Daily Audio Bulletin for UPSC, IAS, Civil Services, UPPSC/UPPCS, State PCS & All Competitive Exams (17, June 2019)


Daily Audio Bulletin for UPSC, IAS, Civil Services, UPPSC/UPPCS, State PCS & All Competitive Exams (17, June 2019)


बुलेटिन्स

1. 17वीं लोकसभा का पहला सत्र शुरू। अगले महीने की 26 तारीख़ तक चलेगा ये सत्र
2. 2020 से लागू होगा बीएस - 6 मानक। नहीं बढ़ेगा समय
3. G - 20 के सदस्य देश समुद्र में प्लास्टिक कम करने के समझौते पर हुए सहमत
4. और और भूटान के प्रधानमंत्री ने चीन को डोकलाम में यथास्थिति बनाए रखने की कही बात

आइये अब ख़बरों को विस्तार से समझते हैं

1. पहली न्यूज़

लोकसभा का पहला सत्र 17 जून से शुरू हो गया है। पहला सत्र अगले महीने की 26 तारीख़ तक चलेगा। मौजूदा वक़्त में हो रहे लोकसभा के पहले सत्र में निर्वाचित सांसदों को शपथ दिलाने, लोकसभा अध्यक्ष का चयन करने और पूर्ण बजट लाने जैसे कुछ महत्वपूर्ण काम पूरे किए जाएंगे। इसके अलावा संविधान के अनुच्छेद 87 में ऐसी दो स्थितियों का ज़िक्र किया गया है जब राष्ट्रपति द्वारा विशेष रूप से संसद के दोनों सदनों को संबोधित किया जाता है।

राष्ट्रपति के अभिभाषण में सरकार की नीतिगत प्राथमिकताओं और आने वाले साल की योजनाओं का ज़रूरी रूप से उल्लेख होता है। अभिभाषण एक तरीके से सरकार का एजेंडा और दिशा का व्यापक फ्रेमवर्क ज़ाहिर करता है।

आज से शुरू हुए इस सत्र में आगामी पांच जुलाई को पूर्ण बजट भी पेश किया जाएगा। पहले सत्र के दौरान लोक सभा की 30 और राज्य सभा की क़रीब 27 बैठकें प्रस्तावित हैं। इसके अलावा इस सत्र में कुछ महत्वपूर्ण विधेयकों को दोबारा से संसद में उठाया जाएगा।

संसद सत्र के बारे में बताएं तो संविधान के अनुच्छेद 85 में लोकसभा के संसद सत्र का ज़िक्र किया गया है। अनुच्छेद 85 के तहत 6 महीने के भीतर दो संसद सत्र आयोजित किए जाने अनिवार्य है। आमतौर पर हर साल लोकसभा के संसद सत्र को तीन सत्रों में बांट कर देखा जाता हैं जिनमें बजट सत्र मानसून सत्र और शीतकालीन सत्र शामिल हैं। इसके अलावा राष्ट्रपति के आदेश पर कभी भी विशेष सत्र बुलाया जा सकता है।

2. दूसरी न्यूज़

देश में 1 अप्रैल 2020 से बीएस- 6 मानक लागू हो जाएगा। बीएस- 6 मानक के लागू होने के बाद अब बीएस 4 मानक वाले वाहनों की बिक्री और पंजीकरण नहीं हो सकेगा। ग़ौरतलब है कि पिछले साल 2017 में भारत सरकार ने बीएस -3 मानक पर रोक लगायी थी। इससे बाद बीएस-6 मानक को लागू करने की अधिसूचना भी साल 2017 में ही लागू कर दी गई थी। ।

दरअसल बीएस का मतलब है भारत स्टेज। भारत में BS मानक की शुरुआत यूरोपियन एमीशन स्टैण्डर्ड के आधार पर हुई है। हर देश में गाड़ियों से होने वाले प्रदूषण पर क़ाबू पाने के लिये अलग - अलग मानक है। अमेरिका में जहां इन मानकों को टीयर-1 और टीयर-2 के रूप में जाना जाता है तो वहीं यूरोप में इन मानकों को यूरोपियन एमीशन स्टैण्डर्ड का नाम दिया गया है।

भारत में BS मानकों को साल 2000 में शुरू किया था। इसके बाद 2005 और 2006 में वायु प्रदूषण पर क़ाबू पाने के लिये BS-2 और BS-3 मानकों की शुरुआत की गई थी। हालाँकि BS-3 मानकों पर अमल कई सालों बाद 2010 में किया जा सका।

