(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (23 अगस्त 2019)

दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर


(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (23 अगस्त 2019)


:: राष्ट्रीय समाचार ::

‘भारतक्राफ्ट’

  • सरकार की योजना ”अलीबाबा” और ”अमेजन” की तर्ज पर ”भारतक्राफ्ट” पोर्टल पेश करने की है. यह एक ई-कॉमर्स मार्केटिंग प्लेटफॉर्म है. इस प्लेटफॉर्म से दो-तीन साल में करीब 10 लाख करोड़ रुपये का रेवेन्यू आने की उम्मीद है. केंद्रीय सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उद्यम (एमएसएमई) मंत्री नितिन गडकरी ने गुरुवार को यह जानकारी दी.
  • गडकरी ने कहा, “भारतक्राफ्ट पोर्टल एमएसएमई कंपनियों को बाजार उपलब्ध कराएगा और अपने प्रोडक्ट्स को बेचने में मदद करेगा.” नेशनल स्टॉक एक्सचेंज के ”इमर्ज” प्लेटफॉर्म पर 200वीं एमएसएमई कंपनी ”वंडर फाइबरोमेट्स” के सूचीबद्ध होने के अवसर पर केंद्रीय मंत्री ने कहा, “हम एमएसएमई क्षेत्र को बढ़ावा देना चाहते हैं.
  • यह क्षेत्र वर्तमान में मैन्यूफैक्चरिंग में करीब 29 फीसदी और इंपोर्ट में 40 फीसदी का योगदान करता है. गडकरी ने कहा कि एमएसएमई क्षेत्र में अगले पांच साल में 5 करोड़ अतिरिक्त जॉब क्रिएट करने की क्षमता है. सरकार ने अगले पांच साल में मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर में एमएसएमई के योगदान को 50 फीसदी तक बढ़ाने का लक्ष्य रखा है.

पश्चिमी आंचलिक परिषद की 24 वीं बैठक

  • पश्चिमी अंचल परिषद की 24 वीं बैठक 22 अगस्त, 2019को केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह की अध्यक्षता में पणजी (गोवा) में आयोजित की गई। बैठक में गोवा, महाराष्ट्र और गुजरात के मुख्यमंत्री, उप-मुख्यमंत्री गुजरात, इन राज्यों के 5 अन्यमंत्री, केंद्र शासित प्रदेश दमन और दीव और दादरा और नगर हवेली के प्रशासक और भारत सरकार तथा राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारी शामिल थे। परिषद ने पिछली बैठक में की गई सिफारिशों के कार्यान्वयन की प्रगति की समीक्षा की तथा निम्नलिखित मुद्दों पर विशेष ध्यान आकर्षित किया गया:
  1. झुग्गीवासियों के पुनर्वास के लिए अधिशेष नमक पैन भूमि के उपयोग के लिए महाराष्ट्र सरकार द्वारा मास्टर प्लान प्रस्तुतकरना।
  2. उन गांवों का कवरेज, जो पांच किलोमीटर के रेडियल दूरी के भीतर बिना किसी बैंकिंग सुविधा के रहते हैं। उनतक भी सभी सुविधाएँ पहुँचाना ।
  3. लाभार्थी उन्मुख योजनाओं के संबंधित पोर्टल से वास्तविक समय की जानकारी एकत्र करके योजना / ग्राम-वार विवरणों कोशामिल करने के लिए डीबीटी पोर्टल का संवर्द्धन करना।
  4. समुद्री मछुआरों के विवरण के सत्यापन के लिए आधार कार्ड पर एन्क्रिप्टेड क्यूआर कोड के अभिनव समाधान को कार्यान्वित करना। राज्यों द्वारा एक महीने के भीतर प्रिंट आउट लेने या कार्ड बनाना ताकि सभी के पास नवीनतम QR कोड वाला आधारकार्ड हो।
  5. 12 वर्ष से कम उम्र की लड़कियों के खिलाफ यौन अपराधों / बलात्कार की जांच और सुनवाई 2 महीने के भीतर में पूरीकरने के लिए विस्तृत निगरानी तंत्र स्थापित करना।

आंचलिक परिषद

  • पांच जोनल काउंसिल (पश्चिमी, पूर्वी, उत्तरी, दक्षिणी और मध्य जोनल काउंसिल) की स्थापना राज्यों के पुनर्गठन अधिनियम, 1956 के तहत की गई थी ताकि राज्यों के बीच अंतर-राज्य सहयोग और समन्वय स्थापित किया जा सके।
  • आंचलिक परिषदों को आर्थिक और सामाजिक नियोजन, सीमा विवाद, भाषाई अल्पसंख्यक या अंतर-राज्यीय परिवहन आदि के क्षेत्र में आम हित के किसी भी मामले पर चर्चा करने और सिफारिश करने के लिए अनिवार्य किया जाता है।
  • आर्थिक, राजनीतिक और सांस्कृतिक रूप से एक दूसरे से जुड़े इन राज्यों के सहकारी प्रयासों का यह एक क्षेत्रीय मंच है।
  • उच्च स्तरीय निकाय होने के नाते यह मंच सम्बंधित क्षेत्रो के हितों की देखभाल तथा क्षेत्रीय मुद्दों के समाधान में सक्षम है।

‘सं-साधन’ हैकथॉन

  • अटल नवाचार मिशन और नीति आयोग के सहयोग से जल शक्ति मंत्रालय और दिव्‍यांगजन सशक्तिकरण विभाग द्वारा संयुक्त रूप से‘सं-साधन’ हैकथॉन का आयोजन किया जाएगा
  • स्वच्छ भारत मिशन के अंतर्गत एक नये कार्यक्रम सं-साधन हैकाथॅन के लिए सरकार ने आवेदन आमंत्रित किये है। इस कार्यक्रम का उद्देश्‍य दिव्‍यांगजनों के जीवन को आसान बनाना है। इसके लिए दिव्‍यांगजन अनुकूल शौचालय बनाए जाएंगे जो स्मार्ट, सुलभ और उपयोग में आसान होंगे। इस हैकाथॉन से सरकार का उद्देश्‍य शौचालयों के लिए नवोन्‍मेषी समाधान प्राप्‍त करना है, जिसका उपयोग शहरी व ग्रामीण क्षेत्रों में व्यक्तिगत और सामुदायिक स्‍तर पर किया जा सके।
  • यह पहल जल शक्ति मंत्रालय और दिव्यांग व्यक्तियों के सशक्तिकरण विभाग तथा अटल नवाचार मिशन,नीति आयोग, बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन और 91 स्प्रिंगबोर्ड द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित की जा रही है।
  • प्रौद्योगिकी के प्रति उत्साही व्यक्तियों को 28 अगस्त, 2019 तक या उससे पहले आवेदन करने के लिए आमंत्रित किया गया है। अधिक जानकारी के लिए, आवेदक sansadhanhackathon.91springboard.com पर विजिट कर सकते हैं।
  • हैकथॉन ने भाग लेने के लिए शोधकर्ताओं, स्टार्ट-अप्स, छात्र इनोवेटर्स, प्रौद्योगिकी उत्साही और उद्योग विशेषज्ञों को आमंत्रित किया है। यह हैकाथॉन रोमांचक पुरस्कार जीतने और मंत्रालय, उद्योग के विशेषज्ञों और पारिस्थितिकी तंत्र के समर्थकों द्वारा हैंडहोल्डिंग और परामर्श प्राप्त करने का एक शानदार अवसर प्रदान करता है।
  • अंतिम रूप से छांटे गए आवेदक सितंबर के महीने में नई दिल्ली में आयोजित होने वाले दो दिवसीय हैकथॉन के दौरान अपने प्रोटोटाइप विकसित करने के बारे में काम करेंगे। हैकाथॉन के अंतिम दिन आवेदक अपने नवाचारों का प्रदर्शन करेंगे और विजेताओं को सितंबर के मध्य में आयोजित होने वाले समापन समारोह के दौरान सम्मानित किया जाएगा।

