(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (03 अगस्त 2019)

दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर


(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (03 अगस्त 2019)


:: राष्ट्रीय समाचार ::

विश्व स्तनपान सप्ताह 1 से 7 अगस्त

  • महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के तहत आने वाला खाद्य एवं पोषण बोर्ड 1 से 7 अगस्त 2019 के बीच मनाए जा रहे विश्व स्तनपान सप्ताह (डब्ल्यूबीडब्ल्यू) के दौरान ‘माता-पिता को सशक्त बनाना, स्तनपान को सक्षम करना’ थीम पर कई गतिविधियों का आयोजन कर रहा है। इस वर्ष स्तनपान के संरक्षण, प्रचार और समर्थन पर ध्यान केंद्रित किया जा रहा है।
  • खाद्य एवं पोषण बोर्ड की 43 सामुदायिक खाद्य एवं पोषण विस्तार इकाइयों के जरिये 30 राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों में अन्न प्रासन्न उत्सव और आईवाईसीएफ पर क्विज प्रतियोगिता जैसी गतिविधियां आयोजित की जा रही हैं। इनमें राज्यों के स्वास्थ्य विभागों के अधिकारियों, गृह विज्ञान कॉलेजों, चिकित्सा संस्थानों, यूनिवर्सिटियों, एनजीओ और दूसरे हितधारकों को भी शामिल किया गया है।

विश्व स्तनपान सप्ताह के उद्देश इस प्रकार हैं:

  • माता-पिता में स्तनपान को लेकर जागरूकता पैदा करना।
  • माता-पिता को स्तनपाल को अपनाने के लिए प्रोत्साहित करना।
  • शुरुआत एवं अनन्य स्तनपान के महत्व को लेकर जागरुकता पैदा करना और पर्याप्त एवं उचित पूरक आहार।
  • स्तनपान के महत्व से संबंधित सामग्री उपलब्ध कराना।

स्तनपान महत्वपूर्ण है क्योंकिः

  • यह मां और बच्चे दोनों के बेहतर स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है।
  • यह प्रारंभिक अवस्था में दस्त और तीव्र श्वसन संक्रमण जैसे संक्रमणों को रोकता है और इससे शिशु मृत्यु दर में कमी आती है।
  • यह मां में स्तन कैंसर, अंडाशय के कैंसर, टाइप 2 मधुमेह और हृदय रोग विकसित होने के खतरे को कम करता है।
  • यह नवजात को मोटापे से संबंधित रोगों, डायबिटीज से बचाता है और आईक्यू बढ़ाता है।

शिशु और छोटे बच्चे को दूध पिलाने के सही तरीकेः

  • जन्म के एक घंटे के अंदर स्तनपान की शुरुआत।
  • जन्म के बाद पहले छह महीने तक अनन्य स्तनपान। अन्य प्रकार के दूध, आहार, पेय अथवा पानी को ‘ना’।
  • स्तनपान को जारी रखते हुए छह महीने की आयु से उचित और पर्याप्त पूरक आहार।
  • दो वर्ष की आयु अथवा इसके बाद तक निरंतर स्तनपान।

पोषण को लेकर इस तरह के महत्वपूर्ण प्रयासों से कुपोषण के दुष्चक्र को तोड़ने और सरकार को राष्ट्रीय पोषण लक्ष्यों एवं सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) को हासिल करने में मदद मिलेगी। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के अनुसार, स्तनपान को बढ़ाकर अंतरराष्ट्रीय स्तर के पास ले जाने से प्रत्येक वर्ष 8,00,000 से ज्यादा जीवन बचाने में मदद मिलेगी। इसमें बड़ी संख्या 6 महीने से कम आयु के बच्चों की है।

पशमिना उत्पादों को बीआईएस प्रमाणपत्र मिला

  • भारतीय मानक ब्यूरो ने पशमिना उत्पादों की शुद्धता प्रमाणित करने के लिए उसकी पहचान, निशानी और लेबल लाने की प्रक्रिया को भारतीय मानक के दायरे में रख दिया है। मानकों को लेह में जारी किया गया।
  • इस प्रमाणिकरण से पशमिना उत्पादों में मिलावट में रोक लगेगी और पशमिना कच्चा माल तैयार करने वाले घुमंतू कारीगरों तथा स्थानीय दस्तकारों के हितों की रक्षा होगी। इससे उपभोगताओं के लिए पशमिना की शुद्धता भी सुनिश्चित होगी।
  • पशमिना के बीआईएस प्रमाणीकरण से नकली या घटिया उत्पादों पर रोक लगेगी। उल्लेखनीय है कि ऐसे उत्पादों को बाजार में असली पशमिना के नाम पर बेचा जाता है।
  • इससे लद्दाख के बकरी पालक समुदाय तथा असली पशमिना बनाने वाले स्थानीय हेंडलूम दस्तकारों को अपने माल की उचित कीमत मिलेगी।

पशमिना

  • घुमंतू पशमिना बकरी पालक समुदाय छांगथांग के दुर्गम स्थानों में रहते हैं और आजीविका के लिए पशमिना पर ही निर्भर हैं। इस समय 2400 परिवार ढाई लाख बकरियों का पालन कर रहे हैं। पशमिना के बीआईएस प्रमाणीकरण से इन परिवारों के हितों की रक्षा होगी और युवा पीढ़ी इस व्यवसाय की तरफ आकर्षित होंगे। इसके अलावा अन्य परिवार भी इस व्यवसाय को अपनाने के लिए प्रोत्साहित होंगे। लद्दाख विश्व में सबसे उन्नत किस्म के पशमिना का उत्पादन करता है। इस समय वहाँ 50 मीट्रिक टन पशमिना का उत्पादन होता है। कपड़ा मंत्रालय का लेह में बकरियों के बाल काटने के लिए 20 करोड़ रुपये की लागत से एक संयंत्र लगाने का प्रस्ताव है। उपरोक्त कदम से लद्दाख के पशमिना उत्पादन में बढ़ोत्तरी होगी।
  • छांगथांगी या पशमिना बकरी लद्दाख के ऊंचे क्षेत्रों में पाई जाती है। इन्हें बेहतरीन कश्मीरी ऊन के लिए पाला जाता है। इसे हाथ से बुना जाता है और कश्मीर में इसकी शुरुआत हुई थी। छांगथांगी बकरी के बाल बहुत मोटे होते हैं और इनसे विश्व का बेहतरीन पशमिना प्राप्त होता है जिसकी मोटाई 12-15 माइक्रोन के बीच होती है।
  • इन बकरियों को घर में पाला जाता है और ग्रेटर लद्दाख के छांगथांग क्षेत्र में छांगपा नामक घुमंतू समुदाय इन्हें पालता है। छांगथांगी बकरियों की बदौलत छांगथांग, लेह और लद्दाख क्षेत्र में अर्थव्यवस्था बहाल हुई है।

