(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (16 जनवरी 2020)

दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर


(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (16 जनवरी 2020)


:: राष्ट्रीय समाचार ::

एनुअल स्टेटस ऑफ एजुकेशन रिपोर्ट: असर

  • देश की शिक्षा व्यवस्था का आधार स्कूली शिक्षा मानी जाती है. बच्चों के प्रारंभिक ज्ञान की नींव स्कूली शिक्षा होती है. हमारे स्कूलों में हो रही पढ़ाई और उसमें पढ़ने आने वाले बच्चों की स्थिति क्या है? वो कितनी कारगार है और इसमें कितनी सुधार की गुंजाइश है। इसको लेकर शिक्षा की स्थिति पर सर्वे करने वाली संस्था ‘प्रथम एजुकेशन फाउंडेशन’ ने अपनी वार्षिक रिपोर्ट ‘असर’ यानी एनुअल स्टेटस ऑफ एजुकेशन रिपोर्ट जारी की है.
  • यह सर्वे देश के 24 राज्यों के बच्चों पर किया गया है. यह सर्वे 596 जिलों के 3,54,944 परिवारों और तीन से 16 साल के 5,46,527 बच्चों की बातचीत पर आधारित है. असर की टीम हर एक चुने हुए गांवों के प्राथमिक कक्षाओं वाले सरकारी स्कूल पहुंची. यहां कक्षा एक से आठ तक के प्राथमिक विद्यालयों में छात्रों से बात-चीत और सवाल-जवाब के आधार पर रिपोर्ट को तैयार किया गया है. सर्वेक्षण के दौरान टीम ने देश भर के 15,998 सरकारी विद्यालयों में पहुंचे. इनमें 9,177 प्राथमिक और 6821 उच्च प्राथमिक विद्यालय थे. यह संख्या 2016 में किए गए उच्च प्राथमिक विद्यालयों की संख्या से 13.6 फीसदी अधिक थी.

रिपोर्ट के मुख्य बिंदु

  • असर द्वारा किए गए इस सर्वे में तीन बड़े पहलुओं को ध्यान में रखा गया है. बच्चों का स्कूल में दाखिला, किताबों को पढ़ने, गणित की क्षमता और स्कूल में उपलब्ध बुनियादी सुविधाएं.
  • देश की जनसंख्या में 14-18 साल तक के बच्चों की संख्या 10 फीसदी के आसपास है. यानी लगभग साढ़े बारह करोड़.
  • बड़ी कक्षाओं जैसे सातवीं- आठवीं में पढ़ रहे बच्चों को जोड़-घटाव जैसा हल्का फुल्का गणित भी नहीं आता है.
  • रिपोर्ट के अनुसार 2018 में स्कूल में दाखिला नहीं लेने वाले 6-14 साल की उम्र के बच्चों का प्रतिशत तीन फीसदी से गिरकर 2.8 फीसदी पहुंच गया है.
  • असर की रिपोर्ट के मुताबिक कक्षा 3 से 5 तक के छात्रों की स्थिति तो बेहतर है लेकिन कक्षा 8 तक आते-आते उनके प्रदर्शन में गिरावट आनी शुरू हो जाती है.
  • रिपोर्ट के अनुसार आठवीं कक्षा के 56 फीसदी बच्चें को गणित अभी भी छकाती है.
  • 14 साल की उम्र के करीब 47 फीसदी बच्चे अंग्रेजी के साधारण वाक्य भी नहीं पढ़ सकते हैं. इस आयु वर्ग के 25 फीसदी छात्र ऐसे हैं जो बिना रुके अपनी भाषा भी नहीं पढ़ सकते हैं.
  • लड़कियों का प्रदर्शन पढ़ाई के मामले में लड़कों से अच्छा है लेकिन जब बात सामान्य अंकगणित की आती है तो लड़के आगे हो जाते हैं. रिपोर्ट में 14 से 16 साल उम्र के सभी लड़कों में से 50 फीसदी गणित के साधारण सवालों को हल कर लेते हैं जबकि 44 फीसदी लड़कियां ही ऐसा कर पाती हैं.
  • लड़के-लड़कियों में समानता के हिसाब से सर्वे बेहद निराश करने वाला है. स्कूली शिक्षा के दायरे से बाहर रहने वाली 11-14 साल उम्र वर्ग की लड़कियों का अनुपात 2006 के 10.3 फीसदी से घटकर 2018 में 4.1 फीसदी हो गया है. सर्वे के मुताबिक 12वीं कक्षा तक पहुंचते ही लड़के-लड़कियों में पढऩे की क्षमता में भारी अंतर देखने को मिलता है. 2018 में 8-10 उम्र वर्ग की 36.8 फीसदी लड़कियां कक्षा 2 तक की किताबें पढ़ लेती हैं जबकि केवल 33.2 फीसदी लड़के ही ऐसा कर सकते हैं.

राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनपीआर)

  • राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (एनपीआर) को लेकर भ्रम दूर करने में जुटी सरकार ने एनपीआर फार्म में अहम बदलाव किए हैं। अब पैन की जानकारी नहीं देनी होगी साथ ही बायोमेट्रिक भी नहीं मांगा जाएगा। किसी भी तरह का दस्तावेज भी नहीं देना होगा। बस लोगों को सही जानकारी देनी होगी।
  • एनपीआर में गणना अधिकारी आधार नंबर, मोबाइल नंबर और ड्राइविंग लाइसेंस नंबर मांगेंगे। सिर्फ इनकी जानकारी देनी होगी, कागज नहीं देना होगा। अगर नहीं है तो भी कोई बात नहीं। गणना अधिकारी की ओर से मांगी गई जानकारी न देने पर जुर्माने का प्रावधान है लेकिन जुर्माना लेने पर सरकार का रुख लचीला है।
  • एनपीआर के सवालों को लेकर भी अभी फीडबैक लिया जा रहा है और जरूरी होने पर कुछ और बदलाव किए जा सकते हैं। सूत्रों ने कहा, इस बार एनपीआर में कई नए सवाल शामिल किए गए हैं। जैसे मातृभाषा क्या है, मकान मालिक पहले कहां रहते थे, उनका जन्म स्थान और अभिभावकों की जानकारी।
  • एनपीआर और जनगणना का फॉर्म अलग-अलग होगा। जनगणना 2021 के पहले चरण में मकानों को चिह्नित करने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी जबकि दूसरे चरण में व्यक्ति विशेष की जानकारी ली जाएगी। पहले चरण में 34 सवाल पूछे जाएंगे।
  • जैसे घर में इंटरनेट है या नहीं, पुरुष-महिला या ट्रांसजेंडर कौन घर का मुखिया है, पानी पीने के लिए सप्लाई पानी पर निर्भर हैं या पैकेज पानी पीते हैं। यह पहली बार पूछा जाएगा कि किस तरह का शौचालय इस्तेमाल करते हैं व्यक्तिगत, परिवार के साथ या सार्वजनिक, घर के मालिक का कहीं और घर है या नहीं, एलपीजी कनेक्शन, रेडियो ,टीवी, मोबाइल है या नहीं, बैंक अकाउंट के बारे में हर किसी से जानकारी ली जाएगी। घर में मोबाइल नंबर कितने हैं, इसकी जानकारी देना चाहें तो दे सकते हैं। पहला चरण एक अप्रैल से 30 सितंबर के बीच पूरा किया जाएगा।
  • फरवरी 2021 से दूसरा चरण शुरू होगा। इसमें घर में कितने लोग रह रहे हैं इसकी जानकारी ली जाएगी जिससे ये पता चल सके कि गणना करने वाला शख्स कितनी जनसंख्या कवर कर रहा है।

