(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (12 और 13 अगस्त 2019)

दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर


(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (12 और 13 अगस्त 2019)


:: राष्ट्रीय समाचार ::

विक्रम साराभाई की 100वीं जयंती

  • भारत को अंतरिक्ष तक पहुंचाने वाले वैज्ञानिक विक्रम साराभाई की 100वीं जयंती के मौके पर गूगल ने डूडल बनाकर उन्हें याद किया है।
  • अहमदाबाद के एक अग्रणी कपड़ा व्यापारी के घर 12 अगस्त, 1919 को को जन्म श्री साराभाई की गिनती भारत के महान वैज्ञानिकों में की जाती है। वह अपने साथ काम करने वाले वैज्ञानिकों, विशेषकर युवा वैज्ञानिकों को आगे बढ़ने में काफी मदद करते थे।
  • साराभाई ने भारत के अंतरिक्ष अनुसंधान के क्षेत्र में काफी योगदान है। उन्होंने 1947 में अहमदाबाद में भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला (पीआरएल) की स्थापना की और थोड़ी ही समय में इसे विश्वस्तरीय संस्थान बना दिया।
  • वैज्ञानिकों ने जब अंतरिक्ष अध्ययन के लिए सैटलाइट्स को एक अहम साधन के रूप में देखा, तो तत्कालीन प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू और श्री होमी भाभा ने श्री विक्रम साराभाई को अध्यक्ष बनाते हुए इंडियन नेशनल कमिटी फॉर स्पेस रिसर्च की स्थापना के लिए समर्थन दिया। उन्होंने 15 अगस्त 1969 को इंडियन स्पेस रीसर्च ऑर्गनाइजेशन (इसरो) की स्थापना की।
  • विक्रम साराभाई का महज 52 साल की उम्र में 30 दिसंबर, 1971 को तिरुवनंतपुरम में निधन हो गया।

कलेश्वरम लिफ्ट सिंचाई परियोजना

  • कलेश्वरम लिफ्ट सिंचाई परियोजना (केएलआईपी) के एक प्रमुख घटक और दुनिया के सबसे बड़े पंप हाउस होने का दावा करने वाले लक्ष्मीपुर पंप हाउस का तेलंगाना में सफलतापूर्वक परिचालन शुरू हो गया है।
  • यह दुनिया का सबसे बड़ा भूमिगत पंपिंग स्टेशन है, जिसका निर्माण पृथ्वी की सतह से 470 फुट नीचे किया गया है।यह एक असाधारण भूमिगत पंप हाउस है, जो जुड़वां सुरंगों के साथ जमीन से 470 फुट नीचे है। यह दुनियाभर का एक अल्ट्रा-मेगा प्रोजेक्ट है, जिसमें सात मोटर हैं, जिनमे से प्रत्येक मोटर की 139 मेगावाट की क्षमता है।

रियल-टाइम ट्रेन सूचना प्रणाली (आरटीआईएस)

  • यात्रियों को ट्रेनों की अब सटीक जानकारी मिलेगी। भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) के साथ मिलकर रेल मंत्रालय रियल-टाइम ट्रेन सूचना प्रणाली (आरटीआईएस) के तहत रेल इंजन में इस डिवाइस को लगाने का काम तेज कर दिया है। अगले महीने तक 1700 रेल इंजन को इस तकनीक से लैस कर दिया जाएगा।
  • सभी दिशाओं में चलने वाली ट्रेनों की अब रियल टाइम रिपोर्टिंग होगी। इसका फायदा यह होगा कि यात्रियों को विभिन्न रूट पर चलने वाली ट्रेनों के टाइम-टेबल की जानकारी मिलेगी। इसके साथ ही रेलवे ट्रेनों की लगातार मॉनीटरिंग करेगा। इसका फायदा यह भी होगा कि कोहरे के दौरान धीमी रफ्तार से चलने वाली ट्रेनों की जानकारी के अनुसार यात्रियों को सही सूचना दी जा सकेगी।
  • दिल्ली-मुंबई, दिल्ली-गुवाहाटी राजधानी ट्रेनों के इलेक्ट्रिक इंजनों में सफल परीक्षण के बाद रेलवे ने सभी ट्रेनों के इंजन में इस डिवाइस को लगाने जा रहा है। पहले फेज में कुल 2700 इलेक्ट्रिक इंजन में जीपीएस से लैस इस डिवाइस को लगाने का निर्णय लिया गया है। अगले महीने तक 1700 इंजन को इस सिस्टम से लैस कर दिया जाएगा। रेलवे ने 6700 रेल इंजन को भी इससे लैस करने का खाका तैयार किया है।

राष्ट्रपिता की 150वीं जयंती

  • महात्मा गांधी ने कहा था, स्वच्छता को अपने आचरण में इस तरह अपना लो कि वह आपकी आदत बन जाए...। बापू के ऐसे संदेश अब आपको रेलवे के दफ्तरों में दिखेंगे। इतना ही नहीं रेलगाडिय़ों में अब आप गांधी दर्शन भी कर सकेंगे।
  • राष्ट्रपिता की 150वीं को यादगार बनाने के लिए रेलवे ने कई तैयारियां शुरू की है। इसके तहत देशभर की ऐसी टे्रनें जिनमें पर्यटन से जुड़े पोस्टर लगे हैं, उन्हें हटाकर महात्मा गांधी की थीम आधारित पोस्टर लगाए जाएंगे। उन पोस्टरों में आप गांधी के स्वतंत्रता आंदोलन से लेकर स्वच्छता जागरुकता को लेकर उनके क्रियाकलापों का अवलोकन कर सकेंगे।
  • अभी रेलवे स्वच्छता के लोगो के रूप में बापू के चश्मे का उपयोग कर रही है। इसे बदल कर अब चरखे का लोगो चलन में आएगा जिसमें 150वीं जयंती भी लिखा होगा। टे्रनों के प्रवेश द्वार पर ऐसे लोगो लगाए जाएंगे।

रायपुर में 15 किमी लंबा तिरंगा फहराने का बना रिकार्ड

  • देश में 73वां स्वतंत्रता दिवस से पहले छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में 35 से अधिक सामाजिक संगठनों से जुड़े लोगों और हजारों की संख्या में नागरिकों ने मानव शृंखला बनाकर 15 किलोमीटर लंबा तिरंगा फहराकर विश्व रिकॉर्ड बनाया।
  • 'वसुधैव कुटुम्बकम फाउंडेशन' की ओर से रविवार को आयोजित मानव शृंखला शहर में आमापारा चौक से पंडित रविशंकर शुक्ल विश्वविद्यालय तक बनाई गई थी।