समग्र जल प्रबंधन सूचकांक 2.0

  • नीति आयोग कल नई दिल्ली में समग्र जल प्रबंधन सूचकांक (सीडब्‍ल्‍यूएमआई 2.0) के दूसरे दौर की रिपोर्ट जारी करेगा। केन्‍द्रीय जल शक्ति मंत्री श्री गजेन्द्र सिंह शेखावत और नीति आयोग के उपाध्यक्ष डॉ. राजीव कुमार इसे लॉन्‍च करेंगे।

पृष्ठभूमि

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा जल संचय पर विशेष बल देने से प्रेरित होकर जल शक्ति मंत्रालय ने 01 जुलाई, 2019 को जल शक्ति अभियान लॉन्‍च किया। इस अभियान का उद्देश्‍य 256 जिलों के जल-संकट झेल रहे 1592 ब्‍लॉकों में जल संरक्षण व जल सुरक्षा सुनिश्चित करना है। जल शक्ति मंत्रालय के प्रयासों को मजबूती देने के लिए नीति आयोग ने समग्र जल प्रबंधन सूचकांक (सीडब्‍ल्‍यूएमआई 2.0) के दूसरा चक्र की रिपोर्ट तैयार की है।
  • जल संसाधनों के कुशल प्रबंधन में राज्‍यों व केन्‍द्र शासित प्रदेशों के प्रदर्शन का आकलन करने में सीडब्‍ल्‍यूएमआई एक महत्वपूर्ण उपकरण है। जल शक्ति मंत्रालय, ग्रामीण विकास मंत्रालय और सभी राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के सहयोग से पहली बार जल संबंधी डेटा का संग्रह किया जा रहा है। इससे जल संसाधनों के बेहतर प्रबंधन के लिए महत्‍वपूर्ण डेटा प्राप्‍त होंगे। केन्‍द्रीय मंत्रालयों/विभागों तथा राज्‍य सरकारों को उपयुक्‍त रणनीति बनाने में मदद मिलेगी। सीडब्ल्यूएमआई 2.0, आधार वर्ष 2016-17 के संदर्भ में वर्ष 2017-18 के लिए विभिन्न राज्यों को सूची में श्रेणी प्रदान करता है।
  • राज्‍यों में सहयोगी संघवाद की भावना को बढ़ाने के लिए नीति आयोग ने 2018 में पहली बार समग्र जल प्रबंधन सूचकांक को लॉन्‍च किया।

सरल –‘स्टेट रूफटॉफ सोलर एकट्रैक्टिवनेस इंडेक्स’

  • केंद्रीय ऊर्जा एवं नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) एवं कौशल विकास एवं उद्यमिता मंत्री श्री आरके सिंह स्टेट रूफटॉप सोलर एक्ट्रैक्टिवनेस इंडेक्स – सरल जारी किया। इस सूचकांक में कर्नाटक पहले पायदान पर है। यह सूची छतों पर सौर ऊर्जा परियोजनाओं के विकास को आकर्षक बनाने के लिए भारत के राज्यों का मूल्यांकन करती है। तेलंगाना, गुजरात और आंध्र प्रदेश को इस सूची में क्रमशः दूसरा, तीसरा और चौथा स्थान मिला है।
  • इस सूची को जारी करते हुए श्री आरके सिंह ने कहा कि यह राज्यों के बीच स्वस्थ प्रतिस्पर्धा पैदा कर छतों पर लगने वाली सौर ऊर्जापरियोजनाओं को प्रोत्साहित करेगा। उन्होंने सभी राज्यों को शीर्ष रैंकिंग वाले राज्यों की बेहतर प्रक्रियाओं को अपनाने के लिए प्रोत्साहित किया।
  • सरल को नवीन एवं नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय (एमएनआरई), शक्ति सस्टेनेबल एनर्जी फाउंडेशन (एसएसईएफ), एसोसिएट चैंबर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंटस्ट्री ऑफ इंडिया (एसोचैम) और अर्न्स एंड यंग (ईवाई) के सहयोग से डिजाइन किया गया है। इसे राज्यों और राज्य ऊर्जा सेवाओं के साथ समीक्षा, योजना एवं निगरानी (आरपीएम) बैठक के दौरान लांच किया गया। सरल में इस समय पांच अहम पहलू आते हैं -
  1. नीतिगत ढांचे की मजबूती
  2. कार्यान्वयन का वातावरण
  3. निवेश का माहौल
  4. उपभोक्ता का अनुभव
  5. व्यावसायिक पारिस्थितिकी तंत्र
  • यह प्रत्येक राज्य को अभी तक की गई पहलों का आकलन करने के लिए प्रोत्साहित करेगा औरयह बताएगा कि वे छतों पर लगने वाली सौर परियोजनाओं के पारिस्थितिकी तंत्रमें सुधार के लिए क्या कर सकते हैं। यह राज्यों को निवेश को दिशा देने में मदद करेगा ताकि इस क्षेत्र के विकास में सहायता मिल सके। इसके अतिरिक्त, इस तरह की कवायद से छतों पर सौर ऊर्जा परियोजनाओं को लगाने के लिए ज्यादा अनुकूल माहौल बनने, निवेश को प्रोत्साहन मिलने और इस क्षेत्र को रफ्तार मिलने की संभावना है।

राष्ट्रीय पुलिस विश्वविद्यालय

  • ग्रेटर नोएडा में केंद्र सरकार राष्ट्रीय पुलिस विश्वविद्यालय स्थापित करेगी
  • यह पुलिसिंग और आंतरिक सुरक्षा में शिक्षा प्रदान करने के लिए समर्पित होगा।
  • विश्वविद्यालय विशेष विषयों में स्नातक, स्नातक और स्नातकोत्तर शैक्षणिक कार्यक्रम आयोजित करेगा।

विश्व के 100 महानतम स्थानों की सूची में 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' और सोहो हाउस

