(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (07 अक्टूबर 2019)

दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर


(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (07 अक्टूबर 2019)


:: राष्ट्रीय समाचार ::

देश भर के स्कूलों का जीआईएस (जियोग्राफिकल इंफार्मेशन सिस्टम) सर्वे

  • स्कूलों में शिक्षकों की तैनाती से लेकर छात्रों की संख्या और इंफ्रास्ट्रक्चर को लेकर होने वाला फर्जीवाड़ा अब पूरी तरह से बंद होगा। स्कूलों से जुड़ी ऐसी प्रत्येक जानकारी ऑनलाइन होगी। साथ ही कौन-सा स्कूल कहां मौजूद है, यह भी जियो टैगिंग के जरिए देखा जा सकेगा। इस पर काम शुरु हो गया है। अगले छह महीनों के भीतर यह सब कुछ ऑनलाइन होगा। खासबात यह है कि इनमें निजी और सरकारी दोनों ही स्कूल शामिल होंगे।
  • मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने फिलहाल स्कूलों को लेकर यह पूरी कवायद उस समय शुरु की है, जब स्कूलों की ओर से गलत जानकारी देकर वित्तीय मदद लेने की शिकायतें तेज हुई हैं। इनमें सरकारी सहायता प्राप्त स्कूल भी काफी संख्या में हैं। हालांकि इनकी संख्या कुल स्कूलों की संख्या का मात्र पांच फीसद ही हैं। बावजूद इसके मंत्रालय के पास जो रिपोर्ट है, उसके मुताबिक इन स्कूलों के पास न तो इंफ्रास्ट्रक्चर है और न ही पर्याप्त शिक्षक हैं। ऐसी स्थिति बड़ी संख्या में निजी स्कूलों की भी है, जो एक या दो कमरे में संचालित किए जा रहे हैं।
  • सरकारी स्कूलों को लेकर भी सरकार की स्थिति असहज है, क्योंकि देश में बड़ी संख्या में ऐसे सरकारी स्कूल है, जो एक या दो शिक्षकों के भरोसे ही चल रहे है। उनमें इंफ्रास्ट्रक्चर की भी कमी है। यह स्थिति तब है, जब राष्ट्रीय स्तर पर शिक्षक और छात्रों के बीच का अनुपात काफी बेहतर है। यानि प्रत्येक 23 से 24 छात्र पर एक शिक्षक है।
  • मानव संसाधन विकास मंत्रालय की स्कूली शिक्षा सचिव रीना रे के मुताबिक स्कूलों से जुड़ी गड़बडि़यों को पूरी तरह से रोकने के लिए वह देश भर के स्कूलों का जीआईएस (जियोग्राफिकल इंफार्मेशन सिस्टम) सर्वे करा रही है। इसके तहत प्रत्येक स्कूल का (निजी और सरकारी दोनों) की जियो टैगिंग होगी। जिसके साथ स्कूलों से जुड़ी प्रत्येक जानकारी भी देखी जा सकेगी।
  • पूरी प्रक्रिया के तहत स्कूलों से ही जानकारी मांगी जा रही है। बाद में इसका थर्ड पार्टी वेरीफिकेशन भी होगा। इसके बाद भी आम लोगों से भी सुझाव लिए जाएंगे। यदि कहीं कोई गड़बड़ी या गलत जानकारी दी गई है, तो शिकायत पर तुरंत इसकी जांच भी होगी।
  • देश में मौजूदा समय में कुल 15.59 लाख स्कूल है। इनमें सिर्फ 2.47 लाख स्कूल शहरी क्षेत्रों में है, जबकि 13.12 लाख स्कूल ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित है। इनमें भी 70 फीसद से ज्यादा स्कूल सरकारी है। इसके अलावा करीब 5.4 फीसद स्कूल सरकारी सहायता प्राप्त है। जो सरकार की मदद से ही संचालित होती है।

:: अंतर्राष्ट्रीय समाचार ::

