(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (06 दिसंबर 2019)

दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर


(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (06 दिसंबर 2019)


:: राष्ट्रीय समाचार ::

आरबीआई का प्रीपेड कार्ड

  • रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने गुरुवार को पूर्व भुगतान प्रणाली यानी प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट (पीपीआई) पेश करने का प्रस्ताव किया। आरबीआई ने कहा डिजिटल भुगतान को प्रोत्साहन देने में पीपीआई की अहम भूमिका है। नई सेवा इसके उपयोग की सुविधा को और बढ़ाएगी। आरबीआई के इस पीपीआई से अधिकतम 10,000 रुपये की की खरीदारी की जा सकेगी। माना जा रहा है कि इससे पेटीएम और गूगल पे जैसे वॉलेट को कड़ी टक्कर मिलेगी।

विशेषता

  • पीपीआई का उपयोग हर तरह के डिजिटल भुगतान में हो सकेगा, जिसमें बिल भुगतान और खरीदारी आदि शामिल होंगे। इस प्रीपेड कार्ड में सिर्फ बैंक खाते से ही पैसे डालने की सुविधा होगी। साथ ही इससे पैसे की वापसी सिर्फ बैंक खाते में ही होगी। केन्द्रीय बैंक ने कहा कि नए पीपीआई का इस्तेमाल उपयोगकर्ता के अनिवार्य न्यूनतम विववरण के साथ हो सकेगा। रिजर्व बैंक ने कहा कि इस संबंध में वह दिशानिर्देश 31 दिसंबर, 2019 को जारी करेगा।

क्या होता है पीपीआई

  • पीपीआई एक वित्तीय उपकरण है, जिसमें पहले से पैसे डाल कर रखे जा सकते हैं। इससे खरीदारी करने के साथ दोस्त या रिश्तेदार आदि को पैसे भी भेजे जा सकते हैं। इसमें प्रीपेड कार्ड और मोबाइल वॉलेट शामिल हैं। मौजूदा समय में देश में तीन तरह के पीपीआई काम कर रहे हैं। ये हैं सेमी क्लोज्ड सिस्टम पीपीआई, क्लोज्ड सिस्टम पीपीआई और ओपन सिस्टम पीपीआई।

सुरक्षा पर जोर रहेगा

  • डिजिटल भुगतान बढ़ने के साथ ही ऑनलाइन धोखाधड़ी के मामलो में भी इजाफा हुआ है। इसको लेकर विशेषज्ञों ने भी चिंता जाहिर की है। हाल के दिनो में भी कई मामले आए हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि शायद आरबीआई ने इस मुद्दे पर गौर करते हुए आने वाले पीपीआई की सीमा 10 हजार रुपये रखने का फैसला किया है। इससे खाते की सुरक्षा पर कोई खतरा नहीं होगा।

आशंकाएं और उम्मीदें

  • आरबीआई का पीपीआई लाने का प्रस्ताव वित्तीय क्षेत्र में एक बड़ा बदलाव साबित हो सकता है। विशेषज्ञों का कहना है कि केन्द्रीय बैंक की ओर से इस पहल की वजह से उसका पीपीआई ज्यादा भरोसेमंद होगा। इसका इस्तेमाल ज्यादा लोग करने को प्रोत्साहित हो सकते हैं। वहीं दूसरी ओर इससे इस तरह की भुगतान सेवा वाले खिलाड़ियों को कड़ी चुनौती मिल सकती है।

वर्तमान स्थिति

  • मौजूदा समय में प्रीपेड भुगतान सेवा के तहत बैंक खाते या क्रेडिट कार्ड से पीपीआई में पैसे रखे जा सकते हैं। इनकी मासिक सीमा 50,000 रुपये है। अभी बैंकों और गैर-बैंकिंग इकाइयों को इस तरह के कार्ड जारी करने की अनुमति है। वर्तमान में देश में तीन तरह की प्रीपेड भुगतान प्रणालियां उपलब्ध हैं। इसके अलावा कॉरपोरेट ग्राहकों के लिए विदेशी मुद्रा में लेनदेन वाले खाते खोलने की अनुमति है।

