(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (21 अप्रैल 2020)

दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर


(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (21 अप्रैल 2020)


:: राष्ट्रीय समाचार ::

ई-प्लेटफार्म 'शोध सिंधु'

  • कोरोनावायरस संक्रमण की रोकथाम के लिए पूरे देश में लॉकडाउन घोषित किया गया है और इस वजह से पीएचडी और एमफिल व अन्य उच्च शिक्षण संस्थानों के छात्रों की समस्याओं को कम करने के लिए ई-प्लेटफार्म 'शोध सिंधु' लाया गया है। शोध सिंधु के माध्यम से छात्रों को हजारों जर्नल और लाखों पुस्तकें ऑनलाइन उपलब्ध हो सकेंगी। शोध सिंधु अभी ess.inflibnet.ac.in नाम की वेबसाइट से उपलब्ध है।
  • मानव संसाधन विकास मंत्रालय के मुताबिक ई- प्लेटफार्म शोध सिंधु के माध्यम से छात्र को 10,000 राष्ट्रीय-अंतरार्ष्ट्रीय जर्नल और 31 लाख 35 हजार पुस्तकों उपलब्ध कराई गई हैं।

दापोरिजो पुल

  • भले ही देश भर में लॉकडाउन है, पर सीमा सड़क संगठन (बीआरओ) ने कोविड-19 के खिलाफ सर्वाधिक सावधानियों को ध्यान में रखते हुए सुबनसिरी नदी पर दापोरिजो पुल का निर्माण कर दिया है जिससे कि अरुणाचल प्रदेश में संचार की इस रणनीतिक लाइन को जोड़ा जा सके।
  • दापोरिजो पुल भारत और चीन के बीच वास्तविक नियंत्रण रेखा की दिशा में एक रणनीतिक कड़ी है। सभी आपूर्तियां, राशन, निर्माण संबंधी सामग्री और दवाएं इसी पुल से गुजरती हैं। पुराने पुल में दरार आ गई थी जिसकी वजह से 26 जुलाई 1992 जैसी बड़ी दुर्घटना हो सकती थी जब एक यात्री बस पुल से नदी में गिर गई थी और उसमें किसी की भी जान नहीं बची थी।
  • पुल के निर्माण का कार्य 23 बीआरटीएफ द्वारा 17 मार्च, 2020 को आरंभ किया गया था। आखिरकार, 27 दिनों के बाद 14 अप्रैल, 2020 को पुल को सफलतापूर्वक और सुरक्षित तरीके पुरी तरह तैयार कर दिया गया। इसे सफलतापूर्वक क्लास 24 टन से 40 टन में अपग्रेड किया गया है जिससे कि न केवल सेना की आवश्यकता वाले भारी वाहनों को इससे गुजरने में आसानी हो बल्कि अपर सुबनसिरी जिले की भविष्य संबंधी अवसंरचना विकास आवश्यकता की भी पूर्ति हो सके।

‘स्वयं’ और ‘स्वयं प्रभा’ की समीक्षा बैठक

  • केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री, श्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने राष्ट्रीय ऑनलाइन शिक्षा पोर्टल ‘स्वयं’ और डीटीएच के माध्यम से प्रसारित किए जाने वाले शिक्षा चैनल ‘स्वयं प्रभा’ की विस्तृत समीक्षा की। ‘स्वयं प्रभा’ डीटीएच के 32 चैनलों पर उपलब्ध है।

स्वयं

  • ‘स्वयं’ पर वर्तमान में 1902 पाठ्यक्रम उपलब्ध हैं। इसकी शुरुआत के बाद से अबतक देशभर में 1.56 करोड़ छात्रों के लिए इसे उपलब्ध कराया जा चुका है। वर्तमान में, 26 लाख से अधिक छात्र इसके जरिए  574 पाठ्यक्रम का लाभ ले रहे हैं। इनमें से , 1509 पाठ्यक्रम स्व-अध्ययन के लिए उपलब्ध कराए गए हैं। ‘स्वयं’- दो के तहत ऑनलाइन डिग्री पाठ्यक्रम की सुविधा उपलब्ध कराने की भी तैयारी है। एआईसीटीई मॉडल के पाठ्यक्रम जैसे पाठ्यक्रम स्वयंम पर भी शुरु करने का इंतजाम किया जा रहा है। इसके लिए उन कमियों की पहचान की गई है जिन्हें दूर किया जाना है। यूजीसी की एक समिति द्वारा गैर-तकनीकी पाठ्यक्रमों के लिए भी ऐसी ही तैयारी की जा रही है। 

