(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (10 जून 2020)

दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर


(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (10 जून 2020)


:: राष्ट्रीय समाचार ::

विद्या दान 2.0 (VidyaDaan 2.0)

चर्चा में क्यों?

  • ई-शिक्षा को और ज्यादा रचनात्मक बनाने के लिए, एनसीईआरटी और ने विद्या दान 2.0 के अंतर्गत एनसीईआरटी के सभी टीवी चैनलों पर कक्षा 1-12 के लिए प्रसारित होने वाली ई-शिक्षण सामग्री के लिए रोटरी इंडिया के साथ समझौता ज्ञापन पर डिजिटल हस्ताक्षर किए।
  • इसके साथ-साथ रोटरी इंटरनेशनल द्वारा विशेष आवश्यकता वाले बच्चों के लिए सामग्री उपलब्ध कराई जाएगी और साथ ही वयस्क साक्षरता मिशन समेत शिक्षक प्रशिक्षण (पेशेवर विकास सहित) सामग्री भी उपलब्ध कराएंगे।

क्या है विद्या दान 2.0 ?

  • सरकार के द्वारा ई-शिक्षण विषय-सामग्री योगदानों को आमंत्रित करने के लिए विद्यादान 2.0 कार्यक्रम का शुभारंभ किया। कोविड 19 से उत्पन्न स्थिति को देखते हुए छात्रों (विद्यालय और उच्च शिक्षा दोनों) के लिए ई-शिक्षण विषय सामाग्री की बढ़ती आवश्यकता और शिक्षण में वृद्धि के लिए स्कूली शिक्षा के साथ डिजिटल शिक्षा को एकीकृत करने की तत्काल आवश्यकता को पूरा करने के लिए किया गया है।
  • ई-शिक्षण विषय-सामग्री योगदानों को आमंत्रित करने के लिए विद्यादान 2.0 कार्यक्रम का शुभारंभ किया।विद्यादान 2.0 अभियान के तहत मंत्रालय ने देश के शिक्षाविदों और शैक्षणिक संगठनों से विभिन्न ई-लर्निंग प्लेटफार्म पर पाठ्यक्रम के अनुसार सामग्री विकसित करने और इसमें योगदान देने का आग्रह किया है।
  • विद्यादान में एक विषय-सामाग्री योगदान टूल होता है जो योगदान करने वाले को रजिस्टर करने और भिन्न प्रकार की विषय-सामाग्री के योगदान (जैसे स्पष्टीकरण वीडियो, प्रस्तुतियाँ, योग्यता-आधारित विषय, क्विज़ आदि) के लिए राज्यों/संघ प्रदेशों द्वारा निर्दिष्ट किसी भी कक्षा, किसी भी विषय के लिए (1 से 12 तक) एक इंटरफ़ेस प्रदान करता है।

क्या है रोटरी इण्टरनेशनल ?

  • पॉल हैरिस ने अन्य तीन लोगों ने मिलकर, अमरीका के शिकागो मे सन 1905 में रोटरी की स्थापना की। रोटरी दुनिया का सबसे पहला "सेवा संगठन" है।रोटरी इन्टरनेशनल रोटरी क्लबों का संगठन है। यह व्यापार और पेशेवर लोगों का विश्वव्यापी संगठन है, जो मानवीय सेवा, सभी व्यवसायों में उच्च नैतिक स्तर को बढ़ावा देने और दुनिया में शांति और सद्भावना के निर्माण में सहायता देने हेतु विश्वव्यापी रुप से एकजुट होकर कार्यरत है। रोटरी क्लब के निम्न कार्य क्षेत्र है
  1. शांति को बढ़ावा देंना
  2. रोग से लड़ाई
  3. स्वच्छ पानी, स्वच्छता और स्वच्छता प्रदान करना
  4. माताओं और बच्चों को बचाना
  5. शिक्षा का समर्थन करना
  6. स्थानीय अर्थव्यवस्थाओं को बढ़ावा देना

ऑपरेशन हॉट परश्‍यूट: Operation Hot Pursuit

चर्चा में क्यों?