चीन की सरकारी पेट्रोलियम कंपनी सीएनपीसी

  • चीन की सरकारी पेट्रोलियम कंपनी सीएनपीसी ईरान की एक बड़ी गैस परियोजना से बाहर हो गई है। सीएनपीसी ने यहां के अपतटीय प्राकृतिक गैस क्षेत्र के एक हिस्से को विकसित करने के पांच अरब डॉलर (करीब 35 हजार करोड़ रुपये) के सौदे से खुद को अलग कर लिया है। अब इस पूरी परियोजना की जिम्मेदारी ईरान की सरकारी पेट्रोलियम कंपनी पेट्रोपार्स संभालेगी।
  • 2015 में दुनिया के बड़े देशों के साथ हुए समझौते के बाद ईरान के परमाणु कार्यक्रमों को सीमित रखने के बदले में प्रतिबंधों से छूट दी गई थी। इसके बाद जुलाई, 2017 में चीन की सीएनपीसी, फ्रांस की पेट्रो कंपनी टोटल और पेट्रोपार्स के बीच इस गैस क्षेत्र को लेकर समझौता हुआ था। पिछले साल मई में अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने ईरान से हुए परमाणु समझौते से अमेरिका को अलग करते हुए ईरान पर फिर कई तरह के प्रतिबंध लगा दिए थे। इसके तीन महीने बाद ही टोटल ने खुद को ईरान की इस परियोजना से बाहर कर लिया था।
  • इसके बाद से ही परियोजना को लेकर हुए समझौते पर आशंका के बादल मंडराने लगे थे। अब सीएनपीसी ने भी खुद को इससे अलग कर दिया है। परियोजना से सीएनपीसी के अलग होने का कोई कारण नहीं बताया गया है, हालांकि, माना जा रहा है कि अमेरिकी प्रतिबंधों के चलते ही चीनी कंपनी ने यह कदम उठाया है। चीन अभी अमेरिका से ट्रेड वार खत्म करने के लिए बातचीत कर रहा है। ऐसे में वह अमेरिका से कोई अन्य टकराव नहीं चाहता।
  • 2015 में ईरान से हुए समझौते में अमेरिका के अलावा ब्रिटेन, फ्रांस, जर्मनी, चीन और रूस भी शामिल थे। इन देशों ने ईरान के साथ समझौते पर बने रहने की बात कही है। हालांकि समझौते से अमेरिका के हटने के बाद से इन देशों के संयुक्त प्रयास भी ईरान के लिए खास फायदेमंद साबित नहीं हो सके हैं।

:: आर्थिक समाचार ::

राष्ट्रीय ई-असेसमेंट सेंटर

  • वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण सोमवार को आयकर विभाग के राष्ट्रीय ई-आकलन केंद्र (एनईएसी) का उद्घाटन करेंगी। इससे करदाताओं को आयकर विभाग में नहीं जाना पड़ेगा और दोनों आमना-सामना से बच सकेंगे। वित्त मंत्रालय के मुताबिक, एनईएसी से बेहतर टैक्सपेयर सर्विस, प्रधानमंत्री के 'डिजिटल इंडिया' के लक्ष्य के तहत टैक्सपेयर की शिकायतों में कमी लाने और कारोबार को आसान बनाने में मदद मिलेगी।
  • 'नई शुरुआत से आकलन प्रक्रिया में दक्षता, पारदर्शिता और जवाबदेही आएगी। टैक्सपेयर और कर अधिकारियों के बीच आमना-सामना की जरूरत नहीं होगी।' इस नई सुविधा से टैक्सपेयर को रजिस्टर्ड ई-मेल और वेब पोर्टल से रजिस्टर्ड खातों पर नोटिस मिलेगा। साथ ही रजिस्टर्ड मोबाइल पर तुरंत मैसेज मिलेगा। इन मैसेज में मुद्दों का जिक्र होगा जिसके आधार पर मामले को जांच के लिए चुना गया है।
  • टैक्सपेयर को यह सुविधा होगी कि वह नोटिस का जवाब अपनी सुविधानुसार अपने घर या दफ्तर से दे सके और उसे संबंधित वेब पोर्टल पर अपलोड कर उसे ई-मेल के जरिये राष्ट्रीय ई-आकलन केंद्र को भेज सकते हैं।
  • बजट में आयकर से संबंधित बदलाव 1 सितंबर से लागू हुए हैं। इन बदलावों में कुछ मुख्य बदलाव में लाइफ इंश्योरेंस मैच्योरिटी की राशि कर योग्य है, तो शुद्ध आय हिस्से पर 5 फीसद की दर से टीडीएस कटेगा। इसके अलावा किसी बैंक, सहकारी बैंक या पोस्ट ऑफिस अकाउंट से एक साल में कुल एक करोड़ से ज्यादा की नकदी निकासी पर एक सितंबर से टीडीएस लेवी लगना शुरू हो गया है। कोई प्रॉपर्टी खरीदेंगे, तो अन्य सुविधाओं जैसे- कार पार्किंग, विद्युत-पानी की सुविधा और क्लब मेंबरशिप जैसी अन्य सुविधाओं पर खर्च भी टीडीएस के दायरे में आएगा। या नियम भी 1 सितंबर से लागू है।
  • एक सितंबर से अगर कोई व्यक्ति या हिंदू अविभाजित परिवार कॉन्ट्रैक्टर्स या प्रोफेशनल्स को एक साल में कुल 50 लाख से अधिक का पेमेंट करता है, तो इस पर 5 फीसद की दर से टीडीएस कटेगा। यदि तय समय तक पेन कार्ड आधार से लिंक नहीं हो, तो वह अवैध माना जाएगा।