स्वयं प्रभा

  • स्वयं प्रभा डीटीएच के 32 चैनलों का एक समूह है जो संचार उपग्रह जीसैट -15 के माध्यम से 24X7 आधार पर उच्च गुणवत्ता वाले शैक्षिक कार्यक्रमों के प्रसारण के लिए समर्पित है। इस पर प्रत्येक दिन , कम से कम चार घंटे के लिए नई सामग्री होगी जो एक दिन में 5 बार दोहराई जाएगी, जिससे छात्र अपनी सुविधा के अनुरूप इसका इस्तेमाल कर सकेंगे।

प्लाज्मा थेरेपी से देश में पहली बार कोरोना का सफल इलाज

  • दुनियाभर में अबूझ पहेली बन चुके कोरोना संक्रमण के इलाज में प्लाज्मा थेरेपी ने उम्मीद की किरण दिखाई है। देश में पहली बार इस थेरेपी से 49 वर्षीय गंभीर रूप से संक्रमित व्यक्ति का सफल इलाज किया गया है। यह सफलता दिल्ली के निजी अस्पताल मैक्स के डॉक्टरों ने हासिल की है। इस थेरेपी से चार दिन में ही मरीज के ठीक होने से चिकित्सक बेहद उत्साहित हैं।

क्या है प्लाज्मा तकनीक?

  • हमारा खून चार चीजों से बना होता है। रेड ब्लड सेल, वाइट ब्लड सेल, प्लेट्लेट्स और प्लाज्मा। इसमें प्लाज्मा खून का तरल हिस्सा है। इसकी मदद से ही जरूरत पड़ने पर एंटीबॉडी बनती हैं। कोरोना अटैक के बाद शरीर वायरस से लड़ना शुरू करता है। यह लड़ाई एंटीबॉडी लड़ती है जो प्लाज्मा की मदद से ही बनती हैं। अगर शरीर पर्याप्त एंटी बॉडी बना लेता है तो कोरोना हार जाएगा। मरीज के ठीक होने के बाद भी एंटीबॉडी प्लाज्मा के साथ शरीर में रहती हैं, जिन्हें डोनेट किया जा सकता है।

लोक सेवा दिवस: 21 अप्रैल

  • राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, उपराष्ट्रपति एम वेंकैया नायडू और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोक सेवा दिवस पर लोक सेवकों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि स्वास्थ्य कर्मियों की तरह, लोक सेवक भी कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई का नेतृत्व कर रहे हैं।
  • प्रशासनिक सुधार और लोक शिकायत विभाग के अनुसार, लोक सेवा दिवस 21 अप्रैल को मनाया जाता है क्योंकि 1947 में इसी दिन, देश के पहले गृह मंत्री सरदार वल्लभभाई पटेल ने प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों को संबोधित किया था। उन्होंने लोक सेवकों को ‘भारत का स्टील फ्रेम’ कहा था।

