(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (25 अगस्त 2019)

दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर


(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (25 अगस्त 2019)


:: राष्ट्रीय समाचार ::

'ग्रुप ऑफ गवर्नर्स' (GoG)

  • महत्वाकांक्षी योजनाओं को मूर्त रूप देने का खाका तैयार करने कड़ी में केंद्र सरकार ने अब एक और अहम फैसला लिया है। इस फैसले के तहत मोदी सरकार की महत्वपूर्ण योजना कों पूरा करने के लिए विशेष टास्क फोर्स (Task Force) गठित करने का फैसला लिया गया है।
  • इस टास्क फोर्स की जिम्मेदारी होगी कि वह केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं को मूर्त रूप देने का खाका तैयार करे। इस टास्क फोर्स में राज्यपालों को शामिल किया गया है। इसे नाम दिया गया है 'ग्रुप ऑफ गवर्नर्स' (GoG)। केंद्र सरकार के अनुसार इस गठन 'ग्रुप ऑफ मिनिस्टर्स' (GoM) की तर्ज पर किया गया है। GoM की तर्ज पर बनाए गए GoG छह राज्य के राज्यपालों को शामिल किया गया है।
  • ग्रुप ऑफ गवर्नर्स (GoG), केंद्र सरकार की शिक्षा व जलशक्ति संबंधी योजनाओं से लेकर किसान और आदिवासियों से जुड़ी विभिन्न सरकारी योजनाओं पर काम करेगी। GoG इन योजनाओं पर मंथन कर अपनी रिपोर्ट भी तैयार करेगी। रिपोर्ट की सिफारिशों को इस साल नवंबर में होने वाले राज्‍यपालों के सालाना सम्‍मेलन में विचार विमर्श के लिए रखा जाएगा।
  • तेलंगाना के गवर्नर ईएसएल नरसिम्‍हन को जीओजी का संयोजक बनाया गया है। उनके साथ पांच अन्‍य राज्‍यों के राज्‍यपाल भी इस ग्रुप में बतौर सदस्‍य शामिल हैं। जीओजी की पहली बैठक अगले हफ्ते हो सकती है। सूत्रों के अनुसार, जीओजी में शामिल तमिलनाडु के राज्‍यपाल बनवारीलाल पुरोहित, जलशक्ति के विषय पर विचार करेंगे। मालूम हो कि मोदी सरकार-2 में जल संरक्षण और पेयजल आपूर्ति पर विशेष फोकस है।

देश का पहला डेफ स्टार्टअप

  • मूक-बधिरों को टेक्निकल एजुकेशन देने के लिए दो बधिरों ने मिलकर एक एकेडमी बनाई है। डिजिटल आर्ट्स एकेडमी फॉर डेफ (डीएएडी) नाम से रजिस्टर यह कंपनी देश का पहला बधिर लोगों का स्टार्टअप है।
  • डीएएडी की फाउंडर रेम्या राज और सुलू नौशाद ने इसी महीने कोच्चि में हुई वुमन स्टार्टअप समिट में भाग लिया। जहां इंटरप्रेटर की मदद से दोनों ने साइन लैंग्वेज में अपना प्रेजेंटेशन भी दिया। रेम्या के मुताबिक उनकी कंपनी आईटी से जुड़े विषयों पर वेबसाइट और एप के जरिए वीडियो क्लासेस चलाती हैं। ये सभी वीडियो क्लासेस इंडियन साइन लैंग्वेज में होती हैं। कोर्स 12वीं पास स्टूडेंट्स कर सकते हैं। ज्यादातर कोर्स जॉब ओरिएंटेड हैं। वह एनिमेशन और डिजाइनिंग के कोर्स के लिए अडोबी कंपनी से भी बात कर रही हैं। रेम्या के मुताबिक देश में 1.8 करोड़ बधिरों के लिए सिर्फ 250 सर्टिफाइड इंटरप्रेटर हैं।

उत्तर प्रदेश में DNA जांच की 2 बड़ी प्रयोगशालाएं

  • उल्लेखनीय है कि देश में फिलहाल गुजरात इकलौता ऐसा राज्य है, जहां की पुलिस के पास अपनी डीएनए और विधि-विज्ञान प्रयोगशाला (फॉरेंसिंक साइंस लैबोरेट्री) है। बनारस और आगरा में दो अलग-अलग डीएनए और फॉरेंसिंक साइंस प्रयोगशालाएं खुलने के साथ ही उत्तर प्रदेश देश का पहला दो डीएनए प्रयोगशाला वाला राज्य बन जाएगा।
  • राज्य सरकार ने पुलिस उत्थान के क्रम में ही सूबे में पहली बार पीएसी जैसे राज्य के मजबूत बल की तीन महिला बटालियन बनाने को मंजूरी दे दी है। मंजूरी क्या, समझिए यह काम भी अंतिम चरण में है।

:: अंतराष्ट्रीय समाचार ::