  • भारत के हालिया इतिहास में सबसे साहसिक सैन्य अभियानऑपरेशन हॉट परश्‍यूट के पाँच वर्ष पुरे होने पर समाचार पत्रों में यह खबर सुर्ख़ियों में रहा।इस ऑपरेशन की सफलता और इससे मिले सबक ने पाकिस्तान के कब्जे वाले POK में सर्जिकल स्ट्राइक करने की जमीन तैयार की।

पृष्ठभूमि

  • मणिपुर के चंदेल जिले में उग्रवादियों ने 4 जून, 2015 को भारतीय सेना के काफिले पर हमला कर दिया।उत्तर पूर्वी भारत में अब तक हुए इस सबसे भीषण हमले में 18 जवान शहीद हो गए थे। इसके जवाब में भारतीय सेना अपने खास दस्ते को म्यांमार सीमा के अंदर भेजकर इन उग्रवादियों की जड़ें हिला दी थीं। भारतीय सेना के इस मिशन को 'ऑपरेशन हॉट परश्यूट' का नाम दिया गया था। यह ऑपरेशन बेहद ही गोपनीय था, जिनकी बेहद कम जानकारी ही सार्वजनिक की गई थी। इस ऑपरेशन की सफलता और इससे मिले सबक ने पाकिस्तान के कब्जे वाले pokमें सर्जिकल स्ट्राइक करने की जमीन तैयार की

क्या था ऑपरेशन हॉट परश्‍यूट?

  • यह ऑपरेशन भारत के हालिया इतिहास में सबसे साहसिक सैन्य अभियान माना जाता है। उत्तर पूर्व में सक्रिय उग्रवादियों की कमर तोड़ने के लिए यह अभियान तब वक्त की जरूरत बन गया था। सेना को खुफिया जानकारी मिली थी कि नगालैंड में सक्रिय एनएससीएन-खापलांग के उग्रवादी भारतीय जवानों पर हमला कर फिर सीमा पार कर म्यांमार में छिप गए थे। ऐसे में भारतीय सेना के एलीट पैराट्रूपर्स दस्ते को NSCN-K उग्रवादियों के बेस की बरबादी का जिम्मा सौंपा गया।
  • भारतीय सेना के जांबाज़ कमांडो ने सरहद पार कर म्यांमार की सीमा में 50 किलोमीटर अंदर बने उग्रवादी गुट NSCN-K के आतंकी कैम्प को तबाह कर दिया। पैरा कमांडो की स्पेशल यूनिट ने जिस अन्दाज में ऑपरेशन को अन्जाम दिया उसने दुश्मनों को बड़ा पैगाम दिया। यानी भारतीय सेना अब दुश्मन के इलाके में घुस कर भी दुश्मनों को बर्बाद करने में कसर नहीं छोड़ेगी।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2020’ का पूर्वावलोकन

  • आयुष मंत्रालय अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2020 के पूर्वावलोकन के रूप में एक टेलीविजन कार्यक्रम की मेजबानी मोरारजी देसाई राष्ट्रीय योग संस्थान नई दिल्ली के सहयोग से करेगा जिसे 10 जून, 2020 को सायं 7 बजे से सायं 8 बजे तक डीडी न्यूज पर प्रसारित किया जाएगा। इसे आयुष मंत्रालय के फेसबुक पेज पर भी लाइव स्ट्रीम किया जाएगा।
  • यह पूर्वावलोकन अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस 2020 के लिए 10-दिवसीय आधिकारिक उलटी गिनती को अंकित या चिन्हित करेगा।
  • कोविड-19 के कारण देश में मौजूदा स्वास्थ्य संबंधी आपात स्थिति को ध्‍यान में रखते हुए इस वर्ष अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस को डिजिटल तरीके से अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मनाया जाएगा। कोरोना वायरस के अत्यधिक संक्रामक होने के मद्देनजर मंत्रालय लोगों को अपने-अपने घरों में ही योगाभ्यास करने के लिए प्रोत्साहित कर रहा है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्‍द्र मोदी ने आम जनता के लिए एक वीडियो ब्लॉगिंग प्रतियोगिता ‘मेरा जीवन, मेरा योग’ की भी घोषणा की है।