:: विज्ञान और प्रौद्योगिकी ::

राफेल जेट विमान

  • पहला राफेल जेट विमान भारत को मिलने से पहले यूरोपीय मिसाइल निर्माता MBDA ने एलान किया है कि देश के लिए खास तौर पर तैयार किए गए अत्याधुनिक 36 राफेल विमान मीटियोर और स्काल्प मिसाइलों से लैस होंगे। इन मिसाइलों की बेजोड़ मारक क्षमता से वायुक्षेत्र में भारतीय वायुसेना का दबदबा हो जाएगा। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह दशहरे के दिन मंगलवार को भारत का पहला राफेल विमान हासिल करने पेरिस जा रहे हैं। वह हर साल दशहरे पर शस्त्र पूजा करते हैं, लिहाजा इस बार वह पेरिस में भी विधिवत शस्त्र पूजा करेंगे।
  • MBDA के भारत में प्रमुख लुइस पेदेविच ने रविवार को बताया कि उनकी कंपनी की बनाई मीटियोर मिसाइल लक्ष्य को लेंस में देखे बगैर ही भेद सकती है। हवा से हवा में मार करने वाली अचूक मीटियोर मिसाइलें और स्काल्प क्रूज मिसाइलें 36 राफेल विमानों में सुसज्जित सबसे घातक हथियार होंगे। इसके चलते ही भारत ने इन विमानों का सौदा कुल 59,000 करोड़ रुपये में किया। स्काल्प और मीटियोर मिसाइलें भारतीय वायुसेना के लिए गेमचेंजर साबित होने वाली हैं। राफेल विमान के होने से भारत को नई क्षमताएं हासिल होंगी जो पहले कभी हासिल नहीं थीं। भारत ने 36 विमानों का यह सौदा तीन साल पहले फ्रांस की प्रमुख युद्धक विमान कंपनी दासौ एविएशन से किया था। उन्होंने कहा कि भारत को दिया जाने वाला राफेल बेहद उन्नत किस्म के हथियारों से लैस है।

मीटियोर मिसाइल

  • एमबीडीए ने इस घातक मिसाइल को यूरोपीय देश ब्रिटेन, जर्मनी, इटली, फ्रांस, स्पेन और स्वीडन के सामने उपस्थित खतरों को ध्यान में रखकर तैयार किया है। इसका अर्थ यह भी है कि यह मीटियोर मिसाइल एशिया में भारत के अलावा किसी और देश के पास नहीं होगी। एडवांस सक्रिय रडार से निर्देशित होने वाली यह मिसाइल हर मौसम में हर किस्म के लक्ष्य को भेद सकती है। यह हवा में तीव्र गति से उड़ते जेट विमानों से लेकर छोटे मानव रहित विमानों और क्रूज मिसाइलों को आकाश में ही तबाह करने में सक्षम है। मीटियोर मिसाइल को बीवीआर की अगली पीढ़ी की मिसाइल (बीवीआरएएएम) कहा जाता है।

