rashtriya Sanskaran), Dainik Bhaskar (Rashtriya Sanskaran), Rashtriya Sahara (Rashtriya Sanskaran) Hindustan Dainik (Delhi), Nai Duniya, Hindustan Times, The Hindu, BBC Portal, The Economic Times (Hindi & English), PTI, PIB

<< मुख्य पृष्ठ पर वापस जाने के लिये यहां क्लिक करें