बंगाल-केरल को छोड़ सभी राज्यों ने अधिसूचना जारी की

  • नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी पर मचे घमासान के बीच केरल व पश्चिम बंगाल को छोड़कर सभी राज्यों ने राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) की फिर से अधिसूचना जारी की है। केरल और पश्चिम बंगाल ने केंद्र सरकार को बताया है कि वह अभी इसे लागू करने के पक्ष में नहीं हैं। सरकारी सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी। राज्य सरकारों का यह रुख पहले से काफी अलग है। पहले तमाम राज्य सरकारों ने एनपीआर लागू नहीं करने की बात कही थी, इनमें से ज्यादातर वैसे राज्य हैं जहां विपक्षी दलों की सरकार है।

क्या है एनपीआर?

  • एनपीआर देश में रहने वाले निवासियों का रजिस्टर है। नागरिकता कानून 1955 और नागरिकता (नागरिकों का पंजीकरण और राष्ट्रीय पहचान पत्र) नियम, 2003 के प्रावाधनों तहत यह स्थानीय (गांव/कस्बा) उप जिला, जिला, राज्य और राष्ट्रीय स्तर पर तैयार किया जाता है। नियम में इसका उल्लंघन करने वाले पर एक हजार रुपये के जुर्माने का भी प्रावधान है। असम को छोड़कर पूरे देश के राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में एनपीआर की कवायद वर्ष 2020 में अप्रैल से सितंबर के बीच पूरी की जानी है। एनपीआर की कवायद के लिए केंद्रीय मंत्रिमंडल ने 3941.35 करोड़ रुपए मंजूर किए हैं।

72वां सेना दिवस

  • फील्ड मार्शल केएम करियप्पा के सम्मान में हर साल 15 जनवरी को सेना दिवस मनाया जाता है। करियप्पा भारतीय सेना के पहले कमांडर-इन-चीफ थे जिन्होंने 15 जनवरी 1949 में सर फ्रैंसिस बुचर से प्रभार लिया था। करियप्पा ने 1947 में पश्चिमी सीमा पर भारत-पाक के बीच हुए युद्ध में भारतीय सेना का नेतृत्व किया था। वह 14 जनवरी 1986 को फील्ड मार्शल का खिताब प्राप्त करने वाले दूसरे व्यक्ति थे। 1973 में भारत के पहले फील्ड मार्शन बनने का सम्मान सैम मानेकशॉ को है।
  • इस बार 72वें सेना दिवस पर होने वाली को पहली बार एक महिला अधिकारी कैप्टन तानिया शेरगिल ने पुरुषों की सभी टुकड़ियों का नेतृत्व किया। तानिया शेरगिल सेना के सिग्नल कोर में कैप्टन हैं। इलेक्ट्रॉनिक्स एवं कम्युनिकेशंस में बीटेक करने वाली तानिया शेरगिल मार्च 2017 में चेन्नई के ऑफिसर ट्रेनिंग अकादमी से सेना में शामिल हुई थीं।

जल्लीकट्टू विवाद

  • तमिलनाडु में पोंगल के दौरान खेला जाने वाला प्राचीन खेल जल्लीकट्टू पर मद्रास हाईकोर्ट के आदेश को चुनौती देने वाली याचिका पर विचार करने से सुप्रीम कोर्ट ने इन्कार कर दिया है। मद्रास हाईकोर्ट ने एक सेवानिवृत्त जिला न्यायाधीश की अध्यक्षता में निगरानी समितियों के अधीन इसे आयोजित करने का आदेश दिया था।

पृष्ठभूमि

  • जल्लीकट्टू खेल का आयोजन फसलों की कटाई के दौरान पोंगल पर होता है। जल्लीकट्टू का पशुप्रेमी द्वारा काफी विरोध किया जाता है। सुप्रीम कोर्ट ने इसे एक याचिका पर साल 2014 में प्रतिबंध लगा दिया था। इस फैसले का काफी विरोध हुआ था। लोग सड़क पर उतर आए थे और बाद में सरकार ने एक अध्यादेश पास करके इसके आयोजन को अनुमति दे दी थी।
  • इससे बार भी 15 जनवरी को जल्लीकट्टू की शुरुआत मदुरै में हुई। 21 वर्ष से कम उम्र के युवाओं को पालमेडु और अलंगनल्लूर में आयोजित जल्लीकट्टू में भाग लेने की अनुमति नहीं दी गई है। मद्रास हाई कोर्ट की मदुरै बेंच द्वारा नियुक्त किए गए सेवानिवृत्त प्रधान जिला न्यायाधीश सी. मणीकम ने मदुरै में आयोजन स्थल का दौरा किया।

