(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (03 जुलाई 2020)

दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर


(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (03 जुलाई 2020)


:: राष्ट्रीय समाचार ::

फेम-2 योजना (Fame-2 Scheme)

चर्चा में क्यों?

  • हाल ही में फिक्की (FICCI) ने सरकार से इलेक्ट्रिक वाहनों की मांग बढ़ाने के लिए 2025 तक फेम-2 योजना को बढ़ाने के लिए सिफारिश पत्र सौंपा है। FICCI द्वारा इलेक्ट्रिक वाहनों की मांग को बढ़ाने और इस क्षेत्र में निवेश को प्रोत्साहन देने के मकसद से नीति निर्माताओं से तत्काल समर्थन की मांग की गई है।

क्या है फेम-2 योजना?

  • सरकार ने देश में इलेक्ट्रिक वाहनों के विनिर्माण और उनके तेजी से इस्तेमाल को बढ़ावा देने के लिए फेम इंडिया योजना के दूसरे चरण को मंजूरी दी गयी थी। कुल 10,000 करोड़ रुपये के परिव्यय वाली यह योजना 1 अप्रैल, 2019 से तीन वर्षों के लिए शुरू की गयी थी जो तात्कालिक 'फेम इंडिया वन' का विस्तारित संस्करण है। 'फेम इंडिया वन'योजना 1 अप्रैल, 2015 को लागू की गई थी।
  • इस योजना का मुख्य उद्देश्य देश में इलेक्ट्रिक और हाईब्रिड वाहनों के तेजी से इस्तेमाल को बढ़ावा देना है। इसके लिए लोगों को इलेक्ट्रिक वाहनों की खरीद में शुरूआती स्तर पर प्रोत्साहन राशि देने तथा ऐसे वाहनों की चार्जिंग के लिए पर्याप्त आधारभूत ढांचा विकसित करना है। यह योजना पर्यावरण प्रदूषण और ईंधन सुरक्षा जैसी समस्याओं का समाधान करेगी।

योजना से जुड़े कार्य-बिंदु एक नजर में

  • बिजली से चलने वाली सार्वजनिक परिवहन सेवाओं पर जोर।
  • इलेक्ट्रिक बसों के संचालन पर होने वाले खर्चों के लिए मांग आधारित प्रोत्साहन राशि मॉडल अपनाना, ऐसे खर्च राज्य और शहरी परिवहन निगमों द्वारा दिया जाना।
  • सार्वजनिक परिवहन सेवाओं और वाणिज्यिक इस्तेमाल के लिए पंजीकृत 3 वॉट और 4 वॉट श्रेणी वाले इलेक्ट्रिक वाहनों के लिए प्रोत्साहन राशि।
  • 2 वॉट श्रेणी वाले इलेक्ट्रिक वाहनों में मुख्य ध्यान निजी वाहनों पर केन्द्रित रखना।
  • इस योजना के तहत 2 वॉट वाले 10 लाख, 3 वॉट वाले 5 लाख, 4 वॉट वाले 55,000 वाहन और 7000 बसों को वित्तीय प्रोत्साहन राशि देने की योजना है।
  • नवीन प्रौद्योगिकी को बढ़ावा देने के लिए प्रोत्साहन राशि का लाभ केवल उन्हीं वाहनों को दिया जाएगा, जिनमें अत्याधुनिक लिथियम आयोन या ऐसी ही अन्य नई तकनीक वाली बैट्रियां लगाई गई हों।
  • योजना के तहत इलेक्ट्रिक वाहनों की चार्जिंग के लिए पर्याप्त आधारभूत ढांचा उपलब्ध कराने का प्रस्ताव है इसके तहत महानगरों, 10 लाख से ज्यादा की आबादी वाले शहरों, स्मार्ट शहरों, छोटे शहरों और पर्वतीय राज्यों के शहरों में तीन किलोमीटर के अंतराल में 2700 चार्जिंग स्टेशन बनाने का प्रस्ताव हैं।
  • बड़े शहरों को जोड़ने वाले प्रमुख राजमार्गों पर भी चार्जिंग स्टेशन बनाने की योजना है।
  • ऐसे राजमार्गों पर 25 किलोमीटर के अंतराल पर दोनों तरफ भी ऐसे चार्जिंग स्टेशन लगाने की योजना है।

जोजिला सुरंग

चर्चा में क्यों?

  • केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि कश्मीर और लद्दाख क्षेत्र के बीच पूरे साल संपर्क व्यवस्था के लिये रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण जोजिला सुरंग पर काम जल्दी शुरू होगा।
  • सुरंग परियोजना करीब छह साल से अटकी पड़ी है। श्रीनगर-करगिल-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग पर करीब 11,578 फुट की ऊंचाई पर स्थित जोजिजा दर्रा का रणनीतिक महत्व है। भारी हिमपात के कारण जाड़े में यह बंद हो जाता है। इससे कश्मीर से लद्दाख कट जाता है।

