(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (1 और 2 फरवरी 2020)

दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर


(दैनिक समसामयिकी और प्रिलिम्स बूस्टर) यूपीएससी और सभी राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षाओं के लिए हिंदी में समाचार पत्रों का संकलन (1 और 2 फरवरी 2020)


:: राष्ट्रीय समाचार ::

बीबीसी शॉर्टवेब रेडियो

  • बीबीसी के शॉर्टवेब रेडियो का प्रसारण 31 जनवरी (शुक्रवार) को बंद कर दिया गया। पिछले साल भारत में बीबीसी वल्र्ड सर्विस की पहुंच तीन करोड़ से बढ़कर पांच करोड़ हो गई। इस दौरान बीबीसी के श्रोता बड़ी संख्या में शॉर्टवेव रेडियो से डिजिटल और टीवी की ओर चले गए। रेडियो श्रोताओं की लगातार गिरती संख्या को देखते हुए बीबीसी ने हिंदी में शॉर्टवेव रेडियो प्रसारण समाप्त करने का फैसला किया है।

बीबीसी शॉर्टवेब रेडियो का इतिहास

  • बीबीसी हिंदुस्तानी सेवा द्वितीय विश्व युद्ध में ब्रिटेन के पक्ष बताने के लिए शुरू की गई। 11 मई 1940 को दस मिनट के समाचार बुलेटिन के साथ इस सेवा का पहला प्रसारण हुआ था। जून 1941 में इसको आधा घंटा का स्पेस मिला। जुल्फिकार अली बुखारी इसके पहले संचालक बने जो 1945 तक साथ निभाते रहे। 1947 में विभाजन के बाद, यही बुखारी पाकिस्तान रेडियो के पहले महानिदेशक नियुक्त किए गए।

:: अंतर्राष्ट्रीय समाचार ::

महिला विश्व सम्मेलन की 25वीं वर्षगांठ

  • बीजिंग में महिला विश्व सम्मेलन की 25वीं वर्षगांठ के मौके पर भारत की प्रतिबद्धता को लेकर राष्ट्रीय महिला आयोग ने संयुक्त राष्ट्र की महिला प्रतिनिधियों के साथ राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन किया। इसमें भारत में पिछले 25 वर्षों में महिला अधिकारों और लैंगिक समानता के लिए हुए कामों और कमियों पर चर्चा की गई।
  • सम्मेलन में तय हुआ कि भारत 2030 तक लैंगिक असमानता को खत्म करेगा और इसके लिए एक रोडमैप बनाया जाएगा। महिलाओं को उनके अधिकारों के प्रति जागरूक करने के लिए एक सक्षम तंत्र (मैकेनिज्म) भी तैयार किया जाएगा।

कोरोना वायरस के प्रकोप से WHO ने किया अंतरराष्ट्रीय आपातकाल का ऐलान

  • चीन में कोरोना वायरस का कहर जारी है। कोरोना वायरस इस कदर तांडव मचा रहा है कि इससे मरने वालों की संख्या चीन में करीब 212 हो गई है। कोरोना वायरस के लगातार केस सामने आने के बाद विश्व स्वास्थ्य संगठन यानी डब्लूएचओ ने बड़ा कदम उठाया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चीन के कोरोना वायरस को अंतर्राष्ट्रीय आपातकाल घोषित कर दिया है। डब्ल्यूएचओ की अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य नियमन आपात समिति की बैठक में इस पर निर्णय लिया गया।