BBC हिंदी रेडियो

  • दशकों से लोकप्रिय बीबीसी रेडियो प्रसारण की हिंदी सेवा 31 जनवरी को आखिरी बार प्रसारित होगी। 1940 में 11 मई को शुरू हुई हिंदी सेवा को बीते लगभग एक दशक से बंद करने की प्रक्रिया शुरू हुई थी, जो अब पूरी होने जा रही है। 'नमस्कार भारत' का आखिरी प्रसारण 27 दिसंबर को हुआ और अब उसके एक मात्र बचे कार्यक्रम 'दिन भर' का आखिरी प्रसारण 31 जनवरी की शाम 7:30 बजे होगा।
  • ब्रिटिश ब्रॉडकास्टिंग कॉर्पोरेशन (BBC) ने कहा है कि रेडियो श्रोताओं की लगातार गिरती संख्या को देखते बीबीसी ने हिंदी में शॉर्टवेब रेडियो प्रसारण बंद करने का फैसला किया है। हालांकि डिजिटल सेवा के जरिए हिंदी में प्रसारण जारी रहेगा।
  • बीबीसी हिदुस्तानी सेवा का जन्म इस उद्देश्य से हुआ था कि विश्व युद्ध में ब्रिटेन के पक्ष का प्रचार किया जाए। उस युद्ध में ब्रिटिश फौजों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर लड़ने वाले असंख्य भारतीय सैनिक थे। उनकी हौसला अफजाई जरूरी थी।

भारत में शंघाई सहयोग संगठन की प्रथम वार्षिक बैठक

  • भारत पहली बार शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की वार्षिक बैठक की मेजबानी करेगा। भारत शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के सरकार प्रमुखों की परिषद की वार्षिक बैठक में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को आमंत्रित करेगा। भारत और पाकिस्तान दोनों जून 2017 में एससीओ के पूर्ण सदस्य बने थे।

शंघाई सहयोग संगठन

  • शंघाई सहयोग संगठन की स्थापना 26 अप्रैल 1996 को चीन के शंघाई शहर में एक बैठक के दौरान हुई थी। दरअसल, चीन, रूस, कजाकिस्तान, किर्गिस्तान और ताजिकिस्तान आपस में एक-दूसरे के नस्लीय और धार्मिक तनावों से निपटने के लिए सहयोग करने पर सहमत हुए थे। इसे शंघाई फाइव के नाम से जाना गया। इसके बाद 15 जून 2001 में चीन, रूस और चार मध्य एशियाई देशों कजाकिस्तान , किर्गिस्तान, ताजिकिस्तान और उजबेकिस्तान के शीर्ष नेताओं ने मिलकर शंघाई सहयोग संगठन की शुरुआत की। सभी देशों ने नस्लीय और धार्मिक चरमपंथ से निबटने और व्यापार व निवेश को बढ़ाने के लिए एक-दूसरे के साथ समझौता किया। जब शंघाई फाइव के साथ उजबेकिस्तान जुड़ गया तो इसका नाम बदलकर शंघाई सहयोग संगठन कर दिया गया।

:: अंतर्राष्ट्रीय समाचार ::

ईरान परमाणु समझौता

  • अभी तक ईरान के साथ परमाणु समझौता बनाए रखने के पक्षधर यूरोपीय देशों ने अब उसे ही निशाने पर लिया है। फ्रांस, जर्मनी और ब्रिटेन ने ईरान पर 2015 के परमाणु समझौते के उल्लंघन का आरोप लगाया है।
  • यूरोपीय देशों ने कहा कि ईरान समझौते से पीछे हटते हुए फिर से अपना परमाणु कार्यक्रम आगे बढ़ाने में जुट गया है। इससे उसके ऊपर फिर से संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंध लागू होने के आसार बन गए हैं। 2015 में परमाणु समझौता होने पर ये प्रतिबंध हट गए थे। समझौते में इन तीनों देशों के अलावा अमेरिका, रूस और चीन भी शामिल थे। हालाँकितीनों यूरोपीय देशों ने कहा है कि वे अभी भी परमाणु समझौता बनाए रखने के पक्षधर हैं।

पृष्ठभूमि

  • ट्रंप परमाणु समझौता त्रुटिपूर्ण बताते हुए 2018 में उससे अलग हो गए थे। उन्होंने ईरान पर गुपचुप तरीके से परमाणु हथियार विकसित करने की कोशिश करने का आरोप लगाते हुए अधिकतम दबाव बनाने की बात कही थी। इसी के साथ अमेरिका ने ईरान पर कड़े आर्थिक प्रतिबंध लगा दिए थे। अब शक्तिशाली यूरोपीय देशों ने ईरान पर यही आरोप लगाया है।
  • उल्लेखनीय है कि अमेरिका के समझौते से पीछे हटने और प्रतिबंध लागू करने के बाद ईरान ने भी अब समझौता तोड़ दिया है। वह परमाणु हथियार बनाने की दिशा में आगे बढ़ रहा है।

दिमित्री मेदवेदेव

  • रूस में प्रधानमंत्री दिमित्री मेदवेदेव की सरकार ने राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को इस्तीफा सौंप दिया है। इस्तीफे को स्वीकार करते हुए पुतिन ने मंत्रियों को एक कार्यवाहक सरकार के रूप में कार्य करने के लिए कहा जब तक कि नई सरकार का गठन नहीं हो जाता।

अमेरिका में पहली बार सिखों की अलग जातीय समूह के रूप में होगी गणना

  • अमेरिका में 2020 की जनगणना में सिखों की गणना अलग जातीय समूह के रूप में की जाएगी। सिखों के एक संगठन ने यह इसे मील का पत्थर करार दिया। इससे अमेरिका में सिर्फ सिखों के लिए ही नहीं, अन्य अल्पसंख्यक जातीय समूहों की अलग गणना का रास्ता खुलेगा।

:: भारतीय राजव्यवस्था ::

राष्ट्रीय जांच एजेंसी कानून

  • कांग्रेस की छत्तीसगढ़ सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर कर अपनी ही पार्टी के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार द्वारा बनाए गए राष्ट्रीय जांच एजेंसी कानून, 2008 यानी एनआईए एक्ट को असंवैधानिक घोषित करने का अनुरोध किया है।
  • छत्तीसगढ़ सरकार राष्ट्रीय जांच एजेंसी कानून, 2008 को चुनौती देने वाली पहली राज्य सरकार है। छत्तीसगढ़ सरकार ने अनुच्छेद 131 के तहत यह वाद दायर किया है। अनुच्छेद 131 के अंतर्गत केंद्र के साथ विवाद के मामले में राज्य सीधे उच्चतम न्यायालय में याचिका दायर कर सकता है।
  • राज्य सरकार ने अपनी याचिका में कहा है कि राष्ट्रीय जांच एजेंसी कानून संविधान के अनुरूप नहीं है और यह संसद के विधायी अधिकार क्षेत्र से बाहर है क्योंकि यह कानून राज्य पुलिस द्वारा की जाने वाली जांच के लिए केंद्र एक जांच एजेंसी के सृजन का अधिकार देता है, जबकि यह संविधान की सातवीं अनुसूची के अंतर्गत राज्य का विषय है। बता दें कि इस कानून को कांग्रेस नीत यूपीए सरकार लेकर आई थी।