जान गंवाने वाले कोरोना वॉरियर्स को शहीद का दर्जा देगी ओडिशा सरकार

  • कोरोना के खिलाफ लड़ाई लड़ रहे योद्धाओं को ओडिशा सरकार (Odisha government) सम्मान देगी। पटनायक सरकार ने फैसला लिया है कि कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहे कोरोना वॉरियर्स (Corona warriors) अगर जान गवांते हैं तो उनके सरकार शहीद का दर्जा देगी। इतना ही नहीं ऐसे लोगों के परिवार को आर्थिक मदद देते हुए 50 लाख रुपये भी दिए जाएंगे।
  • मुख्यमंत्री नवीन पटनायक (Naveen patnaik) ने बताया कि कोरोना काल में मरीजों का इलाज कर रहे डॉक्टर और इससे जुड़ी सेवाओं में लगे कर्मचारियों के लिए सरकार ने पहल की है। ऐसे लोगों के साथ अगर कोई अनहोनी होती है तो सरकार उन्हें शहीद का दर्जा देगी। ऐसे लोगों का राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया जाएगा। सरकार इन सभी कोरोना वॉरियर्स के लिए खास योजना तैयार की है। योजना के तहत इन लोगों को अवॉर्ड दिए जाएंगे। ये अवॉर्ड राष्ट्रीय दिवसों (National days) पर दिए जाने का फैसला लिया गया है।
  • ओडिशा सीएम (Odisha chief minister) ने कहा कि योजनाओं के साथ ही राज्य सरकार ने कोरोना वॉरियर्स के साथ अभद्रता करने वालों के खिलाफ भी सख्ती दिखाएगी। स्वास्थ्य कर्मियों के खिलाफ कोई भी कृत्य बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। यदि कोई भी किसी ऐसे कार्य में लिप्त होता है, और स्वास्थ्य कर्मियों के काम में खलल डालेगा या उन्हें बेइज्जती करेगा, तो उनके खिलाफ बहुत कड़ी आपराधिक कार्रवाई की जाएगी। ऐसे लोगों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (NSA) के प्रावधान के तहत कार्रवाई करने का आदेश दिया है।

:: अंतर्राष्ट्रीय समाचार ::

'वन वर्ल्ड टुगेदर एट होम'

  • ग्लोबल सिटिजन और वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (WHO) द्वारा मिलकर ऑनलाइन ग्लोबल कॉन्सर्ट 'वन वर्ल्ड टुगेदर एट होम', आयोजित कराया था। नीलसन मैगजीन के आंकड़ों के अनुसार, 20.7 मिलियन दर्शकों ने इसमें ऑनलाइन भाग लिया।
  • नीलसन के अनुसार, यह 18 अप्रैल को 'टेलीविज़न पर सबसे अधिक सामाजिक प्रसारण' भी था और मार्च और अप्रैल के पूरे महीनों में 'सबसे सामाजिक टीवी विशेष' था। वैरायटी के अनुसार, वह संगीत जिसमें लेडी गागा, टेलर स्विफ्ट, एल्टन जॉन, ने इस कार्यक्रम के जरिए कोरोना वायरस रिलीफ फंड के लिए 127.9 मिलियन अमरीकी डालर से अधिक धनराशि जुटाई जिसका इस्तेमाल लोगों की मदद के लिए किया जाएगा। करीब 55 USD मिलियन को COVID-19 सॉलिडैरिटी रिस्पॉन्स फंड को दान के रूप में दिया जाएगा और USD के लिए लगभग 73 मिलियन लोगों को दान किया जाएगा।
  • शो में शामिल होने वाले कुछ कलाकार एल्टन जॉन, लिज़ो, जेनिफर लोपेज़, लेडी गागा, मैडोना, प्रियंका चोपड़ा, शाहरुख खान, सेलीन डायोन और रोलिंग स्टोन हैं। इस शो की मेजबानी सबसे लोकप्रिय मेजबान जिमी किमेल, जिमी फॉलन और स्टीफन कोलबर्ट ने की थी। जानकारी के लिए बता दें कि दुनियाभर में कोरोना वायरस से संक्रमित होने वाले लोगों की संख्या 20 लाख के करीब पहुंच गई हैं।