सीमा गतिरोध के बीच लद्दाख में ‘जलवायु नियंत्रित’ चौकी की स्थापना

  • चीन के साथ लगी वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास लद्दाख में रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण पैंगोंग सो झील क्षेत्र में भारत-तिब्बत सीमा पुलिस की पहली ‘जलवायु नियंत्रित’ सीमा चौकी इस साल तैयार हो जाने की संभावना है।
  • सीमा चौकी (बीओपी) लद्दाख के पैंगोंग सो झील वाले क्षेत्र के पास लुकुंग में स्थित है, जहां पर वर्तमान में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच गतिरोध चल रहा है ।
  • 6 जून को हुई कोर कमांडर स्तर की मीटिंग में दोनों तरफ के सैनिकों के पीछे हटने को लेकर बात हुई थी। इस मीटिंग में गतिरोध के चार पॉइंट्स की पहचान की गई जो पैंगोग त्सो एरिया में फिंगर-4, गलवान वैली में पेट्रोलिंग पॉइंट-14, पेट्रोलिंग पॉइंट-15 और हॉट स्प्रिंग एरिया है।

क्यों बनाया जा रहा है‘जलवायु नियंत्रित’ चौकी?

  • सीमा चौकी को महात्वाकांक्षी रणनीतिक परियोजना के तौर पर माना जाता है क्योंकि क्षेत्र में गलन भरी सर्दी और प्रतिकूल मौसमी हालात के बीच यहां से आईटीबीपी के जवानों को लंबे समय के लिए अग्रिम इलाके में तैनात करने में मदद मिलेगी । पैंगोंग सो झील वाले क्षेत्र के इलाके में सामान्य तापमान शून्य से 40 डिग्री सेल्सियस नीचे तक चला जाता है लेकिन चौकी के भीतर तापमान 22-28 डिग्री सेल्सियस के बीच बना रहेगा।
  • सीमा की हिफाजत करने वाले भारत-तिब्बत सीमा पुलिस ने भी 3488 किलोमीटर लंबी वास्तविक नियंत्रण रेखा से लगे दुर्गम क्षेत्र में इस मोर्च पर लद्दाख में काराकोरम दर्रा से अरूणाचल प्रदेश में जेकेप ला तक 47 नयी सीमा चौकी बनाने के बारे में जानकारी भेजी है । आईटीबीपी एलएसी की निगरानी करती है और इसकी चौकियां इस मोर्चे के पश्चिमी, मध्य और पूर्वी क्षेत्र में 9,000 फुट से 18,700 फुट की ऊंचाई के बीच स्थित हैं और वर्तमान में करीब 180 सीमा चौकी है।

:: अंतर्राष्ट्रीय समाचार ::

महात्मा गांधी की प्रतिमा को विकृत करना ‘अपमानजनक’ : ट्रंप

  • अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा है कि महात्मा गांधी की प्रतिमा को विकृत किया जाना अपमानजनक है। भारत के लिए अमेरिकी राजदूत केन जस्टर ने भी घटना के लिए माफी मांगी है।

पृष्ठभूमि

  • अफ्रीकी-अमेरिकी जॉर्ज फ्लॉयड के पुलिस हिरासत में मारे जाने के बाद देश भर में हुए विरोध प्रदर्शनों के दौरान महात्मा गांधी की प्रतिमा पर स्प्रे डाला गया और उसे नुकसान पहुंचाया गया था।वाशिंगटन में स्थित भारतीय दूतावास के सामने वाली सड़क पर गांधी जी की प्रतिमा लगी हुई है जिसमें दो और तीन जून की दरम्यानी रात में तोड़फोड़ की गई। भारतीय दूतावास ने कानून लागू करने वाली स्थानीय एजेंसियों के समक्ष इसकी शिकायत दर्ज कराई है।

:: अर्थव्यवस्था ::

केमैन आईलैंड भारत में एफडीआई का पांचवा सबसे बड़ा निवेशक

चर्चा में क्यों?

  • सरकारी आंकड़ों के अनुसार वर्ष 2019-20 में केमैन आइलैंड भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) की दृष्टि से पांचवा सबसे बड़ा निवेशक बन के उभरा। औद्योगिक एवं आंतरिक व्यापार संवर्धन विभाग (डीपीआईआईटी) के अनुसार वर्ष के दौरान वहां से 3.7 अरब डालर का निवेश प्राप्त हुआ हो एक साल पहले की तुलना में करीब तीन गुना है। 2018-19 वहां से एक अरब डालर और 2017-18 में 1.23 अरब डालर का एफडीआई प्राप्त हुआ था।
  • सरकारी आंकड़ों के अनुसार इसी तरह साइप्रस से 2019-20 में एफडीआई तीन गुना हो 87.9 करोड़ डालर के बराबर रहा। एक साल पहले वहां से 29.6 करोड़ डालर और 2017-18 में 41.7 करोड़ डालर की पूंजी आयी थी।

क्यों बढ़ रहे है केमैन आईलैंड से निवेश?