पृष्ठभूमि

  • अधिवक्ता सुमेर सोढी के माध्यम से दायर इस वाद में कहा गया है कि मौजूदा स्वरूप में एनआईए कानून न सिर्फ पुलिस के माध्यम से जांच कराने का (राज्य) अधिकार छीनता है बल्कि यह केंद्र को 'निरंकुश, स्वंय निर्णय लेने का मनमाना अधिकार' देता है। याचिका में कहा गया है कि इन अधिकारों के इस्तेमाल के बारे में कोई नियम नहीं है, जिसकी वजह से केन्द्र को किसी भी समय कोई कारण बताए बगैर ही इसके अधिकारों के इस्तेमाल की छूट प्रदान करता है।
  • राज्य सरकार का कहना है कि एनआईए कानून के प्रावधानों में तालमेल के लिए अथवा केन्द्र द्वारा राज्य सरकार से किसी भी प्रकार की सहमति लेने के बारे में कोई व्यवस्था नहीं है जो निश्चित ही संविधान में प्रदत्त राज्य की सार्वभौमिकता के विचार के खिलाफ है।

राष्ट्रीय जांच एजेंसी कानून, 2008 क्या है ?

  • राष्ट्रीय जांच एजेंसी कानून, 2008 देश की सार्वभौमिकता, सुरक्षा और अखंडता, दूसरे देशों के साथ मैत्रीपूर्ण संबंधों को प्रभावित करने वाले अपराधों और अंतरराष्ट्रीय संधियों, समझौतों, संयुक्त राष्ट्र और उसकी एजेन्सियों के प्रस्तावों को लागू करने के लिए बने कानूनों के दायरे में आने वाले अपराधों की जांच और कानूनी कार्यवाही के लिए बनाया गया था।

जस्टिस ढींगरा रिपोर्ट

  • केन्द्र ने बुधवार को उच्चतम न्यायालय को सूचित किया कि उसने 1984 के सिख विरोधी दंगों के 186 मामलों की जांच करने वाले दिल्ली उच्च न्यायालय के पूर्व न्यायाधीश एस एन ढींगरा की अध्यक्षता में गठित विशेष जांच दल की सिफारिशें स्वीकार कर ली हैं और वह कानून के अनुसार उचित कार्रवाई करेगी।
  • प्रधान न्यायाधीश एस ए बोबडे, न्यायमूर्ति बी आर गवई और न्यायमूर्ति सूर्य कांत की पीठ को याचिकाकर्ता की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता आर एस सूरी ने सूचित किया कि विशेष जांच दल की रिपोर्ट में पुलिस अधिकारियों की भूमिका की निन्दा की है। उन्होंने कहा कि वह 1984 के सिख विरोधी दंगों में कथित रूप में संलिप्त पुलिस अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई के लिये एक आवेदन दायर करेंगे।

पृष्ठभूमि

  • 1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की मौत के बाद देश भर में फैले सिख दंगों के 186 केसों की फिर जांच के लिए सुप्रीम कोर्ट ने SIT गठित की जिसकी अगुआई जस्टिस (रिटायर्ड) शिव नारायण ढींगरा को सौपी गयी। तीन सदस्यीय इस जांच समिति में धींगरा के अलावा रिटायर्ड आईएएस राजदीप सिंह और मौजूदा आईपीएस अभिषेक दुलार भी सामिल थे। समिति को दो महीने में स्टेट्स रिपोर्ट प्रस्तुत करने के साथ समिति को 1984 में हुए सिख दंगों के 186 मामलों की जांच करनी थी।

:: भारतीय अर्थव्यवस्था ::

अमेजन भारत में 7000 करोड़ निवेश करेगी

  • छोटे और मझोले उपक्रमों (SMB) को डिजिटल बनाने पर एक अरब डॉलर (7,000 करोड़ रुपये) का निवेश करने की घोषणा करते हुए अमेजन के फाउंडर जेफ बिजोस ने कहा कि 21वीं सदी भारत की सदी होगी। अमेजन की योजना है कि लघु और मझोले उपक्रम ऑनलाइन अपने उत्पाद बेच सकें। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कंपनी अपनी वैश्विक पहुंच के जरिये वर्ष 2025 तक 10 अरब डॉलर के मेक इन इंडिया उत्पादों का निर्यात करेगी।
  • इससे पहले ऑनलाइन रिटेल की दिग्गज कंपनी भारत में 5.5 अरब डॉलर के निवेश की प्रतिबद्धता जता चुकी है। अमेरिका के बाहर भारत अमेजन के लिए सबसे महत्वपूर्ण बाजार है। बेजोस ने कहा कि हम भारत के साथ लंबे समय की भागीदारी को लेकर प्रतिबद्ध हैं। उन्होंने कहा कि हम बोलने से अधिक काम करने में विश्वास करते हैं। बेजॉस ने कहा कि अगले पांच साल के दौरान देश के सूक्ष्म और लघु उपक्रमों को डिजिटल करने पर एक अरब डॉलर का अतिरिक्त निवेश करेगी।
  • उन्होंने यह भी कहा कि गठबंधन के संदर्भ में 21वीं सदी अमेरिका और भारत के बीच द्विपक्षीय संबंधों की होगी। बेजोस की भारत यात्रा ऐसे महत्वपूर्ण समय में हो रही है, जब भारतीय प्रतिस्पर्धा (CCI) आयोग ने ई-कॉमर्स की बड़ी कंपनियों अमेजन और फ्लिपकार्ट के व्यापारिक कार्यों के जांच के आदेश दिए हैं।

बैंकों के डेबिट कार्ड/एटीएम कार्ड के नियमो में बदलाव

  • रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने एक बार फिर से बैंकों के डेबिट कार्ड, एटीएम कार्ड की सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए उससे जुड़े नियम में बदलाव किया है। RBI ने एटीम कार्ड यानी डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड से जुड़े नए नियम जारी किए हैं। ये नए नियम 16 मार्च 2020 से लागू होंगे। RBI ने नई निर्देशों से एटीएम कार्ड से पैसे निकालने की प्रक्रिया और सुरक्षित हो जाएगी। फ्रॉड के मामलों में कमी आएगी।