पृष्ठभूमि

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की गुरुवार की रिपोर्ट के अनुसार चीन में इस वायरस से 7736 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हो गई है। इसके अलावा इस देश में 12,167 लोगों के इस वायरस से संक्रमित होने का संदेह भी है। चीन में इस वायरस से अबतक 212 लोगों की मौत हो गई है।
  • रिपोर्ट के अनुसार चीन से बाहर 18 देशों में कोरोना वायरस के 82 मामलों की पुष्टि हुई है। थाईलैंड में 14, जापान में 11, सिंगापुर में 10, दक्षिण कोरिया में चार, ऑस्ट्रेलिया और मलेशिया में सात-सात, अमेरिका और फ्रांस में पांच-पांच , जर्मनी और संयुक्त अरब अमीरात में चार-चार और कनाडा में कोरोना वायरस के तीन मामलों की पुष्टि हुई है। इसके अलावा वियतनाम में दो, कंबोडिया, फिलिपींस, नेपाल, श्रीलंका, भारत और फिनलैंड में एक-एक कोरोना वायरस के मामलों की पुष्टि हुई है।

ब्रेक्जिट: एक समग्र अवलोकन

  • ब्रिटेन या यूरोपीय संघ के नागरिकों को करीब से प्रभावित करने वाली ज्यादातर चीजों में किसी भी प्रकार का बदलाव नहीं होगा। सामान्य रूप से व्यवसायों का संचालन किया जाएगा। इसका अर्थ है कि एक उपभोक्ता के रूप में कोई प्रभावित नहीं होगा। अलगाव की प्रक्रिया के दौरान यूरोप में आवाजाही प्रभावित नहीं होगी। दोनों जगहों के लोग आराम से आवागमन कर सकेंगे।
  • ब्रेक्जिट का असर व्यावहारिक कम और सैद्धांतिक ज्यादा है। ब्रिटेन यूरोपीय संघ को छोड़ सकता है, लेकिन वह यूरोपीय संघ के सभी कानूनों और यूरोपीय अदालतों के आदेशों का पालन जारी रखेगा। आगामी महीनों में यह यूरोपीय संघ के बजट में अपने योगदान को जारी रखेगा। साथ ही यूरोपीय संघ के कानून में किसी भी बदलाव का पालन भी करेगा। इससे साफ है कि यह बदलाव सैद्धांतिक ज्यादा है और व्यावहारिक कम। ब्रिटेन यूरोपीय संघ के संस्थानों में कोई सार्थक प्रतिनिधित्व नहीं करेगा और अब यूरोपीय संघ के नेताओं की किसी भी बैठक में शामिल नहीं होगा।

भारत पर नकारात्मक असर

  • अल्पावधि में सेंसेक्स और निफ्टी में गिरावट आ सकती है।
  • पौंड का गिरता मूल्य कई मौजूदा अनुबंधों के लिए घाटे का सौदा हो सकता है।
  • देश के सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र पर अल्पकाल में नकारात्मक असर पड़ सकता है।
  • विदेशी पूंजी निकलने और डॉलर की कीमत बढ़ने से रुपये की कीमत गिर सकती है।
  • पौंड स्टर्लिंग की कीमतों में गिरावट के कारणब्रिटेन से होने वाले भारतीय निर्यात को नुकसान होगा।
  • यदि दुनिया यह धारणा बनाती है कि भारत में निवेश जोखिम भरा है तो विदेशी पूंजी के बाहर जाने की आशंका है।
  • कई भारतीय कंपनियां लंदन स्टॉक एक्सचेंज में सूचीबद्ध हैं और कई का लंदन में यूरोपीय मुख्यालय है। ब्रिटेन इसका फायदा उठाएगा।

भारत पर सकारात्मक असर

  • भारत और ब्रिटेन के बीच व्यापारिक संबंधों को ब्रेक्जिट बढ़ावा दे सकता है।
  • अब ब्रिटेन भारत के साथ द्विपक्षीय व्यापार समझौते पर चर्चा के लिए स्वतंत्र होगा।
  • कई विशेषज्ञ यह सोचते हैं कि ब्रिटेन की मुद्रा का कमजोर होना अच्छी खबर हो सकती है।
  • पौंड के कम मूल्य के साथ भारतीय कंपनियां कई हाइटेक संपत्ति हासिल करने में सक्षम हो सकती हैं।
  • दुनिया भर के निवेशक अशांत समय में सुरक्षित ठिकाने ढूंढते हैं। ऐसे में भारत स्थिरता और विकास दोनों के लिए मुफीद हो सकता है।
  • भारत के एक निर्यातक देश की तुलना में अधिक आयात करने वाला देश होने के चलते इसका प्रभाव भारत के लिए सकारात्मक हो सकता है।
  • पौंड स्टर्लिंग के मूल्य में गिरावट के कारण, यूके से आयात करने वालों को लाभ होगा। ब्रिटेन में सक्रिय भारतीय निर्यात कंपनियों को भी लाभ हो सकता है।