उत्तर कोरिया ने जापान सागर में दागे 2 अज्ञात प्रक्षेपास्त्र

  • उत्तर कोरिया ने जापान सागर में फिर 2 अज्ञात प्रक्षेपास्त्र दागे हैं। दक्षिण कोरया के जॉइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ ने एक बयान में कहा, ‘नए प्रक्षेपणों के संदर्भ में हमारी सेना उत्तर कोरिया की गतिविधियों पर नजर बनाए है।’ दक्षिण कोरिया के राष्ट्रपति भवन ब्लू हाउस ने कहा कि वह उत्तर कोरिया के हथियारों के परीक्षण के मद्देनजर राष्ट्रीय सुरक्षा परिषद की एक बैठक करेगा।
  • प्योंगयांग ने शुक्रवार को अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पॉम्पियो पर निशाना साधने के बाद यह प्रक्षेपण किया गया है। अमेरिकी राजनयिक ने कहा था कि उत्तर कोरिया के पूरी तरह परमाणु निरस्त्रीकरण करने तक अमेरिका उस पर कठिन प्रतिबंध जारी रखेगा। इसके बाद प्योंगयांग ने पॉम्पियो को बहुत जहरीला कहा था।
  • अमेरिका और दक्षिण कोरिया की सेना के संयुक्त अभियान के खिलाफ उत्तर कोरिया ने हालिया सप्ताह में कम दूरी की कई मिसाइलें दागी हैं। पिछले 3 महीने में अब तक उत्तर कोरिया 7 बार प्रक्षेपण कर चुका है। इससे पहले 16 अगस्त को भी किम जोंग-उन की निगरानी में 2 मिसाइलों का प्रक्षेपण किया गया था। हालांकि, अमेरिका ने उत्तर कोरिया के मिसाइल प्रक्षेपण को सामान्य प्रक्रिया का ही हिस्सा बताया।
    ट्रेड वार पर डोनाल्ड ट्रंप और यूरोपीय यूनियन में बहस
  • विकसित देशों के संगठन जी-7 की बैठक में भाग लेने आए अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और यूरोपीय यूनियन (ईयू) के नेताओं के बीच ट्रेड वार के खतरों को लेकर बहस छिड़ गई। ईयू कांउसिल के प्रमुख डोनाल्ड टस्क ने कहा कि ट्रेड वार के चलते मंदी गहराएगी, जबकि सुलह हो जाने से दुनियाभर की इकोनॉमी को मजबूती मिलेगी।
  • बैठक में भाग लेने से पहले ही ट्रंप ने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों को धमकी देने के अंदाज में कहा था कि अगर वे यूएस की टेक्नोलॉजी कंपनियों पर लगाये गये टैक्स को वापस नहीं लेते हैं तो अमेरिका फ्रेंच वाइन पर आयात शुल्क लगा देगा। जवाब में टस्क ने भी कहा कि ईयू अपने सबसे अच्छे व्यापारिक साझीदार के साथ निपटने के लिए तैयार है। ईयू ने इस संघर्ष की शुरुआत नहीं की है, लेकिन वह इससे निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है।
  • वाशिंगटन, प्रेट्र। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने चीन के उत्पादों पर नए सिरे से शुल्क लगाने की घोषणा कर दी है। व्हाइट हाउस की ओर से जारी एक वक्तव्य में ट्रंप ने कहा कि अक्टूबर से 250 अरब डॉलर की चीनी वस्तुओं पर 30 परसेंट का शुल्क लगाया जाएगा। उधर, अमेरिका और चीन के बीच गहराते ट्रेड वार के बीच अमेरिकी शेयर बाजार डाऊ जोंस इंडस्टियल एवरेज 600 अंक यानी 2.4 परसेंट नीचे लुढ़क गया।

प्रधानमंत्री मोदी का बहरीन और यूएई दौरा

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को यूएई दौरा पूरा करने के बाद बहरीन के मनामा पहुंचने। वे बहरीन जाने वाले देश के पहले प्रधानमंत्री हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बहरीन में मौजूद खाड़ी के सबसे पुराने श्रीनाथजी हिंदू मंदिर के पुनर्निर्माण कार्यों को भी देखेंगे।
  • इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी को अबु धाबी के क्राउन प्रिंस शेख मोहम्मद बिन जाएद अल नाह्यं ने शनिवार को संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) के सर्वोच्च सम्मान ‘ऑर्डर ऑफ जाएद’ से सम्मानित किया। मोदी को ‘ऑर्डर ऑफ जाएद’ से भी नवाजे जाने की घोषणा इस साल अप्रैल में हुई थी। इसका मकसद भारत और यूएई के बीच द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूती देना है। यह सम्मान दुबई के संस्थापक शेख जाएद बिन सुल्तान अल नाह्यां के नाम पर रखा गया है।
  • मोदी ने यूएई में रूपे कार्ड भी जारी कर दिया। उन्होंने यहां व्यापारी वर्ग से मुलाकात की और उनसे भारत में निवेश करने का आग्रह किया। मध्य पूर्व में संयुक्त अरब अमीरात पहला ऐसा देश है, जहां रूपे कार्ड की शुरुआत की गई। यूएई में अगले हफ्ते से प्रमुख दुकानों या मॉलों में इसे स्वीकार किया जाएगा।

:: भारतीय राजव्यवस्था और महत्वपूर्ण विधेयक ::