स्काल्प मिसाइल

  • स्काल्प हवा से मार करने वाली लंबी दूरी की मिसाइल है। यह जमीन पर स्थिर और बड़े ठिकानों को पूरी तरह से तबाह करने में अचूक है। पूर्व नियोजित बड़े हमलों के लिए यह उत्तम मिसाइल है। स्काल्प मिसाइल ब्रिटेन की रॉयल एयरफोर्स और फ्रांस की वायुसेना का हिस्सा रही है। इस मिसाइल का इस्तेमाल खाड़ी युद्ध में भी किया गया था। नवनियुक्त वायुसेना प्रमुख राकेश कुमार सिंह भदौरिया ने पिछले हफ्ते ही कहा था कि पड़ोसी देशों का मुकाबला करने के दौरान यह भारतीय वायुसेना की ताकत में अत्यधिक इजाफा करेंगे।
  • राफेल जिन यूरोपीय देशों के लिए पहले तैयार किया गया है, उनमें यह मिसाइल प्रणाली भारत की तरह ही उपलब्ध है। लेकिन भारत को मिलने वाले राफेल विमानों में कुछ ऐसी खूबियां भी हैं, जो भारत सरकार ने वायुसेना की जरूरतों के आधार पर सिर्फ अपने देश के लिए हासिल की हैं। यानी अन्य देशों के लिए बाद में बनाए जाने वाले राफेल विमानों को उन सुविधाओं से लैस नहीं किया जाएगा। भारत और फ्रांस के बीच हुए सौदे में यह शर्त सबसे अहम है। खास भारत के लिए राफेल को जिन युद्धक क्षमताओं से लैस किया गया है, उसमें इजरायली हेलमेट के उभार वाले डिस्प्ले, कई रडार वार्निग रिसीवर, कई लो बैंड जैमर, दस घंटे तक की फ्लाइट डाटा रिकार्डिग, इंफ्रा-रेड सर्च और ट्रैकिंग सिस्टम भी शामिल हैं।

जगुआर के लिए ASRAAM

  • MBDA कंपनी पिछले पांच दशकों से भारतीय थलसेना, वायुसेना और नौसेना विभिन्न दूरियों की मिसाइलों की आपूर्ति करती रही है। पिछले महीने ही उसने रक्षा क्षेत्र में सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रम भारत डायनामिक्स लिमिटेड (बीडीएल) के साथ मिस्ट्रल और ASRAAM मिसाइलों की एसेम्बली, इंटीग्रेशन और टेस्ट के लिए समझौते पर दस्तखत किए हैं। एएसआरएएएम नई पीढ़ी की नजदीक से मार करने वाली मिसाइल है। भारतीय वायुसेना को पहली बार जगुआर के लिए यह मिसाइलें मिलेंगी।

:: पर्यावरण और पारिस्थितिकी ::

ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (GRAP)