राष्ट्रमंडल में शामिल हुआ मालदीव

  • मालदीव को राष्ट्रमंडल में आधिकारिक रूप से शनिवार को फिर से शामिल कर लिया गया। मालदीव ने करीब तीन साल पहले मानवाधिकार के मसले पर राष्ट्रमंडल से अलग हो गया था। मालदीव राष्ट्रमंडल में ऐसे समय फिर से शामिल हुआ है जब ब्रिटेन 47 साल सदस्य रहने के बाद यूरोपीय संघ से अलग हुआ है।

पृष्ठभूमि

  • मालदीव अपने मानवाधिकार रिकॉर्ड और लोकतांत्रिक सुधार पर प्रगति के अभाव को लेकर निलंबित किए जाने की चेतावनी के बाद राष्ट्रमंडल से अलग हो गया था। मालदीव ने राष्ट्रमंडल से फिर से जुड़ने का अनुरोध दिसंबर 2018 में किया था।

क्या है राष्ट्रमंडल?

  • राष्ट्रमंडल देशों (पूर्व में ब्रिटिश राष्ट्रमंडल), के संगठन को केवल “राष्ट्रमंडल” के रूप में भी जाना जाता है. राष्ट्रमंडल 54 सदस्य देशों का एक अंतरसरकारी संगठन है. यह संगठन उन देशों का समूह है जो कि कभी ब्रिटिश साम्राज्य के अधीन थे. हालाँकि रवांडा और मोज़ाम्बिक कभी भी ब्रिटिश साम्राज्य के अधीन नही रहे हैं फिर भी वे राष्ट्रमंडल में शामिल हैं. आधुनिक राष्ट्रमंडल की स्थापना 28 अप्रैल 1949 को की गयी थी.

:: भारतीय राजव्यवस्था ::

RTI कानून को सुप्रीम कोर्ट में

  • उच्चतम न्यायालय ने 31 जनवरीको कांग्रेस सांसद जयराम रमेश की याचिका पर केंद्र से जवाब मांगा, जिसमें सूचना का अधिकार (संशोधन) कानून, 2019 की संवैधानिक वैधता को चुनौती दी गई है। इस संशोधन के जरिए सरकार को सूचना आयुक्तों का कार्यकाल, वेतन और भत्ते तय करने का अधिकार दिया गया है।

याचिका के मुख्य बिंदु

  • आरटीआई संशोधन कानून, 2019 और सूचना का अधिकार (पदाधिकारी का कार्यकाल, वेतन, भत्ते और सेवा की अन्य शर्तें) नियम, 2019 सभी नागरिकों के सूचना के मौलिक अधिकार का “सामूहिक रूप से उल्लंघन” करता है, जिसकी गारंटी संविधान ने दी है।
  • संशोधित कानून के प्रावधान के जरिये केंद्रीय सूचना आयुक्त (सीआईसी) के पांच साल के पूर्व निर्धारित कार्यकाल को बदल दिया गया है।
  • संशोधित कानून की धारा 2(सी) केंद्र सरकार को केंद्रीय सूचना आयुक्तों के वेतन, भत्ते और कार्य दशाएं तय करने का अधिकार देती है, जो कि इससे पहले आरटीआई कानून की धारा 13 (5) के तहत चुनाव आयुक्तों के समकक्ष था।