FATF से बचने के लिए पाकिस्तान का नया पैंतरा

  • पाकिस्तान ने फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (FATF) से बचने के लिए नया पैंतरा खोज निकाला है। पाक ने अपनी आतंकवादी निगरानी सूची (Terrorists Watch List) से चुपचाप लगभग 1,800 आतंकवादियों को हटा दिया है। इसमें 2008 मुंबई अटैक का मास्टर माइंड और लश्कर-ए-तैयबा का कमांडर जकीउर रहमान लखवी शामिल है।
  • इस प्रकार की सूची को पाकिस्तान की नैशनल काउंटर टेररिज्‍म अथार्टी द्वारा संचालित किया जाता है। इसका उद्देश्य वित्तीय संस्थानों को संदिग्ध आतंकवादियों के साथ लेनदेन करने से रोकना है। न्यूयॉर्क स्थित रेगुलेटरी टेक्नॉलॉजी कंपनी Castellum.AI के अनुसार, 2018 की सूची में लगभग 7,600 नाम थे, लेकिन यह पिछले 18 महीनों में कम होकर 3,800 ही रह गए हैं। कैस्टेलम द्वारा एकत्र आंकड़ों के अनुसार, मार्च की शुरुआत से लगभग 1,800 नाम हटा दिए गए हैं।

पृष्ठभूमि

  • पेरिस स्थित फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स (एफएटीएफ) ने पाकिस्‍तान को 27 बिंदुओं पर ऐक्‍शन लेने के लिए जून तक का वक्‍त दिया है। एफएटीएफ ने फरवरी में कहा था कि उसकी ओर से दिए गए 27 कार्यों में से 13 को पाकिस्‍तान पूरा नहीं कर पाया है। जबकि ये 13 कार्रवाइयां ज्यादातर आतंकी फंडिंग से संबंधित हैं। माना जा रहा है कि पाकिस्तान ने ऐसा एफएटीएफ की ग्रे लिस्ट से बचने के लिए किया है।

FATF- फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स  क्या है?

  • यह एक अंतर-सरकारी निकाय है जिसे फ्रांस की राजधानी पेरिस में जी7 समूह के देशों द्वारा 1989 में स्थापित किया गया था।
  • इसका काम अंतरराष्ट्रीय स्तर पर धन शोधन (Money Laundering), सामूहिक विनाश के हथियारों के प्रसार और आतंकवाद के वित्तपोषण जैसी गतिविधियों पर नजर रखना है।
  • इसके अलावा एफएटीएफ वित्त विषय पर कानूनी, विनियामक और परिचालन उपायों के प्रभावी कार्यान्वयन को बढ़ावा भी देता है।
  • एफएटीएफ के निर्णय लेने वाले निकाय को एफएटीएफ प्लेनरी कहा जाता है। इसकी बैठक एक साल में तीन बार होती है।

संयुक्त राष्ट्र ने मध्य अफ्रीकी गणराज्य के विद्रोही नेता मिस्कीन पर प्रतिबंध लगाया

  • संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने सोमवार को मध्य अफ्रीकी गणराज्य के विद्रोही नेता अब्दुलाये मिस्कीन पर प्रतिबंध लगा दिया, जिन्होंने पिछले साल सरकार और सशस्त्र समूहों के बीच शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। डेमोक्रटिक फ्रंट ऑफ सेंट्रल अफ्रीकन पीपल (एफडीपीसी) के संस्थापक और प्रमुख मिस्कीन को फरवरी 2019 के समझौते के तहत एक सरकारी पद की पेशकश की गई थी। हालांकि, प्रतिबंधों की निगरानी करने वाले संयुक्त राष्ट्र के विशेषज्ञों की अंतिम रिपोर्ट में कहा गया था कि स्व-घोषित जनरल लड़ाकों की तलाश कर रहे हैं। ‘‘समझौते पर हस्ताक्षर करने के बावजूद, मिस्कीन उस क्षेत्र की शांति, स्थिरता और सुरक्षा के लिए खतरा बना हुए हैं।

:: भारतीय अर्थव्यवस्था ::

न्यू डेवलपमेंट  बैंक के संचालक मंडल की पांचवीं वार्षिक बैठक

  • केंद्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट कार्य मंत्री श्रीमती निर्मला सीतारमण ने आज नई दिल्ली में वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से न्यू डेवलपमेंट बैंक के संचालक मंडल (बोर्ड ऑफ गवर्नर्स) की पांचवीं वार्षिक बैठक में भाग लिया।