50वें फिट इंडिया प्लॉगिंग

  • फिट इंडिया प्लॉगिंग रन की शुरूआत 2 अक्टूबर, 2019 को हुई थी और वह दिल्ली के जवाहरलाल नेहरू स्टेडियम में समाप्त हो गई। इस दौरान देश के 50 देशों से होकर फिट इंडिया प्लॉगिंग रन गुजरी।
  • समापन आयोजन के अवसर पर युवा मामलों एवं खेल राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) श्री किरेन रिजिजू ने रिपु दमन बेवली का स्वागत किया। उल्लेखनीय है कि श्री बेवली को प्लॉगमैन ऑफ इंडिया का नाम दिया जाएगा। उन्हें श्री रिजिजू ने भारत का प्लॉगिंग दूत घोषित किया। श्री रिजिजू ने देशव्यापी प्लॉगिंग दूत अभियान की शुरूआत भी की, जिसके तहत जो भारतीय दौड़ते हुए अपने शहरों, नगरों और जिलों को स्वच्छ बना रहे हैं, उन्हें अपने क्षेत्रों का प्लॉगिंग दूत नामित किया गया है।
  • प्लॉग रन एक अनोखी दौड़ है, जिसमें दौड़ते हुए सफाई की जाती है। इसे फिट इंडिया आंदोलन में शामिल किया गया है। इसके तहत स्वच्छता के साथ फिटनेस को भी प्रोत्साहन दिया जाता है। श्री बेवली ने 2017 में प्लॉगिंग शुरू की थी। इसका उद्देश्य भारत को स्वच्छ और निर्मल बनाना है। बेवली और उनके दल ने लगभग दो महीने के दौरान 1,000 किलोमीटर की दौड़ पूरी की और 50 शहरों को स्वच्छ बनाया। इस दौरान उन्होंने 2.7 टन कचरा जमा किया।
  • उल्लेखनीय है कि पहला फिट इंडिया प्लॉगिंग रन 2 अक्टूबर, 2019 को शुरू हुआ था, जिसमें देश भर के 62 हजार स्थानों से 36 लाख से अधिक लोगों ने हिस्सा लिया था। इसका आयोजन भारतीय खेल प्राधिकरण, नेहरू युवा केन्द्र संगठन, राष्ट्रीय सेवा योजना, गैरसरकारी संगठनों, केन्द्रीय विद्यालय और कई अन्य संगठनों ने मिलकर किया था।

:: भारतीय राजव्यवस्था एवं महत्वपूर्ण विधेयक ::

आर्थिक अपराधी कानून

  • पीएनबी घोटाले के आरोपी नीरव मोदी (48) को प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) कोर्ट ने गुरुवार को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित कर दिया। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने नीरव के खिलाफ याचिका दायर की थी। भगोड़ा आर्थिक अपराधी कानून के तहत नीरव देश का दूसरा भगोड़ा घोषित हुआ है। जनवरी में पीएमएलए कोर्ट ने शराब कारोबारी विजय माल्या को भगोड़ा घोषित किया था।
  • 13700 करोड़ रुपए के पीएनबी घोटाले का आरोपी नीरव लंदन की वांड्सवर्थ जेल में है। भारत की अपील पर प्रत्यर्पण वारंट जारी होने के बाद लंदन पुलिस ने 19 मार्च को उसे गिरफ्तार किया था। उसकी जमानत अर्जी 5 बार खारिज हो चुकी। भारतीय एजेंसियां उसके प्रत्यर्पण की कोशिश में जुटी हैं।

क्या है भगोड़ा आर्थिक अपराधी कानून ?