जोजिला दर्रा के बारे में

  • ज़ोजिला दर्रा श्रीनगर को कारगिल और लेह से जोड़ता है एवं यह जास्कर श्रेणी पर स्थित है |जोजिला दर्रा श्रीनगर-करगिल-लेह राष्ट्रीय राजमार्ग पर 11,578 फुट की ऊंचाई पर है जो सर्दी के मौसम में (दिसंबर से अप्रैल) भारी बर्फबारी और हिमस्खलन के कारण लेह- लद्दाख क्षेत्र कश्मीर से कटा रहता है।

खेलों में डोपिंग के खिलाफ राष्ट्रीय अनुपालन मंच का गठन

  • यूनेस्को की आम सभा में अपनाए गए नियमों की तर्ज पर भारत सरकार खेल सचिव की अध्यक्षता में 'खेलों में डोपिंग के खिलाफ राष्ट्रीय अनुपालन मंच' गठन करने की तैयारी कर रही है।
  • इस पैनल के सदस्य भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) के अध्यक्ष और राष्ट्रीय डोपिंग रोधी एजेंसी (नाडा) के महानिदेशक होंगे। नाडा के महानिदेशक 10 सदस्यीय पैनल के सदस्य सचिव होंगे। अन्य सदस्यों में गृह मंत्रालय, वित्त मंत्रालय, विदेश मंत्रालय, मानव संसाधन विकास मंत्रालय, स्वास्थ्य और कानून मंत्रालय के प्रतिनिधि होंगे।

पोस्‍टल बैलेट

चर्चा में क्यों?

  • कानून एवं न्याय मंत्रालय ने 65 साल या उससे ऊपर के नागरिकों और कोरोना वायरस संक्रमित मरीजों, जो क्वारंटीन में रह रहे हैं उन्‍हें पोस्टल बैलेट के जरिए वोटिंग की सुविधा देने के लिए नोटिफिकेशन जारी किया। अब इस परिधि में आने वाले सभी लोगों को चुनावों में पोस्‍टल बैलेट के जरिए वोटिंग करने की अनुमति होगी। बता दें कि बुजुर्गों को कोविड-19 का सबसे ज्‍यादा खतरा है। वहीं, कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते प्रकोप के कारण लोगों को शारीरिक दूरी बनाए रखने का निर्देश दिया गया है।

पृष्ठभूमि

  • बता दें कि इससे पहले पोस्टल बैलेट का अधिकार 80 वर्ष तक के बुजुर्ग और दिव्यांगजनों को प्राप्त था। पिछले साल 22 अक्टूबर को कानून मंत्रालय द्वारा अधिसूचना के मुताबिक, चुनाव में मत प्रतिशत बढ़ाने के लिए 80 साल के अधिक आयु के बुजुर्ग और दिव्यांग मतदाताओं के लिए पोस्टल बैलेट से मतदान की सुविधा दी गई थी। मौजूदा व्यवस्था में सेना, अर्ध सैनिक बलों के जवानों और विदेशों में कार्यरत सरकारी कर्मचारियों व निर्वाचन ड्यूटी में तैनात कर्मचारियों को ही डाक मतपत्र से वोट देने का अधिकार प्राप्त है।

:: अंतर्राष्ट्रीय समाचार ::

उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (नाटो)

  • तुर्की के एक जंगी जहाज के साथ गतिरोध होने के बाद फ्रांस ने भूमध्य सागर में नाटो के नौसैनिक अभियान में अपनी भागीदारी अस्थायी रूप से रोकने की घोषणा की। फ्रांस ने लीबिया में संघर्ष को लेकर नाटो के अंदर तनाव बढ़ने के बीच यह कदम उठाया है।
  • फ्रांस के रक्षा मंत्रालय ने नाटो को कहा कि वह 'सी गार्डियन' में अपनी भागीदारी अस्थायी रूप से रोक रहा है।

पृष्ठभूमि

  • फ्रांस ने तुर्की पर आरोप लगाया है कि उसने लीबिया पर लगाये गये हथियारों से जुड़े प्रतिबंधों का बार-बार उल्लंघन किया है। इसके साथ ही नाटो के सहयोगी देश लीबिया पर हथियारों को लेकर लागू प्रतिबंध का समर्थन करने को कहा है। साथ ही तुर्की की सरकार पर यह आरोप भी लगाया कि वह उत्तरी अफ्रीकी राष्ट्र में संघर्षविराम को सुरक्षित रखने में एक बाधक के रूप में काम कर रही है।

्या है नाटो?

  • गर नाटो की बात करें तो उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन (नाटो) की स्थापना 4 अप्रैल 1949 को हुई थी। यह एक अंतर-सरकारी सैन्य गठबंधन है, जिसे उत्तर अटलांटिक एलायंस के नाम से भी जाना जाता है। नाटो एक 30 देशों की सेनाओं का संगठन है, जिसमें की सैन्य सहायता प्रदान की जाती है। नाटो का मुख्यालय ब्रुसेल्स (बेल्जियम) में है। संगठन ने सामूहिक सुरक्षा की व्यवस्था बनाई है, जिसके तहत सदस्य राज्य बाहरी हमले की स्थिति में सहयोग करने के लिए सहमत होंगे।

व्लादिवोस्तोक

चर्चा में क्यों?