  • टाइम पत्रिका की ओर से 2019 में विश्व के महानतम स्थानों को लेकर जारी दूसरी वार्षिक सूची में गुजरात की 597 फुट ऊंची 'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' और मुंबई के सोहो हाउस ने अपनी जगह बनाई है।
  • स्टैच्यू ऑफ यूनिटी विश्व की सबसे ऊंची प्रतिमा है, जो आजाद भारत के पहले गृह मंत्री के साथ ही उपप्रधानमंत्री रहे सरदार वल्लभ भाई पटेल को श्रद्धांजलि है। वहीं, मुंबई का फैशनेबल सोहो हाउस 11 मंजिला इमारत में स्थित है जहां से अरब सागर नजर आता है। इसमें एक पुस्तकालय, 34 सीटों वाला एक सिनेमाघर और खुली छत में बना एक बार और पुल हैं।
  • इसके अलावा इस सूची में चाड का जोकुमा नेशनल पार्क, मिस्र की लाल सागर पर्वत श्रृंखला, वॉशिंगटन के न्यूजियम, न्यूयॉर्क सिटी के द शेड, आइसलैंड के जियोसी जियोथर्मल सी बाथ, भूटान के सिक्स सेंसेज होटल, मारा नोबोइशो कंजर्वेंसी के लेपर्ड हिल और हवाई के पोहोइकी को भी शामिल किया गया है।

महाराष्‍ट्र के फूपगांव में लौह कालीन बस्‍ती के प्रमाण

  • भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) द्वारा महाराष्ट्र के फूपगांव में हाल ही में किए गए उत्खनन में विदर्भ क्षेत्र में लौह कालीन बस्‍ती होने के प्रमाण मिले हैं। इस स्‍थल पर खुदाई दिसंबर, 2018 और मार्च, 2019 के बीच की गई।
  • एएसआई की टीम ने महाराष्ट्र के अमरावती जिले के फूपगांव के चंदर बाज़ार से पूर्णा बेसिन के दरियापुर के बीच के क्षेत्र में गहन सर्वेक्षण किया। यह स्थल तापी की प्रमुख सहायक नदी पूर्णा नदी के विशाल घुमावदार मार्ग में स्थित है, जो बारहमासी नदी हुआ करती थी, लेकिन वर्तमान में ऊपरी धारा में बांध का निर्माण हो जाने के कारण पूरी तरह सूख चुकी है। यह स्थल नदी के तल से लगभग 20 मीटर की दूरी पर स्थित है और पुराने जमाने में पानी की तेज धार के कारण इसके एक तिहाई हिस्से में बार-बार भूमि कटाव होता था।
  • कुल 9 खाइयों में खुदाई की गई, जिनसे मकान और चूल्हा, पोस्ट-होल और कलाकृतियों जैसे अवशेष मिले। खुदाई के दौरान, 4 पूर्ण गोलाकार संरचनाएं मिली।
  • उत्खनन से एगेट-कारेलियन, जैस्पर, क्वार्ट्ज और एगेट जैसे मोतियों की भी बड़ी मात्रा का पता चला। सभी खाइयों से लोहे, तांबे की वस्तुएं भी एकत्रित की गई हैं। बर्तनों के टूटे हुए टुकड़ों पर बड़ी मात्रा में भित्तिचित्रों के निशान मिले हैं।
  • एएसआई का मानना है कि फूपगांव में खुदाई ने पूर्णा नदी बेसिन के लौह युगीन लोगों के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी प्रदान की है। कालक्रमानुसार इस स्‍थान को 7 ईसा पूर्व और 4 ईसा पूर्व के बीच रखा जा सकता है। हालांकि, विदर्भ के लौह युग के और पहलुओं को उजागर करने के लिए इस स्‍थल का कालक्रम के अनुसार विस्तृत अध्ययन किया जा रहा है।

रेनकोजी मंदिर

  • नेताजी सुभाष चंद्र बोस की पुत्री अनीता बोस फाफ ने गुरुवार को जापानी मंदिर रेनकोजी में रखी नेताजी की अस्थियों की डीएनए जांच सुनिश्चित कराने का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से अनुरोध किया है। साथ ही उन्होंने पिछली सरकारों पर मामले की अनदेखी का आरोप लगाया और कहा कि वे कभी नहीं चाहते थे कि इस रहस्य पर से पर्दा उठे। बोस ने नेताजी की मृत्यु से जुड़े रहस्य को सुलझाने के प्रयासों के लिए पीएम मोदी की सराहना भी की।

:: अंतराष्ट्रीय समाचार ::

आतंकी फंडिंग के लिए बिटकॉइन का इस्‍तेमाल

  • आतंकी संगठन अपने को हर तरह से हाइटेक करने की दिशा में काम कर रहे हैं। अभी तक उनके पास सिर्फ आधुनिक हथियार ही मिलने की बातें सामने आ रही थीं मगर अब वो अपने को मजबूत करने के लिए बिटकॉइन जैसी क्रिप्टोकरंसी से फंड जुटाने के काम में भी लग गए हैं। चूंकि बिटकॉइन से पैसे जुटाने में बहुत अधिक तकनीकी या नाम-पते की जरुरत नहीं है इस वजह से वो इसका इस्तेमाल कर रहे हैं।बिटकॉइन की तरफ आने की एक बड़ी वजह उनके फंड जुटाने में हो रही समस्‍या और इसकी पकड़-धकड़ भी है। जिन आतंकी संगठनों को अब तक इस तरह की करंसी के बारे में बहुत अधिक जानकारी नहीं थी वो भी फंडिंग के लिए अब बिटकॉइन की कार्य प्रणाली को तेजी से सीख रहे हैं।

हमास ने की शुरुआत

  • इसका जीता जागता उदाहरण प्रतिबंधित आतंकी संगठन हमास है। यह फिलिस्तीनी आतंकवादी संगठन है जिसको कई देशों ने बैन किया है। आतंकी गतिविधियों में शामिल होने की वजह से इस संगठन के खाते बंद कर दिए गए थे। इस साल, इसके सैन्य विंग ने बिटकॉइन का उपयोग करके धन जुटाने के लिए तेजी से एक अभियान की शुरुआत की है।

कसम ब्रिगेड ने स्थापित किया विंग

  • विंग द्वारा स्थापित वेबसाइट के लेटेस्ट संस्करण में इसके लिए फंड देने वाले हर व्‍यक्ति को को बिटकॉइन का पता दिया जाता है, उस पते पर वो डिजिटल मुद्रा भेज सकता है। इस विंग को कसम ब्रिगेड के रुप जाना जाताा है। अब आतंकी संगठन जिस विधि से फंड जुटाने के लिए काम कर रहे हैं उससे इंफोर्समेंट कानून के तहत उनकी ट्रैकिंग कर पाना लगभग असंभव है। आतंकियों ने इस साइट के माध्यम से पैसा जुटाने के लिए इसमें सात भाषाओं का विकल्प रखा है जिससे इन भाषाओं के जानकार आसानी से फंड दे सकें। हमास की पहचान के लिए वेबसाइट पर बने लोगों में एक हरे रंग का झंडा और एक मशीन गन है। इसमें बिटकॉइन से कैसे फंडिंग की जाए इसको लेकर एक वीडियो भी अपलोड किया गया है। इसके जरिए फंड करने वाले बिना इफोर्समेंट डिपार्टमेंट की नजर में आए पैसा भेज सकते हैं।