बदलाव के मुख्य बिंदु

  • आरबीआई ने खाताधारकों की कमाई को और सुरक्षित करते हुए बैंकों से कहा है कि वे भारत में कार्ड जारी करने के समय एटीएम और PoS पर सिर्फ डोमेस्टिक कार्ड के इस्तेमाल की अनुमति दें। RBI ने बैंकों को निर्देश दिया है कि बैंक के खाताधारकों को एटीएम से अंतरराष्ट्रीय लेनदेन के लिए अलग से मंजूरी लेनी होगी। वहीं ऑनलाइन लेनदेन, कार्ड नहीं होने पर लेनदेन और कांटेक्टलेस लेनदेन के लिए, ग्राहकों को अपने कार्ड पर सेवाओं को अलग से सेट करना होगा। नए नियम में आपको अपने एटीएम कार्ड की ट्रांजैक्शन लिमिट तय करने की भी सुविधा मिलेगी।
  • RBI ने सभी बैंकों को 16 मार्च, 2020 से नए नियम नए कार्डों के लिए लागू करने का निर्देश दिया है। नए नियम के तहत बैंकों को डेबिट और क्रेडिट कार्ड जारी करते वक्त अब ग्राहकों को घरेलू ट्रांजेक्शन की अनुमति देनी। मतलब एटीएम मशीन से पैसे निकालने और पीओएस ट्रमिनल पर शॉपिंग के लिए विदेशी ट्रांजेक्शन की अनुमति नहीं होगी। खाताधारकों को अंतरराष्ट्रीय लेनदेन, ऑनलाइन लेनदेन और कॉन्टैक्टलेस कार्ड से ट्रांजैक्शन के लिए बैंक से अलग से अनुमति लेनी होगी।वहीं पुराने कार्डधारकों को खुद अपनी जरूरत के हिसाब से ये तय करना होगा कि वो घइन नियमों में से किस सर्विस को सर्विस एक्टिवेट कराना चाहता है और कौन ही नहीं।
  • इतनी ही नहीं आपको अपने ट्रांजैक्शन की लिमिट खुद तय करनी होगी। आप 24 घंटे सातों दिन अपनी ट्रांजैक्शन की लिमिट को कभी भी बदल सकते हैं। आप मोबाइल ऐप, इंटरनेट बैंकिंग, एटीएम मशीन पर जाकर, आईवीआर के जरिए अपने कार्ड से ट्रांजेक्शन लिमिट तय कर सकते हैं।

:: विज्ञान और प्रौद्योगिकी ::

जीसैट-30

  • भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) की ओर से 17 जनवरी को फ्रेंच गुयाना से एरियन-5 प्रक्षेपण यान के माध्यम से संचार उपग्रह जीसैट-30 प्रक्षेपित किया जाएगा।

जीसैट-30 से संबंधित मुख्य तथ्य

  • जीसैट-30 इनसैट-4 ए की जगह लेगा और उसकी कवरेज क्षमता अधिक होगी। इस उपग्रह के अपनी जगह पर पहुंच जाने के बाद यह उपग्रह केयू बैंड में भारतीय मुख्य भूमि और द्वीपों को, सी बैंड में खाड़ी देशों, बड़ी संख्या में एशियाई देशों और आस्ट्रेलिया को कवरेज प्रदान करेगा। यह इसरो का इस साल यानी 2020 का पहला मिशन होगा। इसे लेकर तैयारी अंतिम चरण में है।
  • जीसैट -30 इसरो द्वारा डिजाइन किया हुआ और बनाया गया एक दूरसंचार उपग्रह है। यह इनसैट सैटेलाइट की जगह काम करेगा। इससे राज्य-संचालित और निजी सेवा प्रदाताओं को संचार लिंक प्रदान करने की क्षमता में बढ़ोतरी होगी। मिशन की कुल अवधि 38 मिनट, 25 सेकंड होगी। इसका का वजन करीब 3357 किलोग्राम है। यह लॉन्चिंग के बाद 15 सालों तक काम करता रहेगा। इसे जियो-इलिप्टिकल ऑर्बिट में स्थापित किया जाएगा। इसमें दो सोलर पैनल होंगे और बैटरी होगी जिससे इसे ऊर्जा मिलेगी। यह 107 वां एरियन 5 वां मिशन होगा। कंपनी के 40 साल पूरे हो गए हैं। जीसैट 30 बढ़ी हुई कवरेज के साथ इनसैट -4 ए अंतरिक्ष यान सेवाओं के प्रतिस्थापन के रूप में काम करेगा। उपग्रह को यूरोपीय अंतरिक्ष कंपनी के दूरसंचार उपग्रह- यूटेलसैट कोनक्ट के साथ लॉन्च किया जाएगा।
  • जीसैट उपग्रह डीटीएच, टेलीविजन अपलिंक और वीसैट सेवाओं के लिए क्रियाशील संचार उपग्रह है। इसरो ने कहा कि जीसैट -30 के संचार पेलोड गको इस अंतरिक्ष यान में अधिकतम ट्रांसपोंडर लगाने के लिए विशेष रूप से तैयार किया गया है। उसके अनुसार उसका उपयोग व्यापक रूप से वीसैट नेटवर्क, टेलीविजन अपलिंकिंग, टेलीपोर्ट सेवाएं, डिजिटल सैटेलाइट खबर संग्रहण (डीएसएनजी) , डीटीएच टेलीविजन सेवाओं आदि के लिए किया जाएगा।

कोरोना वायरस

  • चीन में जानलेवा कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है। इसको लेकर अमेरिका ने अपने नगारिकों को चेतावनी जारी की है। अमेरिकी विदेश विभाग ने चीन में रह रहे अमेरिकियों को इस वायरस से बचने की सलाह दी है। चीन के वुहान शहर में इसका सबसे ज्यादा असर देखने को मिल रहा है। कोरोना वायरस की वजह से लोगों को निमोनिया हो रहा है। इसकी वजह से एक व्यक्ति की मौत भी हो गई है।
  • अमेरिकी रोग नियंत्रण और रोकथाम केंद्र (U.S. Centers for Disease Control and Prevention) ने अलर्ट जारी कर चीन के वुहान की यात्रा करने वाले नागरिकों को जानवरों, जानवरों के बाजारों और पशु उत्पादों के संपर्क से बचने की सलाह दी है। इसके अलावा नागरिकों से कहा गया है कि जो वुहान की यात्रा पर गए थे और अब बीमार महसूस कर रहे हैं, वो तुरंत चिकित्सकीय देखभाल लें।
  • चीनी के स्वास्थ्य अधिकारियों ने नए कोरोना वायरस के संपर्क में आने के 41 मामलों की सूचना दी है। वहीं, सात लोगों की हालत गंभीर बताई जा रही है। इसके अलावा रोगियों के साथ संपर्क रहने के कारण 419 डॉक्टरों सहित लगभग 740 लोगों को चिकित्सा निगरानी में रखा गया है।
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (World Health Organization) ने भी इस वायरस को लेकर दुनियाभर के देशों को चेतावनी जारी की है। मंगलवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी देते हुए कहा है कि वायरस से सतर्क रखने की जरूरत है। चीन को कोरोना वायरस के कारणों का जल्द-से जल्द पता लगाना होगा।
  • चीन में प्रशासन और यूएन एजेंसी के लिए वायरस संक्रमण को रोकना इसलिए भी चुनौतीपूर्ण हो सकता है क्योंकि फ़िलहाल वसंत उत्सव (स्प्रिंग फ़ेस्टिवल) और चीनी नववर्ष का समय है और इस दौरान लाखों-करोड़ों की संख्या में लोग एक शहर से दूसरे शहर जाते हैं.