  • भारत के साथ लद्दाख में सीमा विवाद बढ़ा रहे चीन ने अब रूस के शहर व्लादिवोस्तोक पर अपना दावा किया है। चीन के सरकारी समाचार चैनल सीजीटीएन के संपादक शेन सिवई ने दावा किया कि रूस का व्लादिवोस्तोक शहर 1860 से पहले चीन का हिस्सा था। इतना ही नहीं, उन्होंने यह भी कहा कि इस शहर को पहले हैशेनवाई के नाम से जाना जाता था। जिसे रूस से एकतरफा संधि के तहत चीन से छीन लिया था।

व्लादिवोस्तोक के बारे में

  • रूस का व्हादिवोस्तोक शहर प्रशांत महासागर में तैनात उसके बेड़े का प्रमुख बेस है। रूस के उत्तर पूर्व में स्थित यह शहर प्रिमोर्स्की क्राय राज्य की राजधानी है। यह शहर चीन और उत्तर कोरिया की सीमा के नजदीक स्थित है। व्यापारिक और ऐतिहासिक रूप से व्लादिवोस्तोक रूस का सबसे अहम शहर है। रूस से होने वाले व्यापार का अधिकांश हिस्सा इसी पोर्ट से होकर जाता है। द्वितीय विश्व युद्ध मे भी यहां जर्मनी और रूस की सेनाओं के बीच भीषण युद्ध लड़ा गया था।

रूसी संविधान में संशोधन

चर्चा में क्यों?

  • रूस संवैधानिक संशोधनों पर देशव्यापी जनमत संग्रह में वोट डालने का सिलसिला पूरा हो गया। रूसी संविधान में संशोधन के लिए मतदान में नागरिकों ने देश की राजनीतिक स्थिति के पक्ष में मतदान किया। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन 2036 तक अपना पद संभालते रह सकते हैं।

पृष्ठभूमि

  • वोट रूस के 1993 के संविधान में संशोधन शुरू करना चाहता है, जिसमें विवाह की संस्था की रक्षा करना, रूस की घरेलू नीति की प्राथमिकता के रूप में बच्चों को स्थापित करना और रूस की संस्कृति का समर्थन और सुरक्षा करने की बाध्यता शामिल है।
  • संशोधनों में रूसी संघ के राष्ट्रपति के लिए लगातार छह साल की दो शर्तों की सीमा भी शामिल है। यह प्रावधान राष्ट्रपति के लिए लागू होता है। इस प्रकार राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के लिए 2024 में अपने वर्तमान कार्यकाल के समाप्त होने के बाद फिर से चलने का मार्ग प्रशस्त होता है।

हुआवेई और जेडटीई

  • अमेरिकी फेडरल कम्युनिकेशंस कमीशन (एफसीसी) ने चीनी कंपनी हुआवेई और जेडटीई को 'राष्ट्रीय सुरक्षा के लिये खतरा' घोषित है। अमेरिकी संचार नेटवर्क की सुरक्षा के लिये यह कदम उठाया गया है और यह तत्काल प्रभाव में आ गया है।
  • इस निर्णय के दायरे में कंपनी मूल इकाई, संबद्ध और अनुषंगी इकाइयां आएंगी। इस फैसले के बाद एफसीसी के 8.3 अरब डॉलर का सार्वभौमिक सेवा कोष का उपयोग इन आपूर्तिकर्ताओं द्वारा उपलब्ध किसी भी दूरसंचार उपकरण या सेवाओं को लेने में नहीं किया जा सकेगा। पब्लिक सेफ्टी एंड होमलैंड सिक्युरिटी ब्यूरो ने साक्ष्यों और हुआवेई तथा जेडटीई के अपने समर्थन में रखे गये बयान तथा अन्य पक्षों की बातों के आधार पर यह निर्णय किया। हुआवेई और जेडटीई को राष्ट्रीय सुरक्षा के लिये खतरा बताने वाला निर्णय तुंरत प्रभाव से अमल में आ गया है।

क्यों उठाया गया यह कदम?

  • एफसीसी के चेयरमैन भारतीय-अमेरिकी अजित पई के अनुसार दोनों कंपनियों का चीन की कम्युनिस्ट पार्टी और सैन्य उपकरणों से संबद्ध है। दोनों कंपनियां चीनी कानून से बंधी हैं और उन पर देश की खुफिया सेवाओं के साथ सहयोग की बाध्यताएं हैं।

यांमार के आतंकी समूहों को चीन का समर्थन

चर्चा में क्यों?

  • म्यांमार आर्मी चीफ ने तल्ख लहजे में चीन को चेतावनी देते हुए कहा कि वह यहां के आतंकी समूहों को हथियार न दे। जनरल ने इसे लेकर अंतरराष्ट्रीय समुदाय से सहयोग की भी मांग की। बता दें कि दक्षिण पूर्व एशिया में म्यांमार चीन का सबसे करीबी पड़ोसी माना जाता है।