इलेक्टोरल बॉन्ड

  • चुनाव आयोग ने भाजपा सरकार द्वारा लागू की गई इलेक्टोरल बॉन्ड स्कीम का विरोध करने का फैसला किया है। सरकार ने चुनाव में फंडिग करने के इरादे से इसकी शुरुआत की थी। आयोग ने तय किया कि वह 25 मार्च 2019 को सुप्रीम कोर्ट में दायर किए गए 37 पेज के शपथपत्र के तहत अपने पुराने रूख पर ही कायम रहेगा। साथ ही आयोग, राजनीतिक दलों द्वारा सीलबंद लिफाफे में इलेक्टोरल बॉन्ड योजना के तहत दी गई जानकारी भी सुप्रीम कोर्ट से साझा करेगा।

क्या है इलेक्टोरल बॉन्ड स्कीम के विरोध का कारण

  • जन प्रतिनिधित्व कानून 1951 की धारा 29 के तहत 20 हजार रूपए से अधिक चंदा देने वाले किसी भी व्यक्ति को अपना नाम, पैन नंबर और सभी विवरण देना जरूरी था। वित्त कानून 2017 के जरिए इस धारा में संशोधन किया गया और इलेक्टोरल बॉन्ड के माध्यम से चंदा दिए जाने को छूट मिल गई। इस कारण एक हजार से लेकर एक करोड़ रूपए तक चंदा देने वाले व्यक्ति और लेने वाली पार्टी की पहचान गोपनीय रखा जाता है। चुनाव आयोग का मानना है कि इससे राजनीतिक फंडिंग में पारदर्शिता और जवाबदेही समाप्त हो गई है। इससे विदेशी तथा फर्जी कंपनियों के माध्यम से नेताओं को फंडिग की जाएगी, जो राजनीति को प्रभावित करेगा।

पृष्ठभूमि

  • चुनाव आयोग की 29 अगस्त 2014 के निर्देशों के मुताबिक- सभी मान्यता प्राप्त दलों को सभी स्त्रोतों से मिलने वाली आय की वार्षिक ऑडिट रपट, 20 हजार रूपए से अधिक चंदा देने वालों का पूरा विवरण और खर्च आयोग के समक्ष दायर करना जरूरी था। मौजूदा एनडीए सरकार ने वित्त कानून 2016 के जरिए विदेशी चंदा नियंत्रण कानून 2010 में बदलाव कर चंदे की रकम की सीमा हटा दी थी। साथ ही वित्त कानून 2017 के जरिए जनप्रतिनिधित्व कानून 1951 की धारा 29, आयकर कानून और कंपनी एक्ट में बदलाव करते हुए इलेक्टोरल बॉन्ड के जरिए धन देने और लेने वालों का नाम पूरी तरह गोपनीय रखा जाता है। इसके बाद चुनाव आयोग के पास न तो चंदे का स्त्रोत जानने का अधिकार रह गया और न ही ये पता लगाया जा सका कि यह धन काला है या सफेद।

इल्कटोरल बॉन्ड क्या है?

  • चुनावों में राजनीतिक दलों के चंदा जुटाने की प्रक्रिया को पारदर्शी बनाने के उद्देश्य से चुनावी बांड लाए गए। 5 कानूनों में बदलाव कर चुनावी बांड की योजना लाई गई। 2 जनवरी 2018 को चुनावी बांड की योजना को अधिसूचित किया गया।
  • कोई भी भारतीय नागरिक, संस्था या फिर कंपनी चुनावी बांड खरीद सकती है। बांड खरीदने के लिए KYC फार्म भरना जरूरी है।
  • बांड नकद नहीं केवल बैंक अकाउंट से ही खरीद सकते हैं। बांड बेचने के लिए केवल SBI को ही अधिकृत किया गया है। देश में ऐसे 29 ब्रांच हैं जहां से इसे खरीदा जा सकता है।
  • बांड खरीदने वाले का नाम गुप्त रखा जाएगा, लेकिन बैंक खाते की जानकारी होगी। बांड के जरिए दिया गया चंदा टैक्स मुक्त होगा।
  • इल्केटोरल बांड साल भर में चार बार जनवरी, अप्रैल, जुलाई और अक्टूबर में जारी किए जाते हैं और 10 दिन तक बेचे जाते हैं।