पृष्ठभूमि

  • न्यू डेवलपमेंट बैंक (एनडीबी) को ब्रिक्स के सदस्‍य देशों (ब्राजील, रूस, भारत, चीन और दक्षिण अफ्रीका) द्वारा फोर्टालेजा घोषणा पत्र 2014 के द्वारा वर्ष 2014 में स्थापित किया गया था। एनडीबी का उद्देश्य ब्रिक्स और अन्य उभरती बाजार अर्थव्यवस्थाओं तथा विकासशील देशों में बुनियादी ढांचे एवं सतत विकास परियोजनाओं के लिए व्‍यापक संसाधन जुटाना है, ताकि वैश्विक प्रगति व विकास के लिए बहुपक्षीय और क्षेत्रीय वित्तीय संस्थानों द्वारा वर्तमान में किए जा रहे प्रयासों में तेजी लाई जा सके।

:: विज्ञान और प्रौद्योगिकी ::

कोरोना की ही तरह जीका वायरस की आज तक कोई वैक्‍सीन

  • पूरी दुनिया आज कोरोना वायरस के शिकंजे में बुरी तरह से जकड़ी हुई है। अब तक इसकी कोई वैक्‍सीन भी सामने नहीं आई है। इस वजह से भी इसके मरीज लगातार बढ़ते जा रहे हैं। लेकिन क्‍या आपको पता है कि जैसे इस बीमारी का कोई इलाज नहीं है वैसे ही एक और बीमारी है जिसका आज तक कोई इलाज नहीं तलाशा गया था। इसका नाम है जीका वायरस। ये एक विषाणु है जो दिन के समय सक्रिय होता है। यूं तो 50 के दशक में ही इस बीमारी का पता चल गया था, लेकिन इसकी वैक्‍सीन को आज तक दुनिया इंतजार ही कर रही है। कोरोना की ही तरह इस वायरस से बचाव के इंसान की अपनी जागरुकता पर टिका है।
  • शुरुआत में यह अफ्रीका से एशिया तक फैला और फिर 2014 में प्रशांत महासागर से फ्रेंच पॉलीनेशिया तक और उसके बाद 2015 में यह मेक्सिको, मध्य अमेरिका तक भी पहुंच गया। वर्ष 2007 में फेडरेटेड स्टेट्स ऑफ माइक्रोनेशिया द्वीप से इसके मरीज सामने आए थे। इसके बाद 2013 में फ्रेंच पोलिनेशिया और प्रशांत में अन्य देशों और क्षेत्रों में जीका वायरस के संक्रमण का बड़ा प्रकोप हुआ था। मार्च 2015 में, ब्राजील ने दाने की बीमारी के एक बड़े प्रकोप की सूचना दी, जिसे जल्द ही जीका वायरस संक्रमण के रूप में पहचाना गया, और जुलाई 2015 में, गुइलेन-बैरे सिंड्रोम से जुड़ा पाया गया। आज तक, कुल 86 देशों और क्षेत्रों में मच्छरों से फैलने वाले जीका संक्रमण के प्रमाण मिले हैं।
  • कोरोना वायरस की ही तरह इसका पता भी 3-14 दिनों में पता चलता है। इससे संक्रमित अधिकांश लोगों में इसके लक्षण का पता चल पाना मुश्किल होता है। इसके लक्षण के तौर पर बुखार, शरीर पर उभरे दाने, मांसपेशियों और जोड़ों के दर्द, सिरदर्द है जो 2-7 दिनों तक रहते हैं।
  • जीका वायरस मुख्य रूप से एडीज जीन से संक्रमित मच्छर के काटने से फैलता है। ये मच्छर आम तौर पर दिन के दौरान काटते हैं। इसी मच्‍छर की वजह से जिसकी वजह से डेंगू, चिकनगुनिया और येलो फीवर होता है।
  • जीका वायरस से बचाव के लिए अपने आस पास की जगह को साफ रखना जरूरी है। कोरोना में जिस तरह से हाथों को बार-बार धोने की सलाह दी जा रही है वैसे ही यदि अपने आसपास की जगहों पर पानी नहीं भरने देंगे तो मच्‍छर भी वहां पैदा नहीं होंगे। गर्भवती महिलाओं को इससे अधिक सचेत रहने की जरूरत है। जीका वायरस संक्रमण की रोकथाम या उपचार के लिए अभी तक कोई टीका उपलब्ध नहीं है। जीका वैक्सीन का विकास अनुसंधान का एक सक्रिय क्षेत्र बना हुआ है।