  • विशेषज्ञ काफी समय से कहते आ रहे हैं कि निवेशक भारत में पूंजी निवेश करने के लिए केमैन आईलैंड के रास्ते को ज्यादा अपनाने लगे हैं क्योंकि वहां आयकर नहीं लगता। इसलिए भारत में एफडीआई के स्रोत के रूप में ब्रिटेन, फ्रांस और जर्मनी जैसे विकसित देश पिछड़ रहे हैं।
  • जिस तरह से केमैन आइलैंड से साल दर साल भारत में एफडीआई तीन तीन गुना बढ़ रहा है व प्रत्यक्ष विदेशी निवेश के मामले में भारत के प्रति निवशकों के आकर्षण का सूचक होने के बजाय यह दर्शाता है कि निवेशकों के लिए बीच के एक पड़ाव के रूप में करचोरों की पनाहगाह माने जाने वाला यह छोटे आकार का द्वीपीय क्षेत्र कितना अधिक आकर्षक बनता जा रहा है।
  • वहां निवेश पूंजी पारदर्शिता की कमी को देखते हुए वहां से पूंजी का तेजी से आना भारतीय विनियामकों के लिए चिंता पैदा कर सकता है।
  • साइप्रस संभवत: यूरोप में सबसे कम कर की दर वाला देश होने के नाते वहां पूंजी रख कर निवेश करना ज्यादा फायदे का तरीका लगता हो।

पृष्ठभूमि

  • वर्ष 2019-20 में भारत में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश 13 प्रतिशत बढ़ कर 50 अरब डालर रहा। इसमें सर्वाधिक निवेश क्रमश: सिंगापुर मारीशस, नीदरलैंड्स और अमेरिका से आया।

केमैन आईलैंड के बारें में

  • केमैन आईलैंड ब्रिटेन के आधिपत्य वाला द्वीप-समूह क्षेत्र है। केमैन आईलैंड उत्तर अमेरिका महाद्वीप में केरिबियन क्षेत्र में एक देश है।

न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के माध्यम से लघु वनोपज (एमएफपी) का विपणन

चर्चा में क्यों?

  • जनजातीय कार्य मंत्रालय के तत्वावधान में ट्राइफेड ने जनजातीय लोगों के संदर्भ में, राज्य सरकारों को तत्काल आय सृजन सुनिश्चित करने के लिए तथा वन धन मूल्य संवर्धन गतिविधियों के जरिये आजीविका को समर्थन देने के लिए, अनुच्छेद 275 (I) अनुदान के तहत प्राप्त धनराशि का उपयोग करलघु वनोपजसे सम्बंधित एमएसपी के प्रभावी कार्यान्वयन की योजना बनाने की सलाह दी है।
  • इस परामर्श पर सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है। योजना के तहत 17 राज्यों ने लगभग 50 करोड़ रुपये के एमएफपी की खरीद की है।इन प्रयासों के कारण, 7 राज्यों में निजी एजेंसियों ने एमएसपी से ऊपर की कीमतों पर लगभग 400 करोड़ रुपये के मूल्य के एमएफपी की खरीद की है ।
  • इसके अलावा, 6 राज्यों ने योजना के तहत एमएफपी की खरीद के लिए वीडीवीके को धनराशि हस्तांतरित की है और इस चैनल के माध्यम से 4.03 करोड़ रुपये की खरीद की गयी है। 7 राज्यों ने कोविड राहत के लिए अनुच्छेद 275 (I) के तहत राज्य योजनाओं की तैयारी शुरू कर दी है और जल्द ही अनुदान की मंजूरी के लिए मंत्रालय को अपनी योजनाएं सौंपेंगे।