  • वित्तीय घोटाला कर रकम चुकाने से इनकार करने वालों पर इस कानून के तहत कार्रवाई की जा सकती है।
  • आर्थिक अपराध में जिनके खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी किया गया हो उन पर कार्रवाई का प्रावधान है।
  • 100 करोड़ रुपए से ज्यादा के ऐसे लोन डिफॉल्टर्स जो विदेश भाग चुके हैं, उन पर कार्रवाई की जा सकती है।
  • भगोड़े आर्थिक अपराधियों की संपत्तियां बेचकर भी कर्ज देने वालों की भरपाई का प्रावधान है।
  • कानून के मुताबिक, किसी आरोपी को भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित करने के लिए संबंधित एजेंसी को विशेष अदालत में याचिका देनी होती है। आरोपी के खिलाफ पर्याप्त सबूतों के साथ उसके पते-ठिकानों और संपत्तियों का ब्यौरा भी शामिल होता है।
  • जब्त किए जाने योग्य बेनामी संपत्तियों और विदेशी संपत्तियों की सूची भी देनी पड़ती है। साथ ही उसमें संपत्तियों से जुड़े अन्य लोगों की जानकारी भी शामिल होती है।
  • आवेदन मिलने के बाद स्पेशल कोर्ट आरोपी को 6 हफ्ते के अंदर पेश होने के लिए नोटिस भी जारी करता है।

15वें वित्त आयोग की रिपोर्ट

  • वित्त वर्ष 2020-21 के लिए 15वें वित्त आयोग ने अपनी रिपोर्ट राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को सौंप दी है। आयोग के चेयरमैन एनके सिंह ने राष्ट्रपति को रिपोर्ट में शामिल सिफारिशों की जानकारी भी दी। सरकार आयोग की सिफारिशों को सार्वजनिक करने का फैसला बाद में लेगी। सूत्र बताते हैं कि पहले इसे संसद में पेश किया जाएगा।
  • सरकार ने 27 नवंबर 2017 को 15वें वित्त आयोग का गठन किया था। उस वक्त इसे 2020 से 2025 के लिए अपनी सिफारिशें देना तय हुआ था। लेकिन इसी वर्ष 27 नवंबर को सरकार ने एक अधिसूचना जारी करके 30 नवंबर 2019 तक पहली रिपोर्ट 2020-21 के वित्त वर्ष के लिए देना तय किया था। इसके बाद आयोग 2021 से 2026 तक की अवधि के लिए अपनी दूसरी रिपोर्ट में सिफारिशें देगी। इस तरह आयोग कुल छह वर्ष के लिए सरकार को सिफारिश देगा।
  • अभी तक वित्त आयोग पांच वर्ष की अवधि के लिए अपनी रिपोर्ट तैयार करता आया है।इसी प्रक्रिया में सरकार ने आयोग का कार्यकाल भी 30 अक्टूबर 2020 तक के लिए एक साल और बढ़ा दिया था। आयोग केंद्र और राज्यों के बीच टैक्स व अन्य संसाधनों के बंटवारे का फार्मूला तय करता है।

:: भारतीय अर्थव्यवस्था ::

भारतीय रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समीक्षा

  • भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने रेपो दर में कोई बदलाव नहीं किया है। हालांकि केंद्रीय बैंक ने जीडीपी का अनुमान घटा दिया है। रेपो दर 5.15 फीसदी पर बरकरार रहेगी। तीन दिसंबर को मौद्रिक नीति समिति की बैठक शुरू हुई थी और आज पांच दिसंबर को रेपो रेट की घोषणा हुई। बता दें कि केंद्रीय बैंक खुदरा महंगाई को ध्यान में रखते हुए प्रमुख नीतिगत दरों पर फैसला लेता है। इस साल रेपो दर में कुल 135 आधार अंकों की कटौती हुई है। नौ सालों में पहली बार रेपो रेट इतना कम है। मार्च, 2010 के बाद यह रेपो रेट का सबसे निचला स्तर है। रिवर्स रेपो रेट 4.90 फीसदी है बैंक रेट 5.40 फीसदी पर है।

वित्त वर्ष 2019-20 की पांचवीं द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा की मुख्य बातें : -