  • फिलहाल भले ही दिल्ली एनसीआर की हवा सामान्य श्रेणी में चल रही हो, लेकिन आने वाले दिनों में इसके बिगड़ने की आशंका के मददेनजर तैयारी जोर पकड़ने लगी है। इसी दिशा में 15 अक्टूबर से ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान (ग्रेप) लागू करने को लेकर पर्यावरण प्रदूषण नियंत्रण एवं संरक्षण प्राधिकरण (ईपीसीए) ने समीक्षा बैठक रखी है। इस बैठक में दिल्ली, हरियाणा, राजस्थान और उत्तर प्रदेश के राज्य प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और स्थानीय निकायों के अधिकारी भी शामिल रहेंगे। बैठक में ग्रेप की तैयारियों पर भी चर्चा होगी और कुछ नए प्रतिबंधों को लेकर भी सुझाव रखे जाएंगे।
  • इस बार भी 15 अक्टूबर से दिल्ली एनसीआर में ग्रेप लागू हो जाएगा जोकि 15 मार्च तक लागू रहेगा। इसी दिन से दिल्ली में जनरेटर सेट पर रोक लग जाएगी। हालांकि एनसीआर में यह रोक रहेगी या नहीं, अभी साफ नहीं है। वजह, एनसीआर के स्थानीय निकाय इस बार भी इसके लिए तैयार नजर नहीं आ रहे।
  • ईपीसीए अध्यक्ष भूरेलाल ने बताया कि फिलहाल हवा अपेक्षाकृत साफ ही है, आसमान भी नीला है। ऐसे में ग्रेप 15 से पहले लागू की कोई जरूरत नहीं है, लेकिन सफर इंडिया और मौसम विभाग ने चूंकि अगले कुछ दिनों में पराली जलने और हवाओं की दिशा बदलने का पूर्वानुमान जारी किया है। इसलिए सभी एजेंसियों को अपनी तैयारियां रखने को कह दिया गया है। इसीलिए सोमवार को बैठक बुलाई गई है दिल्ली एनसीआर के सभी अधिकारियों को साफ कर दिया जाएगा कि इस बार ग्रेप लागू होने के बाद सभी में आपसी तालमेल बना रहे।
  • गौरतलब है कि ग्रेप के दौरान सड़कों की सफाई मैकेनाइज्ड तरीके से होने लगेगी। कच्ची और टूटी सड़कों पर पानी का छिडकाव करने, निर्माण कार्य वाली साइटों पर निरीक्षण और धूल से रोकने के इंतजाम, गाड़ियों की सघन चैकिंग, ट्रैफिक जाम न लगे, इसकी कोशिश करने जैसे निर्देश दिए जाएंगे। ईपीसीए चेयरमैन भूरेलाल ने रविवार को भी पानीपत में ग्रेप को लेकर हरियाणा के कई अधिकारियों से बात की और उन्हें सख्त हिदायत दी कि ग्रेप का पालन करें।

टेरोसोर सरीसृप

  • ऑस्ट्रेलिया में शोधकर्ताओं ने प्रागैतिहासिक काल के विशालकाय टेरोसोर का जीवाश्म खोजा है। माना जाता है कि 9.6 करोड़ साल पहले उड़ने वाले ये सरीसृप जीव आसमान पर लंबी दूरियां आसानी से तय कर लेते थे।
  • इस अध्ययन के मुख्य लेखक और मेलबर्न स्थित स्वाइनबर्न यूनिवर्सिटी ऑफ टेक्नोलॉजी के शोधकर्ता एडेल पेंटलैंड के मुताबिक, फेरोड्राको लेंटोनी नामक इन जीवों के चार मीटर के पंख होते थे और अपने चार हाथ-पांवों की मदद से ये पृथ्वी पर भी आसानी से चल-फिर लेते थे।
  • द कंजरवेशन नामक जर्नल में प्रकाशित एक लेख में कहा गया है कि इस नई प्रजाति के जीव और इंग्लैंड में पाए गए अन्य सरीसृप जीवों के जीवाश्मों में काफी समानताएं हैं। इसका अर्थ है कि ये सरीसृप जीव उस काल में महाद्वीपों और महासागरों को भी आसानी से पार करने में सक्षम थे। बता दें कि कुछ समय पहले इंग्लैंड में भी उड़ने वाली छिपकली के जीवाश्म मिले थे।
  • करीब दो साल पहले चीनके शिनजियांग में खुदाई के दौरान उड़ने वाले टेरोसार के 215 अंडों का जीवाश्म मिला था। वैज्ञानिकों ने इसके 10 करोड़ साल पुराने होने का दावा किया। वैज्ञानिकों के मुताबिक टेरोसोर उड़ने वाले सरीसृपों (रेपटाइल) की एक श्रेणी थी। बताया जाता है कि पृथ्वी पर 21 करोड़ से 6.5 करोड़ वर्ष पहले के बीच ये विशालकाय टेरोसार मौजूद रहे। अपने भारी वजन के कारण ये धीरे-धीरे विलुप्त हो गए।

जानिए क्यों विलुप्त हो गए डायनासोर ?