उत्कृष्ट संस्थान का दर्जा

  • विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने उत्कृष्टता संस्थान का दर्जा देने के लिए 20 संस्थानों की सूची जारी की है। इस सूची में दस सरकारी और दस निजी संस्थान शामिल हैं। सरकारी श्रेणी में दिल्ली विश्वविद्यालय, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, हैदराबाद विश्वविद्यालय और आईआईटी मद्रास और खड़गपुर को उत्कृष्ट संस्थान का दर्जा दिया गया है।
  • एक आधिकारिक विज्ञप्ति में बताया गया है कि एन. गोपालास्वामी की अध्यक्षता में सरकार द्वारा गठित अधिकार प्राप्त विशेषज्ञ समिति की रिपोर्ट के आधार पर विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने सिफारिशें की हैं।
  • जादवपुर विश्वविद्यालय और अन्ना विश्वविद्यालय को भी यह दर्जा दिए जाने पर विचार किया जा सकता है, बशर्ते संबंधित राज्य सरकारें 50 प्रतिशत का फंड आवंटित करने के लिए आधिकारिक पत्र जारी कर दें।
  • उत्कृष्ट संस्‍थान का दर्जा देने के लिए आशय पत्र जारी करने के लिए निजी संस्थानों की भी विश्वविद्यालय अनुदान आयोग ने सिफारिश की है। इनमें नई दिल्ली का जामिया हमदर्द विश्वविद्यालय, हरियाणा की ओपी जिंदल ग्लोबल यूनिवर्सिटी, उत्तर प्रदेश में शिव नाडर विश्वविद्यालय और तमिलनाडु में वीआईटी वेल्लौर शामिल हैं।

अयोध्या राम जन्मभूमि विवाद

  • नौ साल से अयोध्या में अपनी जन्मभूमि पर मालिकाना हक के मुकदमे की सुनवाई का इंतजार कर रहे रामलला के केस का नंबर आ गया है। अयोध्या राम जन्मभूमि विवाद को मध्यस्थता के जरिये सुलझाने की कोशिशें नाकाम होने के बाद अब सुप्रीम कोर्ट छह अगस्त से मामले पर रोजाना सुनवाई करेगा।
  • मामले की सुनवाई प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई, एसए बोबडे, डीवाई चंद्रचूड़, अशोक भूषण और एस. अब्दुल नजीर की पांच सदस्यीय संविधान पीठ कर रही है। शुक्रवार को संविधान पीठ ने मध्यस्थता पैनल की रिपोर्ट देखने के बाद उपरोक्त आदेश दिए।
  • इलाहाबाद हाई कोर्ट ने 2010 में राम जन्मभूमि को तीन बराबर हिस्सों में बांटने का आदेश दिया था। जिसमें एक हिस्सा भगवान रामलला विराजमान, दूसरा निर्मोही अखाड़ा और तीसरा हिस्सा सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड को देने का आदेश था। इस फैसले को भगवान रामलला सहित हिंदू मुस्लिम सभी पक्षों ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है। सुप्रीम कोर्ट में ये अपीलें 2010 से लंबित हैं और कोर्ट के आदेश से फिलहाल अयोध्या में यथास्थिति कायम है।
  • सुप्रीम कोर्ट ने 18 जुलाई को मध्यस्थता पैनल से कहा था कि वह 31 जुलाई तक हुई मध्यस्थता की प्रगति रिपोर्ट दे। पैनल ने गुरुवार को सीलबंद लिफाफे में रिपोर्ट कोर्ट को सौंप दी थी। शुक्रवार को पीठ ने कहा कि कोर्ट को मध्यस्थता पैनल के अध्यक्ष सेवानिवृत्त न्यायाधीश एफएमआइ कलीफुल्ला की रिपोर्ट प्राप्त हुई और उन्होंने रिपोर्ट देखी है। मध्यस्थता प्रक्रिया में विवाद का हल नहीं निकला इसलिए कोर्ट अब मुकदमे की लंबित अपीलों पर सुनवाई करेगा। कोर्ट ने कहा कि मामले पर छह अगस्त से रोजाना सुनवाई शुरू होगी और तब तक चलेगी जब तक बहस पूरी न हो जाए।

अमरनाथ यात्रा पर बड़े आतंकी हमले की आशंका

  • सुरक्षा एजेंसियों ने अमरनाथ यात्रा पर बड़े पैमाने पर आतंकी हमले की साजिश का पर्दाफाश किया है। खतरे की गंभीरता को देखते हुए जम्मू-कश्मीर सरकार ने तीर्थयात्रियों समेत सभी पर्यटकों को जल्द-से-जल्द वापस लौटने की सलाह दी है। जम्मू-कश्मीर पुलिस, सीआरपीएफ और सेना ने श्रीनगर में संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस कर बताया कि किस तरह अमरनाथ यात्रा के रास्ते से बड़ी मात्रा में हथियार, आइईडी और स्नाइपर राइफल बरामद किया गया है।
  • इसमें पाकिस्तान के आर्डिनेंस फैक्ट्री में बने बारूदी सुरंग (एंटी पर्सन माइन) भी शामिल है, जो हमले की साजिश में सीधे पाकिस्तानी सेना के शामिल होने का सबूत है। वहीं सुरक्षा एजेंसियों ने साफ कर दिया कि वह पाकिस्तान की हर साजिश को नाकाम करने के लिए पूरी तरह तैयार है।
  • जम्मू-कश्मीर पुलिस के महानिदेशक दिलबाग सिंह के अनुसार पाकिस्तान पोषित आतंकियों की ओर से अमरनाथ यात्रियों को निशाना बनाकर हमला करने की ठोस खुफिया जानकारी मिल रही थी। इसके बाद अमरनाथ यात्रा के बालटाल और पहलगांव के दोनों रास्तों के आसपास के इलाके की सघन तलाशी ली गई। तलाशी के दौरान बड़ी मात्रा में हथियारों, आइईडी, बारूदी सुरंग के साथ-साथ अमेरिका में बनी स्नाइपर राइफल भी बरामद किया गया।
  • अमरनाथ यात्रियों और पर्यटकों को तत्काल वापस लौटने की एडवाइजरी जारी करने से साफ हो गया है आतंकी हमले का खतरा फिलहाल टला नहीं है। वैसे नॉर्दन कमांड के लेफ्टिनेंट जनरल केजेएस ढिल्लन ने सुरक्षा बलों की ओर से भरोसा दिया 'कश्मीर में शांति को कोई भंग नहीं कर सकता। यह कश्मीर और देश के हर नागरिक से हमारा वायदा है।' वहीं दिल्ली में जम्मू-कश्मीर की स्थिति पर नजर रख रहे उच्च पदस्थ अधिकारियों ने आने वाले दिनों में आतंकियों के खिलाफ बड़े अभियान का संकेत दिया।

