(Global मुद्दे) भारत रूस सम्बन्ध : नए आयाम (India Russia Relation: New Dimensions)



(Global मुद्दे) भारत रूस सम्बन्ध : नए आयाम (India Russia Relation: New Dimensions)


एंकर (Anchor): कुर्बान अली (पूर्व एडिटर, राज्य सभा टीवी)

अतिथि (Guest): शशांक (पूर्व विदेश सचिव, भारत सरकार), स्मिता शर्मा (डेप्युटी एडिटर, द ट्रिब्यून)

सन्दर्भ:

भारत और रूस की दोस्ती नए मक़ाम पर है | हाल ही में दोनों देशों के बीच 19वा सालाना शिखर सम्मलेन हुआ| दोनों देशों के बीच 8 समझौतों पर हस्ताक्षर हुए | इसके आलावा सबसे अहम् बात वायु रक्षा प्रणाली से जुड़ा S-400 समझौता रहा| इस समझौते के बाद दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोगों को नई मज़बूती मिली है| प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन के बीच नई दिल्ली में तीन दौर की बातचीत के बाद शुक्रवार को इस समझौते पर हस्ताक्षर हुए| 5 अरब डॉलर से ज्यादा का ये करार भारत की रक्षा क्षमता को बढ़ाने में एक मील का पत्थर है |

भारत और रूस के बीच 19 वे शिखर सम्मलेन के दौरान आठ अन्य समझौते भी हुए| रूस भारत के रेल नेटवर्क के विस्तार और आधुनिकीकरण में मदद करेगा| परमाणु ऊर्जा के क्षेत्र में सहयोग के लिए एक नए एक्शन प्लान की घोषणा भी की गई जिसके तहत रूस की मदद से भारत में 6 और परमाणु ऊर्जा संयंत्र लगाए जायेंगे | भारत में परमाणु रिएक्टर के कुछ कल पुर्ज़े मेक इन इंडिया कार्यक्रम के तहत बनाये जायेंगे दोनों देशों के बीच लघु उद्योग के क्षेत्र में सहयोग से सम्बंधित समझौते भी किये गए| इसके अलावा अंतरिक्ष में सहयोग समझौते के तहत रूस के सहयोग से भारत के वैज्ञानिक अंतरिक्ष में जायेंगे |

रूस के साथ सम्बन्ध भारत की विदेश नीति का महत्त्वपूर्ण स्तम्भ है भारत रूस संबंधों में समय के साथ घनिष्ठता बढ़ती गई है | इनमे राजनीती , सुरक्षा , रक्षा व्यापार , उद्योग, विज्ञान और प्रौद्योगिकी के अलावा सांस्कृतिक सहयोग भी शामिल हैं |

रक्षा क्षेत्र में रूस के साथ भारत के सम्बन्ध दीर्घकालिक और व्यापक सहयोग वाले रहे हैं ब्रह्मोस मिसाइल सिस्टम पांचवी पीढ़ी के लड़ाकू विमान और मल्टी ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट की संयुक्त डिज़ाइन और विकास ऐसे सहयोग के उदहारण हैं | दोनों देश अपनी सेनाओं के बीच सालाना प्रशिक्षण अभ्यास भी आयोजित करते रहे है |

आर्थिक संबंधों की बात करें तो दिसंबर 2014 में भारत और रूस ने 2025 तक द्विपक्षीय व्यापार 30 अरब डॉलर तक पहुंचाने का लक्ष्य तय किया था | 2017 में द्विपक्षीय व्यापार 10.17 अरब डॉलर तक पहुंच गया| हाल ही में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने रूस का दौरा किया था , जिसमे 2025 तक 50 अरब डॉलर के द्विपक्षीय निवेश का लक्ष्य तय किया गया |

रूस परमाणु ऊर्जा के शांतिपूर्ण उपयोग में भारत का महत्वपूर्ण भागीदार है | भारत के कुडनकुलम परमाणु ऊर्जा संयंत्र समेत अन्य संयंत्र निर्माण में रूस ने बड़ी भूमिका निभायी है| अंतरिक्ष विज्ञान के क्षेत्र में भी रूस ने भारत की लगातार मदद की है| भारत रूस के बीच अंतरिक्ष में सहयोग के चार दशक से ज्यादा बीत चुके हैं |भारत के पहले सॅटॅलाइट आर्यभट्ट का लांच व्हीकल रूस का सोयूज़ ही था | अंतरिक्ष में पहले भारतीय मिशन लांच करने से लेकर चंद्रयान मिशन तक रूस ने हमेशा ही भारत का सहयोग किया है |

रूस में 3000 से ज्यादा भारतीय समुदाय केलोग हैं | रूस में 500 से ज्यादा भारतीय कारोबारी रहते हैं पिछले कुछ वर्षों से दोनों देशों के बीच सांस्कृतिक आदान प्रदान भी काफी तेज़ हुआ है| राजनीतिक संबंधों की बात करें तो रूस संयुक्त राष्ट्र में कश्मीर मुद्दे पर हमेशा भारत के साथ खड़ा रहा है| पाकिस्तान के खिलाफ भारत के पक्ष में रूस अपने वीटो का इस्तेमाल करता रहा है| दोनों देश कई अंतर्राष्ट्रीय संगठनों में मंच साझा करते हैं संयुक्त राष्ट्र, ब्रिक्स , G -20 और शंघाई सहयोग संगठन इनमे सबसे अहम् हैं | रूस के रक्षा उद्योग के लिए भारत दूसरा सबसे बड़ा बाजार है| व्यापार को बढ़ावा देने के लिए दिसंबर 2015 में दोनों देशों ने वीज़ा कानून को लचीला बनाया | भारत और सोवियत संघ शीत युद्ध के दौर में भी एक दुसरे के मित्र थे| 1991 में सोवियत संघ का विघटन हो गया लेकिन भारत के परंपरागत दोस्त रूस का मिज़ाज़ नहीं बदला  पिछले 70 सालों में रूस को कई उतार चढ़ावों से गुज़रना पड़ा लेकिन रूस ने भारत का साथ नहीं छोड़ा |

Click Here for Global मुद्दे Archive

Click Here for More Videos

Print Friendly and PDF

Get Daily Dhyeya IAS Updates via Email.

 

After Subscription Check Your Email To Activate Confirmation Link