  • धरती से डायनासोरों के विलुप्त होने का कोई पुख्ता प्रमाण मौजूद नही हैं , इसके लिए कई किस्‍म के अनुमान लगाए जाते हैं। कई वैज्ञानिकों का मानना है कि एक भीमकाय उल्कापिंड के पृथ्वी से टकराने के कारण नष्‍ट हो गए। वहीं कुछ वैज्ञानिकों मानना है कि इनके विलुप्त होने का कारण प्रचंड ज्वालामुखी विस्फोट था | एक अन्य कारण के अनुसार भूखमरी के कारण विलुप्त हुए | कई वैज्ञानिकों का मानना है कि इनका विशालकाय शरीर भी इनके लिए घातक सिद्ध हुआ।

हिम तेंदुए (स्नो लैपर्ड)

  • हिमाचल में वन विभाग के वन्य प्राणी विंग ने हिम तेंदुए (स्नो लैपर्ड) को बचाने का बीड़ा उठाया है। इसके लिए विंग ने तैयारी पूरी कर ली है। प्रदेश में स्पीति व पांगी जैसे क्षेत्रों में लगाए कैमरों में अब तक 46 हिम तेंदुओं की गतिविधियां कैद हुई है। प्रदेश में इनकी तादाद 100 के करीब बताई गई है। सुरक्षित हिमालय प्रोजेक्ट भी इसी दुर्लभ वन प्राणी को बचाने पर केंद्रित है। दो से आठ अक्टूबर तक 68वां वन्य प्राणी सप्ताह मना रहा है।
  • हिम तेंदुआ भारत, पाकिस्तान, अफगानिस्तान, चीन, मंगोलिया, भूटान व रूस आदि दुनिया के 12 देशों में पाया जाता है। भारत में यह पांच राज्यों हिमाचल, सिक्किम, अरुणाचल, उत्तराखंड और जम्मू-कश्मीर में पाया जाता है। वन्य प्राणी विशेषज्ञों के अनुसार हिमाचल में इसकी संख्या स्थिर बनी हुई है। यह ज्यादातर हिमाचल के उच्च हिमालयी क्षेत्र में पाया जाता है।
  • हिम तेंदुए के संरक्षण के लिए गंभीर प्रयास हो रहे हैं। सुरक्षित हिमालय प्रोजेक्ट को आगे बढ़ाने की दिशा में प्रयास हो रहे हैं।

:: विविध ::

51वीं स्क्वॉड्रन और 9 स्क्वॉड्रन वीं

  • वायुसेना बालाकोट एयर स्‍ट्राइक के बाद पाकिस्‍तानी विमानों के हमले को विफल करने वाले जांबाज पायलटों की स्कवॉड्रनों को सम्‍मानित करेगी। जिन स्कवॉड्रनों को सम्‍मानित किया जाएगा उनमें विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान की 51वीं स्क्वॉड्रन और बालाकोट में एयर स्‍ट्राइक को अंजाम देने वाले मिराज-2000 लड़ाकू विमानों की स्क्वॉड्रन नंबर 9 शामिल हैं। वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया आठ अक्‍टूबर को इन्‍हें प्रशस्ति पत्र देंगे।

आर अश्विन

  • आर अश्विन ने दक्षिण अफ्रीकी टीम के साथ मैच की दूसरी पारी में अश्विन ने श्रीलंकाई स्पिन गेंदबाज मुथैया मुरलीधरन के एक बड़े रिकॉर्ड की बराबरी कर ली है। अश्विन सबसे तेज 350 टेस्ट विकेट लेने वाले भारतीय गेंदबाज बन गए हैं।

जापान ओपन

  • सर्बिया के टेनिस खिलाड़ी नोवाक जोकोविच जापान ओपन चैंपियन बन गए हैं। दुनिया के नंबर-1 खिलाड़ी जोकोविच ने ऑस्ट्रेलिया के क्वालिफायर जॉन मिलमैन को 6-3, 6-2 से हराया। जोकोविच पहली बार जापान ओपन में खेल रहे थे। उन्होंने 10वीं बार किसी टूर्नामेंट में डेब्यू करते हुए टाइटल जीता। यह जोकोविच के करियर का 76वां और सीजन का चौथा खिताब है।

चाइना ओपन

  • जापान की नाओमी ओसाका एश्ले बार्टी को 3-6, 6-3, 6-2 से हराकर चाइना ओपन चैंपियन बन गईं। यह ओसाका के करियर का पांचवां खिताब है। वहीं पुरुष सिंगल्स फाइनल में स्टीफानोस सितसिपास को 3-6, 6-4, 6-1 से हरा डोमिनिक थिएम चैंपियन बने।

विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप

  • ओलंपिक चैंपियन अमेरिका की दलिलाह मुहम्मद ने दोहा में हुए विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में महिला 400 मीटर की बाधा दौड़ में अपना ही रिकॉर्ड तोड़कर स्वर्ण पदक हासिल कर लिया।
  • इथोपिया के लेलिसा देसिसा (2:10.40 सेकंड) ने स्वर्ण और उनके साथी मोसिनेट गेरेम्यू (2:10.44 सेकंड) ने रजत पदक जीता। कांसा कीनिया के एमोस किपरुतो (2:10.51 सेकंड) ने जीता।

नोमेडिक एलीफैंट-XIV

  • भारत-मंगोलिया संयुक्‍त सैन्‍य प्रशिक्षण अभ्‍यास का 14वां संस्‍करण नोमेडिक एलीफैंट-XIV आरंभ हुआ। यह संयुक्‍त सैन्‍य अभ्‍यास बकलोह में 05 से 18 अक्‍टूबर, 2019 तक चलेगा। मंगोलिया की सेना का प्रतिनिधित्व 084 एयर बोर्ने स्पेशल टास्क बटालियन के अधिकारी एवं सैनिक कर रहे हैं, जबकि भारतीय सेना का प्रतिनिधित्व राजपूताना राइफल्स रेजीमेंट की एक बटालियन कर रही है।
  • नोमेडिक एलीफैंट-XIV संयुक्‍त राष्‍ट्र के अधिदेश के तहत सैनिकों को विद्रोह और आतंकवाद से निपटने की कार्रवाइयों का प्रशिक्षण प्रदान करने के उद्देश्‍य से दोनों देशों के बीच आयोजित होने वाले सैन्‍य अभ्‍यास का 14वां संस्‍करण है। संयुक्त अभ्यास से दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोग और सैन्य संबंधों में वृद्धि होगी। यह दोनों देशों की सेनाओं के लिए अपने अनुभवों और सर्वोत्तम प्रथाओं को साझा करने और संयुक्त प्रशिक्षण के दौरान पारस्परिक अनुभवों से लाभ प्राप्त करने का एक आदर्श मंच है।

भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई)

  • 2019 में आयोजित होने वाले 50वें भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव (आईएफएफआई) में 76 देशों की 200 सर्वश्रेष्ठ फिल्मों, 26 फीचर फिल्मों और 15 गैर-फीचर फिल्मों का भारतीय पैनोरमा सेक्शन के तहत प्रदर्शन होगा। इस स्वर्ण जयंती संस्करण में लगभग 10,000 लोगों और फिल्म प्रेमियों के हिस्सा लेने की उम्मीद है। भारतीय अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के 50वें संस्करण का आयोजन 20 से 28 नवंबर के बीच गोवा में आयोजित किया जाएगा।
  • आईएफएफआई अपना स्वर्ण जयंती संस्करण मना रहा है। इसमें विभिन्न भाषाओं की ऐसी 12 प्रमुख फिल्मों को भी 20 से 28 नवंबर तक प्रदर्शित किया जाएगा, जिन्होंने 2019 में 50 साल पूरे किए हैं।
  • श्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा, ‘दादा साहब फाल्के पुरस्कार विजेता श्री अमिताभ बच्चन के सिनेमा में उत्कृष्ट योगदान को सम्मान दिया जाएगा और 50वें संस्करण में उनकी प्रभावशाली तथा मनोरंजक फिल्मों के एक पैकेज के माध्यम से इसका जश्न मनाया जाएगा।’
  • भारतीय पैनोरमा आईएफएफआई का एक प्रमुख हिस्सा है, जो सर्वश्रेष्ठ समकालीन भारतीय फीचर और गैर-फीचर फिल्मों का प्रदर्शन करता है। इस वर्ष फीचर फिल्म ज्यूरी की अध्यक्षता प्रख्यात फिल्म निर्माता एवं पटकथा लेखक श्री प्रियदर्शन ने की। ज्यूरी ने अभिषेक शाह द्वारा निर्देशित गुजराती फिल्म 'हेलारो' को भारतीय पैनोरमा 2019 की उद्घाटन फीचर फिल्म के लिए चुना है।
  • गैर-फीचर फिल्म ज्यूरी की अध्यक्षता जाने-माने डॉक्यूमेंट्री फिल्म निर्माता श्री राजेंद्र जांगले ने की। ज्यूरी ने आशीष पांडे द्वारा निर्देशित फिल्म 'नूरेह' को भारतीय पैनोरमा 2019 की उद्घाटन गैर-फीचर फिल्म के रूप में चुना है।

