Daily Audio Bulletin for UPSC, IAS, Civil Services, UPPSC/UPPCS, State PCS & All Competitive Exams (26, June 2019)


Daily Audio Bulletin for UPSC, IAS, Civil Services, UPPSC/UPPCS, State PCS & All Competitive Exams (26, June 2019)


बुलेटिन्स

1. जी-20 शिखर सम्मलेन में हिस्सा लेने के लिए पीएम मोदी आज होंगे रवाना। जापान के ओसाका में 28 से 29 जून तक चलेगी बैठक।
2. नीति आयोग ने जारी किया हेल्थ इंडेक्स। केरल अव्वल तो उत्तर प्रदेश रहा सबसे फिसड्डी।
3. परिसीमन अधिनियम 2002 के दायरे से बाहर है जम्मू-कश्मीर। केंद्र सरकार ने किया स्पष्ट।
4. स्पेसएक्स ने लांच किया तीसरा ‘फॉल्कन रॉकेट’। सोलर सेल और ग्रीन फ्यूल के साथ-साथ मानव अस्थियां भी भेजी गईं अंतरिक्ष में।
5. फ्रांस के साथ इंडियन एयरफोर्स का होगा छठा सबसे बड़ा युद्धाभ्यास। 'गरुड़' नाम दिया गया है इस अभ्यास को।

आइये अब ख़बरों को विस्तार से समझते हैं

1. पहली न्यूज़

14वें जी-20 शिखर सम्मेलन में हिस्सा लेने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज जापान रवाना होंगे। ये सम्मलेन जापान के ओसाका शहर में 28 से 29 जून तक चलेगी। जी-20 के लिए पीएम मोदी और और विदेश मंत्री एस. जयशंकर 27 जून की सुबह जापान पहुँच जाएँगे। भारत ने अभी तक सभी जी-20 शिखर सम्मेलनों में भाग लिया है साथ ही 2022 में वो इसकी मेजबानी भी करेगा।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने बताया कि पूर्व केंद्रीय मंत्री सुरेश प्रभु बैठक में भारत के शेरपा होंगे। शेरपा राज्य या सरकार के प्रमुख का व्यक्तिगत प्रतिनिधि होता है जो अंतर्राष्ट्रीय शिखर सम्मेलनों मसलन सालाना G-7 और G-20 की तैयारी करता है।

ओसाका में पीएम मोदी एक दर्जन से ज़्यादा द्विपक्षीय और बहुपक्षीय मुलाकात भी करेंगे। पीएम मोदी की मुलाकात अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प, फ्रांस के राष्ट्रपति इमानुअल मेक्रोन और रूसी राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से होगी। इसके अलावा प्रधानमन्त्री जापान के पीएम शिंजो अबे, तुर्की के राष्ट्रपति एर्डोगन, सऊदी अरब के क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान समेत कई नेताओं से द्विपक्षीय मुलाकात करेंगे।
शिखर सम्मेलन में जिन मुद्दों पर प्रमुखता से चर्चा होगी उनमें वैश्विक अर्थव्यवस्था, कारोबार व निवेश, इनोवेशन और पर्यावरण व ऊर्जा शामिल हैं। साथ ही रोजगार, महिला सशक्तिकरण, विकास और स्वास्थ्य जैसे मुद्दों पर भी चर्चा हो सकती है।

आपको बता दें कि G–20 का गठन सितंबर 1999 में अंतरराष्ट्रीय वित्तीय स्थिरता को बनाए रखने के लिहाज़ से किया गया था। साथ ही G–20 ब्रेटन वुड्स संस्थागत प्रणाली की रूपरेखा के भीतर आने वाले अहम् देशों के बीच अनौपचारिक बातचीत और सहयोग को बढ़ावा देने का काम भी करता है। ग़ौरतलब है कि G-20 देशों की अर्थव्यवस्था दुनिया के 90 प्रतिशत उत्पाद, 80 प्रतिशत विश्व व्यापार, दो-तिहाई जनसंख्या और दुनिया के लगभग आधे क्षेत्रफल का हिस्सा है।

2. दूसरी न्यूज़

नीति आयोग ने राज्यों के लिए स्वास्थ्य सेवाओं के ओवरऑल परफॉर्मेंस पर आधारित हेल्थ इंडेक्स जारी किया है। आयोग ने यह इंडेक्स विश्व बैंक और केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के साथ मिलकर जारी किया है। इसमें वर्ष 2017-18 में राज्यों के प्रदर्शन का आकलन किया गया है।

''हेल्दी स्टे्टस प्रोग्रेसिव इंडिया'' शीर्षक से जारी इस रिपोर्ट के मुताबिक़ स्वास्थ्य और चिकित्सा सेवाओं के मामलों में केरल देश का नंबर वन राज्य है। वहीँ देश की सबसे बड़ी आबादी वाला राज्य उत्तर प्रदेश इसमें फिसड्डी साबित हुआ है और उसे सबसे निचले पायदान पर जगह मिली है। इसके अलावा आंध्र प्रदेश दूसरे और महाराष्ट्र तीसरे नंबर पर हैं। साथ ही सात संघ शासित राज्यों के हैल्थ इंडेक्स रैंकिंग में चंडीगढ़ पहले नंबर पर है जबकि दिल्ली पांचवें पायदान पर है।

देश के बड़े राज्यों में शुमार सबसे खराब स्वास्थ्य व्यवस्था उत्तर प्रदेश और बिहार में है। ख़ास बात ये है कि इन दोनों राज्यों की स्थिति सुधरने के बजाय बिगड़ती जा रही है।