संपत्ति उत्तराधिकार कानून में लिंग भेद पर याचिका

  • संपत्ति उत्तराधिकार अधिनियम में लिंग आधारित भेदभाव पर पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने केंद्र सरकार को नोटिस जारी कर जवाब तलब कर लिया है। नेशनल लॉ स्कूल के छात्र दक्ष कादियान ने एडवोकेट सार्थक गुप्ता के माध्यम से याचिका दाखिल करते हुए हिंदू उत्तराधिकार अधिनियम के प्रावधान को चुनौती दी है।
  • जनहित याचिका के माध्यम से याची ने बताया कि प्रावधान के अनुसार अगर घर के मुखिया की मौत हो जाती है और उसने कोई वसीयत नहीं छोड़ी है तो उत्तराधिकारियों को तीन श्रेणी में बांटा गया है।
  • पहली श्रेणी के उत्तराधिकारियों को प्राथमिकता दी जाती है जिसमें बेटा, बेटी, पोता- पोती आदि शामिल हैं। यदि पहली श्रेणी के उत्तराधिकारी मौजूद नहीं होते हैं तो दूसरी श्रेणी को मौका दिया जाता है। इसमें पुरुष रिश्तेदार को ही प्राथमिकता दी जाती है। यानी बुआ के स्थान पर चाचा को प्राथमिकता मिलती है।
  • वहीं, तीसरी श्रेणी की बात करें तो बेटे की बेटी का बेटा या बेटे की बेटी की बेटी में से वरीयता देने की बात आती है तो इनमें से महिला को प्राथमिकता मिलती है। ऐसे में बेटे की बेटी की बेटी पूरी प्रापर्टी की हकदार होगी जबकि लड़के का हक नहीं होगा। याची ने कहा कि इस प्रकार लिंग के आधार पर भेदभाव करना सीधे तौर पर सांविधानिक प्रावधानों के खिलाफ है।
  • साथ ही याची ने बताया कि जब करीबी रिश्तेदारों में प्रॉपर्टी के बंटवारे की बात आती है तो वहां पुरुष रिश्तेदारों को ही प्राथमिकता दी जाती है और महिलाओं से भेदभाव। वहीं कुछ मामले में इससे उलट हैं। ऐसे में प्रावधान ऐसा हो जो लिंग के आधार पर भेदभाव को समाप्त करने वाला हो। हाईकोर्ट ने याची का पक्ष सुनने के बाद केंद्र सरकार को नोटिस जारी करते हुए जवाब तलब किया है।

:: आर्थिक समाचार ::

चालू वित्त वर्ष में करीब सात परसेंट ग्रोथ रेट की उम्मीद

  • आरबीआइ गवर्नर शशिकांत दास ने कहा है कि आने वाले पांच वर्षो में देश की इकोनॉमी को पांच लाख करोड़ डॉलर तक पहुंचाने बैंक उद्योगों को छूट देना जारी रखेगा। दास ने कहा कि बीती तिमाही में दर्ज की गई जीडीपी की सुस्ती अस्थाई है और वित्त वर्ष के अंत तक इकोनॉमी इससे उबरकर सात परसेंट के करीब ग्रोथ रेट दर्ज करेगी।
  • आरबीआइ गवर्नर सिंगापुर में भारतीय बिजनेस कम्युनिटी से बातचीत कर रहे थे। उन्होंने कहा कि जैसे-जैसे फाइनेंशियल सेक्टर में सुधार होगा, मांग में तेजी आएगी। कंपनियों की बैलेंस शीट सुधरेगी और इसका सकारात्मक असर इकोनॉमी पर पड़ेगा। उनके मुताबिक मांग में तेजी लाना इस समय रिजर्व बैंक और सरकार दोनों की प्राथमिकता है।
  • दास ने कहा कि कुछ ढांचागत सुधारों की जरूरत है और मुङो खुशी है कि इसपर काम किया जा रहा है। इस वित्त वर्ष के बाकी बचे समय में सरकार सार्वजनिक खर्च बढ़ाएगी, जिससे इकोनॉमी में सुधार आएगा। दास ने भारत की अर्थव्यवस्था में घरेलू बचत के महत्व को रेखांकित करते हुए कहा कि वित्त वर्ष 2017-18 में घरेलू बचत जीडीपी का 17.2 परसेंट रही, जबकि शुद्ध वित्तीय बचत की हिस्सेदारी सिर्फ 6.6 परसेंट थी।
  • रिजर्व बैंक द्वारा रेपो रेट कम करने पर उनका कहना था कि हमने सुनिश्चत किया कि उपभोक्ताओं को जल्द से जल्द रेट कट का लाभ मिल सके। इसके लिए हम लगातार बैंकों के साथ संपर्क में हैं। दास ने बताया कि एनबीएफसी अच्छा प्रदर्शन भले ही ना कर रहे हों, लेकिन दूसरे सेक्टरों की बैलेंस शीट अच्छी है और उनका प्रदर्शन भी बेहतर है। एनबीएफसी में सुधार के लिए हम लगातार प्रयास कर रहे हैं और इसका परिणाम जल्द ही सामने आएगा।