फंड के लिए कर रहे बिटकॉइन का इस्तेमाल

  • आतंकवादी अब फंडिंग के लिए अन्य तरीकों का इस्तेमाल करने से बच रहे हैं वो अपने को सीधा बिटकॉइन की ओर मोड़ रहे है और अपनी जरूरत की चीजों को खरीदने में इसी का इस्तेमाल कर रहे हैं, फिर चाहे वो दवा खरीदने का काम हो या फिर मनी लांड्रिंग करने का काम हो। आतंकवादी संगठनों के बिटकॉइन की तरफ जाने के बाद इन संगठनों के वित्तपोषण पर नजर रखने वाले डिपार्टमेंट ने इसको लेकर अलार्म बजाना शुरू कर दिया है। बिटकॉइन की तरफ जाने की एक बड़ी वजह ये भी है कि इसके माध्‍यम से बिना जानकारी दिए कोई भी व्‍यक्ति या संगठन हजारों या लाखों डॉलर फंड कर सकता है।

आसान है बिटकॉइन से फंडिंग

  • अधिकारियों का मानना है कि किसी भी आतंकी ग्रुप को खड़ा और मजबूत करने में अधिक मात्रा में पैसे की आवश्यकता होती है। ऐसे में बिटकॉइन का मांग बढ़ जाती है। सीआईए के पूर्व विश्लेषक याया फैनुसी ने कहा कि अगले कुछ महीनों में आप इसे और अधिक देखने जा रहे हैं। उनका कहना है कि अब क्रिप्टोकरंसी का उपयोग गलत और दुष्ट लोग अधिक कर रहे है, ये करंसी आतंकवादियों को फंड मुहैया कराने का एक जरिया बनती जा रही है। बिटकॉइन जैसी करंसी के माध्यम से पैसा जुटाना आसान हो गया है क्योंकि इसे आसानी से ट्रेस नहीं किया जा सकता है। इसकी ओर एजेंसियों का भी ध्यान नहीं है। उनको भी इस ओर ध्यान देना चाहिए। ट्रेजरी सचिव स्टीवन मेनुचिन ने अपने भाषणों में इस मुद्दे पर ध्यान आकर्षित किया है।

कानून तोड़कर पैसा जमा करने के लिए क्रिप्टोकरंसी

  • नियम कानून तोड़कर पैसा जमा करने वालों के लिए क्रिप्टोकरंसी एक बहुत बढ़िया साधन बन गया है। क्योंकि वो इसके माध्यम से पैसे को जमा कर सकते हैं और ट्रांसफर भी कर सकते है। केंद्रीय एजेंसियां इनको आसानी से पकड़ भी नहीं पाती है। यदि एजेंसियों की इन पर निगरानी हो तो इनके खाते को बंद किया जा सकता है और फंड को फ्रिज किया जा सकता है। विश्व के किसी भी कोने में रहने वाला कोई भी बिटकॉइन के माध्यम से पैसे रिसीव कर सकता है इसके लिए उसे एड्रेस और अपना नाम, पता भी देने की जरुरत नहीं है। अमेरिकी आर्थिक प्रतिबंधों का सामना कर रहे ईरान, वेनेजुएला और रूस जैसे देशों ने अपनी खुद की क्रिप्टोकरेंसी बनाने की दिशा में कदम उठाए हैं। विशेषज्ञों की मानें तो बिटकॉइन अपने तकनीकी वजहों के कारण अभी तक पैठ बनाने में कामयाब नहीं हो पाई है, लेकिन इसकी कवायद जारी है।

दान से चल रहे संगठन

  • गाजा के फिलिस्तीनी तटीय क्षेत्र को नियंत्रित करने वाला संगठन हमास परंपरागत रूप से कतर जैसी विदेशी सरकारों से करोड़ों डॉलर के दान पर बचा है। पश्चिमी समर्थित फिलिस्तीनी प्राधिकरण ने बीते साल हमास जैसे संगठन पर प्रतिबंध लगाकर उनकी वित्तीय स्थिति को नुकसान पहुंचाया था।

बिटकॉइन का उपयोग करने की कर रहे कोशिश

  • मिडिल ईस्ट मीडिया रिसर्च इंस्टीट्यूट के कार्यकारी निदेशक स्टीवन स्टालिंस्की ने सभी आर्थिक प्रतिबंधों पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि हम बिटकॉइन का उपयोग करने की कोशिश कर रहे हैं। मेमरी संगठन के रूप में जानी जाने वाली स्टालिंस्की का संगठन आतंकवादी संगठनों द्वारा क्रिप्टोकरेंसी के उपयोग के बढ़ते संकेतों के बारे में 253 पन्नों की रिपोर्ट प्रकाशित करने वाला है

पूर्वी कालिमैनटन

  • इंडोनेशिया अपनी मौजूदा राजधानी जकार्ता को बदल कर बोर्नियो द्वीप के पूर्वी कालिमैनटन प्रांत में स्थांतरण कर सकता है। कृषि और भूमि नियोजन मंत्री सोफ्यान जलील ने गुरुवार को यह जानकारी दी। इससे पहले इंडोनेशिया के राष्ट्रपति जोको विडोडो अप्रैल माह में बोर्नियों द्वीप के पूर्वी कालिमैनटन प्रांत में राजधानी बनाने का निर्णय घोषित कर चुके है।
  • बोर्नियो द्वीप पर देश की राजधानी को बनाने के लिए विडोडो की ओर से पिछले सप्ताह औपचारिक रूप से संसद में प्रस्ताव लाया गया। अंतरा न्यूज के हवाले से दजलील ने नई राजधानी की जगह को लेकर सवाल पर कहा, ‘‘ नई राजधानी पूर्वी कालिमैनटन में होगी लेकिन आधिकारिक क्षेत्र अभी तय किया जाना है।''उन्होंने कहा कि सरकार को नई राजधानी के विकास के पहले चरण के निर्माण के लिए लगभग 3,000 हेक्टेयर भूमि की आवश्यकता थी लेकिन अब इस परियोजना का विस्तार 300,000 हेक्टेयर तक किया जा सकता है।
  • उल्लेखनीय है कि राष्ट्रीय विकास योजना मंत्री बंबांग ब्रोडजोनगोरो ने जून माह में कहा था कि नयी राजधानी का निर्माण कार्य वर्ष 2021 में शुरू होगा और सरकार वर्ष 2024 तक नई राजधानी बनाने की योजना पर अमल करना चाहती है।