:: अंतराष्ट्रीय समाचार ::

अलेजांद्रो गियामाटेई - ग्वाटेमाला

  • लेटिन अमेरिकी देश ग्वाटेमाला में इस बार मतदाताओं का उत्साह बेहद ही कम देखा गया। सिर्फ 41 प्रतिशत मतदान के बीच ग्वाटेमाला में राष्ट्रपति पद के लिए हुए चुनाव में कंजर्वेटिव पार्टी के प्रत्याशी अलेजांद्रो गियामाटेई ने जीत दर्ज की है।
  • गियामाटेई की करीबी प्रतिद्वंद्वी पूर्व प्रथम महिला एवं सोशल डेमोक्रेट सैंड्रा टोरेस को 40 प्रतिशत मत ही मिल सके हैं। निवर्तमान राष्ट्रपति जिमी मोराल पर भ्रष्टाचार के आरोप लगे थे और इस चुनाव में यही प्रमुख मुद्दा रहा क्योंकि देश की बड़ी आबादी गरीबी में जी रही है और पलायन को मजबूर है।

चक्रवात लेकिमा

  • पूर्वी चीन में लेकिमा तूफान के कारण पूरे क्षेत्र में भारी तबाही भी हुई है। 16 लोग अभी तक लापता हैं और स्थानीय प्रशासन को आशंका है कि मृतकों की संख्या बढ़ सकती है। लेकिमा चक्रवात इस साल चीन में आया नौवां और सबसे शक्तिशाली चक्रवात है।

लद्दाख के पास पाकिस्तान फाइटर प्लेन की तैनाती

  • जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद से लगातर पाकिस्तान की बौखलाहट देखी जा सकती है। समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक पाकिस्तान ने लद्दाख से सटे अपने एयरबेस पर फाइटर जेट तैनात करने शुरू कर दिए हैं।
  • बताया जा रहा है कि पाकिस्तान लद्दाख से सटे पाकिस्तानी स्कार्दू हवाई अड्डे पर लड़ाकू विमान तैनात कर रहा है। समाचार एजेंसी को सरकारी सूत्रों ने बताया 'पाकिस्तान वायुसेना के तीन सी-130 परिवहन विमानों को केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख सीमा के पास पाकिस्तान के स्कार्दू हवाई अड्डे पर तैनात किया गया है। इस ख़बर के सामने आने के बाद संबंधित भारतीय एजेंसियां सीमावर्ती क्षेत्रों में पाकिस्तानियों की आवाजाही पर कड़ी नजर रख रही हैं।'
  • यह भी बताया जा रहा है की पाकिस्तान अपने एयरबेस पर जल्द ही JF-17 फाइटर प्लेन की तैनाती कर सकता है। इसके अलावा जिन सामग्रियों को एयरबेस के पास पहुंचाया गया है, फाइटर जेट से जुड़ी हुई हैं। वहीं, कुछ सूत्रों ने बताया कि पाकिस्तान जल्द ही इस एयरबेस के पास अपनी वायुसेना की एक्सरसाइज़ कर सकता है, जिसमें पाकिस्तानी सेना भी शामिल होगी। हालांकि, भारत की एजेंसियां पाकिस्तान की हर एक चाल पर नज़र बनाए हुए है।
  • बता दें कि जम्मू-कश्मीर को लेकर भारत सरकार फैसले के बाद पाकिस्तान को उम्मीद थी कि संयुक्त राष्ट्र इस मामले पर उसकी कुछ मदद करेगा लेकिन ऐसा नहीं हुया। संयुक्त राष्ट्र ने मामले में हस्तक्षेप करने से मना कर दिया था। हालांकि, पाकिस्तानी सरकार लगातार सोशल मीडिया और पाक संसद में भारत सरकार के खिलाफ आक्रोश जाहिर कर रही है।
  • पाकिस्तान ने दोनों देशों के बीच चलने वाली समझौता एक्सप्रेस रद कर दिया। उत्तर रेलवे के मुख्य जनसंपर्क अधिकारी ने बताया कि पाकिस्तान ने लहौर और अटारी के बीच चलने वाली समझौता एक्सप्रेस (गाड़ी संख्या 14607/14608) को रद्द कर दिया। इसी के परिणाम स्वारूप दिल्ली और अटारी के बीच चलने वाली समझौता लिंक एक्सप्रेस (गाड़ी संख्या 14001/140020 रोक दी गई है।
  • बता दें कि भारत और पाकिस्तान के बीच समझौता एक्सप्रेस की शुरुआत 1976 में हुई थी। अनुच्छेद 370 को लेकर दोनों देशों के बीच तल्खी इतनी बढ़ गई कि पाकिस्तान ने दिल्ली लाहौर बस सेवा रोक दी। बीते गुरुवार को दिल्ली से लाहौर जाने वाली पाकिस्तान पर्यटन विकास निगम की बस में महज चार यात्री थे। दिल्ली और लाहौर के बीच चलने वाली बस सेवा की शुरुआत 1999 में अटल बिहारी वायपेयी सरकार के कार्यकाल में हुई थी।