वाणिज्य विभाग द्वारा आरसीईपी पर हितधारक परामर्श वार्ता

  • पिछले छह वर्षों में क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी (आरसीईपी) पर भारत सरकार के वाणिज्‍य विभाग और अन्‍य प्रमुख मंत्रालयों एवं विभागों के द्वारा 100 से अधिक हितधारक परामर्शों का आयोजन किया गया है। इन आयोजनों का उद्देश्‍य कृषि, रसायन, पेट्रोकेमिकल, फार्मास्यूटिकल्स, प्लास्टिक, कपड़ा, लौह और गैर-लौह धातु, ऑटोमोबाइल और मशीनरी सहित अर्थव्यवस्था के व्‍यापक क्षेत्रों में भारतीय हितों पर उद्योग जगत से महत्‍वपूर्ण परामर्श और जानकारी प्राप्‍त करना है।
  • वाणिज्य विभाग ने स्‍वच्‍छता और पादपस्‍वच्‍छता, व्‍यापार में तकनीकी अवरोध, प्रतिपादन, प्रतिकारी शुल्‍क, सुरक्षा उपाय और बौद्धिक संपदा अधिकारों के साथ-साथ उत्‍पति के नियमां के क्षेत्रों में भी उद्योग जगत से प्रतिक्रियाएं प्राप्‍त की हैं। हाल के दिनों में वाणिज्य और उद्योग एवं रेल मंत्री पीयूष गोयल के मार्गदर्शन में हितधारकों के साथ व्यापक परामर्श वार्तालापों का आयोजन फिक्की, पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री, सीआईआई, एसोचैम और डीजीटीआर के द्वारा किया गया था।

पृष्ठभूमि:

  • आरसीईपी वार्ता नवंबर 2012 में कंबोडिया में शुरू हुई थी। आरसीईपी वार्ता विभिन्न स्तरों पर आयोजित की जाती है। भारत के प्रधानमंत्री, आरसीईपी शिखर सम्मेलनों में भाग लेते हैं, जबकि वाणिज्य और उद्योग मंत्री आरसीईपी मंत्रिस्तरीय बैठक में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व करते हैं और विशेषज्ञ स्तर पर वाणिज्य विभाग के वरिष्ठ अधिकारी व्यापार वार्ता समिति (टीएनसी) का नेतृत्व करते हैं।
  • आरसीईपी दक्षिण पूर्व एशियाई देशों के संगठन (आसियान) के 10 देशों (ब्रुनेई, कंबोडिया, इंडोनेशिया, लाओस, मलेशिया, म्यांमार, फिलीपींस, सिंगापुर, थाईलैंड, वियतनाम) के बीच एक प्रस्तावित मुक्त व्यापार समझौता है और इसके छह एफटीए साझेदार (चीन, जापान, भारत, दक्षिण कोरिया, ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड) हैं।
  • 2017 में, आरसीईपी सदस्य देशों की 3.4 बिलियन आबादी के साथ 49.5 ट्रिलियन अमरीकी डालर का सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी, पीपीपी) था, जो दुनिया की जीडीपी का लगभग 39 प्रतिशत है।
  • भारत सहित 16 देशों के बीच क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी (आरसीईपी) दुनिया का सबसे बड़ा आर्थिक समूह है, जो वैश्विक अर्थव्यवस्था का लगभग आधा हिस्सा है और अनुमान है कि 2050 तक आरसीईपी के सदस्य देशों का सकल घरेलू उत्‍पाद भारत और चीन के संयुक्त जीडीपी के साथ लगभग 250 ट्रिलियन अमरीकी डालर होने की संभावना है।

सरकार ने कुछ परिसंपत्तियों के हस्तांतरण पर देय कर पर बढ़ा हुआ अधिभार वापस लिया

  • सरकार ने पूंजी बाजार में निवेश को प्रोत्साहित करने के लिए वर्तमान वित्‍तीय वर्ष 2019-20 से आयकर अधिनियम ('अधिनियम') की धारा 111ए और धारा 112ए में उल्‍लेखित इक्विटी शेयर/यूनिट के हस्तांतरण से होने वाली आय की विशेष दर पर देय कर को देय वित्त (सं. 2) अधिनियम, 2019 द्वारा बढ़ाए गए अधिभार को वापस लेने का निर्णय लिया है। इस अधिनियम की धारा 111ए और धारा 112ए में निम्नलिखित पूंजीगत परिसंपत्तियों का उल्लेख किया गया है:
  1. एक कंपनी में इक्विटी शेयर;
  2. इक्विटी ओरिएंटेड फंड की इकाई; तथा
  3. एक बिजनेस ट्रस्ट की इकाई
  • डेरिवेटिव (भविष्य और विकल्प) को पूंजीगत संपत्ति के रूप में नहीं माना जाता है, इनके हस्तांतरण से होने वाली आय को व्यापार आय के तौर पर माना जाता है और यह कर की सामान्य दर के रूप में देय है। हालांकि, विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफपीआई) के मामले में, डेरिवेटिव को पूंजीगत संपत्ति के रूप में माना जाता है और इनके हस्तांतरण से होने वाले लाभ को पूंजीगत लाभ के रूप में देखा जाता है इसलिए अधिनियम की धारा 115एडी के प्रावधानों के अनुसार यह कर की एक विशेष दर के अधीन है। इसलिए, यह भी तय किया गया है कि एफपीआई द्वारा डेरिवेटिव (भविष्य और विकल्प) के हस्तांतरण से होने वाले लाभ पर देय कर, जो अधिनियम की धारा 115एडी के अंतर्गत कर की विशेष दर के लिए उत्तरदायी हैं, इस पर भी बढ़ाए गए अधिभार के लाभ से छूट दी जाएगी। ।
  • इसलिए, बढ़ाए गये अधिभार को एक कंपनी अथवा एक इक्विटी ओरिएंटेड फंड/बिजनेस ट्रस्‍ट की एक इक्विटी में शेयर के हस्तांतरण से होने वाले दीर्घकालिक और अल्पकालिक पूंजीगत लाभों पर घरेलू और विदेशी निवेशकों के द्वारा विशेष मूल्‍य के लिए देय कर को भी वापस लिया जा सकता है। हालांकि एफपीआई के अलावा एक कंपनी को डेरिवेटिव के हस्तांतरण से होने वाली व्‍यावसायिक आय के लिए सामान्‍य दर के लिए दिए जाने वाले कर पर बढ़ा हुआ अधिभार देय होगा।