पहले भी बाधित हुई यात्रा, एक नजर इनपर भी

  • आतंकवादियों की धमकी के कारण 1991 से 1995 तक यह वार्षिक तीर्थयात्रा बंद रही।
  • 2000 में कश्मीरी अलगाववादियों द्वारा तीर्थयात्रा पर अंधाधुंध गोलीबारी की गई, जिनमें 21 निहत्थे हिंदू तीर्थयात्री, 7 निहत्थे मुस्लिम नागरिक और 3 सुरक्षा बल अधिकारी सहित कुल 32 लोगों की जान चली गई थी।
  • 20 जुलाई 2001 को, एक आतंकवादी ने अमरनाथ मंदिर के पास शेषनाग में तीर्थयात्री शिविर पर ग्रेनेड फेंका, जिसमें दो विस्फोटों में 3 महिलाओं सहित कम से कम 13 लोग मारे गए। गोलीबारी भी की गई, इसमें 15 लोग घायल भी हो गए थे।
  • 30 जुलाई और 6 अगस्त 2002 को लश्कर-ए-तैयबा के एक समूह अल मंसूरियान के आतंकवादियों ने दो अलग-अलग घटनाओं को अंजाम दिया।

:: अंतराष्ट्रीय समाचार ::

गुरुद्वारा चौवा साहिब

  • पाकिस्‍तान की ओर से भारत के लिए नित नए पहल किए जा रहे हैं। कुछ दिनों पहले ही बंटवारे के दौरान बंद किए गए ऐतिहासिक मंदिर को खोला गया था और अब भारतीय सिख श्रद्धालुओं के लिए यहां के पंजाब प्रांत स्‍थित गुरुद्वारे को भी खोल दिया गया है। 1947 से बंद पड़े गुरुद्वारा चौवा साहिब को श्रद्धालुओं के लिए शुक्रवार को खोला गया। इस फैसले को लेने में पाकिस्‍तान ने 72 साल लगा दिए।
  • पंजाब के झेलम शहर के पास रोहतास किले के उत्‍तरी किनारे पर 19वीं सदी का ऐतिहासिक गुरुद्वारा स्‍थित है। महाराजा रणजीत सिंह ने 1834 में इस गुरुद्वारे का निर्माण कराया था। 185 साल पुराने इस गुरुद्वारे के पुर्ननिर्माण में लाखों रुपये खर्च होंगे जिसे निष्क्रांत ट्रस्ट संपत्ति बोर्ड (ईटीपीबी) जल्‍द ही शुरू कराएगा। ऐसा माना जाता है कि अपनी यात्रा के दौरान गुरु नानक देव ने यहीं पानी का एक झरना बनवाया था जिसे ‘उदासी’ के नाम से जानते हैं। कहा जाता है कि 1521 में गर्मी के मौसम में गुरु नानकजी और भाई मर्दाना यहां से गुजर रहे थे तभी भाई मर्दाना को प्‍यास लगी और गुरु नानकजी ने अपने कमंडल से धरती पर चोट की और एक पत्‍थर हटाते ही झरना फूट पड़ा। यह झरना अब भी यहां मौजूद है। कहते हैं महराजा रणजीत सिंह यहीं का पानी पीते थे उनके लिए यह पानी लाहौर तक ले जाया जाता था।
  • कुछ दिनों पहले ही पाकिस्‍तान सरकार ने सियालकोट स्‍थित शवाला तेजा सिंह मंदिर को दोबारा खोल दिया। इसी तरह सियालकोट में 500 साल पुराने गुरुद्वारा को भारतीय सिख श्रद्धालुओं के लिए हाल ही में खोला गया। हालांकि पहले यह गुरुद्वारा पाकिस्‍तान के साथ यूरोप, कनाडा और अमेरिका के श्रद्धालुओं के लिए खुला रहता था लेकिन भारतीय श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक लगाई गई थी।

इंटरमीडिएट-रेंज न्यूक्लियर फोर्सेज (आइएनएफ) संधि

  • परमाणु हथियारों के नियंत्रण को लेकर अमेरिका और रूस के बीच तीन दशक पहले हुई ऐतिहासिक संधि शुक्रवार को खत्म हो गई। दोनों देशों के बीच 1987 में हुई इंटरमीडिएट-रेंज न्यूक्लियर फोर्सेज (आइएनएफ) संधि के खत्म होने से दुनिया में नए हथियारों के विकास की होड़ शुरू होने की आशंका जताई जा रही है।
  • अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोंपियो ने शुक्रवार को थाइलैंड की राजधानी बैंकॉक में एक क्षेत्रीय सम्मेलन में आइएनएफ संधि से अमेरिका के हटने का औपचारिक एलान किया। इसके बाद रूस के विदेश मंत्रालय ने भी एक बयान जारी कर संधि खत्म होने का एलान कर दिया। अमेरिका ने संधि खत्म होने के लिए रूस को जिम्मेदार ठहराया है।
  • उसका कहना है कि रूस सालों से ऐसे हथियार विकसित कर रहा है, जो इस संधि का उल्लंघन है। इससे अमेरिका और उसके सहयोगी देशों खासतौर पर यूरोप को खतरा पैदा हो गया है। इस आरोप से इन्कार करते हुए रूस ने कहा कि अमेरिका नई मिसाइलें विकसित करने के लिए संधि से हटने का बहाना बना रहा था।

ट्रंप ने अक्टूबर में किया था एलान

  • राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने पिछले साल 20 अक्टूबर को यह एलान किया था कि वह इस संधि से अमेरिका को अलग कर रहे हैं। अमेरिका ने गत एक फरवरी को आइएनएफ संधि को निलंबित कर दिया था। इसके बाद रूस ने भी संधि को निलंबित कर दिया था। अब दोनों देश औपचारिक तौर पर इस संधि से अलग हो गए।

आइएनएफ संधि

  • आइएनएफ संधि पर अमेरिका के तत्कालीन राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन और सोवियत नेता मिखाइल गोर्वाच्योव ने हस्ताक्षर किए थे। इस संधि के तहत मध्यम दूरी यानी 5,500 किलोमीटर तक मार करने वाली कई मिसाइलों को प्रतिबंधित किया गया था।

त्रिपक्षीय हथियार नियंत्रण समझौते के इच्छुक ट्रंप

  • ट्रंप प्रशासन का दावा है कि चीन परमाणु हथियारों के अपने जखीरे को बढ़ा रहा है। ऐसे में उसे परमाणु हथियार नियंत्रण समझौते से बाहर नहीं रखा जा सकता। राष्ट्रपति ट्रंप इस बात की इच्छा जता चुके हैं कि अमेरिका, रूस और चीन के बीच त्रिपक्षीय हथियार नियंत्रण समझौता हो।