लाल चींटियों का सेवन से बढती है रोग प्रतिरोधक क्षमता

  • कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए इन दिनों शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता (इम्यूनिटी) बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है। उधर, बस्तर के आदिवासियों का खान-पान और रहन सहन ऐसा है कि यहां इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए अलग से प्रयास करने की जरूरत शायद ही पड़े। आदिवासी कई तरह के कंद मूल, औषधीय गुणों वाली भाजी आदि खाते हैं। हालांकि, सबसे ज्यादा चर्चा जिस बस्तरिया डिश की होती है, उसका नाम है चापड़ा चटनी। चापड़ा चटनी लाल चींटियों को पीसकर बनाई जाती है। आदिवासी बड़े चाव से इसका सेवन करते हैं। बस्तर के हाट बाजार में दस रुपये में एक दोना चापड़ा चटनी मिल जाती है। कहा जाता है कि यह रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाती है। चापड़ा चटनी की ख्याति अब सात समंदर पार तक हो चली है। इंग्लैंड के विश्वप्रसिद्ध सेफ गार्डन रामसे ने बस्तर की चापड़ा चटनी और पुडगा चिकन (तेल मसाले के बिना हरे पत्तों में लपेटकर पकाया गया चिकन) को अपने मेन्यू में शामिल किया है।

बुखार आने पर इनसे कटवाते हैं

  • माना जाता है कि लाल चींटियों के सेवन से ज्वर (बुखार) उतर जाता है। बुखार आने पर आदिवासी इनसे अपने शरीर को कटवाते भी हैं। अगर लाल चींटी किसी को काट ले तो व्यक्ति ऐसे ही त्रहिमाम करने लगेगा, लेकिन दंडकारण्य में ऐसे कई अजूबे हैं, जो सदियों से परंपरा में रहे और आधुनिक युग में जिनकी वैज्ञानिकता प्रमाणित हो रही है। चापड़ा चटनी ऐसे ही अजूबों में शुमार है। बस्तर के अलावा ओडिशा व झारखंड के आदिवासी इलाकों में भी चापड़ा चटनी लोकप्रिय है।

साल वृक्ष के पत्तों पर होती हैं

  • बड़े आकार की लाल चींटियां साल वृक्ष के पत्तों पर अपनी लार से एक विशेष प्रकार का घोंसला बनाती हैं। इन घोंसलों को ही गुड़ा या चापड़ा कहा जाता है। यहां से चींटी निकालने के लिए पहले जमीन पर कपड़े को बिछा दिया जाता है। फिर जिस टहनी पर चींटी का घोंसला होता है, उसे काटकर चींटियों को गिरा लिया जाता है। आदिवासी चींटियों और उनके अंडे सभी कुछ चटनी के रूप में पीसते हैं। चींटियों को अदरक, लहसुन, मिर्च, धनिया व थोड़ी शक्कर के साथ पीसा जाता है।

ये है लाल चींटियों की खासियत

  • चापड़ा चटनी में बहुतायत में फार्मिक एसिड होता है। इसमें प्रचुर मात्र में प्रोटीन, जिंक, कैल्शियम तथा विटामिन बी-12 होता है। विटामिन बी-12 तंत्रिका तंत्र के विकास में महत्वपूर्ण योगदान करता है। चापड़ा चटनी के सेवन से याददाश्त मजबूत होती है। ब्राजील, चीन, ऑस्ट्रेलिया में लाल चींटियों पर हुए अध्ययन से पता चला है कि इन में बायो पेस्टिसाइड के गुण होते हैं। फलों के बगीचे में इन चींटियों को छोड़ने से कीट प्रकोप खत्म हो जाता है। बस्तर के आदिवासी खासतौर पर बुखार, मलेरिया व पीलिया की दवा के रूप में भी चापड़ा चटनी का सेवन करते हैं।

:: विविध ::