:: विज्ञान और प्रौद्योगिकी ::

'लिटिल सन'

  • फ्रांस की दौरे पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और फ्रांसीसी राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों यहां तैयार हो रहे 'लिटिल सन' को देखने भी गए। इस अंतरराष्ट्रीय थर्मोन्यूक्लियर प्रायोगिक रिएक्टर पर हर जगह मेड इन इंडिया की छाप नजर आ रही है। दुनिया के सर्वश्रेष्ठ वैज्ञानिक मिलकर धरती पर ही एक छोटा सूर्य बनाने की कवायद में लगे हैं और अगर इसमें सफलता मिलती है तो दुनिया को असीमित उर्जा मिलेगी।
  • 20 अरब यूरो (लगभग 1.7 लाख करोड़ रुपये) की लागत वाले इस बड़े प्रोजेक्ट में भारत पूर्ण साझेदार है। इस प्रोजेक्ट को अंतरराष्ट्रीय थर्मोन्यूक्लियर प्रायोगिक रिएक्टर (आइटीईआर) प्रोजेक्ट या द पाथ नाम दिया गया है। इसके आधार को तैयार कर लिया गया है, जिसमें लगे सभी उपकरणों पर मेड इन इंडिया लिखा हुआ है। दुनिया के बेहतरीन वैज्ञानिक सूरज के संलयन ऊर्जा का अध्ययन करने के लिए पृथ्वी पर सूरज की प्रतिकृति तैयार करने के प्रयास में लगे हैं।
  • भारत ने इस प्रोजेक्ट के लिए 17,500 करोड़ रुपये दिए हैं। फ्रांस की यात्रा पर गए मोदी ने इस मेगा प्रोजेक्ट का निरीक्षण किया और वहां चल रहे कामकाज का अवलोकन भी किया।
  • भारत ने प्रोजेक्ट लागत का लगभग दस फीसद हिस्सा दिया है। उसे प्रोजेक्ट की पूरी तकनीकी जानकारी भी मिल रही है। 21वीं सदी के दुनिया के इस सबसे बड़े वैज्ञानिक प्रोजेक्ट में भारत को शामिल साझेदारी करने का मौका मिल रहा है। यह प्रोजेक्ट पृथ्वी का अब तक सबसे महंगा वैज्ञानिक प्रोजेक्ट है। आइटीईआर का वजन लगभग 28,000 टन होगा।

भारत ने दिया सबसे बड़ा रेफ्रिजरेटर

  • भारत ने इस प्रोजेक्ट के लिए दुनिया का सबसे बड़ा रेफ्रिजरेटर उपलब्ध कराया है। इस रेफ्रिजरेटर में ही यह विशेष रिएक्टर है। इस रेफ्रिजरेटर को गुजरात में लार्सन एंड टूब्रो द्वारा तैयार किया गया है और इसका वजन 3,800 टन है और इसकी ऊंचाई कुतुब मीनार की ऊंचाई के लगभग आधी है।
  • आइटीईआर के मुख्य वैज्ञानिक डॉ. टिम लूस का कहना है कि भारत मूल्यवान साझेदार है। भारत ने क्रायोस्टेट जैसे अहम उपकरण तैयार किए हैं, जो शायद दुनिया का सबसे बड़ा थर्मो बोतल है।

मिलेगी असिमीत उर्जा

  • फ्रांस के सुदूर क्षेत्र में स्थापित किए जा रहे इस रिएक्टर के निर्माण में सौ से ज्यादा भारतीय भी जुटे हुए हैं। असंभव को संभव करने की कोशिशों में जुटे वैज्ञानिक इस प्रयोग के जरिए सूरज के असल ऊर्जा के स्त्रोत का पता लगाने का प्रयास करेंगे। अगर वैज्ञानिक अपने इस प्रयोग में सफल होते हैं तो दुनिया को असीमित स्वच्छ ऊर्जा मिलेगी।
  • इस प्रोजेक्ट को अमेरिका, रूस, दक्षिण कोरिया, चीन, जापान, यूरोपीय संघ और भारत बराबर की साझेदारी के साथ संयुक्त रूप से तैयार कर रहे हैं। इस प्रोजेक्ट से जुड़े देशों की आबादी दुनिया की आधी आबादी और 85 फीसद जीडीपी के बराबर है।
  • आइटीईआर के वैज्ञानिक डॉ. मार्क हेंडरसन ने बताया कि उनके लिए अभी यह स्थान दुनिया का सबसे ठंडा स्थान है। लेकिन आने वाले दिनों में यह दुनिया का सबसे गर्म स्थान होने वाला है क्योंकि इसका तापमान 15 करोड़ डिग्र्री सेल्सियस हो जाएगा, जो सूरज के तापमान से भी दस गुणा ज्यादा है।