कैलाश मानसरोवर- चीन सरकार

  • कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर आने वाले तीर्थयात्रियों के लिए यह एक ख़ुशख़बरी है। अब उन्हें अत्यधिक ऊंचाई पर ऑक्सीजन की कमी के कारण होने वाली स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों का सामना नहीं करना होगा।
  • चीन सरकार अब यात्रियों की परेशानियों को देखते हुए यात्रा मार्ग पर ऑक्सीजन बूथ लगाने जा रही है। इसके साथ ही यात्रियों के विश्राम के लिए अत्याधुनिक शिविरों का निर्माण भी किया जा रहा है। ऐसे दो शिविर बनकर तैयार हैं और उन्हें यात्रियों के लिए खोल दिया गया है। वही अन्य दो शिविर अगली यात्रा तक बन कर तैयार हो जाएंगे।
  • दरअसल, भारत से आनेवाले अधिकांश यात्री मैदानी इलाक़े से होते हैं और कैलाश पर्वत की परिक्रमा का पथ समुद्र तल से 15 हज़ार फ़ीट से भी अधिक की ऊंचाई पर होने के कारण उन्हें थकान, सिरदर्द जैसी तकलीफ़ों का सामना करना पड़ता है।
  • ऑक्सीजन की कमी वाले इस ऊंचाई पर कैलाश पर्वत की लगभग 50 किलोमीटर की परिक्रमा उनके लिए बड़ी चुनौती होती है। इस परिक्रमा में लगभग तीन दिन लग जाते हैं। ज़ाहिर है ऑक्सीजन की कमी यात्रियों की मुश्किलों को और बढ़ा देती है।
  • यात्रा के दौरान ऑक्सीजन बूथ की ज़रूरत को इस बात से समझा जा सकता है कि भारत से हर साल विदेश मंत्रालय द्वारा आयोजित यात्रा में करीब डेढ़ हजार यात्री भगवान शंकर के धाम आते हैं जबकि नेपाल के निजी टूर ऑपरेटरों के माध्यम से ल्हासा या हिल्सा सिमीकोट के रास्ते भी हजारों यात्री आते हैं। अधिकांश यात्री मैदानी इलाकों के होते हैं और समुद्रतल से करीब 15 हजार फुट की ऊंचाई पर ऑक्सीजन की कमी के कारण उनमें से कई लोग बीमार भी पड़ जाते हैं।

भारत-चीन रिश्तों को मजबूती देने के लिए 100 कार्यक्रमों का आयोजन

  • चीन की यात्रा पर गए विदेश मंत्री एस जयशंकर(S Jaishankar) ने सोमवार को बीजिंग में चीन के उप राष्ट्रपति वांग किशान(Wang Qishan) से मुलाकात की। बाद में उनकी चीनी विदेश मंत्री वांग यी के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तर की मीटिंग हुई।
  • विदेश मंत्री एस जयशंकर ने कहा, 'हमने लोगों के बीच रिश्ते प्रगाढ़ बनाने के लिए 100 कार्यक्रमों के आयोजन का फैसला किया है। आज शाम हम संयुक्त रूप से 'फिल्म वीक' का उद्घाटन करेंगे, अभी हमने 4 एमओयू पर हस्ताक्षर किए हैं'।

हांगकांग

  • हांगकांग में प्रदर्शनों का दौर थमने का नाम नहीं ले रहा है। हांगकांग में एयरपोर्ट पर सोमवार को चौथे दिन भी प्रदर्शन हुए जिसे देखते हुए हवाईअड्डा प्राधिकरण ने दोपहर के बाद पूरे दिन के लिए सभी उड़ानें रद कर दी।
  • इस बीच चीन ने हांगकांग में पुलिस अधिकारियों पर पेट्रोल बम फेंकने वाले प्रदर्शनकारियों की निंदा की है और हिंसा को आतंकवाद से जोड़ दिया है। स्टेट काउंसिल के हांगकांग और मकाऊ मामलों के कार्यालय के प्रवक्ता यांग गुआंग ने कहा कि ऐसे प्रदर्शन हांगकांग के कानून के नियमों और सामाजिक व्यवस्थाओं को ध्वस्त करते हैं। कल यानी रविवार को भी प्रदर्शनकारियों ने लगातार 10वें हफ्ते सड़कों पर प्रदर्शन किया था। हांगकांग पुलिस ने प्रदर्शनकारियों को काबू में करने के लिए आंसू गैस के गोले छोड़े थे।
  • बता दें कि लोकतंत्र समर्थकों का आंदोलन तीन महीनों से लगातार जारी है। इससे पहले रिपोर्टों में यह कहा गया था कि हांगकांग में लोकतंत्र समर्थकों ने अपने प्रदर्शन की रणनीति बदल दी है। वे अब पुलिस-प्रशासन से सीधे भिड़ने के बजाय ‘हिट एंड रन’ (वार करो और भाग जाओ) की तरह प्रदर्शन को अंजाम दे रहे हैं।
  • आंदोलन में प्रदर्शनकारी अपने परिवार और बच्चों के साथ भी शामिल हो रहे हैं। प्रदर्शनकारियों का कहना है कि इससे आंदोलन का महत्व बच्चों को भी समझ में आएगा। ज्ञात हो कि हांगकांग में विरोध प्रदर्शन एक विवादित विधेयक के लाए जाने के खिलाफ शुरू हुए थे, जिसमें प्रावधान किया गया था कि अपराधियों को चीन में मुकदमा चलाने के लिए प्रत्यर्पित किया जा सकेगा। हालांकि, सरकार ने इस विधेयक को स्थगित कर दिया है, लेकिन अब यह लोकतंत्र का आंदोलन बन गया है।

बलूचिस्तान दिवस

  • बलोच समुदाय के लोगों ने 11 अगस्त को बलूचिस्तान दिवस मनाया। इस मौके पर यूरोप और दुनिया के अन्य हिस्सों में रहने वाले बलोच लोगों ने सेमिनार आयोजित कर विश्व समुदाय से मांग की कि उन्हें पाकिस्तान के शिकंजे से आजाद कराया जाए। आजादी मिलने तक अपना संघर्ष जारी रखने का संकल्प व्यक्त किया। इसके बाद बलोच समुदाय के लोगों ने समारोह स्थल से बाहर आकर विरोध प्रदर्शन किया और पाकिस्तान के खिलाफ नारे लगाए।

:: आर्थिक समाचार ::

नॉन प्रेफरेंशियल रूल्स ऑफ ओरिजिन

  • खराब गुणवत्ता और व्यापारिक नियमों का उल्लंघन कर आयात किए जाने वाले सामान पर अंकुश लगाने के लिए सरकार ने नॉन प्रेफरेंशियल रूल्स ऑफ ओरिजिन पर काम शुरू कर दिया है। इसके तहत आयातकों को इस बात की जानकारी देनी होगी कि जो सामान वह आयात कर रहे हैं, वह किस देश में बना है।
  • रिपोर्ट के अनुसार, अभी किसी देश से आने वाले एक सामान पर एंटी डंपिंग ड्यूटी लगाने पर आयातक उसी सामान को एंटी डंपिंग ड्यूटी से बचने के लिए अन्य देश से मंगाना शुरू कर देते हैं। मेड इन नहीं लिखा होने के कारण कस्टम विभाग ऐसे आयात को रोक नहीं पाता है। अधिकारी के अनुसार, जिन देशों के साथ भारत का व्यापार समझौता नहीं है उन पर यह नियम लागू होगा। इन देशों में अमेरिका, यूरोपीय संघ, चीन, न्यूजीलैंड और ऑस्ट्रेलिया जैसे देश शामिल हैं।
  • एंटी डंपिंग, काउंटरवेलिंग ड्यूटी, व्यापार प्रतिबंध, सुरक्षा और जवाबी कार्रवाई, मात्रा संबंधी पाबंदी जैसे नीतिगत उपायों के लिए नॉन प्रेफरेंशियल रूल्स का इस्तेमाल होता है। इन नियमों के लागू होने के बाद आयातकों को कस्टम विभाग को यह बताना होगा कि आयातित सामान किस देश में बना है।

भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई)

  • भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (सीसीआई) ने मकान खरीदारों पर 'अनुचित' एवं 'भेदभावपूर्ण' शर्तों को थोपने के लिए बाजार में अपनी मजबूत स्थिति का दुरुपयोग करने को लेकर जय प्रकाश एसोसिएट्स पर करीब 14 करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है।
  • सीसीआई ने कहा है, ''प्रतिवादी (जय प्रकाश एसोसिएट्स) ने अवांछनीय उद्योग परंपराओं को बढ़ावा दिया, इससे प्रतिस्पर्धा एवं उपभोक्ताओं को उल्लेखनीय रूप से नुकसान हुआ। कंपनी ने बाजार में अपनी मजबूत स्थिति को देखते हुए उचित मानकों को अपनाने की अपनी जिम्मेदारी को नजरंदाज किया।''

RIL में सबसे बड़ा विदेशी निवेश करेगी

  • रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) की 42 वीं एनुअल जनरल मीटिंग (AGM) में अपने निवेशकों को संबोधित करते हुए मुकेश अंबानी ने कई बड़ी घोषणाएं की है। मुकेश अंबानी ने एजीएम में बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि सउदी अरामको (Saudi Aramco) रिलायंस में 20 फीसद हिस्सेदारी खरीदेगी।
  • सउदी अरामको RIL के ऑयल टु केमिकल कारोबार में 20 फीसद हिस्‍सेदारी 75 अरब डॉलर के एंटरप्राइज वैल्‍यू पर खरीदेगी। मुकेश अंबानी ने इस बात की घोषणा की। यह सौदा नियामकीय अनुमतियों के अधीन होगा।
  • RIL के ऑयल टु केमिकल कारोबार का राजस्‍व 5 लाख करोड़ रुपये का है। विश्‍व की सबसे बड़ी तेल उत्‍पादक कंपनी सउदी अरामको रिलायंस में हिस्‍सेदारी लेने के बाद प्रतिदिन 5 लाख बैरल तेल की आपूर्ति करेगी। जामनगर में रिलायंस इंडस्‍ट्रीज का विश्‍व का सबसे बड़ा रिफाइनिंग कॉम्‍प्‍लेक्‍स है। इसकी क्षमता 14 लाख बैरल प्रतिदिन की है।
  • अपने टेलीकॉम बिजनेस के बारे में RIL के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने कहा कि जियो में निवेश का चक्र पूरा हो चुका है। हाई-स्‍पीड नेटवर्क में लगभग 3.5 लाख करोड़ रुपये का निवेश किया जा चुका है। उन्‍होंने कहा कि कंपनी के कंज्‍यूमर बिजनेस - रिलायंस जियो और रिलायंस रिटेल को अलग-अलग सूचीबद्ध किया जाए तो यह देश के टॉप 10 कंपनियों में शुमार होगी।

GSP खत्म होने के बाद अमेरिका को 32 फीसद बढ़ा निर्यात

  • जीसपी के तहत विशेष कारोबारी तरजीह से बाहर होने के बाद जून में अमेरिका को किया जाने वाला भारतीय उत्पादों का निर्यात 32 फीसद बढ़ गया है। भारतीय व्यापार संवर्धन परिषद (टीपीसीआइ) ने यह जानकारी दी है।
  • करीब डेढ़ महीने पहले अमेरिका ने भारत को दिया जाने वाला जीएसपी का लाभ हटा लिया था, जिसका भारत ने विरोध भी किया था। टीपीसीआइ ने अमेरिकी अंतररराष्ट्रीय व्यापार आयोग (यूएसआइटीसी) के आंकड़ों का जिक्र करते हुए कहा कि जिन भारतीय वस्तुओं को जीएसपी का लाभ मिल रहा था, उनका निर्यात पिछले साल जून के 49.57 करोड़ डॉलर से बढ़कर इस साल जून में 65.74 करोड़ डॉलर के स्तर पर पहुंच गया।
  • प्लास्टिक रबर, एल्यूमीनियम, मशीन एवं उपकरण, परिवहन उपकरण, चमड़ा, मोती और कीमती पत्थर जैसी चीजों का निर्यात बढ़ा है।
  • टीपीसीआइ के चेयरमैन मोहित सिंगला ने एक बयान जारी करके कहा कि पिछले साल जून की तुलना में इस साल जून में जीएसपी सुविधा से हटाए गए भारतीय उत्पादों का अमेरिका को निर्यात 32 फीसद बढ़ गया है। उन्होंने कहा कि यह महत्वपूर्ण रुझान है, क्योंकि इससे पहले जीएसपी के तहत 19 करोड़ डॉलर के लाभ का दावा किया गया था। इसके हटने के बाद इस वृद्घि ने 16.17 करोड़ डॉलर के लाभ की भरपाई कर ली है। अब महज 2.83 करोड़ डॉलर का लाभ हासिल करना बाकी रह गया है।
  • सिंगला ने कहा कि इससे पता चलता है कि भारतीय उत्पादों में वैश्विक स्तर पर प्रतिस्पर्धा करने की क्षमता है और मान्यता से इतर ये पूरी तरह से मदद पर निर्भर नहीं है। अमेरिका ने पांच जून से भारतीय उत्पादों को सामान्यीकृत तरजीही प्रणाली (जीएसपी) के तहत मिलने वाली प्रोत्साहन सुविधा खत्म कर दी थी। यह सुविधा 1,900 भारतीय उत्पादों पर दी जाती रही है।

:: विज्ञान और प्रौद्योगिकी ::

डार्क मैटर(अदृश्य पदार्थ)

  • एक नए अध्ययन में वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि डार्क मैटर (अदृश्य पदार्थ) बिग बैंग से भी पहले से ब्रह्मांड में मौजूद है। माना जाता है कि ब्रह्मांड के कुल द्रव्यमान का 80 फीसद हिस्सा डार्क मैटर से ही बना हुआ है। फिजिकल रिव्यू लेटर्स नामक पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन में शोधकर्ताओं ने डार्क मैटर की उत्पत्ति और इनकी पहचान के संबंध में खगोलीय अनुमानों के आधार पर एक नया विचार प्रस्तुत किया है।