पृष्ठभूमि

  • जनजातीय कार्य मंत्रालय ने इस क्षेत्र में मदद के लिए कुछ उपायों की घोषणा की थी क्योंकि जनजातियों की अधिकांश आय लघु वनोपज आधारित गतिविधियों से होती है।अप्रैल-जून के महीने लघु वनोपज गतिविधियों के लिए सबसे महत्वपूर्ण होते हैं। मंत्रालय ने पहले हीयोजना के दिशानिर्देशों को मंजूरी दे दी है। इनमे शामिल हैं - न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के माध्यम से लघु वनोपज (एमएफपी)के विपणन के लिए तंत्र ; एमएफपीके लिए मूल्य श्रृंखला ताकि संग्राहकों को एमएसपी प्राप्त हो तथा जनजातीय समूहों और क्लस्टर के माध्यम सेलघु वनोपज का मूल्य संवर्धन एवं विपणन।
  • सरकार ने 1 मई, 2020 को, 50लघु वनोपजके लिए एमएसपीकी संशोधित मूल्य सूची जारी की- और अधिकांश एमएफपीके मूल्यों में 30-90% तक की वृद्धि की गयी है ताकि इससे जनजातीय संग्राहकों को लाभ मिले। इसके अतिरिक्त, इस योजना में 23 अन्य वस्तुओं को एमएफपी के तहत शामिल किया गया है। इनमें जनजातीयलोगों द्वारा पूर्वोत्तर राज्यों में संग्रह किए जाने वाले कृषि और बागवानी उत्पाद शामिल हैं।

लघु वनोपज (एमएफपी) योजना के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य

  • 2013-14 में शुरू की गई इस योजना में दूरदराज के क्षेत्रों में आदिवासियों द्वारा एकत्र किए गए चिन्हित सांसदों के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य निर्धारित करना शामिल है । इसके बाद ये आदिवासी सांसद को गांव के बाजारों में बेचते हैं। यदि बाजार की कीमतें न्यूनतम समर्थन मूल्य से नीचे गिरती हैं, तो राज्य सरकार की एजेंसियां उपज खरीदने के लिए आगे बढ़ती हैं।
  • लघु वनोपज (एमएफपी) योजना के लिए न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के तहत 73 उत्पादों को शामिल किया गया है। इससे सभी राज्यों में लघु वनोपज की खरीद में तेजी आने की उम्मीद है। ट्राईफेड के प्रयासों के सन्दर्भ में राज्य सरकारों से सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली है। उम्मीद है कि इससे संकटग्रस्त जनजातीय लोगों की स्थिति में सुधार होगा। जनजातीय कार्य मंत्रालय द्वारा किये गए एमएसपी उपायों,एमएसपी में संशोधन की घोषणा और ट्राइफेड के ठोस प्रयासों केपरिणामस्वरूप जनजातियों को बाजार में ऊँची कीमतें मिली हैं, जो एमएसपी से अधिक हैं।

:: विज्ञान और प्रौद्योगिकी ::

अंतरराष्ट्रीय थर्मोन्यूक्लियर प्रायोगिक रियेक्टर (ITER)

चर्चा में क्यों?

  • फ्रांस में स्थित दुनिया के सबसे बड़े परमाणु संलयन रियेक्टर में भारत द्वारा निर्मित क्रायोस्टैट को सफलतापूर्वक रियेक्टर भवन में स्थापित कर दिया गया है। इस उपकरण को गुजरात में लार्सन एंड टूब्रो द्वारा तैयार किया गया है। लार्सन एंड टूब्रो की भारी इंजीनियरिंग शाखा ने लॉकडाउन के इस क्रायोस्टैट को तैयार करने के लिए उपकरणों की आपूर्ति की, ताकि ITER परियोजना सुचारू रूप से चलती रहे।

क्या है क्रायोस्टैट?

  • निम्नतापस्थापी या क्रायोस्टैट एक ऐसी युक्ति है जो अपने अन्दर रखी वस्तुओं का तापमान अत्यन्त कम बनाये रखने के लिये प्रयुक्त होती है। एलएंडटी द्वारा निर्मित क्रायोस्टैट रियेक्टर के वैक्यूम वेसल के चारो ओर अभेद कंटेनर बनाकर एक बहुत बड़े रेफ्रिजरेटर की तरह काम करता है।

क्या है आईटीईआर प्रोजेक्ट?