क्या है कोरोना वायरस?

  • कोरोना वायरस उस वायरस समहू का एक हिस्सा है जिससे सामान्य सर्दी-खांसी से लेकर घातक बीमारियां हो सकते हैं. वर्ष 2003 में एशिया में एक ऐसा ही 'सार्स वायरस', Severe Acute Respiratory Syndrome, फैला था जिसका फैलाव उत्तर अमेरिका, दक्षिण अमेरिका और योरोप तक में देखा गया.
  • कोरोना वायरस का संक्रमण आम तौर पर पशुओं और लोगों में होता है और अभी ऐसे कई वायरस हैं जो पशुओं में हैं लेकिन उनसे लोग संक्रमित नहीं हुए हैं. इसके लक्षणों में बुख़ार, खांसी, सांस फूलना और सांस लेने में दिक़्कतें जैसे लक्षण शामिल हैं.
  • हालत बिगड़ने पर संक्रमण न्यूमोनिया की वजह बन सकता है जिससे किडनी ख़राब होने के अलावा मौत तक हो सकती है.
  • स्वास्थ्य संगठन ने सोमवार को जारी एक बयान में आशंका जताई कि चीन के अलावा अन्य देशों में भी इस वायरस के मामले सामने आ सकते हैं और इस नज़रिए से निगरानी व तैयारी पर ज़ोर दिया गया है.

वायरस से बचने के उपाय

  • कोरोना वायरस के असर से बचने के लिए कुछ उपाय बताए गए हैं। जिसमें नियमित रूप से हाथ धोना, खांसने और छींकने के समय मुंह और नाक को ढंकना, मांस और अंडे को अच्छी तरह से पकाना शामिल है।

:: पर्यावरण और पारिस्थितिकी ::

आरओ प्यूरीफायर पर प्रतिबंधित लगाने की अधिसूचना

  • राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने पर्यावरण मंत्रालय को निर्देश दिया है कि वह दो महीने के अंदर उन जगहों पर आरओ प्यूरीफायर पर प्रतिबंधित लगाने की अधिसूचना जारी करे जहां पानी में कुल घुलनशील ठोस (टीडीएस) प्रतिलीटर 500 मिलीग्राम से नीचे है।
  • एनजीटी के अध्यक्ष न्यायमूर्ति आदर्श कुमार गोयल की अध्यक्षता वाली पीठ ने बुधवार को कहा कि उसके आदेश के अनुपालन में हो रही देरी के कारण लोगों के स्वास्थ्य और पर्यावरण को नुकसान पहुंच रहा है। आदेश का शीघ्रता से अनुपालन होना चाहिए। पर्यावरण एवं वन मंत्रालय ने एनजीटी के आदेश को लागू करने के लिए चार महीने का समय मांगा था।

पृष्ठभूमि

  • आरओ प्यूरिफायर के उपयोग को विनियमित करने के लिए, एनजीटी ने सरकार को निर्देश दिया था कि वे जहां पानी में कुल घुलित ठोस (टीडीएस) प्रति लीटर 500 मिलीग्राम से कम है, वहां पर प्रतिबंध लगाए जाएं और लोकतांत्रिक जल के दुष्प्रभावों के बारे में लोगों को जागरूक करें। ट्रिब्यूनल ने सरकार से यह भी कहा है कि वह पूरे देश में जहां भी आरओ की अनुमति है, 60 प्रतिशत से अधिक पानी की वसूली करना अनिवार्य करे।
  • यह बातें न्यायाधिकरण ने एनजीओ फ्रेंड्स द्वारा दायर याचिका पर सुनवाई के दौरान कही। याचिका में आरओ सिस्टम के अनावश्यक उपयोग के कारण इसके अपव्यय को रोककर पीने योग्य पानी के संरक्षण की मांग की गई थी।

टीडीएस क्या हैं?

  • टीडीएस अकार्बनिक लवण के साथ-साथ कार्बनिक पदार्थों की छोटी मात्रा से बना होता है। डब्ल्यूएचओ के अध्ययन के अनुसार, 300 मिलीग्राम प्रति लीटर से नीचे का टीडीएस स्तर उत्कृष्ट माना जाता है, जबकि 900 मिलीग्राम प्रति लीटर खराब बताया जाता है और 1200 मिलीग्राम से अधिक अस्वीकार्य है।

रिवर्स ऑस्मोसिस (आरओ) क्या है?

  • रिवर्स ऑस्मोसिस (आरओ) एक जल उपचार प्रक्रिया है जिसके द्वारा पानी से दूषित पदार्थों के निकालने के लिए एक अर्धवृत्ताकार झिल्ली के माध्यम से अणुओं पर दबाव का उपयोग किया जाता है। यह आदेश एक विशेषज्ञ समिति की रिपोर्ट से इनकार करने के बाद आया था, जिसमें कहा गया था कि अगर टीडीएस 500 मिलीग्राम प्रति लीटर से कम है, तो आरओ सिस्टम उपयोगी नहीं होगा, लेकिन इसके परिणामस्वरूप महत्वपूर्ण खनिजों को हटाने के साथ-साथ पानी की अनुचित बर्बादी होगी।