न्यू स्टार्ट समझौता भी खतरे में

  • ट्रंप प्रशासन रूस के साथ 2010 में हुए न्यू स्टार्ट समझौते को भी आगे बढ़ाने का इच्छुक नहीं दिख रहा। इस समझौते की अवधि 2021 में खत्म होने वाली है। इस समझौते के तहत परमाणु हथियारों की संख्या को सीमित करना था। रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन ने न्यू स्टार्ट को ही नवीनीकृत करने का सुझाव दिया था। लेकिन ट्रंप नए सिरे से संधि करने पर अड़े हैं। उन्होंने न्यू स्टार्ट को खराब समझौता करार देते हुए कहा था कि इसे ओबामा प्रशासन ने किया था। ट्रंप के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जॉन बोल्टन ने गत जून में कहा था, इसकी संभावना कम है कि ट्रंप प्रशासन न्यू स्टार्ट समझौते की अवधि को पांच साल बढ़ाए जाने पर राजी होगा।

नाटो ने रूस को ठहराया जिम्मेदार

  • 29 देशों के गुट नॉर्थ अटलांटिक ट्रीटी आर्गेनाइजेशन (नाटो) ने आइएनएफ संधि खत्म होने के लिए रूस को जिम्मेदार ठहराया है। नाटो ने कहा, 'हमें खेद है कि रूस ने अंतरराष्ट्रीय प्रतिबद्धताओं पर लौटने की कोई स्पष्ट इच्छा नहीं दिखाई।'

अमेरिकी-चीन ट्रेड वॉर

  • अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने गुरुवार को चीन को एक बार फिर बड़ा झटका दिया। ट्रंप ने चीन से वस्तुओं के आयात पर नए टैरिफ लगाने की घोषणा की, जो 1 सितंबर से प्रभावी होगा।
  • राष्ट्रपति ने लिखा कि व्यापार वार्ता जारी है और वार्ता के दौरान अमेरिका 1 सितंबर को शेष 300 अरब डॉलर के माल और उत्पादों पर 10 प्रतिशत का एक छोटा अतिरिक्त शुल्क चीन से आने वाली वस्तुओं पर लगाएगा।

उत्‍तर कोरिया ने फिर किया हथियार परीक्षण

  • उत्‍तर कोरिया ने अपने पूर्वी तट के समीप शुक्रवार को एक अज्ञात हथियार का दो बार परीक्षण किया। पिछले एक हफ्ते में उत्‍तर कोरिया ने अपना तीसरा हथियार परीक्षण किया है। माना जा रहा है कि प‍रमाणु हथियारों के मसले पर अमेरिका के साथ धीमी पड़ी बातचीत की प्रक्रिया तेज करने की खातिर दबाव बनाने को लेकर उत्‍तर कोरिया ऐसा कर रहा है। उत्‍तर कोरिया के ज्‍वाइंट चीफ ऑफ स्‍टाफ ने बताया कि उन्‍होंने पूर्वी तटवर्ती इलाके में शुक्रवार को तड़के 2:59 और 3:23 बजे हथियारों का परीक्षण किया।
  • इससे पहले उत्तर कोरिया ने बुधवार को भी दो बैलिस्टिक मिसाइलों का परीक्षण किया था। यही नहीं पिछले हफ्ते भी उसने दो मिसाइलों का परीक्षण किया था। बता दें कि उत्‍तर कोरिया ने अमेरिका और दक्षिण कोरिया को संयुक्त सैन्य अभ्यास ना करने की चेतावनी दी थी लेकिन दोनों देशों ने इसके बावजूद इसे जारी रखने का निर्णय लिया। यही कारण है कि इस कदम के जरिए वह अमेरिका और दक्षिण कोरिया के बीच होने वाले संयुक्त सैन्य अभ्यास को रद कराने का दबाव बना रहा है। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उत्तर कोरिया के सर्वोच्च नेता किम जोंग उन के बीच गत 30 जून को परमाणु वार्ता बहाल करने पर सहमति बनी थी। लेकिन हालिया कदमों से यह अधर में फंस सकती है।
  • दक्षिण कोरिया के ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ ने बताया कि बुधवार को उत्तर कोरिया के पूर्वी तटीय शहर वॉनसान के समीप से कम दूरी तक मार करने वाली दो मिसाइलें दागी गई। ये मिसाइलें करीब 250 किलोमीटर तक गई। उत्तर कोरिया ने गत 25 जुलाई को भी इस जगह से दो मिसाइलों का परीक्षण किया था। उनमें से एक मिसाइल 430 किलोमीटर और दूसरी 690 किलोमीटर दूर तक गई थी। विशेषज्ञों की मानें तो केएन-23 नामक नई मिसाइलों को आसानी से लांच किया जा सकता है। इन मिसाइलों को मिसाइल रक्षा प्रणाली से बचने के लिए तैयार किया जा रहा है।

कुरील द्वीपसमूह विवाद

  • रूस के प्रधानमंत्री दमित्री मेदवेदेव शुक्रवार को विवादित कुरील द्वीपसमूह के एक द्वीप पर पहुंचे। उनकी इस यात्रा से जापान और रूस के बीच फिर तनाव बढ़ने की आशंका है। जापान के विदेश मंत्रालय ने मेदवेदेव की इस यात्रा को खेदजनक बताया है।

कुरील द्वीपसमूह

  • प्रशांत महासागर और रूस के ओखोस्क सागर को अलग करने वाले कुरील द्वीपसमूह के चारों द्वीप रूस और जापान के बीच विवाद का कारण बने हुए हैं।
  • द्वितीय विश्वयुद्ध के अंत में तत्कालीन सोवियत संघ की सेना ने इन द्वीपों पर कब्जा कर लिया था। जापान भी इन पर अपनी संप्रभुता का दावा करता है। इसी के चलते दोनों देशों में अब तक कोई शांति समझौता नहीं हो पाया है। मेदवेदेव की यात्रा पर एतराज जताते हुए जापान के विदेश मंत्रालय ने कहा, 'उनकी यात्रा जापान की संप्रभुता और हमारी भावनाओं को ठेस पहुंचाती हैं।