पृष्ठभूमि

  • अराकान आर्मी (एए) और अराकान रोहिंग्या साल्वेशन आर्मी (एआरएसए) दोनों आतंकी संगठन चीन से सटे पश्चिमी म्यांमार में राखिन राज्य में सक्रिय संगठन हैं। 2019 से इस आतंकी संगठन ने चीन निर्मित हथियारों और लैंड माइन के जरिए म्यांमार आर्मी पर हमला कर रहे हैं।
  • नवंबर 2019 में म्यांमार सेना ने एक छापे के दौरान प्रतिबंधित टांग नेशनल लिबरेशन आर्मी से बड़ी संख्या में हथियारों को जब्त किया था। इसमें सरफेस टू एयर मिसाइल्स भी शामिल थीं। इस छापे के दौरान मिले मिसाइलों की कीमत 70000 से 90000 अमेरिकी डॉलर के आसपास थी। ये हथियार मेड इन चाइना थे। म्यांमार में सक्रिय आतंकी संगठन सुरक्षाबलों पर हमला करने के लिए चीन के बने हथियारों का प्रयोग करते हैं। चीन की कम्युनिस्ट पार्टी म्यांमार में अपनी पकड़ मजबूत करने के लिए इन आतंकी समूहों को हथियार सप्लाई करवाती है। इन आतंकी समूहों के चीनी सेना के साथ भी घनिष्ठ संबंध हैं।

समुद्री जहाज़ एनरिका लेक्सी

चर्चा में क्यों?

  • इटली के समुद्री जहाज़ एनरिका लेक्सी के गार्डों ने 2012 में भारतीय मछुआरों पर गोली चलाने के मामले में आर्बिट्रल ट्रिब्यूनल (मध्यस्थ न्यायाधिकरण) ने भारतीय अधिकारियों के आचरण को सही ठहराया है। इटली के अनुरोध पर जो आर्बिट्रल ट्रिब्यूनल गठित हुआ था उसने ने UNCLOS के प्रावधानों के तहत घटना के संबंध में भारतीय अधिकारियों के आचरण को सही ठहराया है।
  • आर्बिट्रल ट्रिब्यूनल ने माना कि इतालवी सैन्य अधिकारियों की कार्रवाइयों ने UNCLOS अनुच्छेद 87 (1A) और 90 के तहत भारत की स्वतंत्रता को भंग कर दिया। इससे भारत को जानमाल के नुकसान की क्षतिपूर्ति, संपत्ति को नुकसान और सेंट एंथोनी के कप्तान और चालक दल को नुकसान हुआ है।
  • न्यायाधिकरण ने यह भी कहा कि भारत के साथ मुआवजे की राशि पर एक समझौते पर पहुंचने के लिए दोनों पार्टियों को एक दूसरे के साथ विचार-विमर्श के लिए बुलाया जाता है।

पृष्ठभूमि

  • 2012 में इटली के समुद्री जहाज़ एनरिका लेक्सी के गार्डों ने भारतीय मछुआरों पर पर गोली चला दी थी। गार्डों का कहना था कि उन्हें लगा ये समुद्री लुटेरे हैं। इटली के सुरक्षाकर्मियों की गोलीबारी में दो मछुआरे मारे गए थे।

:: अर्थव्यवस्था ::

भारत बांड श्रृंखला के तहत दो नये सूचकांक जारी

  • नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) की अनुषंगी एनएसई इंडिसेस लि. ने निफ्टी भारत बांड सूचकांक श्रृंखला के तहत दो नये सूचकांक जारी किये। नये सूचकांक...निफ्टी भारत बांड सूचकांक अप्रैल, 2025 में और निफ्टी भारत बांड अप्रैल, 2031 में परिपक्व होंगे। इस पर आने वाले भारत बांड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड के जरिये नजर रखी जाएगी।
  • उल्लेखनीय है कि एनएसई इंडिसेस ने दिसंबर, 2019 में भारत बांड सूचकांक श्रृंखला के तहत दो सूचकांक जारी किये थे। इनकी परिपक्वता अवधि क्रमश: अप्रैल, 2023 और अप्रैल, 2030 है।

:: विज्ञान और प्रौद्योगिकी ::

दिल्ली में पहले प्लाज्मा बैंक' उद्घाटन

  • कोरोना वायरस के इलाज के लिए दिल्ली में पहले प्लाज्मा बैंक की शुरुआत होने के साथ मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कोविड-19 के मरीज ठीक होने के 14 दिन बाद प्लाज्मा दान कर सकते हैं।

क्या होता है प्लाज्मा?

  • प्लाज्मा रक्त में उपलब्ध एक तरल पदार्थ होता है। इसका 92 फीसदी भाग पानी होता है। प्लाज्मा में पानी के अलावा प्रोटीन, ग्लूकोस मिनरल, हार्मोंस, कार्बन डाइऑक्साइड होते हैं। शरीर में कार्बन डाइऑक्साइड का परिवहन रक्त के प्लाज्मा द्वारा होता है। इनके अतिरिक्त रक्त में सिरम एल्बुमिन, कई तरह के प्रोटीन और इलेक्ट्रॉलाइट्स भी पाए जाते हैं। वहीं, रक्त कोशिकाओं में पाए जाने वाले हिमोग्लोबिन और आयरन तत्व की वजह से खून लाल होता है। हृदय शरीर में रक्त का संचार करता है। कोरोना के अटैक के बाद शरीर वायरस से लड़ना शुरू करता है। यह लड़ाई एंटीबॉडी लड़ती है, जो प्लाज्मा की मदद से ही बनती है। अगर शरीर पर्याप्त एंटी बॉडी बना लेता है तो कोरोना हार जाता है।

क्या है प्लाज्मा थेरेपी?