:: विज्ञान और प्रौद्योगिकी ::

4डी सुपर माइक्रोस्कोप: ‘एटोसेकंड स्ट्रीक कैमरा’

  • एटोसेकंड स्ट्रीक कैमरा नामक अत्याधुनिक 4डी इलेक्ट्रॉन माइक्रोस्कोप से इलेक्ट्रॉन की गति को लाइव देखा जा सकता है। एटोसेकंड यानी सेकंड के एक अरब वें हिस्से में आंकी जा सकने वाली इलेक्ट्रॉन की गतिशीलता का लाइव वीडियो कैप्चर किया जा सकता है। जर्मनी के मैक्स प्लांक इंस्टीट्यूट फॉर सॉलिड स्टेट रिसर्च में कार्यरत वरिष्ठ वैज्ञानिक डॉ. मनीष गर्ग का यह आविष्कार इलेक्ट्रॉनिक्स, मेडिकल, कंप्यूटिंग, संचार और अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी में क्रांति ला सकता है। इसे इस तरह समझें कि इस तकनीकी की मदद से 100 गीगा हर्ट्ज के कंप्यूटर को 100 पेटा हर्ट्ज का बनाया जा सकता है।
  • पदार्थ की संरचना में क्रमश: अणु, परमाणु, इलेक्ट्रॉन-प्रोटॉन- न्यूट्रॉन इत्यादि सूक्ष्म घटक समाहित होते हैं। पदार्थ की प्रकृति इन्हीं सूक्ष्म घटकों के संयोजन पर निर्भर करती है। इनका अपना द्रव्यमान, आकार, प्रकार, स्वरूप, ऊर्जा, गति इत्यादि होते हैं। इलेक्ट्रॉन सदैव गतिशील बने रहते हैं। अब इस गतिशीलता को लाइव देखा जा सकता है। पदार्थ की संरचना और क्रियाशीलता को समझना अब पहले से आसान हो जाएगा। ठोस पदार्थ हों या रसायन, इनके उपयोग को पहले से बेहतर बनाया जा सकेगा। दवाएं हों या तमाम विद्युत उपकरण, इलेक्ट्रॉन इनका मुख्य घटक है। कंप्यूटर हो या मोबाइल, ऐसे सभी उपकरण इलेक्ट्रॉनिक सर्किट्स पर आधारित होते हैं। अब इन प्रक्रियाओं को न सिर्फ देखा जा सकेगा, बल्कि हाई डेफिनेशन (एचडी) वीडियो भी बनाया जा सकता है।

‘मल्टी पेटा हर्ट्ज इलेक्ट्रॉनिक मेट्रोलॉजी’के अनुप्रयोग

  • इस 4डी माइक्रोस्कोप से एक परमाणु के एक इलेक्ट्रॉन की गति को न सिर्फ देखा जा सकता है, बल्कि उसका वीडियो भी बनाया जा सकता है।
  • इससे इलेक्ट्रॉन को वर्तमान इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों की मौजूदा कंपन क्षमता से सौ गुना अधिक कंपन क्षमता पर देखा जा सकेगा।
  • कंप्यूटर में इलेक्ट्रॉन की कंपन की आवृत्ति अधिकतम एक अरब हटर्ज (पेटा हट्र्ज) होती है, अब इसे एक खरब हर्ट्ज तक बढ़ाया जा सकता है।
  • इससे इलेक्ट्रॉनिक उपकरण 10 लाख गुना तक तेज हो सकते हैं, यानी 100 गीगा हर्ट्ज के कंप्यूटर को 100 पेटा हर्ट्ज का बनाया जा सकता है।
  • परमाणु के अंदर इलेक्ट्रॉन कुछ सैकड़ा एटोसेकंड (सेकंड का एक अरब वां हिस्सा) पर सक्रिय होता है। अब तक अल्ट्रा फास्ट स्ट्रोबोस्कोप से इलेक्ट्रॉन की गति का तो पता लगाया जा सकता था, लेकिन गति की प्रत्यक्ष तस्वीर नहीं ली जा सकती थी। इसी तरह लाइट माइक्रोस्कोप से इमेज कैप्चर की जा सकती है, लेकिन गति का पता नहीं चल पाता था। अब एचडी वीडियो बना सकते हैं।