आकाशगंगाओं को करते हैं प्रभावित

  • अमेरिका की जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी के पोस्ट डॉक्टोरल फैलो टॉमी टेनकैनन ने कहा कि यह अध्ययन कण भौतिकी (पार्टिकल फिजिक्स) और खगोल विज्ञान के बीच नए संबंध का पता लगाता है। उन्होंने कहा कि यदि डॉर्क मैटर ऐसे नए कणों के रूप में मौजूद हैं, जो बिग बैंग से पैदा हुए थे तो ये आकाशगंगाओं को भी प्रभावित करते हैं। टेनकैनन ने कहा कि इस संबंध के जरिये भी बिग बैंग से पूर्व इनके होने का पता लगाया जा सकता है।

गुरुत्वीय प्रभाव से पड़ता है असर

  • अभी तक इस पदार्थ की उत्पत्ति के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं मिल पाई है लेकिन अंतरिक्ष विज्ञानियों के मुताबिक, आकाशगंगाओं और आकाशगंगा के समूहों के निर्माण में डार्क मैटर एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। यह अदृश्य है। इसका पता सीधे तौर पर नहीं लगाया जा सकता, पर इसके गुरुत्वीय प्रभाव से अंतरिक्ष में मौजूद पदार्थ, ग्रह, पिंड आदि प्रभावित होते हैं।

बिग बैंग के बाद बचा हुआ पदार्थ

  • शोधकर्ताओं का अनुमान था कि डार्क मैटर बिग बैंग के बाद बचा हुआ पदार्थ है। इसका पता लगाने के लिए शोधकर्ताओं ने लंबे समय तक अध्ययन भी किए, लेकिन सभी प्रयोग असफल रहे हैं। टेनकैनन ने कहा कि अगर डार्क मैटर वास्तव में बिग बैंग का अवशेष था, तो कई मामलों में शोधकर्ताओं को पहले से ही विभिन्न कण भौतिकी प्रयोगों में डार्क मैटर के प्रत्यक्ष संकेत को मिलने चाहिए थे, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। इसका मतलब है कि डार्क मैटर बिग बैंग से पहले से ही मौजूद है।

क्या है डार्क मैटर

  • डार्क मैटर एक अप्रमाणित पदार्थ है। कोई भी पदार्थ अपने द्वारा उत्सर्जित विकिरण से पहचाने जा सकते हैं किंतु डार्क मैटर उत्सर्जित विकिरण से पहचाने नहीं जा सकते। इनके अस्तित्व का अनुमान दिखाई देने वाले पदार्थों पर इनके गुरुत्वीय प्रभावों से किया जाता है। वैज्ञानिकों का अनुमान है कि डार्क मैटर न्यूट्रालिनॉस नाम के कणों से बना है।

बिग बैंग से बना ब्रह्मांड

  • ब्रह्मांड का जन्म एक महाविस्फोट यानी बिग बैंग के परिणाम स्वरूप हुआ था। अरबों वर्ष पूर्व ब्रह्मांड एक परमाण्विक इकाई के रूप में था। उस समय मानवीय समय और स्थान जैसी कोई अवधारणा अस्तित्व में नहीं थी। बिग बैंग सिद्धांत के अनुसार, लगभग 13.7 अरब वर्ष पूर्व हुए एक धमाके में अत्यधिक ऊर्जा का उत्सजर्न हुआ। यह ऊर्जा इतनी अधिक थी जिसके प्रभाव से आज तक भी ब्रह्मांड फैलता जा रहा है। आज जो कुछ भी हम ब्रह्मांड में देख पा रहे हैं यह बिंग बैंग का ही परिणाम है।

:: पर्यावरण और पारिस्थितिकी ::

परसा कोल ब्लॉक को मिली पर्यावरण स्वीकृति

  • छत्तीसगढ़ के सरगुजा स्थित परसा कोल ब्लॉक से उत्खन्न् के लिए केंद्रीय पर्यावरण मंत्रालय ने अनुमति दे दी है। इस कोल ब्लॉक से अडानी की कंपनी ओपनकास्ट माइनिंग के जरिये कोयला निकालेगी। 2100 एकड़ में फैला यह कोल ब्लॉक राजस्थान राज्य विद्युत उत्पादन निगम लिमिटेड को आवंटित हुआ है, लेकिन एमडीओ यानी खदान के विकास और ऑपरेशन का अधिकार अडानी के पास है। संरक्षित व सघन वन क्षेत्र होने के कारण इस कोल ब्लॉक के आवंटन का शुरू से विरोध हो रहा है। पर्यावरण मंत्रालय की इस अनुमति को भी नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) में चुनौती देने की तैयारी शुरू हो गई है।
  • केंद्री पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय की फारेस्ट ऐडवाईजरी कमेटी ने स्टेज वन का फारेस्ट क्लीयरेंस दिनांक 15 जनवरी 2019 को जारी किया था। परसा कोल ब्लॉक के लिए अब केवल वन मंत्रालय की अंतिम मंजूरी मिलनी बाकी है।
  • छत्तीसगढ़ बचाओ आंदोलन के संयोजक आलोक शुक्ला के अनुसार मई-जून में केंद्रीय वन पर्यावरण एवं क्लाइमेट चेंज मंत्रालय की पर्यावरणीय प्रभाव आंकलन समिति (सीबीए) की बैठक में राज्य सरकार ने किसी भी तरह की कोई आपत्ति नहीं की। राज्य सरकार ने यदि आपत्ति की होती तो इस परियोजना को स्वीकृति नहीं मिल पाती।
  • शुक्ला के अनुसार राज्य की पूर्ववर्ती सरकार ने केंद्रीय वन एवं पर्यावरण मंत्रालय को कोल ब्लॉक को लेकर कई तरह की गलत जानकारी दी थी। इस पर हमने सीबीए में तमाम दस्तावेजों के साथ अपनी आपत्ति दर्ज कराई थी। इसमें फर्जी ग्रामसभा कराने की भी शिकायत भी शामिल थी। प्रभावितों ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से भी मिलकर इसकी शिकायत की थी। शुक्ला ने बताया कि कोल ब्लॉक को मिली मंजूरी के खिलाफ एनजीटी में अपील की जाएगी।

क्यों महत्वपूर्ण हैं यह वन क्षेत्र?