  • रेपो दर 5.15 प्रतिशत पर अपरिवर्तित।
  • चालू वित्त वर्ष के लिए सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर का अनुमान 6.1 प्रतिशत से घटाकर पांच प्रतिशत किया गया।
  • विभिन्न त्वरित संकेतक बता रहे हैं कि मांग हालात कमजोर बने हुए हैं।
  • आर्थिक वृद्धि को बढ़ावा देने के लिये रिजर्व बैंक उदार रुख बनाये रखेगा। * यह माना है कि मौद्रिक नीति में भविष्य में कदम उठाने की गुंजाइश बनी हुई है।
  • चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही के लिए खुदरा मुद्रास्फीति अनुमान बढ़ाकर 5.1-4.7 प्रतिशत किया।
  • रिजर्व बैंक का मानना है कि रेपो दर में कटौती का लाभ आगे पहुंचाने का काम बेहतर होगा।
  • विदेशी मुद्रा भंडार तीन दिसंबर को 451.7 अरब डॉलर पर रहा। पिछले वित्त वर्ष की समाप्ति से यह 38.8 अरब डॉलर अधिक रहा।
  • मौद्रिक नीति समिति के सभी छह सदस्यों ने नीतिगत दरों को अपरिवर्तित रखने का पक्ष लिया।
  • मौद्रिक नीति समिति की अगली बैठक चार से छह फरवरी 2020 को होगी।

:: पर्यावरण और पारिस्थितिकी ::

प्राकृतिक गैसें भी बढ़ा रहीं कार्बन उत्सर्जन: ग्लोबल कार्बन प्रोजेक्ट

  • प्राकृतिक गैसों का उपयोग बढ़ने से इस वर्ष वैश्विक कार्बन उत्सर्जन में रिकॉर्ड वृद्धि दर्ज की गई है। यह हालात तब हैं जब कई देशों ने कोयले की खपत कम करने के साथ-साथ जलवायु आपातकाल की घोषणा की है। एक नए अध्ययन में यह दावा किया गया है। ग्लोबल कार्बन प्रोजेक्ट ने अपने सालाना विश्लेषण में कहा कि रसोई और वाहनों में प्रयुक्त होने वाली प्राकृतिक गैसों के कारण इस साल कार्बन का उत्सर्जन 0.6 फीसद बढ़ा है। हालांकि पिछले साल की तुलना में यह आंकड़ा कम है लेकिन हमें ग्लोबल वार्मिंग के प्रति सचेत रहने की जरूरत है।
  • तीन वैश्विक अध्ययनों में लेखकों ने उत्सर्जन में वृद्धि के लिए प्राकृतिक गैस और तेल को जिम्मेदार ठहराया है। इसका एक अर्थ यह भी है कि संयुक्त राज्य अमेरिका और यूरोप में कोयले के उपयोग में गिरावट आने लगी है। कार्बन बजट रिपोर्ट के लेखक और ईस्ट एंग्लिया यूनिवर्सिटी के कॉरिन ले क्वेर ने कहा, ‘यह तो सब जानते हैं कि कोयले के उपयोग में उतार-चढ़ाव से वैश्विक स्तर पर जलवायु में परिवर्तन आते हैं, लेकिन तेल और विशेष रूप से प्राकृतिक गैस का उपयोग बढ़ने भी कार्बन उत्सर्जन में वृद्धि हुई है।’ उन्होंने कहा कि हाल के दशकों में वायुमंडलीय में कार्बन डाइऑक्साइड का स्तर तेजी से बढ़ा है, इस वर्ष औसतन 410 पीपीएम (पाट्र्स पर मिलियन) फैलने का अनुमान है। यह स्तर 80 लाख साल में सबसे उच्चतम है।