पीईटी बोतलों में पेय पदार्थों की बिक्री पर प्रतिबंध वाली याचिका

  • नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) को पीईटी-बोतलों पर रिपोर्ट जमा करने के निर्देश दिए। एनजीटी ने यह आदेश 16 साल के याचिकाकर्ता आदित्य दुबे की याचिका पर दिया।

पृष्ठभूमि

  • आईआरसीटीसी, कोका कोला और पेप्सी जैसी कंपनियों द्वारा पीईटी- बोतलों में बेचे जा रहे पेय पदार्थों की बिक्री पर तब तक प्रतिबंध लगा दें जबतक वे अपने उत्पादों द्वारा जनित प्लास्टिक कचरे को एकत्रित करने का काम शुरू नहीं कर देती। मालूम हो कि देशभर में उत्पन्न होने वाले प्लास्टिक कचरे में पीईटी बोतलों हिस्सा 10 फीसदी है।
  • इस याचिका में प्लास्टिक कचरा प्रबंधन के नियम-9 का भी हवाला दिया है।

क्या है पीईटी?

  • पीईटी एक थर्मोप्लास्टिक पॉलिमर है। कंपनियां हर साल 9,49,000 पीईटी बोतलों का उत्पादन कर रही हैं। लेकिन, उन्होंने प्लास्टिक कचरे की उचित, प्रभावी एवं पूर्ण प्रबंधन की व्यवस्था नहीं की है। इससे पर्यावरण में प्लास्टिक प्रदूषण फैल रहा है। नॉन-बायोडिग्रेडेबिलिटी के कारण पर्यावरण को नुकसान होता है।

क्या है प्लास्टिक कचरा प्रबंधन नियम 9?

  • प्लास्टिक कचरा प्रबंधन के नियम 9 में कहा गया है कि प्रयुक्त बहुस्तरीय प्लास्टिक पाउच या पैकेजिंग को इकट्ठा करने की प्राथमिक जिम्मेदारी उत्पादकों, आयातकों और ब्रांड मालिकों की है, जो बाजार में उत्पादों को उतारते हैं। उन्हें अपने उत्पादों के कारण उत्पन्न प्लास्टिक कचरे को वापस एकत्र करने के लिए एक प्रणाली स्थापित करने की आवश्यकता है।

:: विविध ::

हॉकी : एलेशा पुरुष मैच में अंपायरिंग करने वाली पहली महिला होंगी

  • प्रो हॉकी लीग में वर्ल्ड चैंपियन बेल्जियम और मेजबान न्यूजीलैंड की टीमें भिड़ेंगी। इस मैच में ऑस्ट्रेलिया की एलेशा न्यूमैन अंपायरिंग करेंगी। वे इंटरनेशनल पुरुष हॉकी मैच में अंपायरिंग करने वाली पहली महिला बन जाएंगी।