  • केंद्र की पूर्ववर्ती यूपीए सरकार ने परसा वन क्षेत्र को खनन के लिए नो गो क्षेत्र घोषित किया था। इस पूरे वन क्षेत्र में शेड्यूल- 1 के वन्यप्राणी हैं और हाथी का माईग्रेटरी कोरिडोर हैं। पूरा वन क्षेत्र बांगो बैराज का केचमेंट हैं जिससे जांजगीर जिले में चार लाख हेक्टेयर क्षेत्र में सिंचाई होती है।
  • परसा कोल ब्लॉक के लिए 842 हेक्टेयर वन क्षेत्र के लगभग एक लाख पेड़ कटेंगे। इस क्षेत्र में न केवल जंगली हाथी और भालू रहते हैं बल्कि और कई तरह के वन्यजीव भी रहते हैं।

जलवायु परिवर्तन से बढ़ा हवाई यात्राओं का जोखिम

  • भविष्य में हवाई (एयरलाइंस) यात्रियों को यात्रा के दौरान कई परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है क्योंकि जलवायु परिवर्तन का जेट स्ट्रीम यानी जेट धाराओं पर अनुमान से कहीं ज्यादा असर पड़ रहा है। ब्रिटेन की यूनिवर्सिटी ऑफ रीडिंग के वैज्ञानिकों ने यह दावा किया है। एक उपग्रह से प्राप्त डाटा का विश्लेषण कर उन्होंने यह पता लगाया है कि 1979 से उत्तरी अटलांटिक के ऊपरी वायुमंडल में जेट स्ट्रीम 15 फीसद तेज गति से चलने लगी हैं, जो भविष्य में और भी तेज हो सकती हैं। इसका सबसे ज्यादा असर एयरलाइंस सेवाओं पर पड़ सकता है।

क्या हैं जेट स्ट्रीम

  • जेट स्ट्रीम पृथ्वी सहित कुछ ग्रहों के ऊपरी वायुमंडल में तेजी से बहने वाली हवाएं होती हैं। पृथ्वी पर जेट स्ट्रीम ट्रोपोस्फेयर यानी क्षोभमंडल में पश्चिम से पूर्व ओर घूर्णन करते हुए बहती हैं और दो या दो से अधिक हिस्सों में विभाजित भी हो सकती हैं। सबसे तेज गति की जेट स्ट्रीम समुद्र तल से 9-12 किमी ऊंचाई पर चलने वाली ध्रुवीय जेट हैं और कुछ कमजोर उपोष्णकटिबंधीय जेट 10-16 किमी पर भी बहती हैं। उत्तरी गोलार्ध में ध्रुवीय जेट मध्य अमेरिका, यूरोप और एशिया और उनके मध्यवर्ती महासागरों के ऊपर बहती है, जबकि दक्षिणी गोलार्ध की ध्रुवीय जेट ज्यादातर अंटार्कटिका के ऊपर बहती है।

तीन गुना ज्यादा गंभीर हो सकती है स्थिति

  • नेचर नामक पत्रिका में प्रकाशित हुए अध्ययन में बताया गया है कि जलवायु परिवर्तन के कारण वर्ष 2050 के बाद हवाई यात्रियों को यात्र के दौरान तीन गुना ज्यादा गंभीर स्थिति का सामना करना पड़ सकता है। शोधकर्ताओं ने कहा कि ऊंचाई में हवा की गति ज्यादा होने से उड़ानों पर असर देखने को मिल सकता है। इनका असर इतना तीव्र हो सकता है कि ये हवाई जहाज में बैठे यात्री को सीट से फर्श पर गिरा सकती हैं। उन्होंने कहा कि जो यात्री हवाई जहाज में यात्र करने से कतराते हैं, ऐसी स्थिति उन्हें भयभीत कर सकती है और हर साल इससे सैकड़ों यात्री घायल भी हो सकते हैं।

प्रभावित होगा हवाई जहाजों का परिचालन

  • अध्ययन में पहली बार पता चला है कि जलवायु परिवर्तन की वजह से पृथ्वी के ध्रुवों और भूमध्य रेखा के बीच तापमान भी अंतर साफ तौर पर देखा जा सकता है। साथ ही लगभग 34 हजार फीट की ऊंचाई पर हवाई जहाजों में भी संकट मंडराता नजर आ रहा है। रीडिंग यूनिवर्सिटी से मौसम विज्ञान में पीएचडी करने वाले छात्र साइमन ली ने कहा कि पिछले चार दशकों में आर्कटिक के ऊपर तापमान में तेजी से वृद्धि हुई है, जबकि समताप मंडल यानी पृथ्वी की सतह से लगभग 12 किलोमीटर ऊपर अपेक्षाकृत ठंडा है। उन्होंने कहा कि सतह का तापमान बदलने से जेट की गति धीमी होगी और ऊंचाई में ताप बदलने से गति बढ़ेगी ऐसे में दोनों के बीच रस्साकशी शुरू हो सकती है और इससे हवाई जहाजों परिचालन प्रभावित हो सकता है।

सिंगापुर में 2021 से बंद हो जाएगा हाथी दांत से बने सामान का कारोबार

  • सिंगापुर सरकार ने वन्यजीवों से बने सामान के अवैध व्यापार पर नकेल कसते हुए कहा कि वह हाथी दांत और उससे बने सामान की घरेलू बिक्री पर 2021 से पूर्ण प्रतिबंध लगा देगा.
  • सरकार ने गैर सरकारी समूहों, हाथी दांत सामान विक्रेताओं और अन्य लोगों के साथ दो साल के विचार-विमर्श के बाद यह घोषणा ‘विश्व हाथी दिवस' पर की.
  • ऐसा इस तथ्य के बावजूद हुआ कि सिंगापुर में 1990 से ही गजदंत से बने सभी प्रकार के सामान के अंतरराष्ट्रीय व्यापार पर रोक है. यहां ऐसा सामान कुछ शर्तों के साथ ही बेचा जा सकता है.