अंतरिक्ष पर्यटन की दौड़

  • आज से पचास साल पहले जब चंद्रमा पर पहली बार मनुष्य गया था, स्पेसएक्स के सीईओ एलन मस्क का जन्म भी नहीं हुआ था, ब्लू ओरिजिन के मालिक जेफ बेजोस सिर्फ पांच साल के बच्चे थे और वर्जिन गैलेक्टिक के रिचर्ड ब्रॉनसन किशोर थे। आज ये टेक उद्दमी अंतरिक्ष पर्यटन को वास्तविक बनाने के लिए किए जाने वाले प्रयासों का नेतृत्व कर रहे हैं। अंतरिक्ष पर्यटन की बात वास्तव में नई नहीं है, लेकिन अब यह हकीकत में तब्दील होने जा रही है।

इन तीन कंपनियों ने कर ली है तैयारी

  • ब्रॉनसन जिन्होंने दुनिया की पहली कामर्शियल ‘स्पेसलाइन’ के रूप में अपनी कंपनी वर्जिन गैलेक्टिक की स्थापना की थी, इस बारे में कुछ दशकों से बात कर रहे हैं। लेकिन बेजोस और मस्क के इस प्रतिस्पर्धा में शामिल होने से पहले कामर्शियल व्हीकल पर अंतरिक्ष जाने की वास्तविकता इतना करीब नहीं दिखती थी, जितनी की अब है। अगर आप अब भी सोचते हैं कि यह बहुत दूर का विचार है तो जरा इस बात पर गौर करें कि वर्जिन गैलेक्टिक ने 60 देशों के 600 लोगों की अपने एयरक्राफ्ट व्हाइटनाइट-2 और स्पेसक्राफ्ट स्पेसशिप-2 पर बुकिंग की हुई है।

वर्जिन गैलेक्टिक ने अपने स्पेस का किया था उद्घाटन

  • वर्जिन गैलेक्टिक ने मई में न्यू मेक्सिको में अपने स्पेस पोर्ट का भी उद्घाटन किया था। यह दुनिया का पहला कामर्शियल स्पेस पोर्ट है। जहां एक ओर वर्जिन गैलेक्टिक का कहना है कि वह अपने ग्राहकों को अपने यान के सबसे बाहरी केबिन में शून्य गुरुत्वाकर्षण में पृथ्वी को देखने की सुविधा देगी वहीं स्पेस एक्स ने पिछले साल घोषणा की थी कि जापान के अरबपति युसु मेजावा ने उसके बिग फॉल्कन रॉकेट में चंद्रमा की टिप के लिए बुकिंग कराई है। हालांकि, यह रॉकेट अभी विकसित किया जा रहा है।

अंतरिक्ष पर पर्यटन के लिए कैसे हो रही है तैयारी

  • पृथ्वी से 3,85,000 किलोमीटर दूर चंद्रमा पर मेजावा की यात्र 2023 से पहले होने की संभावना नहीं है। इन सबके बीच में जेफ बेजोस की कंपनी ब्लू ओरिजिन, जिसका उद्देश्य चंद्रमा और अन्य ग्रहों पर कालोनी बनाना है, वह अपने दो रॉकेट- न्यू शेपर्ड और न्यू ग्लेन तैयार कर रहा है। दुनिया के सबसे अमीर व्यक्ति बेजोस ने इस साल मई में अपने ब्लू मून लूनार लैंडर की घोषणा की थी। यह लैंडर चंद्रमा पर किसी व्यक्ति और कोई भी सामान ले जाने में सक्षम है। ब्लू ओरिजिन उन कंपनियों में से एक है जिसे नासा ने स्पेस टेक्नोलॉजी विकसित करने के लिए चुना था। यह कंपनी नासा के मिशन आर्टिमस के लिए भी सहायता मुहैया करा रही है।

चंद्रमा पर मानव मिशन है महत्वपूर्ण

  • अंतरिक्ष विज्ञानियों का कहना है कि भविष्य में गहरे अंतरिक्ष की यात्र करने के लिए चंद्रमा का मानव मिशन बहुत ही महत्वपूर्ण है। स्पेसएक्स, ब्लू ओरिजिन और वर्जिन गैलेक्टिक के साथ ही नासा का मानना है कि चंद्रमा आने वाले सालों में एक पड़ाव का काम करेगा। चंद्रमा से ठहरकर फिर आगे बड़े मिशन को अंजाम दिया जा सकेगा।