उत्सर्जन को 7.6 फीसद कम करने की जरूरत

  • क्वेर ने कहा, ‘यह रिपोर्ट मैड्रिड में संयुक्त राष्ट्र (यूएन) की जलवायु वार्ता में एकत्रित होने वाले प्रतिनिधियों को असहज कर सकती है। दुनिया के शीर्ष जलवायु वैज्ञानिकों की चेतावनी पर हमें समय रहते काम करने की जरूरत है। पिछले सप्ताह यूएन ने कहा था कि वैश्विक उत्सर्जन को हर साल 7.6 फीसद कम करने की जरूरत है। ताकि वर्ष 2030 तक तापमान को 1.7 डिग्री सेल्सियस (2.6 फॉरनहाइट) तक स्थिर किया जा सके।

2010 में दर्ज की गई थी रिकॉर्ड गर्मी

  • औद्योगिक क्रांति के बाद अब तक एक डिग्री सेल्सियस तापमान बढ़ा है। इसके कारण भीषण तूफान, सूखा, जंगलों में आगजनी और बाढ़ की घटनाएं बढ़ गई हैं और जलवायु परिवर्तन और ज्यादा तेज हो गया है। यूएन ने कहा कि 21 सदी के पहले दशक में वर्ष 2010 में रिर्काड गर्मी दर्ज की गई थी और इस साल गर्मी से लगभग 2.2 लाख लोग प्रभावित हो सकते हैं।

लो कार्बन टेक्नोलॉजी का बढ़ावा देने की जरूरत

  • इस अध्ययन के लेखकों ने बताया कि 2019 में हुई उत्सर्जन में वृद्धि पिछले दो वर्षों की तुलना में धीमी है। फिर भी ऊर्जा की मांग इस बात की ओर इशारा करती है कि पवन और सौर ऊर्जा जैसी लो कार्बन टेक्नोलॉजी के प्रयोग को और ज्यादा बढ़ाने की जरूरत है। वर्ष 2015 की तुलना में इस साल चार फीसद अधिक उत्सर्जन हुआ है। तापमान में वृद्धि को सीमित करने के लिए 195 देशों ने पेरिस जलवायु समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। बाद में इस समझौते से अमेरिका ने खुद को अलग कर लिया था।

सीवरेज क्षेत्र में हाईब्रिड एन्युटी मॉडल के तहत पहले एसटीपी का उद्घाटन

  • स्वीडन के राजा कार्ल सोलहवें गुस्ताफ और रानी सिल्विया, उत्तराखंड के मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत, केंद्रीय जल शक्ति मंत्री श्री गजेन्द्र सिंह शेखावत, स्वीडन के राज्य सचिव, डॉ. माजा फजैस्ताद, भारत में स्वीडन के राजदूत श्री क्लाज़ मोलिन, श्री राजीव रंजन मिश्रा, महानिदेशक, एनएमसीजी और सुश्री मोनिका कपिल मोहता, स्वीडन में भारत की राजदूत, ने हरिद्वार के सराय में 14 एमएलडी सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट का उद्घाटन किया.
  • सराय का 14 एमएलडी का सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट हाइब्रिड एन्युटी बेस्ड पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप मॉडल के तहत पूरा होने वाला पहला प्रोजेक्ट है, जिसमें 41.40 करोड़ रुपए लगे हैं और ये प्लांट अपने निर्धारित समय से पहले पूरा हो गया है. यह प्लांट सिक्वेंसल बैच रिएक्टर प्रक्रिया पर आधारित है, जिसमें किसी भी रसायन की आवश्यकता नहीं होती है और यह परियोजना सौ फीसदी पर्यावरण के अनुकूल है. यह प्लांट प्रदूषण नियंत्रण के उच्चतम मानकों को पूरा करता है.
  • इस एचएएम परियोजना की एक और अनूठी विशेषता यह है कि इसके चालू होने के बाद, इस प्लांट के 15 सालों तक कुशल प्रदर्शन और आउटपुट मापदंडों और संचालन को पूरा करने की जिम्मेदारी एक ही डेवलपर की होगी. राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन ने साल 2035 तक इसपर ध्यान रखेगा.
  • गंगा में प्रदूषण का मुख्य स्रोत शहरों का सीवेज होता है, जिसको ध्यान में रखते हुए 23,000 करोड़ रुपए से अधिक लागत से 150 सीवरेज परियोजनाओं को स्वीकृत किया गया है.इसके अलावा गंगा बेसिन में औद्योगिक और प्रदूषण के अन्य स्रोतों की जांच के लिए विभिन्न तरीके अपनाए जा रहे हैं. ये पहल शहर के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी है.
  • स्वीडन के राजा की उत्तराखंड की यात्रा की योजना उस दौरान बन गई थी, जब वर्ल्ड वाटर वीक 2019, स्टॉकहोम में उन्होंने नमामि गंगे पैवेलियन का दौरा किया था. एनएमसीजी जिस तरह से तकनीकी और जन भागीदारी को एक साथ करते अपने मिशन को अंजाम दे रहा है, उसमें स्वीडन के राजा ने गहरी दिलचस्पी दिखाई थी. उनकी रुचि को देखते हुए जल शक्ति मंत्री श्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने उन्हें भारत आने और गंगा पर नमामि गंगे द्वारा चल रहे परियोजनाओं को देखने के लिए आमंत्रित किया था.