अनुच्छेद 370 / भारत को फ्रांस का समर्थन

  • फ्रांस ने कश्मीर मामले पर भारत का साथ दिया है। गुरुवार रात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ साझा बयान में फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुएल मैक्रों ने जम्मू-कश्मीर का जिक्र करते हुए कहा कि इस मामले में भारत और पाकिस्तान को ही द्विपक्षीय तरीके से हल खोजना होगा। किसी तीसरे पक्ष को इसमें हस्तक्षेप करने की कोशिश नहीं करनी चाहिए और न ही क्षेत्र में हिंसा फैलाने की कोशिश हो। मैक्रों ने कहा कि कश्मीर में शांति के साथ लोगों के अधिकारों की रक्षा होनी चाहिए।

:: आर्थिक समाचार ::

समाधान योजना-सबका विश्वास-2019

  • केंद्रीय बजट 2019-20 में केंद्रीय वित्त मंत्री ने करदाताओं के लम्बित विवादों के निपटारे के लिए समाधान योजना-सबका विश्वास-2019 की घोषणा की थी।इस योजना को अब अधिसूचित कर दिया गया है और यह 1 सितंबर 2019 से शुरू होगी। योजना 31 दिसंबर,2019 तक जारी रहेगी। सरकार को विश्वास है कि बड़ी संख्या में करदाता सेवा कर और केंद्रीय उत्पाद कर से संबधित अपने बकाया मामलो के समाधान के लिए इस योजना का लाभ उठाएंगे। ये सभी मामले अब जीएसटी के अंतर्गत सम्मिलित हो चुके हैं और इससे करदाता जीएसटी पर ध्यान केंद्रित कर सकेंगे।
  • योजना के दो प्रमुख भाग विवाद समाधान और आम माफी है। विवाद समाधान का लक्ष्य अब जीएसटी में सम्मिलित केंद्रीय उत्पाद और सेवा कर के बकाया मामलो का समाधान करना है। आम माफी के तहत करदाता को बकाया कर देने का अवसर प्रदान किया जाएगा और करदाता कानून के अंतर्गत किसी भी अन्य प्रभाव से मुक्त रहेगा। योजना का सबसे आकर्षक प्रस्ताव सभी प्रकार के मामलो में बकाया कर से बड़ी राहत के साथ-साथ ब्याज,जुर्माना और अर्थ दंड में पूर्ण राहत देना है। इन सभी मामलो में किसी भी प्रकार का अन्य ब्याज,जुर्माना और अर्थ दंड नहीं लगाया जाएगा और इसके साथ ही अभियोजन से भी पूरी छूट मिलेगी।
  • योजना के अंतर्गत न्यायिक या अपील में लंबित सभी मामलो में 50 लाख या इससे कम की चुंगी के मामले में 70 प्रतिशत की राहत और 50 लाख से अधिक के मामलो में 50 प्रतिशत की राहत मिलेगी। यह छूट जांच और लेखा परीक्षण के अंतर्गत चल रहे ऐसे मामलो में जहां और चुंगी परिमाणित कर ली गई हो और संबधित पक्ष को सूचित कर दी गई हो, या विवरण में 30 जून,2019 या उससे पहले स्वीकार कर लिया गया हो, में मिलेगी। स्थायी चुंगी मांग के मामले में जहां अपील लंबित न हो उन मामलो में 50 लाख या उससे कम की स्थिति में 60 प्रतिशत की राहत और 50 लाख से अधिक की स्थिति में 40 प्रतिशत की राहत दी जाएगी। स्वैच्छिक घोषणा की स्थिति में संबंधित व्यक्ति को केवल स्वैच्छिक चुंगी की पूर्ण राशि देनी होगी।
  • योजना का उद्देश्य बड़ी संख्या में करदाताओ को लंबित करो से राहत दिलाना और विशेष रूप से बड़ी संख्या में छोटे करदाताओ के लंबित मामलो का समाधान करना है। केंद्र सरकार ने सभी संबधित लोगो से सबका विश्वास योजना का लाभ उठाने और नई शुरूआत करने का आव्हान किया है।

25 करोड़ रुपये तक के कारोबार वाले छोटे स्टार्टअप को मिलेगा कर अवकाश: CBDT

  • 25 करोड़ रुपये तक के कारोबार वाले छोटे स्टार्टअप को कर अवकाश मिलना जारी रहेगा। कर विभगा ने गुरुवार को यह जानकारी दी। केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने एक बयान में कहा कि आयकर कानून, 1961 की धारा 80 आईएसी में किए गए उल्लेख के अनुसार कर अवकाश जारी रहेगा। इसके तहत पात्र स्टार्टअप के लिए उसके गठन के सात साल में से तीन साल के लिए पूरी आय पर कर छूट का प्रावधान किया गया है।
  • बयान के अनुसार उद्योग और आंतरिक व्यापार संवर्द्धन विभाग (डीपीआईआईटी) द्वारा निर्धारित मानदंडों को पूरा करने वाले मान्यता प्राप्त स्टार्टअप स्वत: धारा 80-आईएसी के तहत कर छूट के लिए पात्र नहीं होंगे। कर छूट के लाभ के लिए स्टार्टअप को धारा 80-आईएसी में निर्धारित शर्तों को पूरा करना होगा। यानी छोटे स्टार्टअप के लिए कारोबार सीमा का निर्धारण आयकर कानून की धारा 80-आईएसी के प्रावधानों के अनुरूप किया जाएगा न कि डीपीआईआईटी की अधिसूचना के अनुसार यह होगा।

एकमुश्त पेंशन लेने वालों को 15 साल बाद पूरी पेंशन मिलेगी

  • कर्मचारी भविष्य निधि (ईपीएफ) के केन्द्रीय न्यासी बोर्ड ने इससे संबंधित प्रस्ताव को मंजूरी दे दी है। श्रम एवं रोजगार मंत्री संतोष गंगवार की अध्यक्षता में हैदराबाद में हुई बैठक में यह निर्णय लिया गया। प्रस्ताव में कर्मचारी भविष्य निधि 1995 में संशोधन करने का प्रावधान है जिससे 6 लाख 30 हजार पेंशनधारकों को फायदा मिलेगा।
  • ईपीएफ कर्मचारियों को भी सरकारी कर्मचारियों की तरह 15 वर्ष की पेंशन की एक तिहाई राशि एकमुश्त देने का प्रावधान था। इसके तहत 15 वर्ष की अवधि समाप्त होने के बाद पेंशनधारक को फिर से पूरी पेंशन मिलने लगती थी। सरकार ने वर्ष 2009 में यह योजना बंद कर दी लेकिन इससे पहले इस योजना का लाभ उठाने वाले पेंशनधारकों को 15 वर्ष बाद फिर से पूरी पेंशन नहीं दी जा रही थी। नियमों में संशोधन से 15 वर्ष की अवधि के बाद पेंशनधारकों की पूरी पेंशन बहाल हो जायेगी।