2019 का श्रीलाल शुक्ल स्मृति इफको साहित्य सम्मान

  • उर्वरक क्षेत्र की प्रमुख संस्था इफको द्वारा वर्ष 2019 का ‘श्रीलाल शुक्ल स्मृति इफको साहित्य सम्मान’ वरिष्ठ कथाकार महेश कटारे को दिया गया। साहित्य की दुनिया में लगातार सक्रिय रहने वाले कटारे की रचनाओं में समर शेष है, इतिकथा अथकथा, मुर्दा स्थगित, पहरुआ, छछिया भर छाछ, सात पान की हमेल, मेरी प्रिय कथाएं, गौरतलब कहानियाँ (कहानी); महासमर का साक्षी, अँधेरे युगान्त के, पचरंगी (नाटक); पहियों पर रात दिन, देस बिदेस दरवेश (यात्रावृत); कामिनी काय कांतारे, कालीधार, भर्तृहरि काया के वन में (उपन्यास); समय के साथ-साथ, नजर इधर-उधर (अन्य) प्रमुख हैं।

आबिदअली जेड नीमचवाला

  • विप्रो के सीईओ आबिदअली जेड नीमचवाला ने पारिवारिक प्रतिबद्धताओं के चलते इस्तीफा देने का फैसला किया। विप्रो बोर्ड अगले सीईओ की तलाश कर रहा है, नया सीईओ नियुक्त किए जाने तक नीमचवाला पद पर बने रहेंगे।

अरविंद कृष्णा होंगे IBM के अगले CEO

  • भारतीय मूल के अरिवंद कृष्णा को इंटरनेशनल बिजनेस मशीन (आईबीएम) का नया मुख्य कार्यकारी अधिकारी बनाया गया है। अरविंद कृष्णा लंबे समय से सीईओ रहीं वर्जिनिया रोमेट्टी की जगह लेंगे।

क्रिकेट सलाहकार समिति

  • पूर्व भारतीय तेज गेंदबाज आर पी सिंह, 1983 विश्व कप टीम के सदस्य मदन लाल और महिला क्रिकेटर सुलक्षणा नायक को बीसीसीआइ ने क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) का सदस्य घोषित किया। क्रिकेट सलाहकार समिति का कार्यकाल एक साल का होगा। सीएसी सदस्यों का कार्यकाल एक वर्ष का होगा। सीएसी राष्ट्रीय टीमों के कोच को भी नियुक्त करेगी।

रानी रामपाल: 'वर्ल्ड गेम्स एथलीट ऑफ द ईयर' अवार्ड

  • 'द वर्ल्ड गेम्स' ने हाकी टीम की कप्तान रानी रामपाल को 'वर्ल्ड गेम्स एथलीट ऑफ द ईयर' पुरस्कार के लिए चुना है। रानी को 2016 में अर्जुन पुरस्कार दिया गया जबकि हाल में वह पदमश्री पुरस्कार के लिए चुनी गई।

प्रमोद अग्रवाल

  • वरिष्ठ आइएएस अधिकारी प्रमोद अग्रवाल ने शनिवार को कोल इंडिया लिमिटेड के नए अध्यक्ष व प्रबंध निदेशक का पदभार संभाल लिया। 31 जनवरी को एके झा के सेवानिवृत्त होने के बाद उन्होंने पदभार संभाला है। अग्रवाल कोल इंडिया के 28वें अध्यक्ष बने हैं।

ऑस्ट्रेलियाई ओपन 2020

  • सर्बियाई स्टार जोकोविच ने एक बार फिर ऑस्ट्रेलियन ओपन में अपनी बादशाहत कायम की। साल 2020 के पहले ग्रैंड स्लैम के फाइनल में रविवार जोकोविच ने ऑस्ट्रिया के डॉमिनिक थिएम को 6-4, 4-6, 2-6, 6-3, 6-4 से हराकर पुरुष सिंगल्स का खिताब अपने नाम कर लिया। यह उनका आठवां ऑस्ट्रेलियन ओपन खिताब है और अब उनके खाते में कुल 17 ग्रैंड स्लैम खिताब हो गए हैं।
  • पहली बार ग्रैंडस्लैम फाइनल खेल रहीं अमेरिका की सोफिया केनिन ने दो बार की ग्रैंडस्लैम चैम्पियन गारबाइन मुगुरुजा को हराकर ऑस्ट्रेलियाई ओपन महिला एकल खिताब जीत लिया।
  • ऑस्ट्रेलिया ओपन के महिला युगल का खिताब फ्रांस की क्रिस्टिना म्लादेनोविच और हंगरी की टिमिया बाबोस की जोड़ी ने अपने नाम कर लिया है।