'बेबी माइंड एप

  • शोधकर्ताओं ने एक ऐसा स्मार्टफोन एप विकसित किया है, जिससे नए माता-पिता यह बेहतर तरीके से समझ सकेंगे कि उनका बच्चा क्या सोच रहा है और क्या महसूस कर रहा है। शोधकर्ताओं ने इस एप को 'बेबी माइंड' नाम दिया है।
  • यह एप माता-पिता को अपने बच्चे के दृष्टिकोण से सोचने और समझने की सुविधा देता है। इससे माता-पिता यह समझ सकेंगे कि प्रत्येक दिन उनके बच्चे के दिमाग में क्या चल रहा होता है। यह एप माता-पिता को उनके बच्चे के हो रहे मनोवैज्ञानिक विकास की सटीक जानकारी प्रदान करता है।
  • शोधकर्ताओं ने इस एप की उपयोगिता पर अध्ययन के लिए माताओं का एक समूह बनाया और उनसे बच्चे के जन्म के बाद से एप का इस्तेमाल करने को कहा गया। उन्होंने इस एप का इस्तेमाल बच्चे के पैदा होने से लेकर छह महीने तक किया। शोधकर्ताओं ने अपने बच्चों के साथ खेल रहे माता-पिता का बारीकी से अध्ययन किया और समझा कि वे अपने बच्चे की वे अपने बच्चों के विचारों और भावनाओं को समझने में कितने अभ्यस्त हैं।
  • इन लोगों की तुलना उन माता-पिता से की गई जिनके बच्चे भी छह माह के हो गए थे और उन्होंने इस एप का इस्तेमाल नहीं किया था। इसमें पाया गया कि जिन्होंने इस एप का इस्तेमाल किया वे अपने बच्चों की भावनाओं और विचारों को बहुत ही अच्छी तरह से समझते थे।

रोबोट फेडोर

  • रूस के पहले रोबोट को लेकर रवाना हुआ सोयूज अंतरिक्षयान (Russian Soyuz Spacecraft) शनिवार को इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (International Space Station) पर उतर नहीं पाया। इस यान को धरती की परिक्रमा कर रहे कृत्रिम उपग्रह आइएसएस (ISS) पर उतारने के लिए अब सोमवार को दोबारा प्रयास किया जाएगा।
  • रूसी न्यूज एजेंसियों के अनुसार, स्वचालित प्रणाली में आई गड़बड़ी के कारण यह यान आइएसएस पर उतरने में विफल रहा। आइएसएस पर सोयूज के उतरने का सजीव प्रसारण किया जा रहा है। यान अभी आइएसएस से 96 मीटर दूर है। रूसी फ्लाइट कंट्रोल सेंटर के अधिकारियों के मुताबिक, अब इस यान को अंतरिक्ष स्टेशन पर उतारने के लिए सोमवार सुबह फिर प्रयास किया जाएगा।
  • फेडोर नामक रोबोट को लेकर सोयूज एमएस-14 अंतरिक्ष यान गुरुवार सुबह कजाखस्तान के बैकानूर अंतरिक्ष केंद्र से आइएसएस के लिए रवाना हुआ था। इसे शनिवार को आइएसएस पर पहुंचना था। सोयूज आमतौर पर अंतरिक्षयात्रियों को लेकर आइएसएस पर जाता है, लेकिन इस बार आपातकालीन बचाव प्रणाली की जांच के लिए इसे मानवरहित रवाना किया गया है। सोयूज की पायलट सीट पर रोबोट फेडोर को बैठाया गया है। उसके हाथ में रूस का एक छोटा झंडा भी है। इस रोबोट की लंबाई पांच फीट 11 इंच है और इसका वजन 160 किलोग्राम है। यह रोबोट दस दिनों तक आइएसएस पर रहेगा और अंतरिक्ष यात्रियों की मदद करना सीखेगा।

:: विविध ::

फोर्ब्स की दुनिया की टॉप 10 एक्ट्रेसेस की सूची

  • हॉलीवुड एक्ट्रेस स्कारलेट जोहानसन 400 करोड़ रु. की सालाना कमाई से दूसरी बार दुनिया में सर्वाधिक कमाई वाली अभिनेत्री बनी हैं। फोर्ब्स की दुनिया की टॉप 10 एक्ट्रेसेस की सूची में भारत से कोई नहीं है। स्कारलेट की कमाई एक साल में 141 करोड़ रु. बढ़ी है। सोफिया 294 करोड़ के साथ नंबर दो हैं।

ओएफसी यूथ डेवलपमेंट टूर्नामेंट

  • भारत की अंडर-19 फुटबॉल टीम ने ओएफसी यूथ डेवलपमेंट टूर्नामेंट जीता। वानूआतू में खेले गए टूर्नामेंट में भारतीय टीम ने ताहिती की टीम को 2-0 से हराया। मैच में भारत के सब्स्टिट्यूट मनवीर सिंह ने 71वें और विक्रम प्रताप ने 88वें मिनट में गोल किए। भारतीय टीम ने ग्रुप बी में मेजबान वानूआतू को 1-0 और न्यू केलेडोनिया को 4-1 से हराया।

12 वां इंटरनेशनल मिलिट्री म्यूजिक फेस्टिवल

  • रूस की राजधानी मॉस्को में 12वां इंटरनेशनल मिलिट्री म्यूजिक फेस्टिवल शुरू हो गया। इसमें रूस, चीन, जापान, इटली सहित 12 देशों के 160 ग्रुप शामिल हो रहे हैं। इस बार भारत इसमें शामिल नहीं हो रहा है। यह 1 सितंबर तक चलेगा। फेस्टिवल में प्रत्येक ग्रुप को 6 मिनट का समय दिया जाता है। इसमें वे मार्च सॉन्ग और डान्स आदि प्रस्तुत करते हैं