दिल्ली-यूपी में मानसून आने की तारीखें बदलेंगी

  • जलवायु परिवर्तन का असर मानसून पर साफ देखा जा रहा है। इसके चलते सरकार ने मानसून के आगमन और विदाई की तारीखों में बदलाव करने का फैसला किया है। दिल्ली यूपी समेत कई राज्यों में मानसून के आगमन की तारीख बढ़ाई जाएगी। केरल में तिथि 1 जून ही रहेगी।
  • तारीखों में बदलाव की कवायद काफी समय से चल रही थी जिसे इस साल से लागू किया जाएगा। दिल्ली में मानसून के आगमन की तिथि 29 जून है, लेकिन नई तिथि जुलाई के पहले सप्ताह की निर्धारित हो सकती है।
  • यह देखने में आया है कि दिल्ली में मानसून लगातार सप्ताह भर की देरी से पहुंच रहा है। पृथ्वी विभाग के सचिव एम राजीवन ने बताया कई प्रदेशों में इसके आने की तिथियों में बदलाव हो सकते हैं। इस मुद्दे पर मौसम विज्ञानियों की एक विशेषज्ञ समिति ने कुछ समय पूर्व अपनी सिफारिशें सरकार को सौंपी थी। इन सिफारिशों में कई प्रदेशों में मानसून के आगमन की तिथियों में बदलाव सुझाया गया है।
  • इन राज्यों में बदलाव : यूपी व दिल्ली के अलावा झारखंड, बिहार, उत्तराखंड में भी मानसून के आगमन की तिथियों को बढ़ाया गया है। जबकि राजस्थान, पंजाब और कश्मीर में पहुंचने की तिथियों को पहले से जल्द किया गया है। जबकि केरल से बंगाल तक मानसून पहुंचने की तारीखें यथावत रहेंगी।
  • नई तिथियों का ऐलान जल्द : नई तिथियों का ऐलान जल्द किया जाएगा। इसी प्रकार मानसून की विदाई की तिथि को आगे खिसका दिया जाएगा। राजस्थान से सितंबर के पहले सप्ताह में मानसून की विदाई होती है लेकिन इसे तीसरे सप्ताह में किया जाएगा। क्योंकि कई सालों से मानसून देर तक उत्तर भारत में सक्रिय रहता है।
  • असर : फसल चक्र में बदलाव करना होगा - मौसम की तारीखों में बदलाव से किसानों पर फसल चक्र में बदलाव का दबाव पड़ेगा, या उन्हें कम अवधि में तैयार होने वाली फसलें तैयार करनी होंगी। मसलन, यूपी में यदि मानसून के आगमन में एक हफ्ते की देरी को आधिकारिक घोषित किया जाता है तो धान की रोपाई एक सप्ताह आगे खिसकानी होगी। इसके अलावा नई तिथियों से मानसून से जुड़ी अन्य तैयारियों को बेहतर बनाने में भी मदद मिलेगी।
  • 1965 में तय हुई थी तारीखें - मौसम विभाग के पूर्व महानिदेशक डॉ. केजे रमेश ने कहा कि मौजूदा तिथियां 1965 के आसपास निर्धारित की गई थीं लेकिन तब से जलवायु में बड़े बदलाव हुए हैं। पिछले दो दशकों में सबसे ज्यादा परिवर्तन हुए हैं। इसलिए मानसून की तारीखें बदलना समय की जरूरत है

:: विविध ::

तरणजीत सिंह संधू

  • तरणजीत सिंह संधू अमेरिका में भारत के नए राजदूत की कमान संभालने जा रहे हैं।

ICC Awards 2019:

  • दुनिया भर में क्रिकेट की सर्वोच्च संस्था ICC ने बुधवार यानी 15 जनवरी 2020 को साल 2019 के लिए पुरस्कारों की घोषणा की। भारतीय कप्तान विराट कोहली को आईसीसी वन-डे और टेस्ट दोनों टीमों का कप्तान चुना गया है। वन-डे में विराट के अलावा जहां रोहित शर्मा, मोहम्मद शमी और कुलदीप यादव अन्य भारतीय हैं तो टेस्ट में मयंक अग्रवाल बतौर ओपनर शामिल किए गए हैं।
  • बेनस्टोक्स: सर गैरफील्ड सोबर्स ट्रॉफी (ICC प्लेयर ऑफ द ईयर)
  • रोहित शर्मा: सर्वश्रेष्ठ वन-डे क्रिकेटर
  • विराट कोहली: स्पिरिट ऑफ क्रिकेट अवार्ड
  • दीपक चाहर: सर्वश्रेष्ठ T-20 परफॉर्मर ऑफ द ईयर
  • पैट कमिंस: सर्वश्रेष्ठ टेस्ट क्रिकेटर
  • अंपायर ऑफ द ईयर: रिचर्ड इलिंगवर्थ
    इमर्जिंग क्रिकेटर ऑफ द ईयर: मार्नस लाबुशाने (ऑस्ट्रेलिया)
    असोसिएट क्रिकेटर ऑफ द इयर: काइल कोट्जर (स्कॉटलैंड):
  • विराट कोहली: ICC वन-डे और टेस्ट टीम के कप्तान
  • वनडे टीम ऑफ द ईयर: रोहित शर्मा, कैरी होप, विराट कोहली (कप्तान), बाबर आजम, केन विलियमसन, बेन स्टोक्स, जोस बटलर (विकेटकीपर), मिशेल स्टार्क, ट्रेंट बोल्ट, मोहम्मद शमी, कुलदीप यादव
  • टेस्ट टीम ऑफ द ईयर: मयंक अग्रवाल, टॉम लाथम, मार्नस लाबुशाने, विराट कोहली (कप्तान), स्टीव स्मिथ, बेन स्टोक्स, वाटलिंग, पैट कमिंस, मिशेल स्टार्क, वाग्नर और नाथन लियोन

जैकलीन विलियम्स

  • पुरुष अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में ऐसा पहली बार होने जा रहा है जब एक महिला तीसरे अंपायर की भूमिका में होगी। वेस्टइंडीज की जैकलीन विलियम्स आयरलैंड के खिलाफ होने वाले पहले टी-20 मैच में थर्ड अंपायर की भूमिका निभाएंगी।

रैली ऑफ रिलीफ

  • ऑस्ट्रेलिया में लगी आग के राहत कोष के लिए फंड इकट्ठा करने के लिए टेनिस जगत के सितारे बुधवार को मेलबर्न पार्क में एकसाथ उतरे। इस आयोजन को रैली ऑफ रिलीफ नाम दिया। इस चैरिटी मैच में खेलने के साथ-साथ स्पेन के दिग्गज खिलाड़ी राफेल नडाल और स्विस स्टार रोजर फेडरर ने मिलकर दो लाख 50 हजार ऑस्ट्रेलियन डॉलर (करीब एक करोड़ 22 लाख रुपये) दान में देने की घोषणा की। दुनिया के नंबर एक खिलाड़ी नडाल और तीसरे नंबर के खिलाड़ी फेडरर के अलावा सर्बिया के नोवाक जोकोविक और अमेरिकी की दिग्गज टेनिस खिलाड़ी सेरेना विलियम्स के साथ तमाम दिग्गज टेनिस खिलाड़ी इस चैरिटी मैच में नजर आए।