सऊदी अरब की महिलाओं को अकेले ही विदेश जाने की अनुमति

  • सऊदी अरब की महिलाएं अब पुरुष अभिभावक (पिता-पति या अन्‍य ) की इजाजत के बिना विदेश यात्रा कर सकेंगी। सऊदी अरब सरकार ने महिलाओं को अकेले ही विदेश जाने की अनुमति प्रदान किया है।
  • इस नियम के मुताबिक अब 21 साल से अधिक उम्र की महिलाओं को पासपोर्ट हासिल करने और अभिभावक की सहमति हासिल किए बिना देश छोड़ने की इजाजत होगी। मौजूदा कानून के मुताबिक सऊदी अरब में किसी भी उम्र की महिला बिना किसी पुरुष संरक्षक के विदेश यात्रा पर नहीं जा सकती है। यह नियम 21 वर्ष के कम उम्र के पुरुषों के साथ भी लागू है।
  • सऊदी महिलाओं की आजादी के मामले में यह दशक अत्‍यधिक महत्‍वपूर्ण है। अगर इस दशक पर हम नजर दौड़ाएं तो वर्ष 2012 में सऊदी महिलाओं को खेलों में हिस्‍सा लेने का हक मिला। पहली बार सऊदी महिला ओलिंपिक खेलों में शामिल हुईं। अतंरराष्‍ट्रीय खेलों में पहली बार सऊदी का प्रतिनिधित्‍व देखने को मिला। दिसंबर 2015 में महिलाओं को वोट डालने का अधिकार हासिल हुआ। इसके पूर्व उनको इस अधिकार से वंचित रखा गया था। वर्ष 2017 में सऊदी महिलाओं को पासपोर्ट दिए जाने के सारे बंधन हटा दिए गए। उन्‍हें स्‍वतंत्र पासपोर्ट दिया जाने लगा। वर्ष 2018 में महिलाओं को स्‍टेडियम में प्रवेश की अनुमति हासिल हुई। इसी वर्ष महिलाओं को सेना में भर्ती की अनुमति प्रदान की गई। इसके साथ उन्‍हें स्‍वतंत्र कारोबार की इजाजत भी मिली।

कश्मीर की मध्यस्थता का विवाद

  • भारत ने अमेरिका को दो टूक कहा है कि कश्मीर को लेकर वह किसी भी सूरत में मध्यस्थता स्वीकार करने नहीं जा रहा। कश्मीर पर पाकिस्तान के सिवा और किसी भी देश से बात करने का सवाल नहीं है। भारतीय विदेश मंत्री एस.जयशंकर ने शुक्रवार को अमेरिका के विदेश मंत्री माइकल पोंपिओ को भारतीय नीति से अवगत कराया। वैसे जयशंकर यह बात संसद में पहले ही कह चुके हैं। यह बैठक बैंकाक में हुई जहां दोनो नेता ईस्ट एशिया समूह के विदेश मंत्रियों के सम्मेलन में भाग लेने के लिए पहुंचे है।
  • ट्रंप ने पिछले दिनों पाकिस्तान के पीएम इमरान खान का वाशिंगटन में स्वागत करते हुए बयान दिया था कि पीएम नरेंद्र मोदी ने उनसे कश्मीर में मध्यस्थता करने की पेशकश की है। ट्रंप ने यह भी कहा कि अमेरिका मध्यस्थता करने को तैयार भी है।
  • भारत में ट्रंप के इस बयान को काफी राजनीतिक रंग दिया गया। कांग्रेस व अन्य विपक्षी पार्टियों ने आरोप लगाया कि राजग सरकार कश्मीर पर भारत की पारंपरिक नीति का त्याग कर रही है।

:: राजव्यवस्था और महत्वपूर्ण विधेयक ::

भारतीय विमानपत्‍तन आर्थिक नियामक प्राधिकरण संशोधन विधेयक 2019

  • संसद ने भारतीय विमानपत्‍तन आर्थिक नियामक प्राधिकरण संशोधन विधेयक 2019 पारित कर दिया है। यह विधेयक प्रमुख हवाई अड्डो के लिए वार्षिक यात्री आवाजाही सीमा 15 लाख से बढ़ाकर 35 लाख करेगा। इससे पहले भारतीय विमानपत्‍तन आर्थिक नियामक प्राधिकरण अधिनियम 2008 के अनुसार 15 लाख वार्षिक से अधिक यात्री आवाजाही वाले हवाई अड्डे या केन्‍द्र सरकार द्वारा अधिसूचित किसी हवाई अड्डे को प्रमुख हवाई अड्डे का दर्जा दिया गया था।
  • विधेयक के प्रावधानों के अनुसार प्राधिकरण उन मामलों में शुल्‍क, शुल्‍क ढ़ांचा या विकास शुल्‍क तय नही करेगा जहां शुल्‍क की यह राशि हवाई अड्डा संचालन का निर्धारण करने वाले बोjली दस्‍तावेज का हिस्‍सा है।
  • नागरिक उड्ययन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा कि यात्रियों की संख्‍या 2008 के 11 करोड़ 70 लाख वार्षिक से बढ़कर मौजूदा समय में 34 करोड़ 50 लाख होने को देखते हुए प्रमुख हवाई अड्डों के लिए यात्री संख्‍या सीमा बढ़ाई गई है।

जलियांवाला बाग स्मारक संशोधन विधेयक

  • लोकसभा में पारित जलियांवाला बाग स्मारक संशोधित नए कानून के तहत अब कांग्रेस अध्यक्ष जलियांवाला बाग स्मारक समिति के सदस्य नहीं होंगे।
  • संशोधित बिल में कांग्रेस अध्यक्ष को समिति के सदस्य के तौर पर मनोनीत किए जाने का प्रावधान हटा लिया गया है। नए बिल में अब समिति के सदस्य के तौर पर लोकसभा में विपक्ष के नेता को नियुक्त किए जाने का प्रावधान किया गया है। चूंकि इस वक्त लोकसभा में किसी को भी विपक्ष के नेता का दर्जा प्राप्त नहीं है, लिहाजा वह समिति का सदस्य नहीं बन सकता।
  • जलियांवाला बाग राष्ट्रीय स्मारक अधिनियम, 1951 में संशोधन के लिए लाये गये विधेयक पर चर्चा का जवाब देते हुए केंद्रीय संस्कृति मंत्री प्रहलाद सिंह पटेल ने कहा कि जलियांवाला बाग एक राष्ट्रीय स्मारक है और घटना के सौ साल पूरे होने के अवसर पर हम इस स्मारक को राजनीति से मुक्त करना चाहते हैं।
  • स्मारक की स्थापना के समय जवाहरलाल नेहरू, सैफुद्दीन किचलू और अब्दुल कलाम आजाद इसके स्थाई ट्रस्टी थे।

न्यायिक मजिस्ट्रेट आरोपियों को आवाज के नमूने देने का निर्देश दे सकते हैं: न्यायालय