:: विज्ञान और प्रौद्योगिकी ::

फेडोर रोबोट

  • रूस ने गुरुवार को इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (आइएसएस) के लिए मानवरहित रॉकेट लांच किया। यह रॉकेट एक आदमकद रोबोट को लेकर अपने साथ ले जा रहा है। फेडोर नामक यह रोबोट दस दिनों तक आइएसएस पर रहेगा और अंतरिक्ष यात्रियों की मदद करना सीखेगा। रूस ने धरती की परिक्रमा कर रहे कृत्रिम उपग्रह आइएसएस पर पहली बार रोबोट भेजा है।
  • फेडोर को कजाखस्तान के बैकानूर अंतरिक्ष केंद्र से सोयूज एमएस-14 अंतरिक्ष यान से स्थानीय समयानुसार सुबह छह बजकर 38 मिनट पर रवाना किया गया। सोयूज शनिवार को आइएसएस पर पहुंचेगा और सात सितंबर तक वहां रहेगा। सोयूज आमतौर पर अंतरिक्षयात्रियों को लेकर आइएसएस पर जाता है, लेकिन इस बार आपातकालीन बचाव प्रणाली की जांच के लिए इसे मानवरहित रवाना किया गया है। रूसी अंतरिक्ष एजेंसी के प्रमुख दमित्री रोगाजिन ने इस महीने की शुरुआत में रोबोट की तस्वीरें राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को दिखाई थीं। तब उन्होंने कहा था कि यह आइएसएस पर अंतरिक्ष यात्रियों की सहायता करेगा।
    सोयूज की पायलट सीट पर फेडोर को बैठाया गया है। उसके हाथ में रूस का एक छोटा झंडा भी है। इस रोबोट की लंबाई पांच फीट 11 इंच है और इसका वजन 160 किलोग्राम है।
  • फेडोर का अपना इंस्टाग्राम और ट्विटर अकाउंट भी है। इन पर बताया गया है कि वह पानी की बोतल खोलने जैसे नए हुनर सीख रहा है।
  • स्पेस स्टेशन पर फेडोर रोबोट निम्न गुरुत्वाकर्षण में नए कौशल का परीक्षण करेगा। यह रोबोट इंसानी गतिविधियों की नकल भी करता है।

पहले भी अंतरिक्ष में भेजे गए रोबोट

  • अंतरिक्ष में जाने वाला फेडोर पहला रोबोट नहीं है। इससे पहले अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने 2011 में रोबोनॉट 2 को अंतरिक्ष में भेजा था। 2013 में जापान ने किरोबो नामक एक छोटा रोबोट आइएसएस पर भेजा था। इसे जापान के पहले अंतरिक्ष यात्री अपने साथ लेकर गए थे।

:: पर्यावरण और पारिस्थितिकी ::

माइक्रोप्लास्टिक पर शोध - विश्व स्वास्थ्य संगठन

  • माइक्रोप्लास्टिक कहे जाने वाले प्लास्टिक के छोटे कण हमारे पीने के पानी सहित हर जगह फैले हुए हैं और उनसे स्वास्थ्य पर पड़ने वाले संभावित दुष्प्रभावों पर चिंता जताई जाती रही है. लेकिन संयुक्त राष्ट्र स्वास्थ्य एजेंसी (WHO) की एक नई रिपोर्ट दर्शाती है कि यह ज़रूरी नहीं है कि माइक्रोप्लास्टिक के कण मानव स्वास्थ्य के लिए किसी ख़तरे का कारण हों.
  • प्लास्टिक के सूक्ष्म प्रदूषकों से स्वास्थ्य पर पड़ने वाले असर पर शोध परिणाम विश्व स्वास्थ्य संगठन ने गुरुवार को जारी किए. स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि माइक्रोप्लास्टिक समुद्री जल, कचरे, व ताज़ा पानी, भोजन, हवा और पीने के पानी में पाए जाते हैं.
  • संगठन के अनुसार माइक्रोप्लास्टिक कणों की लंबाई पांच मिलीमीटर से भी कम होती है. रिपोर्ट बताती है कि पीने के पानी में पाए जाने वाले कण आम तौर पर प्लास्टिक की बोतल के अंश होते हैं.
  • यूएन स्वास्थ्य एजेंसी में निदेशक डॉक्टर मारिया नाएरा ने बताया, “हमारी सीमित जानकारी के आधार पर कहा जा सकता है कि पीने के पानी में माइक्रोप्लास्टिक का मौजूदा स्तर स्वास्थ्य के लिए ख़तरा प्रतीत नहीं होता है. लेकिन हमें और ज़्यादा जानकारी हासिल की आवश्यकता है. हमें तत्काल जानना होगा कि माइक्रोप्लास्टिक का स्वास्थ्य पर क्या असर पड़ता है क्योंकि वे हर जगह हैं – हमारे पीने के पानी में भी.”
  • यूएन एजेंसी के शोध के मुताबिक़ 150 माइक्रोमीटर से बड़े माइक्रोप्लास्टिक अंशों के मानव शरीर में अवशोषित होने की संभावना कम होती है जबकि इससे छोटे कणों के शरीर में प्रवेश करने की संभावना सीमित होती है.
  • एक मीटर के दस लाखवें हिस्से से एक माइक्रोमीटर बनता है.
  • रिपोर्ट के अनुसार प्लास्टिक के सूक्ष्म कणों का अवशोषण नैनोमीटर की रेंज (मीटर का 1 अरबवां हिस्सा) में ज़्यादा हो सकता है लेकिन इस संबंध में आँकड़े बहुत सीमित है.
  • पत्रकारों ने जब टंकी के पानी और बोतलबंद पानी में प्लास्टिक प्रदूषकों के स्तर में अंतर के बारे में जब पूछा तो यूएन एजेंसी की जेनिफ़र डे फ़्रांस ने बताया कि बोतलबंद पानी में आम तौर पर कणों की संख्या ज़्यादा होती है.
  • “पीने के पानी में अक्सर पाए जाने वाले दो पॉलिमर पॉलिइथाइलीन टेरीफ़ेथेलेट (पीईटी) और पॉलीप्रोपायलीन हैं. इन पॉलीमर का इस्तेमाल पानी की बोतल बनाने और उनका ढक्कन बनाने में किया जाता है. लेकिन कुछ अन्य पॉलीमर भी पाए गए हैं इसलिए अधिक शोध की आवश्यकता है ताकि उनके स्रोत के बारे में भी किसी ठोस निष्कर्ष पर पहुंचा जा सके.”
  • चूहों में माइक्रोप्लास्टिक और नैनोप्लास्टिक के अवशोषण पर आधारित कुछ अध्ययन दर्शाते हैं कि इन कणों से लिवर में सूजन और जलन जैसे लक्षण हो सकते हैं.
  • लेकिन स्वास्थ्य संगठन की रिपोर्ट में ज़ोर देकर कहा गया कि लोगों के शरीर में प्रदूषकों का इस स्तर पर पहुंचने की संभावना कम ही है.
  • इस समस्या से पार पाने के लिए सरकारों को जल शोधन के लिए बेहतर तंत्र विकसित करने का सुझाव दिया गया है जिससे माइक्रोप्लास्टिक प्रदूषण को 90 फ़ीसदी तक कम किया जा सकता है.
  • इस रिपोर्ट में व्यापक रूप से इन चिंताओं पर भी प्रकाश डाला गया है कि लोग किस तरह चीज़ों की कम बर्बादी सुनिश्चित करके ज़्यादा टिकाऊ ढंग से जीवन जी सकते हैं.
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन के डॉक्टर ब्रूस गॉर्डन का कहना है कि उपभोक्ताओं को अधिक चिंतित नहीं होना चाहिए.