  • यह दुनिया की सबसे बड़ी शोध परियोजनाओं में एक है, जिसके तहत संलयन शक्ति के वैज्ञानिक और तकनीकी व्यवहार्यता पर काम किया जा रहा है। लिटिल सन के नाम से जाने वाले इस प्रोजेक्ट को इंटरनेशनल थर्मोन्यूक्लियर एक्सपेरिमेंटरल रिएक्टर यानी ITER कहा जाता है। ITER प्रोजेक्ट की शुरुआत साल 2013 में फ्रांस के कराहाश में की गई थी जिसके लिए सभी सदस्य देशों ने इसके निर्माण में वित्तीय सहायता उपलब्ध कराई थी। इस परियोजना में भारत समेत सात सदस्य (अमेरिका, रूस, दक्षिण कोरिया, चीन, जापान, और यूरोपीय संघ) शामिल है।

परियोजना के लाभ

  • दरअसल परमाणु ऊर्जा दो तरह से हांसिल की जा सकती है। इनमें परमाणु के नाभिकों का विखंडन और परमाणु के नाभिकों के संलयन जैसे तरीके शामिल हैं।परमाणु नाभिकों के संलयन द्वारा प्राप्त उर्जा के जरिये उर्जा सुरक्षा के साथ पूरी दुनिया को परमाणु ऊर्जा के दुष्प्रभावों से बचाने में मददगार होगा। आज दुनिया में जितने भी परमाणु रिएक्टर मौजूद हैं इनसे कभी भी परमाणु दुर्घटना का खतरा समेत रिएक्टरों से निकलने वाला परमाणु कचरा से सैकड़ों सालों तक जहरीला विकिरण निकलता रहता है। जिसके निपटारे के लिए अभी कोई व्यवस्था नहीं है। हालाँकि अब परमाणु संलयन तकनीक के आधार पर बन रहे ये परमाणु रिएक्टर सुरक्षित होंगे और उनसे कोई ऐसा परमाणु कचरा भी नहीं निकलेगा।
  • ये प्रोजेक्ट साल 2025 से काम करना शुरू कर देगा जो प्रदूषण रहित ऊर्जा स्रोतों के विकास में मील का पत्थर साबित होगा। साथ ही इसके बाद 2040 तक एक डेमो रिएक्टर भी तैयार किया जाना प्रस्तावित है जो बिजली पैदा करने की बड़ी यूनिट होगी। भारत के लिहाज से भी काफी अहम क्योंकि भारत इस प्रोजेक्ट के जरिये 2050 तक परमाणु संलयन प्रक्रिया पर आधारित अपना रिएक्टर भी बना पाएगा।

चीन की मानव रहित सबमर्सिबल “हायदू-1”

चर्चा में क्यों?

  • चीन के मानवरहित सबमर्सिबल ने महासागर के नीचे विश्व के सबसे गहरे बिंदु तक गोता लगाने का कीर्तिमान बनाया है। इस दौरान सबमर्सिबल ने गहरे महासागर से नमूने एकत्रित किए और भूगर्भीय वातावरण के उच्च गुणवत्ता वाले चित्र भी खींचे।

क्या है सबमर्सिबल?

  • सबमर्सिबल गहरे पानी में भीतर जा सकने वाली एक मशीन होती है जिसका इस्तेमाल प्रायः वैज्ञानिक अनुसंधान के लिए किया जाता है।

पृष्ठभूमि

  • सबमर्सिबल समुद्र की सतह से 10,000 मीटर गहरे मरियाना ट्रेंच में स्थित चैलेंजर डीप में चार बार उतरा। वैज्ञानिकों का दल 23 अप्रैल को अभियान के लिए निकला था और सोमवार को वापस आया। गहरे समुद्र में अनुसंधान के दौरान शोधकर्ताओं ने सटीकता से गहराई मापने की जांच की, ध्वनि तरंगों के माध्यम से स्थिति का पता लगाने पर शोध किया और उच्च गुणवत्ता वाले वीडियो प्रेषित करने का प्रयास किया। खबर के अनुसार सबमर्सिबल ने गहरे समुद्र से नमूने एकत्रित किए और भूगर्भीय वातावरण के चित्रे खींचे। हाल के वर्षों में चीन ने गहरे समुद्र के प्रचुर संसाधनों पर अनुसंधान के लिए तकनीकी विकास पर ध्यान देना शुरू किया है।

:: पर्यावरण और पारिस्थितिकी ::

डिब्रू-सैखोवा राष्ट्रीय उद्यान

चर्चा में क्यों?