  • भारत में इसकी चर्चा बीते कुछ समय में शुरू हुई, जब दिल्ली में कुछ लोगों का प्लाज्मा थेरेपी के माध्यम से इलाज शुरू हुआ। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन का भी प्लाज्मा थेरेपी से इलाज किया गया। फिर दिल्ली के बाद कर्नाटक में भी इसका ट्रायल शुरू हो गया और इसी तर्ज पर केरल, बिहार, महाराष्ट्र जैसे राज्य भी इसका ट्रायल शुरू करने की दिशा में आगे बढ़ चुके हैं। असल में जब किसी इंसान को कोरोना का संक्रमण होता है, तो उसका शरीर संक्रमण से लड़ने के लिए खून में एंटीबॉडी बनाता है। यह एंटीबॉडी संक्रमण को खत्म करने में मदद करती है और ज्यादातर मामलों में जब पर्याप्त एंटी बॉडी बन जाती है तो वायरस नष्ट हो जाता है। डॉक्टर्स के मुताबिक, एक इंसान के खून के प्लाज्मा की मदद से दो लोगों का इलाज किया जा सकता है।

अस्‍त्र मिसाइल

चर्चा में क्यों?

  • चीन से बढ़ते खतरे के मद्देनजर भारत लगातार अपनी स्थिति क्षेत्र में मजबूत करने में लगा है। इसके लिए भारत ने सीमा पर मिसाइलों की तैनाती भी कर दी है। अब चीन के किसी भी दुस्‍साहस को करारा जवाब देने के लिए और उससे होने वाले संभावित खतरे के मद्देनजर भारत अपने लड़ाकू विमानों को अस्‍त्र मिसाइल की ताकत से लैस करना चाहता है। ये मिसाइल पूरी तरह से स्‍वदेशी तकनीक से निर्मित है।

अस्‍त्र मिसाइल के बारे में

  • अस्‍त्र मिसाइल की शुरुआत 1990 में हुई थी। 1998 में पहली बार भारत में एयरो इंडिया में इसको सार्वजनिक किया गया था। इसको डीआरडीओ के अलावा हिंदुस्‍तान एयरनॉटिक्‍स लिमिटेड और इलेक्‍ट्रानिक्‍स कारपोरेशन ऑफ इंडिया ने मिलकर तैयार किया है। 2003 में इसका पहला टेस्‍ट तेजस से किया गया था। गौरतलब है कि ये एक क्रूज मिसाइल है जो कई तरह की खूबियों से लैस है।

अस्‍त्र मिसाइल की विशेषताएं

  • स्‍वदेशी तकनीक से निर्मित अस्‍त्र मिसाइल को मुख्‍य रूप से भारत के रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन ने तैयार किया है। ये एक आल वेदर बियोंड विजुअल रेंज एयर टू एयर मिसाइल है।
  • बीते वर्ष सितंबर में भी इस मिसाइल का ओडिशा के बालासोर तट से सफलतापूर्वक टेस्‍ट किया गया था। उस वक्‍त इसको सुखोई 30 एमकेआई से लॉन्‍च किया गया था। हिन्दुस्तान एरोनटिक्स लिमिटेड ने इस मिसाइल के लिए सुखोई में कुछ खास बदलाव किए हैं। इस दौरान इस मिसाइल ने 70 किमी का सफर तय कर अपने टार्गेट पर जबरदस्‍त हमला किया था।
  • इस मिसाइल को मिराज 2000, मिग 29, मिग 21, तेजस और सुखोई 30 से भी दागा जा सकता है।
  • यह मिसाइल पूरी तरह से स्वदेशी तकनीकी से निर्मित है। ये मिसाइल 5555 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार से गति चल सकती है।
  • ये मिसाइल हर तरह के मौसम में दुश्‍मन पर सटीक हमला करने में सक्षम है। ये आवाज की गति से भी तेज चलते हुए दुश्‍मन पर वार करती है।
  • अस्‍त्र मिसाइल करीब 3.8 मीटर लंबी और महज 7 इंच चौड़ी है। छोटे आकार की वजह से इसको कई परिस्थितियों में इस्‍तेमाल किया जा सकता है। इसका वजन महज 154 किग्रा है।
  • छोटा आकार होने और वजन में हल्‍की होने की वजह से इसको अलग-अलग ऊंचाई से दागा जा सकता है। 15 किलोमीटर की ऊंचाई से छोड़े जाने पर यह मिसाइल 110 किलोमीटर की दूरी तक मार कर सकती है जबकि आठ किलोमीटर की ऊंचाई से छोड़े जाने पर यह 44 किलोमीटर की दूरी तक जा सकती है। वहीं 3 किमी की ऊंचाई से लॉन्‍च करने पर ये मिसाइल अपनी अधिकतम दूरी तक मार कर सकती है।
  • इससे पहले अस्त्र का सफल परीक्षण चार 2018, 2017, मई 2014, जनवरी 2010, सितंबर 2008, मार्च 2007 और मई 2003 में भी इसका सफलतापूर्वक टेस्‍ट किया गया था। जून 2010 को इस मिसाइल का टेस्‍ट रात में किया गया था जो सफल रहा था।
  • ये मिसाइल 80-100 किमी की दूरी पर सटीक निशाना लगाने में सक्षम है। ये मिसाइल अपने साथ 15 किग्रा विस्‍फोटक ले जा सकती है।

:: पर्यावरण और पारिस्थितिकी ::

पर्यावारण प्रभाव आकलन (ईआईए) अधिसूचना-2020

चर्चा में क्यों?