  • उच्चतम न्यायालय ने शुक्रवार को कहा कि न्यायिक मजिस्ट्रेटों को आपराधिक मामलों के आरोपियों को जांच के दौरान आवाज के नमूने एजेंसियों को देने का आदेश करने का अधिकार है।
  • प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अगुवाई वाली पीठ ने एक बड़ा फैसला सुनाते हुए कहा कि आपराधिक प्रक्रिया संहिता (सीआरपीसी) में ये प्रावधान नहीं हैं जो न्यायिक मजिस्ट्रेट को लंबित जांच में आरोपी को आवाज के नमूने मुहैया कराके जांच एजेंसियों के साथ सहयोग का निर्देश देने की अनुमति देता हो।न्यायमूर्ति दीपक गुप्ता और न्यायमूर्ति अनिरुद्ध बोस भी इस पीठ के सदस्य हैं।
  • पीठ ने कहा कि वह संविधान के अनुच्छेद 142 के तहत अपनी असाधारण संवैधानिक शक्तियों का प्रयोग करते हुए आपराधिक मामलों के आरोपियों को उचित जांच के लिए अपनी आवाज के नमूने सौंपने का आदेश देने का अधिकार न्यायिक मजिस्ट्रेटों को दे रही है। अभी तक आरोपी जांच एजेंसियों को अपनी आवाज के नमूने देने के लिए कानूनी रूप से बाध्य नहीं थे।

गैरकानूनी गतिविधि (निवारण) संशोधन बिल, 2019

  • गैरकानूनी गतिविधियाँ (रोकथाम) संशोधन विधेयक, 2019 आज राज्यसभा ने भी पारित कर दिया। विधेयक पर बोलते हुए केंद्रीय गृह मंत्री श्री अमित शाह ने कहा कि आतंकवाद से लड़ने वाली एजेंसियों को चार कदम आगे बढ़कर काम करना होगा तभी आतंकवाद खत्म होगा और इन प्रस्तावित संशोधनों का उद्देश्य आतंकी अपराधों की द्रुत गति से जांच और अभियोजन की सुविधा प्रदान करना है।
  • यह बिल गैरकानूनी गतिविधि (निवारण) एक्ट, 1967 में संशोधन करता है। एक्ट आतंकवादी गतिविधियों को काबू में करने के लिए विशेष प्रक्रियाओं का प्रावधान करता है।
  • आतंकवाद कौन फैला सकता है: एक्ट के अंतर्गत केंद्र सरकार किसी संगठन को आतंकवादी संगठन निर्दिष्ट कर सकती है, अगर वह: (i) आतंकवादी कार्रवाई करता है या उसमें भाग लेता है, (ii) आतंकवादी घटना को अंजाम देने की तैयारी करता है, (iii) आतंकवाद को बढ़ावा देता है, या (iv) अन्यथा आतंकवादी गतिविधि में शामिल है। बिल सरकार को अधिकार देता है कि वह समान आधार पर व्यक्तियों को भी आतंकवादी निर्दिष्ट कर सकती है।
  • एनआईए द्वारा संपत्ति की जब्ती के लिए मंजूरी: एक्ट के अंतर्गत जांच अधिकारी को उन संपत्तियों को जब्त करने से पहले पुलिस महानिदेशालय से मंजूरी लेनी होती है, जो आतंकवाद से संबंधित हो सकती हैं। बिल के अनुसार, अगर राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के अधिकारी द्वारा जांच की जा रही है तो ऐसी संपत्ति की जब्ती से पहले एनआईए के महानिदेशक से पूर्व मंजूरी लेनी होगी।
  • एनआईए द्वारा जांच: एक्ट के अंतर्गत मामलों की जांच पुलिस डेपुटी सुपरिटेंडेंट या असिस्टेंट कमीशनर या उससे ऊंचे पद के अधिकारियों द्वारा की जाएगी। बिल अतिरिक्त रूप से मामलों की जांच के लिए एनआईए के इंस्पेक्टर या उससे ऊंचे पद के अधिकारियों को अधिकृत करता है।
  • संधियों की अनुसूची में प्रविष्टि: एक्ट के अंतर्गत नौ संधियां हैं, जैसे कन्वेंशन फॉर द सप्रेशन ऑफ टेरिरिस्ट बॉम्बिंग्स (1997) और कन्वेंशन अगेंस्ट टेकिंग ऑफ होस्टेजेज़ (1979)। इन संधियों में कुछ गतिविधियां प्रतिबंधित हैं। बिल के अनुसार, इन गतिविधियों को आतंकवादी गतिविधि माना जाएगा। बिल इस सूची में एक और संधि को शामिल करता है। यह संधि है, द इंटरनेशनल कन्वेंशन फॉर सप्रेशन ऑफ एक्ट्स ऑफ न्यूक्लियर टेरिरिज्म (2005)।

:: आर्थिक समाचार ::

भारतीय अर्थव्यवस्था दुनिया में 5वें से 7वें स्थान पर फिसला

  • वर्ल्ड बैंक ने 2018 की रैंकिंग जारी की, ब्रिटेन और फ्रांस भारत से ऊपर आए
  • 2017 में ब्रिटेन को पीछे छोड़ भारत 5वीं बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश बना था
  • 2018 में डॉलर के मुकाबले रुपया 5% कमजोर हुआ, जीडीपी ग्रोथ भी कम रही इसलिए भारत पिछड़ा
  • भारत की जीडीपी 2.72 ट्रिलियन डॉलर, सरकार ने 2025 तक 5 ट्रिलियन डॉलर का लक्ष्य तय किया है

भारत अर्थव्यवस्था की रैंकिंग में 5वें से 7वें नंबर पर फिसल गया है। वर्ल्ड बैंक ने जीडीपी के आधार पर देशों की 2018 की रैंकिंग गुरुवार को जारी की। 2017 में भारत ने ब्रिटेन को पीछे छोड़ 5वां स्थान हासिल किया था। लेकिन, 2018 में ब्रिटेन और फ्रांस से पीछे हो गया। 20.5 ट्रिलियन डॉलर की इकोनॉमी के साथ अमेरिका टॉप पर है।

1. दुनिया के टॉप-10 जीडीपी वाले देश

देश 2018 में रैंकिंग 2018 में जीडीपी 2017 में रैंकिंग 2017 में जीडीपी
अमेरिका 1 20.49 1 19.48
चीन 2 13.60 2 12.06
जापान 3 4.97 3 4.85
जर्मनी 4 3.99 4 3.70
ब्रिटेन 5 2.82 6 2.63
फ्रांस 6 2.77 7 2.58
भारत 7 2.72 5 2.65
इटली 8 2.07 9 1.94
ब्राजील 9 1.86 8 2.05
कनाडा 10 1.70 10 1.65

2. *(जीडीपी ट्रिलियन डॉलर में)

  • अर्थशास्त्रियों के मुताबिक मुद्रा में उतार-चढ़ाव और ग्रोथ में सुस्ती की वजह से रैंकिंग प्रभावित हुई। 2017 में डॉलर के मुकाबले रुपया 3% मजबूत हुआ था लेकिन 2018 में 5% गिरावट आई।
  • 2018-19 में जीडीपी ग्रोथ 6.8% रही। यह 5 साल में सबसे कम है। आर्थिक सर्वे के मुताबिक बीते 5 साल में विकास दर औसत 7.5% रही। सर्वे के मुताबिक 2025 तक 5 ट्रिलियन डॉलर की अर्थव्यवस्था का लक्ष्य हासिल करने के लिए हर साल 8% ग्रोथ की जरूरत है। इसमें खपत और निवेश की अहम भूमिका होगी।