  • डिब्रू-सैखोवानेशनल पार्क के बगल में तेल के कुएं में एक बड़ा विस्फोट हुआ, जिसके बाद गैस बेकाबू होकर बहने लगी। असम के तिनसुकिया जिले में बागजान के तेल के कुएं में पिछले 14 दिनों से लगी आग बेकाबू हो गई। ये इलाका एपिडेमिक बर्ड हैबिटेट के साथ डॉल्फिन्स और अन्य पानी के जीवों का घर है। तेल के कुएं में लगी आग से जीव-जंतुओं और प्रकृति को नुकसान होने की आशंका बढ़ गयी है।

डिब्रू-सैखोवा के बारे में

  • डिब्रू-सैखोवा राष्ट्रीय उद्यान भारत में असम राज्य के पूर्व में ब्रह्मपुत्र नदी के दक्षिणी तट में स्थित जैव विविधता वाले क्षेत्रों में से एक है। मुख्यतः नमीदार मिश्रित अर्ध-सदाबहार वन, नमीदार मिश्रित पतझड़ीय वन तथा घास के मैदानों का यह क्षेत्र असम के तिनसुकिया ज़िले में स्थित है। डिब्रू-सैखोवा जैव विविध हॉट स्पॉट वाले क्षेत्रों में से एक है। ब्रह्मपुत्र के गोद में स्थित डिब्रू-सैखोवा दुर्लभ और लुप्तप्राय प्रजातियों और जैविक विषमताओं को समेटे हुए हैं। यह क्षेत्र अपने प्राकृतिक सौन्दर्य और विविध वन्य-जीवन के लिए विश्व भर में प्रसिद्ध है। विश्व के अनेक देशों से पर्यटक और विज्ञानी यहाँ घुमने और अध्ययन के लिए आते हैं। जंगली घोड़ा और वुड डक इस पार्क के मुख्य आकर्षण है।

:: विविध ::

डॉ कैथी सुलिवान (Kathy Sullivan)

  • अमेरिका की डॉ कैथी सुलिवान ने अपने नाम एक अनोखा रेकॉर्ड दर्ज कराया है। 68 साल की डॉ कैथी सुलिवान दुनिया की पहली ऐसी इंसान हैं जिन्होंने स्पेस की ऊंचाइयों को भी चूमा है और समुद्र के सबसे गहरे पॉइंट को भी नापा है। यही नहीं, अमेरिकी स्पेस एजेंसी NASA (नैशनल ऐरोनॉटिक्स ऐंड स्पेस ऐडमिनिस्ट्रेशन) की पूर्व ऐस्ट्रोनॉट डॉ कैथी सुलिवानपहली अमेरिकी महिला हैं जिन्होंने स्पेस में चहलकदमी की थी। अब उन्होंने पृथ्वी के सबसे गहरे मारियाना ट्रेंच (Mariana Trench) में 7 मील नीचे चैलेंजर डीप (Challenger Deep) को भी छुआ है।

रैमन मैग्सेसे अवॉर्ड्स

चर्चा में क्यों?

  • कोरोना वायरस महामारी के कारण एशिया का नोबेल पुरस्कार कहे जाने रैमन मैग्सेसे अवॉर्ड्स इस साल नहीं दिए जाएंगे। 60 साल में यह तीसरा मौका है जब इस अवॉर्ड समारोह को रद्द किया गया है। रैमन मैग्सेसे पुरस्कार देने वाले मनीला स्थित फाउंडेशन ने मंगलवार को इसकी घोषणा की गयी
  • बता दें किरैमन मैग्सेसे पुरस्कार को 1970 में आर्थिक संकट के चलते और 1990 में विनाशकारी भूकंप की वजह से पूर्व में भी रद्द किया जा चुका है। वहीं इस साल कोरोना महामारी के कारण फिलीपीन्स की राजधानी मनीला में होने वाले इस समारोह को रद्द किया गया है।

रैमन मैग्सेसे अवॉर्ड्सके बारे में

  • रेमन मैग्सेसे पुरस्कार की स्थापना अप्रैल 1957 में हुई थी। यह पुरस्कार फिलीपीन्स के राष्ट्रपति रैमन मैग्सेसे की स्मृति में दिया जाता है। इस पुरस्कार को हर साल पुरस्कार को 31 अगस्त को मनीला में एक कार्यक्रम के दौरान प्रदान किया जाता है। इसी दिन फिलीपीन्स के प्रसिद्ध राष्ट्रपति रैमन मैग्सेसे जयंती भी होती है।

छह श्रेणियों में दिया जाता है पुरस्कार

  • सरकारी सेवाएं
  • सार्वजनिक सेवाएं
  • सामुदायिक नेतृत्व
  • पत्रकारिता, साहित्य और रचनात्मक संचार कला
  • शांति और अंतरराष्ट्रीय समझ
  • इमर्जेंट लीडरशिप