:: विज्ञान और प्रौद्योगिकी ::

दुनिया की पहली फ्लाई एंड ड्राइव कार

  • दुनिया की पहली 'फ्लाई एंड ड्राइव कार' बुधवार को मियामी में एक इवेंट में लॉन्‍च कर दी गई। इसे पायनियर पर्सनल एयर लैंडिंग व्हीकल (Personal Air Landing Vehicle, PAL-V) नाम दिया गया है। इसकी कीमत लगभग 4.30 करोड़ रुपये है। अभी तक इस कार की 70 बुकिंग हो चुकी हैं। इसकी पहली डिलीवरी 2021 में होगी। कंपनी ने इसकी बिक्री के लिए एक शर्त रखी है। शर्त के मुताबिक, खरीदार के पास ड्राइविंग लाइसेंस के साथ पायलट लाइसेंस भी होना चाहिए।

विशेषता

  • इस कार में रिट्रैक्टेबल ओवरहेड और रियर प्रोपेलर लगाए गए हैं, जिनकी मदद से यह 12,500 फीट की ऊंचाई पर उड़ान भर सकती है। कार हवा में 321 किलोमीटर प्रति घंटा और सड़क पर 160 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से उड़ और दौड़ सकती है। टू-सीटर इस 680 किलो वजनी कार में 230 हॉर्स पावर का चार सिलेंडर इंजन लगा है। यह महज 10 मिनट में थ्री व्हील कार से जायरोकॉप्टर में बदल जाती है।
  • यह कार कार्बन फाइबर, टाइटेनियम और एल्युमिनियम से बनी है। इसको टेक ऑफ के लिए 540 फुट का रनवे चाह‍िये। हालां‍कि, इसके उतरने के लिए महज 100 फीट का रनवे पर्याप्‍त है। इसमें मोटरसाइकिल की तरह ही हैंडलबार दिया गया है, जिसकी मदद से सड़क और हवा में नियंत्रित किया जा सकता है। कंपनी ने इसके कॉमर्शियल प्रोडक्शन वर्जन को तैयार कर लिया है।

:: विविध ::

प्रियंका चोपड़ा को मिला यूनिसेफ के डैनी काये मानवतावादी पुरस्कार

  • फिल्म अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा को यूनिसेफ के डैनी काये मानवतावादी पुरस्कार से सम्मानित किया गया। इस साल जून में संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ) ने 2019 के पुरस्कार विजेता के तौर पर चोपड़ा के नाम की घोषणा की थी। अभिनेत्री ने यहां स्नोफ्लेक बॉल में पुरस्कार ग्रहण किया।

जीएस लक्ष्मी

  • पूर्व भारतीय क्रिकेटर जीएस लक्ष्मी रविवार (8 दिसंबर) को संयुक्त अरब अमीरात में विश्व कप लीग दो की तीसरी सीरीज के शुरुआती मैच में पुरुष वनडे में रैफरिंग करने वाली पहली महिला मैच रैफरी बन जायेंगी।