आईलीग में मोहन बागान बना चैंपियन

  • अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ (एआईएफएफ) के कार्यकारी पैनल ने मंगलवार को अपनी लीग समिति की सिफारिशों को स्वीकृति दे दी जिसमें कोरोना वायरस के कारण देश भर में लाकडाउन को देखते हुए आईलीग के बाकी बचे 28 मैचों को रद्द करने और शीर्ष पर चल रहे मोहन बागान को चैम्पियन घोषित करने की सिफारिश की गई थी।समिति के फैसलों के अनुसार 2019-20 सत्र संपन्न माना जाएगा और मोहन बागान को 2019-20 सत्र का विजेता घोषित किया गया।

:: प्रिलिम्स बूस्टर ::

  • हाल ही में उच्च शिक्षण संस्थानों के शोध कर रहे छात्रों को पुस्तकें एवं जर्नल उपलब्ध करवाने के लिए किस ऑनलाइन प्लेटफॉर्म की शुरुआत की गई है? (शोध सिंधु)

  • चर्चा में रहे सीमा सड़क संगठन (BRO) द्वारा बनाए गए ‘दापोरिजो पुल’का निर्माण कहाँ और किस नदी पर किया गया है? (अरुणाचल प्रदेश,  सुबनसिरी नदी)

  • हाल ही में चर्चा में रहे ‘स्वयं’ और ‘स्वयं प्रभा’ क्रमशः क्या है? (क्रमशः राष्ट्रीय ऑनलाइन शिक्षा पोर्टल और शैक्षणिक चैनल)

  • हाल ही में चर्चा में रहे न्यू डेवलपमेंट बैंक (NDB) की स्थापना किस संधि के तहत की गई थी एवं इसका मुख्यालय कहाँ है? (फोर्टालेजा घोषणा पत्र 2014, शंघाई- चीन)

  • चर्चा में रहे ऑनलाइन ग्लोबल कॉन्सर्ट 'वन वर्ल्ड टुगेदर एट होम' का आयोजन किन संस्थाओं के द्वारा कराया गया? (ग्लोबल सिटीजन और विश्व स्वास्थ्य संगठन)

  • हाल ही में चर्चा में रहे फाइनेंशियल एक्शन टास्क फोर्स का गठन कब किया गया था एवं इसका मुख्यालय कहाँ है? (1989, पेरिस-फ्रांस)

  • किसके उपलक्ष्य में प्रत्येक 21 अप्रैल को ‘लोक सेवा दिवस’ मनाया जाता है? (1947 में प्रथम बार सिविल सेवकों को सरदार बल्लभ भाई पटेल द्वारा संबोधन)

  • हाल ही में अखिल भारतीय फुटबॉल महासंघ द्वारा किसे ‘आईलीग’ 2019-20  सत्र का विजेता घोषित किया गया? (मोहन बागान)

  • चर्चा में रहे जीका वायरस का संक्रमण किससे होता है? (एडीज जीन से संक्रमित मच्छर के काटने से)

  • कोविड-19  से संक्रमित मरीज का प्लाजमा थेरेपी से सफलतम इलाज करने वाला भारत का प्रथम अस्पताल कौन है? (मैक्स हॉस्पिटल, दिल्ली)

  • किस राज्य के द्वारा कोरोना वारियर्स को सेवा के दौरान जान गवाने पर शहीद का दर्जा देने की घोषणा की है? (ओडिशा सरकार)

  • संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने मध्य अफ्रीकी गणराज्य के किस नेता पर प्रतिबंध लगा दिया है? (अब्दुलाये मिस्कीन-डेमोक्रटिक फ्रंट ऑफ सेंट्रल अफ्रीकन पीपल के संस्थापक)

 

 

 

स्रोत साभार: Dainik Jagran (Rashtriya Sanskaran), Dainik Bhaskar (Rashtriya Sanskaran), Rashtriya Sahara (Rashtriya Sanskaran) Hindustan Dainik (Delhi), Nai Duniya, Hindustan Times, The Hindu, BBC Portal, The Economic Times (Hindi & English), PTI, PIB

<< मुख्य पृष्ठ पर वापस जाने के लिये यहां क्लिक करें