आपको बता दें कि नीति आयोग भारत सरकार का 'थिंक टैंक' है। इसकी स्थापना 1 जनवरी, 2015 को योजना आयोग के स्थान पर की गई थी। नीति आयोग को भारत सरकार के केंद्रीय मंत्रिमंडल के आदेश पर बनाया गया है। यानी यह न तो संवैधानिक और न ही वैधानिक निकाय है। इसके अध्यक्ष भारत के प्रधानमंत्री होते हैं।

3. तीसरी न्यूज़

सरकार ने लोकसभा को एक प्रश्न के जवाब में बताया कि जम्मू कश्मीर राज्य को परिसीमन अधिनियम 2002 के दायरे में शामिल नहीं किया गया है। गृह राज्य मंत्री जी किशन रेड्डी ने कहा कि भारत के संविधान का राज्य विधान सभाओं के निर्वाचन क्षेत्रों के परिसीमन से जुड़ा अनुच्छेद 170 को जम्मू कश्मीर राज्य पर लागू नहीं किया गया है। मंत्री बताया कि जम्मू कश्मीर राज्य में विधान सभा के निर्वाचन क्षेत्रों का परिसीमन जम्मू कश्मीर संविधान की धारा 47 और 141 के तहत किया जाता है।

आपको बता दें कि परिसीमन आयोग परिसीमन अधिनियम के तहत स्थापित आयोग होता है इसे भारतीय सीमा आयोग भी कहते हैं। इस सम्बन्ध में अधिसूचना भारत के राष्ट्रपति के ओर से जारी की जाती है। परिसीमन आयोग का अध्यक्ष मुख्य चुनाव आयुक्त होता है। इसके तहत सीटों की संख्या के आवंटन और क्षेत्रों में उनके सीमांकन का काम किया जाता है।

संविधान के अनुच्छेद 82 के मुताबिक, सरकार हर एक 10 साल के अंतराल पर परिसीमन आयोग का गठन कर सकती है। इसके तहत जनसंख्या के आधार पर अलग-अलग विधानसभा व लोकसभा क्षेत्रों का निर्धारण किया जाता है।

ग़ौरतलब है कि परिसीमन के चलते किसी भी राज्य से प्रतिनिधियों की संख्या नहीं बदलती। लेकिन जनसंख्या के हिसाब से अनुसूचित जाति और जनजाति सीटों की संख्या बदल जाती है। अब तक चार बार परिसीमन आयोग का गठन किया जा चुका है। सबसे पहले 1952 में इस आयोग का गठन किया गया था। इसके बाद 1962, 1972 और 2002 में इस आयोग का गठन किया गया था।

4. चौथी न्यूज़

अमेरिकी अंतरिक्ष कंपनी स्पेसएक्स ने 25 जून की रात 24 सैटेलाइटों के साथ अपने तीसरे भारी ‘फॉल्कन रॉकेट’को लांच कर दिया है। इस बार इस रॉकेट में सोलर सेल, हरित ईंधन के साथ-सात मानव अस्थियां भी भेजी गईं हैं। स्पेसएक्स के वैज्ञानिकों ने बताया कि पिछली बार की तरह ही इस बार भी लांचिंग के कुछ मिनटों बाद ही रॉकेट के दोनों बूस्टर कैप कनेवरल में वापस आ गए। लेकिन इस बार बूस्टर समुद्र में अपने निश्चित प्लेटफॉर्म पर नहीं उतरा।

ग़ौरतलब है कि इससे पहले 24 जून को स्पेसएक्स ने एक कार्गो भी अंतरिक्ष में भेजा था। कार्गो में 152 लोगों की अस्थियों को अंतरिक्ष में भेजा गया है। इसे ‘फ्यूनरल फ्लाइट’का नाम दिया गया है। इन अस्थियों को खास तौर पर डिजाइन किए गए एक कैप्सूल में रखा गया है।

आपको बता दें कि फाल्कन रॉकेट अमेरिकी अंतरिक्ष कंपनी स्पेसएक्स द्वारा विकसित बहु-उपयोगी रॉकेट प्रक्षेपण यान है। फाल्कन सीरीज के तहत कई यान आते हैं जिनमे फाल्कन 1, फाल्कन 9 और फाल्कन हेवी जैसे यान शामिल हैं।

5. पांचवी न्यूज़

भारत और फ्रांस दोनो ही देशों के आपसी सैन्य संबंधों को मजबूती देने के लिए 'गरुड़' नामक वायुसैनिक युद्धाभ्यास किया जा रहा है। इस अभ्यास के लिए वायुसेना के सुखोई 30 लड़ाकू विमानों के बेड़े के साथ ही हवा में ईंधन भरने वाले विमान आईएल-78 को भी फ्रांस भेजा गया है।

ग़ौरतलब है कि युद्ध-नीति साझेदारी पर भारत और फ्रांस के बीच जनवरी 1998 में दस्तख़त किए गए थे। साल 2003 से गरुड़ युद्ध अभ्यास कभी भारत में तो कभी फ्रांस में आयोजित किया रहा है। पहला गरुड़ फरवरी 2003 में मध्य प्रदेश के ग्वालियर में आयोजित किया गया था। तब से कई गरुड़ युद्ध अभ्यास फ्रांस और भारत में आयोजित किए गए हैं। हाल ही में भारत और फ्रांस ने अरब सागर में 'वरुणा' सीरीज के तहत नौसैनिक अभ्यास भी आयोजित किया था।

आज के न्यूज़ बुलेटिन में इतना ही... कल फिर से हाज़िर होंगे एग्जाम के लिहाज़ से महत्वपूर्ण कुछ अहम ख़बरों के साथ...

<< Go Back to Main Page