विश्व हाथी दिवस

  • 12 अगस्‍त को विश्‍व हाथी दिवस मनाया जाता है। हाथी का महत्व प्राचीन काल से ही रहा है। कभी राजा-महाराजा की शान की सवारी माने जाने वाले हाथी का वक्त के साथ ही उपयोग भी बदल गया। कहीं भिक्षा मांगने का जरिया बने तो सर्कस में हंटर के इशारे पर मनोरंजन का। हालांकि, पाबंदी से हालात बदले हैं, मगर दांतों के धंधे के लिए इनकी हो रही हत्याओं पर पूरी तरह से अंकुश नहीं लग पा रहा है। सिमटते जंगल और अवैध शिकार से गजराज का राज भी सिमटता जा रहा है। उप्र सहित देश में हाथियों की संख्या में लगातार गिरावट आ रही है। वन और पर्यावरण मंत्रालय चिंता में डूबा है कि जंगल के गजराज को बचाया कैसे जाए।

वर्ष 2017 की रिपोर्ट के मुताबिक

  • देश में कुल हाथियों की संख्या 27312 है।
  • उप्र में हाथियों की संख्या 232 है।
  • चिडिय़ाघरों में हाथियों की संख्या 85 है।
  • सर्कसों में बंदी हाथियों की संख्या 26 है।
  • धार्मिक संस्थानों में हाथियों की संख्या 96 है।

विशेष बातें

  • विश्व हाथी दिवस की शुरुआत वर्ष 2011 में हुई थी।
  • भारत में 1992 में प्रोजेक्ट एलिफेंट की शुरुआत की गई थी।
  • वर्ष 2010 में हाथी को राष्ट्रीय विरासत प्राणी का दर्जा प्रदान किया गया।
  • पिछले वर्ष दिल्ली में आयोजित हुआ था गज महोत्सव

दुनिया के सबसे बड़े तोते का जीवाश्म

  • वैज्ञानिकों ने न्यूजीलैंड में विश्व के सबसे बड़े तोते के जीवाश्म का पता लगाया है, जो एक मीटर लंबा और सात किलोग्राम वजनी था। बायोलॉजी लेटर्स नामक जर्नल में इस पक्षी के बारे में विस्तार से बताया गया है। इसके आकार और वजन के आधार पर वैज्ञानिकों ने इसे हेराक्लीज इनक्स्पेक्टस नाम दिया है।

पीवीसी पाइपों में लैड के मानकों पर रिपोर्ट

  • राष्ट्रीय हरित अधिकरण ने केंद्र सरकार को लैड (सीसा) के मानकों पर रिपोर्ट देने का और अधिकतर इमारतों में आमतौर पर इस्तेमाल होने वाले पॉलीविनाइल क्लोराइड (पीवीसी) पाइपों में स्टेबिलाइजर के तौर पर इस्तेमाल लैड को चरणबद्ध तरीके से हटाने का निर्देश दिया है।
  • एनजीटी के अध्यक्ष न्यायमूर्ति आदर्श कुमार गोयल की अध्यक्षता वाली पीठ ने इस बात पर चिंता जताई कि उसके निर्देश के बावजूद अधिसूचना को अंतिम रूप नहीं दिया गया है। पीठ ने पर्यावरण और वन मंत्रालय को 21 अक्टूबर से पहले रिपोर्ट जमा करने को कहा। पीठ ने हालिया आदेश में कहा, ‘‘21 मई की रिपोर्ट कहती है कि प्रक्रिया अभी लंबित है।
  • वन और पर्यावरण मंत्रालय ने मसौदा अधिसूचना को मंजूरी दे दी है, अब इसे विधि मंत्रालय को दिया जाना है। अगली तारीख से पहले आगे की रिपोर्ट दी जाए।’’ एनजीटी ने मार्च में केंद्र सरकार को निर्देश दिया था कि पीवीसी पाइपों में लैड के इस्तेमाल के मानकों को दो महीने के अंदर अंतिम रूप दिया जाए।

:: विविध ::

मांट्रियल मास्टर्स टूर्नामेंट-रोजर्स कप

  • स्पेन के राफेल नडाल और कनाडा की बियान्का एंड्रेस्कू ने यहां अपने-अपने वर्ग में रोजर्स कप का खिताब जीता। पुरुष एकल वर्ग के फाइनल में नडाल ने रूस के डेनिल मेदवेदेव को मात देकर अपना खिताब बचाया।
  • महिला एकल वर्ग के फाइनल में अमेरिका की सेरेना विलियम्स चोट के कारण रिटायर हो गई, जिसके कारण एंड्रेस्कू को खिताब मिला।

जस्टिस मदन बी लोकुर

  • सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस मदन बी लोकुर ने सोमवार को फिजी के सर्वोच्च न्यायालय में न्यायाधीश की शपथ ली। वे फिजी में अप्रवासी पैनल का हिस्सा होंगे। उनका कार्यकाल तीन साल होगा। फिजी के राष्ट्रपति जिओजी कोनरोते ने कार्यकारी चीफ जस्टिस कमल कुमार की मौजूदगी में जस्टिस लोकुर को शपथ दिलाई। यह पहला मौका है जब कोई भारतीय जज दूसरे देश की शीर्ष अदालत में जज बना हो।

ऐश्वर्या पिस्सी

  • बेंगलुरु की रहने वाली ऐश्वर्या पिस्सी ने महिला वर्ग में एफआईएम विश्व कप का खिताब अपने नाम कर लिया है। ऐश्वर्या इसी के साथ मोटरस्पोर्ट में विश्व कप जीतने वाली पहली रेसर बन गई हैं।

चंद्रिमा शाहा

  • राष्ट्रीय प्रतिरक्षा विज्ञान संस्थान की पूर्व निदेशक चंद्रिमा शाहा प्रतिष्ठित भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी (इंसा) की पहली महिला अध्यक्ष चुनी गयी हैं।

एशियन अंडर 23 वालीबॉल चैंपियनशिप

  • पहली बार एशियन अंडर 23 वालीबॉल चैंपियनशिप के फाइनल में पहुंची भारतीय टीम खिताब से चूक गई। अमित गुलिया की अगुआई वाली भारतीय टीम को चीनी ताइपे के हाथों 3-1 (21-25, 20-25, 25-19, 23-25) से शिकस्त का सामना करना पड़ा। हालांकि टीम अंतिम बाधा पार नहीं कर सकी और उसे उपविजेता बनकर ही संतोष करना पड़ा।

मेडवेड कुश्ती टूर्नामेंट

  • भारत की स्टार कुश्ती खिलाड़ी विनेश फोगाट को मेदवेद इवेंट के फाइनल में हार का सामना करना पड़ा। रविवार को बेलारूस के मिंस्क में खेले गए 53 किग्रा भारवर्ग के फाइनल मुकाबले में विनेश को रुसी खिलाड़ी मलिशेवा के हाथों हार मिली।