पॉपुलर क्रॉसवर्ड बुक अवार्ड

  • एक्ट्रेस और राइटर ट्विंकल खन्ना की किताब ‘पायजामाज आर फॉरगिविंग’ ने 17वें क्रॉसवर्ड बुक अवॉर्ड्स में पॉपुलर फिक्शन का खिताब जीता है।
  • पॉपुलर बायोग्राफी का अवॉर्ड कृष्णा त्रिलोक की ‘नोट्स ऑफ ड्रीम’ ने जीता। यह किताब ऑस्कर अवॉर्ड विजेता ए आर रहमान की बायोग्राफी है।
  • नॉन फिक्शन कैटेगरी में ज्यूरी अवॉर्ड शांता गोखले की किताब ‘ए लाइफ टोल्ड थ्रू द बॉडी’ ने जीता। वहीं, पॉपुलर नॉन फिक्शन गौर गोपाल दास की ‘लाइफ्स अमेजिंग सीक्रेट्स: हाउ टू फाइंड बैलेंस एंड पर्पस’ को चुना गया।
  • लेखिका माधुरी विजय ने कश्मीर पर लिखे अपने पहले उपन्यास के लिए प्रतिष्ठित ‘क्रॉसवर्ड बुक अवॉर्ड’ जीता है।

:: प्रिलिम्स बूस्टर ::

  • हाल ही में किस संस्था के द्वारा नुअल स्टेटस ऑफ एजुकेशन रिपोर्ट( ‘असर’) जारी की गई? (प्रथम एजुकेशन फाउंडेशन)
  • किस तिथि को सेना दिवस मनाया जाता है? (15 जनवरी)
  • किसके उपलक्ष्य में सेना दिवस को प्रतिवर्ष मनाया जाता है? (फील्ड मार्शल केएम करियप्पा)
  • 72वें सेना दिवस पर होने वाली को परेड का नेतृत्व किसके द्वारा किया गया? (कैप्टन तानिया सिविल)
  • 1940 में शुरू हुई किस रेडियो सेवा को बंद करने का फैसला लिया गया है? (बीबीसी रेडियो)
  • इस वर्ष शंघाई सहयोग संगठन के शिखर सम्मेलन का आयोजन कहां किया जाएगा? (भारत)
  • हाल ही में इस्तीफा देने वाले दिमित्री मेदवेदेव किस देश के प्रधानमंत्री थे? (रूस)
  • किस देश के द्वारा 2020 की जनगणना में सिखों की गणना एक अलग जाति समूह के रूप में की जाएगी? (अमेरिका)
  • राष्ट्रीय जांच एजेंसी कानून 2008 के विरुद्ध केस राज्य ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है? (छत्तीसगढ़)
  • 1984 में हुए सिख दंगों की जांच हेतु सुप्रीम कोर्ट में किसकी अध्यक्षता में एसआईटी गठित की थी? (जस्टिस शिवनारायण ढींगरा)
  • हाल ही में अमेजन के फाउंडर जेफ बिजोस ने भारत में छोटे और मझोले उपक्रमों को डिजिटल बनाने हेतु कितनी राशि निवेश करने की घोषणा की गई है? (एक अरब डॉलर)
  • भारतीय उपग्रह जीसैट 30 का प्रक्षेपण कहां से किया जाएगा? (फ्रेंच गुयाना)
  • हाल ही में किस देश में जानलेवा कोरोनावायरस के कारण अलर्ट जारी किया गया है? (चीन)
  • एनजीटी के द्वारा टीडीएस की कितनी मात्रा तक आरओ प्यूरीफायर को लगाना प्रतिबंधित किया गया है? (500 मिलीग्राम से कम)
  • हाल ही में आईसीसी के द्वारा सर गैरफील्ड सोबर्स ट्रॉफी/ICC प्लेयर ऑफ द ईयर का पुरस्कार किसे दिया गया है? (बेनस्टोक्स)
  • हाल ही में आईसीसी के द्वारा सर्वश्रेष्ठ वन-डे क्रिकेटर का पुरस्कार किसे दिया गया है? (रोहित शर्मा)
  • हाल ही में आईसीसी के द्वारा स्पिरिट ऑफ क्रिकेट अवार्ड किसे दिया गया है? (विराट कोहली)
  • हाल ही में आईसीसी के द्वारा सर्वश्रेष्ठ T-20 परफॉर्मर ऑफ द ईयर अवार्ड किसे दिया गया है? (दीपक चाहर)
  • हाल ही में आईसीसी के द्वारा सर्वश्रेष्ठ टेस्ट क्रिकेटर का अवार्ड किसे दिया गया है? (पैट कमिंस)
  • हाल ही में आईसीसी के द्वारा इमर्जिंग क्रिकेटर ऑफ द ईयर का अवार्ड किसे दिया गया है? (मार्नस लाबुशाने -ऑस्ट्रेलिया)
  • असोसिएट क्रिकेटर ऑफ द इयर: काइल कोट्जर (स्कॉटलैंड)
  • हाल ही में आईसीसी के द्वारा किसे ICC वन-डे और टेस्ट टीम के कप्तान के रूप में चुना गया है? (विराट कोहली)
  • पुरुष अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में थर्ड अंपायर की भूमिका निभाने वाली प्रथम महिला का गौरव किसे प्राप्त होगा? (जैकलीन विलियम्स)
  • ऑस्ट्रेलिया के जंगलों में लगी आग के लिए राहत कोष जुटाने हेतु टेनिस खिलाड़ियों के द्वारा खेले गए चैरिटी मैच को क्या नाम दिया गया है? (रैली ऑफ रिलीज)

स्रोत साभार: Dainik Jagran (Rashtriya Sanskaran), Dainik Bhaskar (Rashtriya Sanskaran), Rashtriya Sahara (Rashtriya Sanskaran) Hindustan Dainik (Delhi), Nai Duniya, Hindustan Times, The Hindu, BBC Portal, The Economic Times (Hindi & English), PTI, PIB

<< मुख्य पृष्ठ पर वापस जाने के लिये यहां क्लिक करें