:: विविध ::

दुनिया की सबसे कीमती एथलीट

  • दुनिया की नंबर-1 महिला टेनिस खिलाड़ी नाओमी ओसाका दुनिया की सबसे कीमती एथलीट भी हैं। इंग्लैंड के प्रोफेशनल फुटबॉलर रहीम स्टर्लिंग दूसरे और अमेरिकी बास्केटबॉल खिलाड़ी जायन विलियम्सन तीसरे स्थान पर हैं। भारतीय कप्तान विराट कोहली, जो 15वें स्थान पर हैं। ये लिस्ट ब्रिटेन की स्पोर्ट्स बिजनेस कंपनी स्पोर्ट्स प्रो ने जारी की है, जिसमें खिलाड़ियों के आज के प्रदर्शन के लिहाज से उनकी अगले तीन साल की कीमत का अंदाजा लगाकर उन्हें स्थान दिया गया है।
  • यहां कीमत का खिलाड़ियों की संपत्ति से संबंध नहीं है। लिस्ट में 3 पैमानों को ध्यान रखा गया- अभी के प्रदर्शन के आधार पर अगले तीन साल में खिलाड़ी का करिअर ग्राफ, उम्र, खिलाड़ी की मास अपील। जैसे कि 21 साल की नाओमी ओसाका का अभी लंबा करियर बचा है। उन्होंने दो सिंगल्स ग्रैंडस्लैम जीते हैं और डब्ल्यूटीए रैंकिंग में नंबर-1 तक पहुंची हैं। इस लिहाज से उनका भविष्य बेहतरीन है और उन्हें लिस्ट में पहले पायदान पर रखा गया है।

आरोही पंडित

  • मुंबई की महिला पायलट आरोही पंडित ने मई महीने में अटलांटिक महासागर पार कर इतिहास रच दिया था। आरोही ने इस बार अकेले उड़ान भरकर प्रशांत महासागर पार किया है। आरोही पंडित ने भारत का परचम लहराने के लिए अलास्का से उड़ान भरी प्रशांत महासागर के बेरिंग सागर पार कर रूस पहुंची।

अजय कुमार भल्ला- देश के नए गृह सचिव

  • 1984 बैच के भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के वरिष्ठ अधिकारी अजय कुमार भल्ला को गुरुवार को देश का नया गृह सचिव बनाया गया है. इससे पहले अजय कुमार भल्ला, गृह मंत्रालय में विशेष कार्य अधिकारी (ओएसडी) सेवारत थे.

अभिनेताओं की फोर्ब्‍स 2019 लिस्ट

  • दुनिया में सबसे ज्यादा कमाने वाले एक्टर्स की लिस्ट में अक्षय चौथे पायदान पर हैं अक्षय कुमार ने सभी भारतीय एक्‍टर्स को पीछे कर दिया है जून 2018 से जून 2019 के बीच अभिनेताओं की कमाई के डेटा के आधार पर यह लिस्ट बनाई गई है अक्षय कुमार कुल कमाई 69 मिलियन डॉलर यानी करीब 486 करोड़ के साथ इस लिस्‍ट में चौथा स्‍थान पाने में कामयाब रहे हैं। इस लिस्‍ट में टॉप 10 में जगह बनाने वाले अक्षय कुमार इकलौते बॉलीवुड एक्टर हैं
  • द रॉक के नाम से मशहूर रेसलर से एक्टर बने ड्वेन जॉनसन (रॉक) दुनिया के सर्वाध‍िक कमाई करने वाले एक्‍टर बन गए हैं. फोर्ब्‍स 2019 के मुताबिक पिछले साल दूसरे नंबर पर रहे ड्वेन ने इस साल जॉर्ज क्लूनी को कमाई के मामले में पछाड़ते हुए पहले पोजीशन पर जगह बना ली है. वहीं बॉलीवुड एक्टर अक्षय कुमार का नाम इस लिस्ट में चौथे नंबर पर दर्ज है.

टीम इंडिया के सपोर्ट स्टाफ का चयन

  • बीसीसीआई की सीनियर सिलेक्शन कमिटी ने चीफ सिलेक्टर एमएसके प्रसाद के नेतृत्व में भारतीय क्रिकेट टीम के सपोर्ट स्टाफ का चयन कर लिया है।
  • पूर्व सलामी बल्लेबाज विक्रम राठौड़ भारतीय क्रिकेट टीम के नए बल्लेबाजी कोच होंगे। मुंबई इंडियंस के पूर्व फिजियो नितिन पटेल को फिर से राष्ट्रीय टीम का फिजियो बनाया गया है। वह इससे पहले 2011 में इस पद पर थे। इंग्लैंड के ल्यूक वुडहाउस को अनुकूलन कोच नियुकत किया गया है। गिरीश डोंगरी को प्रशासनिक मैनेज पद सौंपा गया है।

सुरक्षा समीक्षा के बाद भारत-पाक का डेविस कप मुकाबला स्थगित

  • अंतरराष्ट्रीय टेनिस महासंघ (आइटीएफ) ने सुरक्षा समीक्षा के बाद पाकिस्तान के खिलाफ होने वाले भारत के डेविस कप मुकाबले को नवंबर तक स्थगित कर दिया। यह मुकाबला इस्लामाबाद में 14-15 सितंबर को होना था।

डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम पुरस्कार

  • तमिलनाडु सरकार ने भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के अध्यक्ष के. सिवन को डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम पुरस्कार से सम्मानित किया है। इसरो प्रमुख ने गुरुवार को मुख्यमंत्री के. पलानीस्वामी से पुरस्कार हासिल किया। पुरस्कार के तहत आठ ग्राम का स्वर्ण पदक, पांच लाख रुपये नकद और प्रशस्ति पत्र दिया जाता है।
  • वर्ष 2015 में पूर्व राष्ट्रपति डॉ. कलाम के निधन के बाद तमिलनाडु की तत्कालीन मुख्यमंत्री जे. जयललिता ने उनके नाम पर इस पुरस्कार की घोषणा की थी। यह पुरस्कार तमिलनाडु के रहने वाले उन लोगों को दिया जाता है, जो विज्ञान व प्रौद्योगिकी, मानवता व छात्र कल्याण को बढ़ावा देने के लिए काम करते हैं।

'मालेवॉलेंट रिपब्लिक: ए शॉर्ट हिस्ट्री ऑफ द न्यू इंडिया'

  • जयराम रमेश ने राजनीतिक विश्लेषक कपिल सतीश कोमी रेड्डी की किताब 'मालेवॉलेंट रिपब्लिक: ए शॉर्ट हिस्ट्री ऑफ द न्यू इंडिया' का विमोचन किया।

शलाका सम्मान

  • दिल्ली सरकार ने हिंदी अकादमी सम्मान 2018-19 के विजेताओं की घोषणा कर दी है. हिंदी अकादमी शलाका सम्मान से डॉ. विश्वनाथ त्रिपाठी को सम्मानित किया गया है. डॉ. त्रिपाठी को 5 लाख रुपये का कैश प्राइज भी दिया जाएगा.