  • दिल्ली उच्च न्यायालय ने केंद्र को निर्देश दिया है कि वह सुनिश्चित करे कि पर्यावारण प्रभाव आकलन (ईआईए) अधिसूचना-2020 का मसौदा 10 दिनों के भीतर संविधान की आठवीं अनुसूची में शामिल सभी 22 भाषाओं में प्रकाशित हो।
  • मुख्य न्यायाधीश डीएन पटेल और न्यायमूर्ति प्रतीक जलान की पीठ ने ईआईए-2020 के मसौदे पर सुझाव देने की तारीख 11 अगस्त तब बढ़ाने के साथ यह निर्देश दिया।
  • अदालत ने कहा कि सार्वजनिक परामर्श प्रक्रिया के दूरगामी परिणामों को ध्यान में रखते हुए “हमारा विचार है कि यदि मसौदे का अन्य भाषाओं --कम से कम संविधान की आठवीं अनुसूची में उल्लिखित भाषाओं में के अनुवाद की व्यवस्था की जाए, तो प्रस्तावित अधिसूचना के प्रभावी प्रसार में यह सहायक होगा।'

पृष्ठभूमि

  • पीठ ने कहा कि अनुवाद का कार्य स्वयं केंद्र कर सकता है या व्यवस्था के अनुसार राज्य सरकारों के सहयोग से कर सकता है।
  • अदालत ने यह निर्देश पर्यावरण संरक्षक विक्रात तोंगड की याचिका पर दिया जिन्होंने ईआईए-2020 के मसौदे पर सुझाव देने की मियाद सितंबर तक या कोविड-19 महामारी काबू में आने तक के लिए बढ़ाने का अनुरोध किया था। मसौदा केवल अंग्रेजी और हिंदी में प्रकाशित किया गया है जबकि प्रस्तावित अधिसूचना का असर पूरे देश पर और कई उद्योगों पर होगा और पूरे देश से राय मांगी गयी है। उनके वकील गोपाल शंकरनरायणन ने कहा कि पहले भी केंद्र सरकार ने अधिसूचना का मसौदा कई अन्य भाषाओं में भी जारी किया था

पर्यावारण प्रभाव आकलन (ईआईए) अधिसूचना-2020 के बारे में

  • पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय (MoEFCC) ने COVID-19 महामारी के चलते दुनिया के सबसे बड़े राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन की पूर्व संध्या पर 12 मार्च, 2020को पर्यावरण प्रभाव आकलन 2020 (ईआईएअधिसूचना 2020) पर एक मसौदा अधिसूचना जारी की थी और अगले 60 दिनों में इसकी प्रतिक्रिया मांगी थी। यह समयावधि अगले सप्ताह,11 मई, 2020 को समाप्त होने वाली है।
  • ईआईए अधिसूचना,2020 को ईआईए अधिसूचना, 2006 की जगह लाया जाना है और तब से हुए कई संशोधनों को इसमें शामिल किया जाना है। इस नयी मसौदा अधिसूचना में ऐसे अनेक नये प्रावधान शामिल हैं, जिसमें वस्तुतः कई नियमों-मानकों का पुनर्लेखन और पर्यावरणीय प्रभाव आकलन और परियोजनाओं को लेकर किये गये अनुमोदन शामिल हैं। इस प्रकार, ईआईए अधिसूचना,2020 पर्यावरण में हुए नुकसान और पारिस्थितिकी तंत्र पर निर्भर लोगों के जीवन और आजीविका के सिलसिले में भारत की पर्यावरण नियामक व्यवस्था को मौलिक रूप से बदलने देने के लिहाज से बहुत अहम है।

अमेरिका में 2050 तक शून्य कार्बन उत्सर्जन का रोडमैप तैयार

  • पेरिस समझौते से दूरी बनाने वाले अमेरिका से जलवायु परिवर्तन के मोर्चे पर एक अच्छी खबर है। अमेरिकी कांग्रेस की हाउस सलेक्ट कमेटी ने 2050 तक शून्य कार्बन उत्सर्जन का रोड़मैप जारी किया है। रिपोर्ट में उपरोक्त अवधि तक सौ फीसदी स्वच्छ ऊर्जा अपनाने की योजना पेश की गई है। बता दें कि अभी अमेरिका चीन के बाद दूसरा बड़ा प्रदूषक राष्ट्र है।

