सिविल ओपीनियन : यूपीएससी, आईएएस, सिविल सेवा और राज्य पीसीएस परीक्षाओं के लिए समसामयिकी का विश्लेषण (01 सितम्बर से 15 सितम्बर 2019)


सिविल ओपीनियन : यूपीएससी, आईएएस, सिविल सेवा और राज्य पीसीएस परीक्षाओं के लिए समसामयिकी का विश्लेषण

तारीख़: 01 सितम्बर से 15 सितम्बर 2019


:: विषय वस्तु (Content) ::

सामान्य अध्ययन पेपर-1

  • शहरी जल प्रबंधन में देश की बड़ी चुनौती
  • मुस्लिम महिलाओं को समानाधिकार?

सामान्य अध्ययन पेपर-2

  • सीमित असर वाली विशेष अदालतें
  • कौशल विकास से सपने होंगे साकार
  • चिकित्सा में सुधार की बड़ी पहल
  • भारत रूस संबंधों का नया अध्याय
  • करतारपुर के बहाने अमन की बात
  • तालिबान पर अमेरिकी रुख से भारत को राहत
  • एनआरसी को लेकर सियासत शुरू, भारत कोई धर्मशाला नहीं कि जो चाहे यहां आकर बस जाए
  • लोक संस्कृति से जुड़े शिक्षाः आधुनिकता के दौर में पारंपरिक एवं सांस्कृतिक ज्ञान की महत्ता को समझना चाहिए
  • कुपोषण से जंग
  • परखी दोस्ती परवान चढ़ी
  • शीर्ष प्राथमिकता में अफ्रीका
  • पड़ोसी धर्म की बेहतर मिसाल
  • हमारा गौरव और संविधान
  • अफगान शांति व्यवस्था में, आशा की एक लहर
  • यू.एस.-ईरान के बीच सहयोगपूर्ण संबंध

सामान्य अध्ययन पेपर-3

  • चौतरफा उपायों से ही टूटेगी सुस्ती
  • अधूरा बैंकिंग सुधार अधिक खतरनाक!
  • अंतरिक्ष युद्ध की तैयारी में अमेरिका
  • कृषि योग्य भूमि की सेहत में होगा सुधार
  • वर्षा जल संरक्षण से मुमकिन पेयजल का समाधान
  • पुलिस सुधारों का वत्तफ़ः जब आम नागरिक सुरक्षित होगा, तभी विकास के लिए बनेगा उचित माहौल
  • पौष्टिक एवं संतुलित आहार की उपलब्धता बनी संकट, सदाबहार ‘कृषि क्रांति’ की दरकार
  • एनएचएआई का संकट
  • बाढ़ नियंत्रण के नजरिये में बदलाव जरूरी
  • बैंकों का विलय (बिग बैंग) सुधार नहीं
  • देशों के सहयोग से ही होगा मरुस्थल समस्या का हल
  • भारत की निर्यात बाधा और ‘फैक्टरी एशिया’
  • करदाताओं का बढ़ता दायरा
  • पचास खरब डॉलर का रास्ता
  • परमाणु युद्ध का खतरा

<< मुख्य पृष्ठ पर वापस जाने के लिये यहां क्लिक करें

स्रोत साभार: Dainik Jagran (Rashtriya Sanskaran), Dainik Bhaskar (Rashtriya Sanskaran), Rashtriya Sahara (Rashtriya Sanskaran) Hindustan Dainik (Delhi), Nai Duniya, Hindustan Times, The Hindu, BBC Portal, The Economic Times (Hindi & English), PTI, PIB, Amar Ujala