आयातित इस्पात डंपिंग-रोधी शुल्क

  • सरकार ब्राजील, चीन और जर्मनी से आयात किए जाने वाले कुछ विशेष प्रकार के इस्पात आयात पर पांच साल के लिए डंपिंग रोधी शुल्क लगा सकती है। यह शुल्क 3,263 डॉलर प्रति टन तक हो सकता है।
  • वाणिज्य मंत्रालय की जांच इकाई व्यापार उपचार महानिदेशालय (डीजीटीआर) ने इन तीन देशों द्वारा ‘हाई स्पीड स्टील ऑफ नॉन कोबाल्ट ग्रेड’ की कथित डंपिंग किए जाने की जांच की और उसके बाद यह शुल्क लगाने की सिफारिश की है। इस इस्पात का उपयोग तेज गति से इस्पात काटने के उपकरण बनाने में होता है।
  • डीजीटीआर ने अपनी अधिसूचना में कहा कि इस डंपिंग की वजह से घरेलू उद्योग को क्षति पहुंची है। ऐसे में उसका मानना है कि इन देशों से आयात पर डंपिंग-रोधी शुल्क लगाया जाना अनिवार्य है।
  • डीजीटीआर ने यह जांच इस संबंध में ग्रेफाइट इंडिया लिमिटेड की शिकायत पर की थी। उसने उपरोक्त श्रेणी के इस्पात पर 1,902.34 डॉलर से 3,263.68 डॉलर प्रति टन का शुल्क लगाने की सिफारिश की है।
  • डीजीटीआर उद्योग एवं वाणिज्य मंत्रालय के तहत कार्य करता है। यह डंपिंग-रोधी मामलों की जांच कर उन पर डंपिंग रोधी शुल्क लगाने की सिफारिश देता है। डंपिग-रोधी शुल्क लगाए जाने पर अंतिम निर्णय वित्त मंत्रालय करता है।

:: पर्यावरण और पारिस्थितिकी ::

उत्तराखंड में बाघ की सुरक्षाहेतु चार वन्यजीव अंचल

  • उत्तराखंड में बाघों के कुनबे में इजाफे के बाद सुरक्षा को लेकर बढ़ी चुनौतियों से पार पाने के लिए अब कोशिशें शुरू कर दी गई हैं। इस कड़ी में उप्र के जमाने की वन्यजीव अंचल व्यवस्था को फिर से धरातल पर उतारने की तैयारी है। गढ़वाल और कुमाऊं दोनों मंडलों में दो-दो वन्यजीव अंचल खुलेंगे।
  • बाघ संरक्षण की दिशा में उत्तराखंड अहम भूमिका निभा रहा है। बाघों की निरंतर बढ़ती संख्या इसकी तस्दीक करती है। हाल में जारी अखिल भारतीय बाघ गणना के नतीजों पर ही गौर करें तो यहां बाघों की संख्या 442 पहुंच गई है। इनमें 102 का इजाफा चार साल के वक्फे में हुआ। 2014 की गणना में यहां 340 बाघ पाए गए थे। यही नहीं, अब तो राज्य के हर जिले में बाघों की मौजूदगी है।
  • जाहिर है कि बाघ बढऩे के साथ ही सुरक्षा को लेकर भी चिंता सताने लगी है। इस कड़ी में वन्यजीव अंचल व्यवस्था की तरफ सरकार का ध्यान गया है। दरअसल, अविभाजित उत्तर प्रदेश में यहां भी अंचल व्यवस्था अस्तित्व में थी। तब उत्तराखंड क्षेत्र में कोटद्वार (गढ़वाल) और रामनगर (कुमाऊं) दो वन्यजीव अंचल कार्यरत थे।

गंगा को प्रदूषित करने वाली औद्योगिक इकाइयों पर कार्रवाई करें: सीपीसीबी

  • सीपीसीबी ने गंगा नदी में अपशिष्ट और औद्योगिक कचरा प्रवाहित होने पर कड़ा संज्ञान लेते हुए चार राज्यों के प्रदूषण नियंत्रण बोर्डों को निर्देश दिया है कि वह पर्यावरणीय मानदंडों का पालन नहीं करने वाली इकाइयों पर कार्रवाई करें, जरुरत पड़े, तो उन्हें बंद भी करें। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) ने उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल और बिहार प्रदूषण नियंत्रण बोर्डों के अध्यक्षों को लिखे अलग-अलग पत्रों में, उन्हें 15 दिनों के भीतर निरीक्षणों की रिपोर्ट प्रस्तुत करने का निर्देश दिया है। उसमें कहा गया कि निरीक्षण रिपोर्ट प्रस्तुत करने के 15 दिनों के भीतर नियमों का उल्लंघन करने वाले उद्योगों को बंद करने सहित उनपर उचित कार्रवाई की जाएगी। ये निरीक्षण तकनीकी संस्थानों द्वारा या उनके और राज्य बोर्डों के बीच संयुक्त पहल के तहत किए गए। सीपीसीबी ने कहा कि अब तक 400 से अधिक प्रदूषकारी उद्योगों (जीपीआई) का निरीक्षण किया गया है, लेकिन भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी), जामिया मिलिया इस्लामिया, मोती लाल नेहरू राष्ट्रीय प्रौद्योगिकी संस्थान जैसे संस्थानों द्वारा राज्य बोर्डों को ‘‘बहुत कम’’ रिपोर्ट सौंपी गई है।

:: विज्ञान और प्रौद्योगिकी ::

सुपर-अर्थ

  • वैज्ञानिकों ने हमारे अपने सौर मंडल के बाहर महज 31 प्रकाश वर्ष की दूरी पर एक सुपर अर्थ की खोज की है। उन्होंने धरती से दूर पहली संभावित रहने योग्य दुनिया की विशेषता बताते हुए कहा कि इस ग्रह पर जीवन के संकेत मिले हैं।
  • एस्ट्रोफिजिकल जर्नल लेटर्स में प्रकाशित शोध के अनुसार, सुपर-अर्थ प्लैनेट ‘जीजेड 357 डी’ की खोज नासा के ट्रांसिटिंग एक्सोप्लेनेट सर्वे सैटेलाइट (टीईएसएस) ने 2019 की शुरुआत में की थी। टीईएसएस दो साल के मिशन पर अंतरिक्ष में भेजा गया है। इस मिशन का लक्ष्य अब तक ज्ञात एक्सोप्लेनेट यानी बाहरी ग्रहों की सूची को और बड़ा करना है।
  • अमेरिका में कॉर्नेल विश्वविद्यालय में खगोल विज्ञान के एसोसिएट प्रोफेसर और टीईएसएस विज्ञान टीम का एक सदस्य लिसा कल्टेनेग ने बताया कि ‘यह रोमांचक है, क्योंकि टीईएसएस की मदद से एक विशाल पहुंच के साथ छोटा और पहला नजदीकी सुपर-अर्थ है, जिसमें जीवन की संभावना हो सकती है। यह मानवता का मिशन है।’ एक्सोप्लैनेट हमारे अपने नीले ग्रह की तुलना में अधिक बड़ा है, और कल्टेनेगर ने कहा कि इस खोज से पृथ्वी के भारी वजन वाले अन्य ग्रहों की जानकारी मिलेगी।