रोड़मैप की मुख्य तथ्य

  • इस रिपोर्ट में कहा गया है कि अमेरिका में 2040 तक विद्युत क्षेत्र में कार्बन उत्सर्जन को शून्य के स्तर तक ले आएगा। जबकि इससे पहले 2035 तक शून्य उत्सर्जन वाली कारों की बिक्री का लक्ष्य हासिल कर लिया जाएगा।
  • इसी प्रकार 2030 तक सभी आवासीय एवं वाणिज्य भवनों को भी शून्य उत्सर्जन वाले मानक लागू कर दिए जाएंगे।
  • रिपोर्ट में कार्बन उत्सर्जन पर मूल्य लगाने, क्लाईमेट स्मार्ट खेती को अपनाने पर जोर दिया गया है। साथ ही ऊर्जा भंडारण के लिए नवाचार में निवेश बढ़ाया जाएगा।
  • रिपोर्ट में दावा किया है कि अमेरिकन स्वच्छ ऊर्जा के पक्षधर हैं। 71 फीसदी अमेरिकी मतदाता 2050 तक सौ फीसदी स्वच्छ अर्थव्यवस्था को लागू करने का समर्थन करते हैं। इससे नौकरियों एवं आर्थिक विकास पर भी पर भी सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा।
  • 65 फीसदी अमेरिकी कार्बन टैक्स का समर्थन करते हैं। इसी प्रकार 73 फीसदी ने कारों एवं ट्रकों के लिए कड़े ईधन दक्षता मानकों का समर्थन किया है।

बोत्सवाना में 350 हाथी मरे पाए गए

  • दक्षिण अफ्रीफा में स्थित देश बोत्सवाना में पिछले दो महीने के दौरान 350 हाथियों के शव बरामद हुए है। हथियों की रहस्यमयी मौतों ने सभी को हैरान कर दिया है। हाथियों के शव अफ्रीकी राष्ट्र के उत्तर-पश्चिम हिस्सों के आस-पास के इलाके में मिले हैं। शवों पर किसी भी प्रकार की कोई भी चोट का निशान नहीं मिला है, जिससे पता चल सके कि उनका अवैध शिकार हुआ है।
  • रिपोर्ट के मुताबिक, बोत्सवाना के इस इलाके में वन्यजीवों को मारने के लिए एंथ्रेक्स नाम का जहर इस्तेमाल किया जाता है।
  • बता दें कि अफ्रीका में हाथियों की कम होती आबादी में उनका एक तिहाई हिस्सा बोत्सवाना की जमीन पर है। वहीं ब्रिटेन चैरिटी नेशनल पार्क रेस्क्यू के डॉ नियाल मैककैन ने आशंका जताई है कि कुछ लोग हाथियों के न्यूरोलॉजिकल सिस्टम पर हमला कर रहे हैं।
  • बीबीसी की एक रिपोर्ट के मुताबिक, वन्यजीव संरक्षण से जुड़े लोगों ने मई की शुरुआत में ही सरकार को इस संबंध में सावधान किया था। वहीं इस रिपोर्ट में यह भी बताया कि अगर इन हाथियों की मौत शिकार से हुई होती तो अन्य जानवरों के भी शव बरामद होते, लेकिन ऐसा कुछ भी नहीं हुआ है।

:: विविध ::

नीरज मुर्मू ब्रिटेन के प्रतिष्ठित डायना अवार्ड से सम्मानित

  • कैलाश सत्यार्थी चिल्ड्रंस फाउंडेशन (केएससीएफ) द्वारा संचालित झारखंड के गिरिडीह जिले के दुलियाकरमबाल मित्र ग्राम के पूर्व बाल मजदूर 21 वर्षीय नीरज मुर्मू को गरीब और हाशिए के बच्चों को शिक्षित करने के लिए ब्रिटेन के प्रतिष्ठित डायना अवार्ड से सम्मानित किया गया है।
  • इस अवार्ड से हर साल 09 से 25 उम्र की उम्र के उन बच्चों और युवाओं को सम्मानित किया जाता है, जिन्होंने अपनी नेतृत्व क्षमता का परिचय देते हुए सामाजिक बदलाव में असाधारण योगदान दिया हो। नीरज दुनिया के उन 25 बच्चों में शामिल हैं जिन्हें इस गौरवशाली अवार्ड से सम्मानित किया गया।

सिद्धार्थ मुखर्जी, प्रोफेसर राज चेट्टी '2020 ग्रेट इमिग्रेंट्स' से सम्मानित

  • कोविड-19 स्वास्थ्य संकट को दूर करने के प्रयासों में योगदान देने वाले दो प्रख्यात भारतीय-अमेरिकी उन 38 प्रवासियों में शामिल हैं जिन्हें इस साल अमेरिका के स्वतंत्रता दिवस समारोह के मद्देनजर प्रतिष्ठित अमेरिकन फाउंडेशन द्वारा सम्मानित किया गया है।
  • पुलित्जर पुरस्कार विजेता लेखक और ऑनकोलॉजिस्ट (कैंसर विशेषज्ञ) सिद्धार्थ मुखर्जी और हार्वर्ड विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र के प्रोफेसर राज चेट्टी को कार्नेगी कोरपोरेशन ऑफ न्यूयॉर्क ने '2020 ग्रेट इमिग्रेंट्स' से सम्मानित किया है।

रेस एक्रोस अमेरिका (आरएएएम)