:: प्रिलिम्स बूस्टर ::

  • कोयला क्षेत्र के सुधारों से चर्चा में रहे Mineral Laws (Amendment) Act, 2020 के तहत ऑटोमेटिक रूट के तहत इस क्षेत्र में कितने प्रतिशत तक FDI निवेश स्वीकृत है? (100%)
  • हाल ही में किस योजना के तहत रोटरी इंटरनेशनल और एनसीईआरटी ने कक्षा 1 से 12 तक के लिए ई-कंटेंट उपलब्ध करवाने के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए हैं? (विद्याधन-VidyaDaan 2.0)
  • केंद्र सरकार ने किस अनुच्छेद के तहत राज्यों को वन-धन संवर्धन गतिविधियों समेत प्रभावी रूप से वन उत्पादों के संदर्भ में एमएसपी लागू करने हेतु योजनाएं बनाने का निर्देश दिया है? (Article 275 -I)
  • अंतरराष्ट्रीय योग दिवस 2020 पर आयुष मंत्रालय के साथ कार्यक्रम से चर्चा में रहेमोरारजी देसाई राष्ट्रीय योग संस्थान कहां स्थित है? (नई दिल्ली)
  • तेल के कुएं में आग लगने की घटना से वन्य जीवन के प्रभावित होने की आशंका से चर्चा में रहे डिब्रू-सैखोवानेशनल पार्क किस राज्य एवं किस नदी के तट पर स्थित है? (असम, ब्रह्मपुत्र नदी)
  • हाल ही में समाचार में चर्चा में रहे “हायदू-1” क्या है एवं यह सुर्खियों में क्यों रहा? (चीन निर्मित मानवरहित सबमर्सिबल, विश्व के सबसे गहरे गर्त मारियाना ट्रेंच में पहुंचने से)
  • हाल ही में एशिया का नोबेल माने जाने वाले किस पुरस्कार को रद्द कर दिया गया एवं यह किसकी स्मृति में प्रदान किया जाता है? (रैमन मैग्सेसे , फिलीपीन्स के राष्ट्रपति रैमन मैग्सेसे)
  • हाल ही में ‘जलवायु नियंत्रित’ सीमा चौकी की स्थापना एवं फिंगर 4 विवाद से चर्चा में रहे स्थान भारत के किस क्षेत्र से संबंधित है? (पैंगोंग त्सो झील, लद्दाख)
  • एलएंडटी के क्रायोस्टैट के स्थापित होने से चर्चा में रहे अंतरराष्ट्रीय थर्मोन्यूक्लियर प्रायोगिक रियेक्टर (ITER) में भारत समेत कितने सदस्य शामिल है एवं यह रिएक्टर कहां स्थित है? (7, फ्रांस)
  • भारत में FDI के संदर्भ में पांचवें बड़े निवेशक की उपलब्धि से चर्चा में रहे केमैन आइलैंड किस सागर/ खाड़ी में स्थित है एवं इस पर किस देश का नियंत्रण है? (कैरीबियन सागर, ब्रिटेन)
  • अंतरिक्ष के साथ-साथ दुनिया के सबसे गहरे गर्त मारियाना ट्रेंच में पहुंचने वाली दुनिया की प्रथम महिला कौन है? (डॉ कैथी सुलिवान- Kathy Sullivan)
  • 5 वर्ष पूरे होने के अवसर पर चर्चा में रहे ऑपरेशन हॉट परसूएंट (Operation Hot Pursuit) क्या था? (म्यांमार में भारतीय सेना द्वारा NSCN-K के उग्रवादियों के विरुद्ध सीमा पार कार्यवाही)
  • हाल ही में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप द्वारा खेद प्रकट करने से चर्चा में रहे अमेरिका के किस स्थान पर महात्मा गांधी की प्रतिमा को निरूपित कर दिया गया था? (भारतीय दूतावास वाशिंगटन डीसी)

स्रोत साभार: Dainik Jagran (Rashtriya Sanskaran), Dainik Bhaskar (Rashtriya Sanskaran), Rashtriya Sahara (Rashtriya Sanskaran) Hindustan Dainik (Delhi), Nai Duniya, Hindustan Times, The Hindu, BBC Portal, The Economic Times (Hindi & English), PTI, PIB

<< मुख्य पृष्ठ पर वापस जाने के लिये यहां क्लिक करें