:: प्रिलिमिस बूस्टर ::

  • अलीबाबा अमेज़न और फ्लिपकार्ट जैसी ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के तर्ज पर भारत सरकार के द्वारा एमएसएमई कंपनियों के लिए कौन-सा प्लेटफॉर्म उपलब्ध कराए जाने की योजना है? (भारतक्राफ्ट)
  • पश्चिमी अंचल परिषद की 24 वीं बैठक कहां आयोजित की गई? (पणजी-गोवा)
  • किन संस्थाओं के द्वारा ‘सं-साधन’ हैकथॉन का आयोजन किया जाएगा? (अटल नवाचार मिशन और नीति आयोग के सहयोग से जल शक्ति मंत्रालय और दिव्‍यांगजन सशक्तिकरण विभाग द्वारा संयुक्त रूप से)
  • किस संस्था के द्वारा समग्र जल प्रबंधन सूचकांक (सीडब्‍ल्‍यूएमआई 2.0) के दूसरे दौर की रिपोर्ट जारी की जाएगी? (नीति आयोग)
  • हाल ही में जारी हुए स्टेट रूफटॉप सोलर एक्ट्रैक्टिवनेस इंडेक्स(सरल) में किस राज्य को प्रथम स्थान मिला? (कर्नाटक)
  • राष्ट्रीय पुलिस विश्वविद्यालय की स्थापना कहां की जाएगी? (ग्रेटर नोएडा)
  • टाइम्स पत्रिका की ओर से 2019 में विश्व के महानतम सूची में किन भारतीय स्थानों को जगह मिली है? (स्टैचू ऑफ यूनिटी और मुंबई का सोहो हाउस)
  • भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग के द्वारा हाल ही में किस स्थान पर उत्खनन के दौरान लौह कालीन बस्ती के प्रमाण मिले हैं? (महाराष्ट्र के फूपगांव में)
  • नेताजी सुभाष चंद्र बोस की अस्थियों को कहां पर सुरक्षित रखा गया है? (जापानी मंदिर रेनकोजी में)
  • इंडोनेशिया सरकार के द्वारा किस स्थान पर अपनी नई राजधानी स्थानांतरित करने की योजना है? (कालिमैनटन)
  • इंडोनेशिया सरकार की प्रस्तावित नई राजधानी कालिमैनटन किस द्वीप समूह पर स्थित है? (बोर्नियो द्वीप समूह)
  • हाल ही में भारत सरकार के द्वारा करदाताओं के लंबित विवादों के निपटारे हेतु किस नई योजना की शुरुआत की गई है? (समाधान योजना-सबका विश्वास-2019)
  • भारत में कितनी व्यवसाय करने वाली छोटे स्टार्टअप को कर अवकाश की सुविधा उपलब्ध होगी? (25 करोड़ रुपये तक)
  • हाल ही में किस अंतरराष्ट्रीय स्पेस एजेंसी के द्वारा फेडोर नामक रोबोट को अंतरिक्ष में भेजा गया? (रूस)
  • हाल ही में किस वैश्विक संस्था के द्वारा शोध में माइक्रोप्लास्टिक के कण को मानव स्वास्थ्य हेतु खतरनाक नहीं बताया गया है? (विश्व स्वास्थ्य संगठन-WHO)
  • ब्रिटेन की स्पोर्ट्स बिजनेस कंपनी स्पोर्ट्स प्रो. द्वारा जारी रिपोर्ट के अनुसार दुनिया का सबसे महँगा एथलीट कौन है? (नाओमी ओसाका)
  • ब्रिटेन की स्पोर्ट्स बिजनेस कंपनी स्पोर्ट्स प्रो. द्वारा जारी रिपोर्ट के अनुसार भारत का सबसे महँगा खिलाड़ी कौन है? (विराट कोहली)
  • किस भारतीय महिला पायलट के द्वारा अंटार्कटिक महासागर एवं प्रशांत महासागर को अकेले उड़ान भरकर पार करने का रिकॉर्ड बनाया गया? (आरोही पंडित)
  • हाल ही में किस वरिष्ठ अधिकारी को देश का नया गृह सचिव बनाया गया है? (अजय कुमार भल्ला)
  • फोर्ब्‍स 2019 के मुताबिक दुनिया के सर्वाधिक कमाई करने वाले अभिनेता कौन है? (ड्वेन जॉनसन - रॉक)
  • फोर्ब्‍स 2019 के मुताबिक दुनिया के सर्वाधिक कमाई करने वाले भारतीय अभिनेता कौन है? (अक्षय कुमार)
  • हाल ही में किसे भारतीय क्रिकेट टीम के बल्लेबाजी कोच के रूप में चयनित किया गया है? (विक्रम राठौड़)
  • अंतरराष्ट्रीय टेनिस महासंघ (आइटीएफ) ने सुरक्षा समीक्षा के कारण कौन-सी प्रतियोगिता का आयोजन रद्द कर दिया है? (डेविस कप)
  • डॉ. एपीजे अब्दुल कलाम पुरस्कार से किसे सम्मानित किया गया है? (के. सिवन -इसरो अध्यक्ष)
  • 'मालेवॉलेंट रिपब्लिक: ए शॉर्ट हिस्ट्री ऑफ द न्यू इंडिया' पुस्तक किसके द्वारा लिखी गई है? (राजनीतिक विश्लेषक कपिल सतीश कोमी रेड्डी)
  • हाल ही में किसे शलाका सम्मान से सम्मानित किया गया है? (डॉ विश्वनाथ त्रिपाठी)

स्रोत साभार: Dainik Jagran (Rashtriya Sanskaran), Dainik Bhaskar (Rashtriya Sanskaran), Rashtriya Sahara (Rashtriya Sanskaran) Hindustan Dainik (Delhi), Nai Duniya, Hindustan Times, The Hindu, BBC Portal, The Economic Times (Hindi & English), PTI, PIB

<< मुख्य पृष्ठ पर वापस जाने के लिये यहां क्लिक करें