6वां ‘इंडिया इंटरनेशनल एवं एमएसएमई स्टार्टअप एक्सपों एवं समिट – 2019

  • एमएसएमई डेवलपमेंट फोरम द्वारा 6 वां ‘इंडिया इंटरनेशनल एवं एमएसएमई स्टार्टअप एक्सपों एवं समिट – 2019’ का आयोजन नई दिल्ली के प्रगति मैदान में किया गया। इस ‘स्टार्टअप फेस्ट’एव”लघु उद्योग व्यापार मेले’का आयोजन आज से 25 अगस्त तक चलेगा।

डूरंड कप:

  • त्रिनिदाद के फॉरवर्ड मार्कस जोसफ के दो गोलों की मदद से डूरंड कप टूर्नमेंट में पहली बार खेल रहे गोकुलम केरला एफसी ने शनिवार को यहां फाइनल में 16 बार के चैंपियन मोहन बागान को 2-1 से हराकर खिताब अपने नाम किया। साल्ट लेक स्टेडियम में खेले गए फाइनल में जोसफ ने हाफ टाइम से ठीक पहले (45+1 मिनट) पेनल्टी को गोल में बदला और फिर 51वें मिनट में उन्होंने टीम की बढ़त को दोगुना कर दिया।

वर्ल्डस्किल्स कज़ान 2019

  • विश्व की सबसे बड़ी अंतरराष्ट्रीय व्यावसायिक कौशल प्रतियोगिता, वर्ल्डस्किल्स कज़ान 2019 की रूस के कज़ान में एक भव्य समारोह में शुरूआत हुई। 62 अन्य प्रतिभागी देशों के साथ रंगारंग परिधानों में 48 सदस्यीय भारतीय दल की शानदार परेड ने लोगों का मन मोह लिया।

:: प्रिलिमिस बूस्टर ::

  • केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं को मूर्त रूप देने के लिए हाल ही में ग्रुप्स ऑफ मिनिस्टर(GoM) की तर्ज पर सरकार द्वारा कौन सा टास्क फोर्स तैयार किया गया है? (ग्रुप ऑफ गवर्नर्स-GoG)
  • मूक-बधिरों के लिए समर्पित देश के पहले बधिर लोगों के स्टार्टअप का क्या नाम है? (डिजिटल आर्ट्स एकेडमी फॉर डेफ -डीएएडी)
  • देश के पहले बधिर लोगों के स्टार्टअप की स्थापना किसके द्वारा की गई है? (रेम्या राज और सुलू नौशाद)
  • हाल ही में किन जगहों पर उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा डीएनए प्रयोगशाला बनाने हेतु अनुमति प्रदान की गई है? (वाराणसी और आगरा)
  • हाल ही में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा किस देश में श्रीनाथजी हिंदू मंदिर के पुनरुद्धार की शुरुआत की गई? (बहरीन)
  • किस देश के द्वारा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ‘ऑर्डर ऑफ जाएद’ से सम्मानित किया जाएगा? (यूएई)
  • हाल ही में किस देश में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के द्वारा रूपे कार्ड को जारी किया गया? (यूएई)
  • क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक भागीदारी (आरसीईपी) में कुल कितने देश शामिल हैं? (16)
  • अंतरराष्ट्रीय थर्मोन्यूक्लियर प्रायोगिक रिएक्टर 'लिटिल सन' का निर्माण किस देश में किया जा रहा है? (फ्रांस)
  • बच्चों के सोचने और महसूस करने को जानने के लिए हाल ही में विकसित किए गए ऐप का क्या नाम है? (बेबी माइंड)
  • किस अंतरिक्ष एजेंसी के द्वारा फेडोर रोबोट को अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर भेजा जा रहा है? (रूस)
  • हाल ही में फोर्ब्स द्वारा जारी की गई रिपोर्ट के अनुसार दुनिया की सर्वाधिक कमाई करने वाली अभिनेत्री कौन है? (स्कारलेट जोहानसन)
  • ओएफसी यूथ डेवलपमेंट टूर्नामेंट किस देश के द्वारा जीता गया? (भारत)
  • 12वां इंटरनेशनल मिलिट्री म्यूजिक फेस्टिवल का आयोजन कहां किया जा रहा है? (मास्को-रूस)
  • 6 वां ‘इंडिया इंटरनेशनल एवं एमएसएमई स्टार्टअप एक्सपों एवं समिट – 2019’ का आयोजन कहां किया जा रहा है? (प्रगति मैदान नई दिल्ली)
  • हाल ही में किस क्लब के द्वारा डूरंड कप का खिताब अपने नाम किया गया? (गोकुलम केरला एफसी)
  • विश्व की सबसे बड़ी अंतरराष्ट्रीय व्यावसायिक कौशल प्रतियोगिता, वर्ल्डस्किल्स कज़ान 2019 का आयोजन कहां किया जा रहा है? (रूस)

स्रोत साभार: Dainik Jagran (Rashtriya Sanskaran), Dainik Bhaskar (Rashtriya Sanskaran), Rashtriya Sahara (Rashtriya Sanskaran) Hindustan Dainik (Delhi), Nai Duniya, Hindustan Times, The Hindu, BBC Portal, The Economic Times (Hindi & English), PTI, PIB

<< मुख्य पृष्ठ पर वापस जाने के लिये यहां क्लिक करें