:: विविध ::

भाषा मुखर्जी

  • भारतवंशी डॉक्टर भाषा मुखर्जी ने दर्जनों प्रतिभागियों को पीछे छोड़ते हुए मिस इंग्लैंड का ताज अपने नाम कर लिया। डर्बी की रहने वाली 23 वर्षीय भाषा के पास स्नातक की दो डिग्री हैं। इस जीनियस सुंदरी का आइक्यू 146 है और वह पांच भाषाएं बोल सकती हैं। वहीं मशहूर वैज्ञानिक आइंस्‍टीन का आईक्‍यू लेवल 160 था। मिस इंग्लैंड प्रतियोगिता खत्म होते ही वह बोस्टन स्थित हॉस्पिटल में जूनियर डॉक्टर के तौर पर नौकरी शुरू करने वाली थीं। अब वह मिस व‌र्ल्ड प्रतियोगिता में इंग्लैंड का प्रतिनिधित्व करेंगी।

वर्ल्ड कैडेट रेसलिंग चैंपियनशिप

  • भारत की सोनम मलिक ने दमदार प्रदर्शन करते हुए बुल्गारिया के सोफिया में वर्ल्ड कैडेट कुश्ती चैंपियनशिप में लगातार दूसरा गोल्ड मेडल जीता। हरियाणा के सोनीपत के मदीना गांव की रहने वाली सोनम ने 65 किग्रा वर्ग के फाइनल में चीन के बिनबिन झियांग को 7-1 से हराया।

:: प्रिलिमिस बूस्टर ::

  • विश्व स्तनपान सप्ताह (डब्ल्यूबीडब्ल्यू) 2019 कब से कब तक मनाया जा रहा है? (1 से 7 अगस्त)
  • महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के द्वारा मनाए जा रहे विश्व स्तनपान सप्ताह (डब्ल्यूबीडब्ल्यू) की थीम क्या है? (‘माता-पिता को सशक्त बनाना, स्तनपान को सक्षम करना’)
  • हाल ही में किस भारतीय उत्पाद को बीआईएस प्रमाण पत्र दिया गया है? (पशमीना)
  • पशमीना बकरियों को किस क्षेत्र में एवं किस घुमंतु समुदाय के द्वारा पाला जाता है? (ग्रेटर लद्दाख के छांगथांग क्षेत्र में छांगपा नामक घुमंतू समुदाय द्वारा)
  • हाल ही में किन संस्थानों को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा उत्कृष्टता संस्थान के रूप में मान्यता दी गई है? (दिल्ली विश्वविद्यालय, बनारस हिंदू विश्वविद्यालय, हैदराबाद विश्वविद्यालय और आईआईटी मद्रास और खड़गपुर)
  • हाल ही में उत्तर प्रदेश के किस संस्थान को विश्वविद्यालय अनुदान आयोग द्वारा उत्कृष्टता संस्थान के रूप में मान्यता प्रदान की गई है? (बनारस हिंदू विश्वविद्यालय)
  • हाल ही में चर्चा में रहे गुरुद्वारा चौवा साहिब कहाँ स्थित है? (पंजाब प्रांत-पाकिस्तान)
  • हाल ही में चर्चा में रहे इंटरमीडिएट-रेंज न्यूक्लियर फोर्सेज (आइएनएफ) संधि किन देशों के मध्य हस्ताक्षरित की गई थी? (अमेरिका- रूस)
  • हाल ही में चर्चा में रहे कुरील द्वीप समूह को लेकर किन देशो के मध्य विवाद है? (जापान-रूस)
  • हाल ही में किस देश के द्वारा महिलाओं को बिना पुरुष अभिभावक के इजाजत के विदेश यात्रा की अनुमति प्रदान की गई है? (सऊदी अरब)
  • हाल ही में संसद में पारित भारतीय विमानपत्‍तन आर्थिक नियामक प्राधिकरण संशोधन विधेयक 2019 के अनुसार प्रमुख हवाई अड्डों की वार्षिक आवाजाही सीमा कितनी निर्धारित की गई है? (35 लाख)
  • हाल ही में घोषित हुए वर्ल्ड बैंक के आंकड़ों के अनुसार भारतीय अर्थव्यवस्था की वैश्विक रैंकिंग क्या है? (सातवी)
  • हाल ही में घोषित हुए वर्ल्ड बैंक के आंकड़ों के अनुसार किस देश की अर्थव्यवस्था को प्रथम स्थान प्राप्त हुआ है? (अमेरिका)
  • हाल हाल ही में वाणिज्य मंत्रालय की जांच इकाई व्यापार उपचार महानिदेशालय (डीजीटीआर) के द्वारा आयातित इस्पात की किस किस्म पर एंटी डंपिंग ड्यूटी लगाने की सिफारिश की गई है? (‘हाई स्पीड स्टील ऑफ नॉन कोबाल्ट ग्रेड’)
  • हाल ही में किस राज्य के द्वारा बाघों की सुरक्षा हेतु वन्यजीव अंचल व्यवस्था लागू की जाने की तैयारी की जा रही है? (उत्तराखंड)
  • हाल ही में वैज्ञानिकों के द्वारा पहली संभावित रहने योग्य सुपर अर्थ प्लेनेट की खोज की गई है। इस नए सुपर अर्थ प्लेनेट को क्या नाम दिया गया है? (सुपर-अर्थ प्लैनेट ‘जीजेड 357 डी’)
  • हाल ही में किस भारतवंशी को मिस इंग्लैंड का ताज पहनाया गया? (डॉक्टर भाषा मुखर्जी)
  • हाल ही में बुल्गारिया के सोफिया में वर्ल्ड कैडेट कुश्ती चैंपियनशिप में किस भारतीय खिलाड़ी ने 2 गोल्ड मेडल जीता? (सोनम मलिक)

स्रोत साभार: Dainik Jagran (Rashtriya Sanskaran), Dainik Bhaskar (Rashtriya Sanskaran), Rashtriya Sahara (Rashtriya Sanskaran) Hindustan Dainik (Delhi), Nai Duniya, Hindustan Times, The Hindu, BBC Portal, The Economic Times (Hindi & English), PTI, PIB

<< मुख्य पृष्ठ पर वापस जाने के लिये यहां क्लिक करें