दीपा मलिक बनीं भारतीय पैरालंपिक समिति की अध्यक्ष

  • पैरालंपिक खेलों में पदक जीतने वाली देश की पहली महिला खिलाड़ी दीपा मलिक भारतीय पैरालंपिक समिति (पीसीआई) की नई अध्यक्ष चुनी गई है, लेकिन इसके लिए हुए चुनाव के नतीजे दिल्ली उच्च न्यायालय में एक लंबित मामले की सुनवाई के बाद मान्य होंगे।
  • रियो ओलंपिक में गोला फेंक (एफ-53 स्पर्धा) में रजत पदक जीतने वाली 49 साल की दीपा को शुक्रवार को बेंगलुरु में हुए चुनाव में निर्विरोध अध्यक्ष चुना गया।

:: प्रिलिम्स बूस्टर ::

  • हाल ही में भारत में किस रेडियो सेवा ने अपनी शॉर्टवेब रेडियो सेवा का प्रसारण बंद कर दिया है? (बीबीसी रेडियो)
  • महिला विश्व सम्मेलन की 25वीं वर्षगांठ का आयोजन कहां हुआ? (बीजिंग)
  • हाल ही में किस वायरस के आतंक के कारण विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा अंतरराष्ट्रीय आपातकाल की घोषणा की गई? (कोरोना वायरस)
  • हाल ही में किस देश को पुनः राष्ट्रमंडल में शामिल किया गया? (मालदीव)
  • इंटरनेशनल पुरुष हॉकी मैच में अंपायरिंग करने वाली प्रथम महिला की उपलब्धि किसे हासिल होगी? (एलेशा न्यूमैन)
  • 2019 का श्रीलाल शुक्ल स्मृति इफको साहित्य सम्मान किसे प्रदान किया गया? (महेश कटारे)
  • हाल ही में किसने विप्रो के सीईओ पद से इस्तीफा दे दिया? (आबिदअली जेड नीमचवाला)
  • हाल ही में किसे आईबीएम के अगले सीईओ के रूप में नियुक्त किया गया है? (अरिवंद कृष्णा)
  • हाल ही में किसे क्रिकेट सलाहकार समिति का सदस्य घोषित किया गया? (आरपी सिंह और सुलक्षणा नायक)
  • हाल ही में किस भारतीय एथलीट को 'वर्ल्ड गेम्स एथलीट ऑफ द ईयर' पुरस्कार से सम्मानित किया गया? (रानी रामपाल)
  • ऑस्ट्रेलिया ओपन 2020 का पुरुष वर्ग का खिताब किस खिलाड़ी ने जीता? (नोवाक जोकोविच)
  • ऑस्ट्रेलिया ओपन 2020 का महिला वर्ग का खिताब किस खिलाड़ी ने जीता? (सोफिया केनिन)
  • ऑस्ट्रेलिया ओपन 2020 का महिला युगल का खिताब किन खिलाड़ियों ने जीता? (क्रिस्टिना म्लादेनोविच और टिमिया बाबोस)
  • हाल ही में कोल इंडिया के पद पर किसकी नियुक्ति की गई? (प्रमोद अग्रवाल)
  • हाल ही में किसे भारतीय पैरालंपिक समिति (पीसीआई) का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है? (दीपा मलिक)

स्रोत साभार: Dainik Jagran (Rashtriya Sanskaran), Dainik Bhaskar (Rashtriya Sanskaran), Rashtriya Sahara (Rashtriya Sanskaran) Hindustan Dainik (Delhi), Nai Duniya, Hindustan Times, The Hindu, BBC Portal, The Economic Times (Hindi & English), PTI, PIB

<< मुख्य पृष्ठ पर वापस जाने के लिये यहां क्लिक करें