मोस्ट इंप्रूव्ड प्लेयर आफ द ईयर: बीडब्ल्यूएफ

  • सात्विक साईराज रंकी रेड्डी और चिराग शेट्टी की भारतीय पुरुष युगल जोड़ी को सत्र में शानदार प्रदर्शन करने के लिए विश्व बैडमिंटन महासंघ (बीडब्ल्यूएफ) ने ‘मोस्ट इंप्रूव्ड प्लेयर आफ द ईयर’ पुरस्कार के लिए नामित किया है।

राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगेल अवार्ड

  • 05 दिसम्बर (हि.स.) स्वास्थ्य के क्षेत्र में सराहनीय सेवाओं के लिए गुरुवार को देश की 36 नर्सों को राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगेल अवार्ड से सम्मानित किया गया। इनमें केरल की लिनी सजिश भी शामिल हैं। उनकी मौत निपाह वायरस पीड़ित मरीज का इलाज करते हो गई थी। उल्लेखनीय है कि फ्लोरेंस नाइटिंगेल अवार्ड की शुरुआत वर्ष 1973 में की गई थी।

:: प्रिलिम्स बूस्टर ::

  • हाल ही में किस वित्तीय संस्थान के द्वारा पूर्व भुगतान प्रणाली यानी प्रीपेड पेमेंट इंस्ट्रूमेंट (पीपीआई) प्रस्तुत करने की घोषणा की गई है? (रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया)
  • किस व्यक्ति को प्लॉगमैन ऑफ इंडिया के नाम से जाना जाएगा? (रिपु दमन बेवली)
  • हाल ही में किस व्यक्ति को प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉन्ड्रिंग एक्ट (पीएमएलए) के तहत भगोड़ा आर्थिक अपराधी घोषित किया गया है? (नीरव मोदी)
  • हाल ही में चर्चा में रहे 15वें वित्त आयोग के अध्यक्ष कौन हैं? (एनके सिंह)
  • हाल ही में जारी हुई रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समीक्षा में चालू वित्त वर्ष के लिए सकल घरेलू उत्पाद की वृद्धि दर को कितना रखा गया है? (5%)
  • हाल ही में जारी हुई भारतीय रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समीक्षा के अनुसार रेपो दर कितनी है? (5.15)
  • दुनिया की पहली फ्लाई एंड ड्राइव कार का क्या नाम है? (पायनियर पर्सनल एयर लैंडिंग व्हीकल -Personal Air Landing Vehicle, PAL-V)
  • हाल ही में किस भारतीय व्यक्तित्व को यूनिसेफ के डैनी काये मानवतावादी पुरस्कार से सम्मानित किया गया? (प्रियंका चोपड़ा)
  • पुरुष वनडे में रैफरिंग करने वाली पहली महिला मैच रैफरी बनने की उपलब्धि किस भारतीय खिलाड़ी को प्राप्त होगी ? (जीएस लक्ष्मी)
  • हाल ही में विश्व बैडमिंटन महासंघ (बीडब्ल्यूएफ) के द्वारा ‘मोस्ट इंप्रूव्ड प्लेयर आफ द ईयर’ पुरस्कार के लिए किन भारतीय खिलाड़ियों को नामित किया गया है? (सात्विक साईराज रंकी रेड्डी और चिराग शेट्टी)
  • हाल ही में किस नर्स को राष्ट्रीय फ्लोरेंस नाइटिंगेल अवार्ड से नवाजा गया? (लिनी सजिश)

स्रोत साभार: Dainik Jagran (Rashtriya Sanskaran), Dainik Bhaskar (Rashtriya Sanskaran), Rashtriya Sahara (Rashtriya Sanskaran) Hindustan Dainik (Delhi), Nai Duniya, Hindustan Times, The Hindu, BBC Portal, The Economic Times (Hindi & English), PTI, PIB

<< मुख्य पृष्ठ पर वापस जाने के लिये यहां क्लिक करें