  • लेफ्टिनेंट कर्नल भरत पन्नू ने इंडोर 4,000 किलोमीटर पैडल चलाकर 'वर्चुअल' मंच पर आयोजित हुई 'रेस एक्रोस अमेरिका (आरएएएम) अपने नाम की। साइकिलिंग में आरएएएम को मुश्किल रेस में से एक समझा जाता है। कोरोना वायरस के कारण इस साल आयोजकों ने इसे 'वर्चुअली' कराने का फैसला किया है जिसमें पूरी दुनिया के साइकिल सवारों ने इंडोर ट्रेनर में प्रतिस्पर्धा की। जहां 'टूर डि फ्रांस' चरणों में आयोजित होती है तो वहीं आरएएएम में साइक्लिस्ट को सोने के समय को भी त्यागकर निर्धारित समय में रेस पूरी करनी होती है। अमेरिका में होनी वाली रेस में यह कई जगहों पर होती है जिसमें रेगिस्तान की गर्मी, पहाड़ी दर्रों की सर्दी और तेज हवाओं में साइकिल चलानी होती है।

:: प्रिलिम्स बूस्टर ::

  • हाल ही में अमेरिकी कांग्रेसी द्वारा 2050 तक शून्य कार्बन उत्सर्जन का रोड़मैप जारी करने से चर्चा में रहे अमेरिका का विश्व में कार्बन उत्सर्जन के संदर्भ में कौन सा स्थान है? (दूसरा, प्रथम- चीन)
  • चीन द्वारा आतंकवादी समूहों को हथियारों की आपूर्ति से चर्चा में रहे 'अराकान सेना' किस देश का आतंकवादी संगठन है? (म्यांमार)
  • हाल ही में किस भारतीय युवक को सामाजिक बदलाव में असाधारण योगदान के लिए ब्रिटेन के प्रतिष्ठित डायना अवार्ड से सम्मानित किया जाएगा? (नीरज मुर्मू, गिरिडीह- झारखंड)
  • हाल ही में किस व्यक्ति ने'वर्चुअल' मंच पर आयोजित हुई 'रेस एक्रोस अमेरिका (आरएएएम) अपने नाम की? (लेफ्टिनेंट कर्नल भरत पन्नू)
  • हाल ही में अमेरिकी संचार नेटवर्क की सुरक्षा के लिए किन कंपनियों को 'राष्ट्रीय सुरक्षा के लिये खतरा' के रूप में घोषित किया गया है एवं यह कंपनियां किस देश से संबंधित है? (हुआवेई और जेडटीई, चीन)
  • उद्योग मंडल फिक्की के द्वारा 2025 तक योजना को जारी रखने की मांग से चर्चा में रही फेम- दो(FAME II) योजना किससे संबंधित है? (इलेक्ट्रिक और हाइब्रिड वाहन को बढ़ावा देने से)
  • परियोजना को जल्द पूरा करने से चर्चा में रहे 'जोजिला सुरंग' किस मार्ग पर अवस्थित है एवं यह किन स्थानों को जोड़ती है? (कश्मीर और लद्दाख, NH श्रीनगर-करगिल-लेह राष्ट्रीय)
  • तुर्की से गतिरोध उपरांत नौसैनिक अभियान से फ्रांस के पीछे हटने से चर्चा में रहे उत्तरी अटलांटिक संधि संगठन नाटो का गठन कब किया गया था एवं इसका मुख्यालय कहां स्थित है? (1949, ब्रुसेल्स-बेल्जियम)
  • दिल्ली सरकार के द्वारा प्लाज्मा बैंक बनाने से चर्चा में रहे रक्त में प्लाज्मा का हिस्सा कितना होता है एवं प्लाज्मा के प्रमुख संगठन तत्व कौन है? (55%, जल, प्रोटीन, लवण,हार्मोन और ग्लूकोज)
  • हाल ही में भारत सरकार द्वारा किस संगठन के नियमों के अनुपालन हेतु 'खेलों में डोपिंग के खिलाफ राष्ट्रीय अनुपालन मंच' के गठन का फैसला लिया गया है? (यूनेस्को)
  • हाल ही में किस देश के राष्ट्रपति के पक्ष में 2036 तक अपना पद संभालने हेतु नागरिकों ने बहुमत से निवर्तमान राष्ट्रपति के पक्ष में मतदान किया? (रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन)
  • सरकार द्वारा खरीद प्रक्रिया की मंजूरी दिए जाने से चर्चा में रहे 'अस्‍त्र मिसाइल' की विशेषता क्या है? (हवा से हवा में मार करने वाली आल वेदर बियोंड विजुअल रेंजमिसाइल)
  • हाल ही में दिल्ली उच्च न्यायालय के द्वारा व्यापक जन प्रसार हेतु किस अधिसूचना को आठवीं सूची की सभी 22 भाषाओं में प्रकाशित करने का आदेश दिया है है? (पर्यावारण प्रभाव आकलन अधिसूचना-2020)

स्रोत साभार: Dainik Jagran (Rashtriya Sanskaran), Dainik Bhaskar (Rashtriya Sanskaran), Rashtriya Sahara (Rashtriya Sanskaran) Hindustan Dainik (Delhi), Nai Duniya, Hindustan Times, The Hindu, BBC Portal, The Economic Times (Hindi & English), PTI, PIB