प्रदूषण के लिहाज़ से BS-6 BS-4 के मुक़ाबले काफी बेहतर है। BS-6 के ज़रिए डीज़ल में प्रदूषण फैलाने वाले ख़तरनाक पदार्थ क़रीब 70 से 75% तक कम होते हैं। बीएस-6 वाहनों में ख़ास तरह के फिल्टर लगेंगे, जिससे 80-90% पीएम 2.5 कण रोके जा सकेंगे। साथ ही इससे नाइट्रोजन ऑक्साइड पर रोकथाम की जाएगी। भारत में बीएस मानक को केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड तय करता है। भारत में चलने वाली हर गाड़ी को केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड द्वारा तय किए गए मानकों पर ख़रा उतरना होता है।

3. तीसरी न्यूज़

G - 20 समूह के देशों ने समुद्र में प्लास्टिक को कम करने के एक समझौते पर अपनी सहमति जताई है। ये फैसला बीते दिनों जापान के कारूईजावा में हुई

G - 20 देशों के पर्यावरण और ऊर्जा मंत्रियों की एक बैठक में लिया गया। जापान की ओर से प्रस्तावित इस फैसले के तहत समुद्र में मौजूद प्लास्टिक कचरे को कम करने के लिए एक रूपरेखा तैयार की गई है।

दरअसल प्लास्टिक से बना कोई भी सामान जो जल या ज़मीन पर इकट्ठा होता है उसे प्लास्टिक प्रदूषण कहते है। प्लास्टिक प्रदूषण के चलते मानव जीवन जीव - जन्तु और पर्यावरण पर बुरा तरह से प्रभावित होता है।

मौजूदा वक़्त में हर साल क़रीब 15 हज़ार टन प्लास्टिक का उपयोग किया जा रहा है। इतनी अधिक मात्रा में प्लास्टिक इकठ्ठा करने के बाद हमारे पास इसके निस्तारण के लिए कोई ख़ास विकल्प मौजूद नहीं है। प्लास्टिक प्रदूषण की समस्या मौजूदा वक़्त में वैश्विक चुनौती का विषय है। ख़ासतौर पर ये समस्या चीन और अन्य देशों द्वारा प्लास्टिक कचरे के आयात पर प्रतिबंध लगाने के बाद और बढ़ी है।

जी-20 समूह के बारे में बताएं तो ये समूह आर्थिक और वित्तीय मामलों से जुड़े पहलुओं पर वैश्विक सहयोग मुहैया कराता है। जी-20 समूह आर्थिक विकास वैश्विक सुरक्षा, ऊर्जा और आतंकवाद जैसे गंभीर मुद्दों पर विचार विमर्श के लिए सालाना बैठक आयोजित करता है। जी-20 समूह दुनिया के विकसित और विकासशील देशों को एक साथ लाता है। G20 समूह में यूरोपियन यूनियन के अलावा दुंनिया के 19 देश महत्वपूर्ण देश शामिल हैं। G20 के सम्मेलनों में संयुक्त राष्ट्र, IMF और विश्व बैंक भी भाग लेते हैं।

4. चौथी न्यूज़

भूटान के प्रधानमंत्री ने डोकलाम पर चीन को अपनी यथास्थिति बनाए रखने की बात कही है। भूटान के प्रधानमंत्री के मुताबिक़ भूटान और चीन ने पिछले कुछ सालों में अपने संबंधों में अच्छी प्रगति की है। ग़ौरतलब है कि चीन और भूटान के बीच बॉर्डर को लेकर 1984 से विवाद है। इसके अलावा साल 2017 में डोकलाम मुद्दे को लेकर संयुक्त रूप भारत और भूटान का तनाव से चीन के साथ बढ़ गया था। दरअसल डोकलाम में भूटान का चीन के साथ एक लिखित समझौता है, जिसके तहत इस इलाके में शांति बनाए रखने की बात की गई है। भारत और भूटान, डोकलाम पठार को भूटानी क्षेत्र के रूप में देखते हैं। लेकिन चीन इस क्षेत्र को अपना बताता है और यहां सड़क जैसी गतिविधियों को अंजाम देना चाहता है।

डोकलाम पठार भारत, तिब्बत और भूटान के त्रिकोणीय जंक्शन पर मौजूद है। डोकलाम पठार नाथु ला दर्रे पास के भी क़रीब है। हिमालय पहाड़ी का नाथुला दर्रा भारत के सिक्किम राज्य और दक्षिण तिब्बत में चुम्बी घाटी से जोड़ता है। भारत के लिये डोकलाम पठार सामरिक महत्त्व का स्थान है। ये जगह असम के सिलीगुड़ी से भी सिर्फ 30 किलोमीटर की दूरी पर मौजूद है।

आज के न्यूज़ बुलेटिन में इतना ही... कल फिर से हाज़िर होंगे एग्जाम के लिहाज़ से महत्वपूर्ण कुछ अहम ख़बरों के साथ...

<< Go Back to Main Page