:: प्रिलिम्स बूस्टर ::

  • स्कूलों से जुड़ी गड़बड़ियों को रोकने के लिए हाल में सरकार के द्वारा कौन से नए सर्वेक्षण की शुरुआत की गई है? (देश भर के स्कूलों का जीआईएस-जियोग्राफिकल इंफार्मेशन सिस्टम सर्वे)
  • देश भर के स्कूलों के संदर्भ में भारत सरकार के द्वारा प्रस्तावित जियोग्राफिकल इंफार्मेशन सिस्टम सर्वे को किस मंत्रालय के तत्वावधान में कराया जा रहा है? (मानव संसाधन विकास मंत्रालय)
  • हाल ही में चीन की किस पेट्रोलियम कंपनी ने ईरान की प्रस्तावित महत्वाकांक्षी गैस परियोजना से अपने हाथ पीछे खींच ली है? (चीन की सरकारी पेट्रोलियम कंपनी सीएनपीसी)
  • भारत को प्राप्त होने वाले राफेल जेट विमान को किन मिसाइलों से लैस किया जाएगा? (मीटियोर और स्काल्प मिसाइल)
  • किस मिसाइल को बीवीआर की अगली पीढ़ी की मिसाइल (बीवीआरएएएम) कहा जाता है? (मीटियोर)
  • दिल्ली में हवा के की गुणवत्ता को नियंत्रित करने के लिए 15 अक्टूबर से 15 मार्च तक कौन सी योजना लागू रहेगी? (ग्रेडेड रिस्पांस एक्शन प्लान-ग्रेप)
  • हाल ही में किस देश में शोधकर्ताओं ने प्रागैतिहासिक काल के विशालकाय टेरोसोर का जीवाश्म खोजा है? (ऑस्ट्रेलिया)
  • भारतीय वायु सेना की कौन सी स्क्वॉड्रन ने बालाकोट एयर स्ट्राइक में भाग लिया? (मिराज-2000 लड़ाकू विमानों की स्क्वॉड्रन नंबर 9)
  • विंग कमांडर अभिनंदन भारतीय वायु सेना के किस स्क्वॉड्रन से संबंधित है? (51वीं स्क्वॉड्रन)
  • वायु सेना दिवस पर वायु सेना के किन स्क्वॉड्रन को सम्मानित किया जाएगा? (51वीं स्क्वॉड्रन और स्क्वॉड्रन नंबर 9)
  • हाल ही में किस खिलाड़ी ने जापान ओपन चैंपियनशिप का खिताब अपने नाम किया? (नोवाक जोकोविच)
  • हाल ही में किस महिला खिलाड़ी के द्वारा चाइना ओपन का खिताब हासिल किया गया? (नाओमी ओसाका)
  • हाल ही में किस महिला खिलाड़ी में विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में 400 मीटर की बाधा दौड़ में प्रथम स्थान हासिल किया? (दलिलाह मुहम्मद- अमेरिका)
  • हाल ही में किस खिलाड़ी के द्वारा विश्व एथलेटिक्स चैंपियनशिप में मैराथन दौड़ प्रतियोगिता में प्रथम स्थान हासिल किया? (लेलिसा देसिसा)
  • नोमेडिक एलीफैंट-XIV युद्धाभ्यास का आयोजन किन देशों के मध्य किया जाता है? (भारत और मंगोलिया)

स्रोत साभार: Dainik Jagran (Rashtriya Sanskaran), Dainik Bhaskar (Rashtriya Sanskaran), Rashtriya Sahara (Rashtriya Sanskaran) Hindustan Dainik (Delhi), Nai Duniya, Hindustan Times, The Hindu, BBC Portal, The Economic Times (Hindi & English), PTI, PIB

<< मुख्य पृष्ठ पर वापस जाने के लिये यहां क्लिक करें