हैदराबाद ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट

  • मौजूदा राष्ट्रीय चैम्पियन सौरभ वर्मा ने हैदराबाद ओपन बीडब्ल्यूएफ टूर सुपर 100 टूर्नामेंट खिताब जीत लिया है। उन्होंने फाइनल में सिंगापुर के लोह कीन यियू को हराकर खिताब अपने नाम किया।

देशभक्ति गीत “वतन”

  • केंद्रीय मंत्री श्री प्रकाश जावडेकर ने आज नई दिल्ली में स्वतंत्रता दिवस 2019 के उपलक्ष्य में दूरदर्शन द्वारा निर्मित देशभक्ति गीत “वतन” को जारी किया।
  • नए भारत को समर्पित इस गीत में केंद्र सरकार के कई अग्रणी कार्यक्रमो और पहलो के संबंध में जानकारी दी गई है। इसमें हाल ही में चंद्रयान 2 के सफलतापूर्वक प्रक्षेपण पीछे केंद्र सरकार के दृढ़ संकल्प और दूरदर्शिता भी सम्मिलित है। गीत में सशस्त्र बलो के जवानो की वीरता और पराक्रम और शहीदो को भी श्रद्धांजलि दी गई है।
  • इस गीत को प्रसिद्ध बालीवुड गायक जावेद अली ने गाया है और गीतकार आलोक श्रीवास्तव ने लिखा है। इसका संगीत श्री दुष्यंत ने दिया है। इस विशेष गीत का निर्माण दूरदर्शन,प्रसारभारती ने किया है।

‘लिस्टिंग, लर्निंग एंड लीडिंग’

  • केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने चेन्नई में उपराष्ट्रपति श्री वेंकैया नायडु द्वारा उपराष्ट्रपति के रूप में दो साल के कार्यकाल पर लिखी पुस्तक ‘लिस्टिंग, लर्निंग एंड लीडिंग’ का विमोचन करते हुए कहा कि इस पुस्तक का शीर्षक उपराष्ट्रपति श्री वेंकैया जी के जीवन की व्याख्या करता हुआ शीर्षक है।

:: प्रिलिमिस बूस्टर ::

  • हाल ही में भारत में किस वैज्ञानिक की 100वीं जयंती मनाई गई? (विक्रम सराभाई)
  • हाल ही में कहाँ पर दुनिया के सबसे बड़े पंप हाउस का सफलतापूर्वक संचालन प्रारंभ किया गया? (लक्ष्मीपुर पंप हाउस-तेलंगाना)
  • दुनिया के सबसे बड़े पंप हाउस किस सिंचाई परियोजना से संबंधित है? (कलेश्वरम लिफ्ट सिंचाई परियोजना -केएलआईपी)
  • हाल ही में किस स्थान पर हजारों की संख्या में नागरिकों ने मानव शृंखला बनाकर 15 किलोमीटर लंबा तिरंगा फहराकर विश्व रिकॉर्ड बनाया? (रायपुर- छत्तीसगढ़)
  • हाल ही में ग्वाटेमाला में आयोजित हुई राष्ट्रपति के चुनाव में किसने सफलता हासिल की? (अलेजांद्रो गियामाटेई)
  • हाल ही में किस तूफान के द्वारा पूर्वी चीन में भीषण तबाही हुई? (लेकिमा तूफान)
  • हाल ही में किस देश के द्वारा कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर जाने वाले तीर्थयात्रियों की सुविधा के लिए ऑक्सीजन बूथ लगाया जा रहा है? (चीन)
  • भारत किस देश के साथ अपने संबंधों को प्रगाढ़ बनाने के लिए 100 कार्यक्रमों के आयोजन करेगा? (चीन)
  • बलूचिस्तान दिवस कब मनाया जाता है? (11 अगस्त)
  • हाल ही में व्यापारिक नियमों को अनदेखा कर खराब गुणवत्ता वाले सामानों के आयात पर अंकुश लगाने हेतु सरकार द्वारा कौन से कदम उठाने की तैयारी की जा रही है? (नॉन प्रेफरेंशियल रूल्स ऑफ ओरिजिन)
  • हाल ही में भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग के द्वारा अनुचित एवं भेदभाव शर्तों के कारण किस कंपनी पर जुर्माना लगाया गया है? (जेपी एसोसिएट)
  • हाल ही में किस विदेशी कंपनी के द्वारा रिलायंस इंडस्ट्रीज में निवेश की घोषणा की गई है? (सउदी अरामको -Saudi Aramco)
  • विश्व हाथी दिवस पर किस देश के द्वारा 2021 तक हाथी से बने सभी सामानों पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने की घोषणा की गई है? (सिंगापुर)
  • किस तिथि को विश्‍व हाथी दिवस मनाया जाता है? (12 अगस्‍त)
  • इस वर्ष आयोजित हुई रोजर्स कप की विजेता कौन है? (स्पेन के राफेल नडाल और कनाडा की बियान्का एंड्रेस्कू)
  • हाल ही में किसे फिजी के सर्वोच्च न्यायालय में न्यायाधीश के रूप में नियुक्ति प्रदान की गई? (जस्टिस मदन बी लोकुर)
  • एफआईएम विश्व कप का खिताब अपने नाम करने वाली प्रथम भारतीय महिला कौन है? (ऐश्वर्या पिस्सी)
  • हाल ही में किसे भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी (इंसा) का अध्यक्ष बनाया गया है? (चंद्रिमा शाहा)
  • प्रतिष्ठित भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी (इंसा) की पहली महिला अध्यक्ष चुनी गयी हैं। ‘लिस्टिंग, लर्निंग एंड लीडिंग’ पुस्तक किसके द्वारा लिखी गई है? (वेंकैया नायडू)
  • किसके द्वारा हैदराबाद ओपन बीडब्ल्यूएफ टूर सुपर 100 टूर्नामेंट का खिताब जीता गया? (सौरभ वर्मा)

स्रोत साभार: Dainik Jagran (Rashtriya Sanskaran), Dainik Bhaskar (Rashtriya Sanskaran), Rashtriya Sahara (Rashtriya Sanskaran) Hindustan Dainik (Delhi), Nai Duniya, Hindustan Times, The Hindu, BBC Portal, The Economic Times (Hindi & English), PTI, PIB

<< मुख्य पृष्ठ पर वापस जाने के लिये यहां क्लिक करें